Jannah Theme License is not validated, Go to the theme options page to validate the license, You need a single license for each domain name.
हॉट टॉपिक्स

नौसेना दिवस पर जानें सेना से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातें, और क्यों मनाया जाता है नौसेना दिवस

मुंबई के मुख्यालय में मनाया था खास दिन


आज पूरा देश नौसेना दिवस मना रहा है. सेना के कारण ही हम सुरक्षित है. भारतीय नौसेना के कारण ही अंतरराष्ट्रीय संबंधों को मजबूती मिलती है. भारत- पाकिस्तान के 1971 के युद्ध की याद में ये मनाया जाता है. 4 दिसंबर के दिन ही भारत ने साल 1971 में पाकिस्तान को घुटने टिकवा दिए थे. उसी की याद में नौसेना की उपलब्धि को याद करते हुए ये खास दिन मनाया जाता है. आज भारतीय नौसेना के पास कई खास पोत है. जो देश को सुरक्षा के मामले में मजबूती देता है. भारतीय नौसेना के पास 285 जहाज है.  जिसमें पनडुब्बी से लेकर कई अलग अलग तरह के पोत हैं. चलिए आज आपको नौसेना दिवस पर उससे जुड़ी कुछ बातें बताते हैं.

1- क्या जानते है भारतीय नौसेना के जनक मराठा सम्राट छत्रपति शिवाजी भोंसले को माना जाता है. 17वीं शताब्दी में पहले बार इसका प्रयोग किया था.

2- भारतीय नौसेना की स्थापना 1612 में हुई थी. ईस्ट इंडिया कंपनी ने अपने जहाजों की सुरक्षा के लिए सेना बनाई थी.

3- अंग्रेजों ने अपना पहला व्यापार कलकत्ता में शुरु किया था. बाद में इसे बॉम्बे में ट्रांसफर कर दिया था. इसके बाद सेना का नाम ईस्ट इंडिया मैरीन से बदलकर बॉम्बे मैरीन कर दिया गया था.

4- नौसेना दिवस हर साल 4 दिसंबर को मुंबई मुख्यालय में मनाया जाता है. गेटवे ऑफ इंडिया में बीटिंग रिट्रीट सेरेमनी का आयोजन किया जाता है. जिसमें सेना अपना करतब दिखाती है.

5- नौसेना भारतीय सशस्त्र की समुंद्री सेना है. जिसका मुखिया एडमिरल जरनल होता है. नौसेना का नेतृत्व कमांडर-इन-चीफ के तौर पर राष्ट्रपति द्वारा किया जाता है

और पढ़ें: विश्व एड्स दिवस- हमारा इलाज करने वाले लोगो भी हमें गलत ही समझते हैं, बाकी लोगों से क्या उम्मीद की जाए

क्यों मनाया जाता है नौसेना दिवस

3 दिसंबर 1971 को पाकिस्तान ने भारत पर हमला कर दिया था. इस हमले का जवाब देते हुए भारत ने ऑपेरशन ट्राईटेंन चलाया था. इसके साथ ही 1971 के युद्ध की शुरुआत हो गई. इस युद्ध में भारत ने पाकिस्तान को घुटने टिकवा दिया थे.  कराची के नौसेना मुख्यालय को निशाना बनाया गया था. इस युद्ध में कराची का बंदरगाह पूरी तरह से बर्बाद हो गया. इसमें सात दिन तक आग लगी रही थी. इस युद्ध में भारत की विजय हुई थी. सेना की इसी बहादुरी को याद करते हुए 4 दिसंबर को नौसेना दिवस मनाया जाता है.

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Back to top button