हॉट टॉपिक्स

जानें कौन-कौन से नेता  ने धर्म से ऊपर उठकर किया अंतरधार्मिक विवाह

लव जिहाद कानून पर दिया जा रहा है जोर


कुछ दिनों से देश मे लव जिहाद का मुद्दा बहुत ही जोरों शोरों से उठाया जा रहा . यूपी सरकार ने तो इसके खिलाफ एक कानून ही बना दिया है. पिछले दिनों इसी कानून के सहारे बरेली के एक परिवार ने लड़के पर जबरदस्ती धर्म परिवर्तन के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी. जबकि एक और लव जिहाद वाले केस की सुनवाई करते हुए कुछ दिन पहले इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा था कि जीवनसाथी चुनना एक मौलिक अधिकार है. किसी भी व्यक्ति के इस निजी मामले में दखल देना गैरकानूनी है. लेकिन इन सबमें सबसे मजे की बात यह है लगातार लव जिहाद की बात करने वाले हमारे कुछ नेता भूल जाते हैं कि कई नेताओं ने इससे पहले अंतरधर्म में शादियां की है. तो चलिए आज आपको कुछ ऐसे ही नेताओं को बारे में बताते हैं जिन्होंने दुनिया की बिना परवाह किए अपने लिए जीवन साथी को खोजा है. 

शाहनवाज हुसैन

बीजेपी के राष्ट्रीय  प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन की राजनीति के साथ-साथ प्यार वाली कहानी भी बड़ी मजेदार हैं. शाहनवाज एक हिंदू लड़की को अपना दिल दे बैठे थे. दोनों की मुलाकात एक डीटीसी बस में हुई थी. उनकी पत्नी रेणू के टीचर थी. दोनों की दोस्ती आठ साल तक चली और बाद में दोंनों ने शादी कर ली. 

और पढ़ें: बॉलीवुड में सच्चे प्यार की तलाश में कईयों ने की तीसरी शादी

मुख्तार अब्बास नकवी

भाजपा के वरिष्ट नेता और केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी भी राजनीति में भले ही तीखे हैं. लेकिन प्यार के मामले में यह भी  अपना दिल एक हिंदु लड़की को दे बैठे थे. पढ़ाई के दौरान ही मुख्तार सीमा को दिल दे बैठे थे. लेकिन इन दोनों की शादी के लिए कोई राजी नहीं था. इसलिए इन्होंने पहले कोर्ट मैरिज की और बाद में निकाह और फिर सात फेरे लिए. 

पप्पू यादव

बिहार के बाहुबली नेता पप्पू की प्रेम कहानी भी बड़ी दिलचस्प है. वह रंजीता नाम की एक सरदारनी को दिल दे बैठे थे. उन्होंने पूरे तीन साल तक रंजीता का पीछा किया. शादी के लिए सिख परिवार राजी नहीं हो रहा तो सिख राजनेताओं से शिफारिश लगवाई और अंत में रंजीता से शादी की. आज पप्पू यादव की पत्नी रंजीता रंजन सुपौल से सांसद हैं. 

सचिन पायलट

लव मैरिज या अंतरधार्मिक विवाह की बात जब भी होगी उसमें कांग्रेस के दिग्गज नेता सचिन पायलट का नाम जरुर आएगा. सचिन पायलट की अपने प्यार से पहली मुलाकात लंदन में हुई थी. सारा  पूर्व केंद्रीय मंत्री फारुख अब्दुला की बेटी है. दोनों की शादी के लिए फारुख अब्दुला ने मंजूरी नहीं दी थी. इसका सबसे बड़ा कारण का धर्म. साल 2004 में सचिन और सारा ने दिल्ली में शादी कर ली. इस शादी में सारा के परिवार से कोई शामिल नहीं हुआ था. कभी लंबे समय तक फारुख अब्दुला ने अपनी बेटी और दामाद से बात नहीं की थी. लेकिन बाद में कभी लंबे समय बाद शादी को स्वीकार कर लिया. 

मनीष तिवारी

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मनीष तिवारी को प्यार अपने कॉलेज के दिनों में ही हो गया था. साल 1989 में मनीष कांग्रेस के स्टूडेंट विंग एनएसयूआई के प्रेसीजेंट चुने गए थे. इसके बाद ही उनकी मुलाकात एनएसयूआई की मुंबई वीमेन विंग की प्रेसीडेंट नाजनीन से हुई. नाजनीन सफा से हुई. नाजनीन पारसी थी. दोनों ने अपना करियर बनाया और अंत  में 1996 में शादी कर ली.

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
Back to top button