सेहत

Indian food plan for keto diet: वेट कम करें बिना स्वाद से ‘Compromise’करे!

Indian food plan for keto diet- इन भारतीय व्यंजनों से आप अपने वेट को कम कर सकते हैं


 Indian food plan for keto diet – आज के समय में हमारे बदलते लाइफ स्टाइल के कारण हम अक्सर मोटापे से जूझने लग जाते है। इस मुसीबत को कम करने के लिए  आजकल लोग कीटोजेनिक डाइट फॉलो कर रहे हैं। इसे सबसे ज्यादा महिलाएं फॉलो कर अपने वेट को मेन्टन कर रही है। बॉलीवुड एक्ट्रर्स सोनाक्षी सिन्हा और अर्जुन कपूर ने इसे फॉलो कर अपना वजन घटाया है। Keto diet कम कार्बोहाइड्रेट की डाइट के तौर मानी जाती है।

आपको बता दें कार्बोहाइड वाली चीजों का सेवन करने से मोटापा बढ़ता है। वहीं दूसरी ओर कीटो Keto diet फेट कम करने के साथ-साथ एनर्जी भी देता है। साधारण तौर पर ज्यादा कार्बोरहाइड्रेट का खाना खाने से से शरीर में ग्लूकोज और इंसुलिन का उत्पादन होता है। चूंकि हमारा शरीर  ग्लूकोज को प्राथमिक ऊर्जा के रुप में इस्तेमाल करता है।

तो इसलिए आपके खाने में मौजूद फैट से उर्जा का उत्पादन किया जाता है। इस प्रक्रिया को कीटोसिस कहा जाता है। Keto diet में फैट का सेवन ज्यादा, प्रोटीन का मीडियम और कार्बोहाइड्रेट का कम सेवन किया जाता है।

इस फैट मे लगभग 70 प्रतिशत फैट, 25 प्रतिशत प्रोटीन और 5 प्रतिशत कार्बोहाइड्रेट होना चाहिए। अगर आप भी Keto diet में फॉलो कर अपने फैट को कम करना चाहते हैं तो आप इंडियन डिश से इन डिश को अपने खाने में शामिल कर अपने वजन को कर सकते हैं। तो चलिए जानते हैं भारतीय डिश जो कीटो डाइट में शामिल है।

पनीर भुर्जी

अगर आप Keto diet को फॉलो कर अपना वेट कम करना चाहते हैं। तो पनीर इसके लिए सबसे अच्छा है। आपको बता दें कि प्रति 100 ग्राम पनीर में 3.4 ग्राम कार्बस होता है। इसका इस्तेमाल आप कई सब्जियों में कर सकते हैं। पनीर की भुर्जी कम समय में आसानी से बन जाती है। इसको आप अपने खाने के साथ-साथ सलाद के रुप में भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

बैंगन का भुर्ता

अगर आप बैगन को पसंद नहीं करते हैं। तो आज आपको यह जानकार हैरानी होगी कि यह आपके फैट को कम करने मे मददगार है। तो अगर आप कीटो डाइट को फॉलो रहे हैं तो बैंगन का भुर्ता बेस्ट ऑप्शन है। भारतीय को भले ही बैंगन पसंद न हो लेकिन बैंगन भरता जरुर पसंद होता है। बैंगन का भरता रोटी और चावल के साथ खाया जाता है। बैंगन की 100 ग्राम प्रोटीन में महज 6 ग्राम कार्बस होता है। जो दूसरी सब्जियों के मुकाबले कम है।

 सरसों का साग

आमतौर पर उत्तर भारत में खाना पकाने के लिए सरसों के तेल का इस्तेमाल किया जाता है। सरसों के तेल के बहुत फायदे होते हैं। ठीक इसी तरह हरी सरसों के भी हमारे लिए बेहद फायदेमंद हैं। सरसों को सेलेनियम और मैग्नीशियम होता है। जो सर्दियों मे काफी फायदेमंद होता है। इसमें पाएं जाने वाले एंटी इन्फ्लैमटॉरी क्वालिटी होती है जिससे गर्माहट का अहसास कराती है। हर 100 ग्राम कच्चे सरसों तेल में 4.7 ग्राम कार्बस पाया जाता है।

पालक पनीर

ठंडी का मौसम आते ही बाजार में आसानी से पालक मिलने लग जाती है। वैसे तो यह गर्मी में भी मिल जाता है। हम सभी लोग जानते हैं कि पालक बहुत ही सेहतमंद होती है। अक्सर लोग इसका जूस बनाकर भी पीते हैं। पालक को स्पिंशिया आलेरिसिया के नाम से भी जाना जाता है। पालक में विटामिन के, ए और सी भरपूर मात्रा में होती हैं। इसके अलावा पालक में और भी गुण होता है। इसमें मैग्नेशियम, आयरन और मैग्निज पाया जाता है।

Protein Foods: शाकाहारी लोग भरपूर प्रोटीन के लिए अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं ये चीजें

फैट को कम करने के साथ-साथ आंखों के लिए फायदेमंद है। इतना ही नहीं पालक ब्लड शुगर को कंट्रोल करने के साथ तनाव को भी कम करता है। आपको बता दें 100 ग्राम पालक में 3.6 कार्बस होता है। जो Keto diet के लिए परफेक्ट है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Back to top button