सामाजिक

अनामिका ऊँगली को दबाये और देखे 13 अद्भुत चमत्कार

रिंग फिंगर को 15 मिनट प्रेस करें और पाएं चमत्कारिक बदलाव


योगासन को शरीर के लिए बहुत अधिक लाभदायक माना गया है। योगासन की तरह ही योगमुद्रा लगाकर बैठना भी शरीर के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है। योगमुद्राएं कई तरह की होती हैं, लेकिन सूर्य मुद्रा लगाने के अनेक फायदे हैं। शरीर की उंगली यानी अनामिका जिसे रिंग फिंगर भी कहते हैं। इसका समंदर सूर्य और यूरेनस ग्रह से होता है। सूर्य उर्जा स्वास्थ्य का प्रतिनिधित्व करता है और यूरेनस कामुकता और बदलाव का प्रतीक है।

रिंग फिंगर
रिंग फिंगर

सिर्फ 15 मिनट करने से ऐसे 13 अद्भुत चमत्कार दिखते हैं जिसके पने कल्पना भी नहीं की होगी:-

1. इस मुद्रा से वजन कम होता है और शरीर संतुलित रहता है। मोटापा कम करने के लिए आप इस प्रकार के नृत्य का भी प्रयोग कर सकते हैं जो आपको हेल्दी बनाएगा वो भी बिना कोई पैसे खर्च किये हुए।

2. इस मुद्रा का हर रोज दिन में दो बार 5-15 मिनट तक अभ्यास करने से शरीर का कोलेस्ट्रॉल कम होता है।

3. वजन कम करने के लिए आसान क्रिया चमत्कारी रूप से कारगर पाई गई है। सूर्य मुद्रा के अभ्यास से शरीर की सूजन दूर होता है और शरीर में जमी हुई चर्बी को भी दूर करने के लिए यह मुद्रा लाभकारी है।

4. जिन स्त्रियों को बच्चे के बाद मोटापा बढ़ जाता है, वो अगर इस मुद्रा का नियमित रूप से अभ्यास करें तो उनका शरीर बिल्कुल पहले जैसा हो जाता है।

5. सूर्य मुद्रा का अभ्यास रोजाना करने से पूरे शरीर में उर्जा बढ़ती है और गर्मी पैदा होती है तथा शरीर में ताकत पैदा होती है।

6. कमजोर शरीर वाले व्यक्तियों को यह मुद्रा का अभ्यास नहीं करना चाहिए वरना कमजोरी उत्पन्न हो सकती है।

7. यह भूख को संतुलित करके पाचन संबंधी से जुड़े तमाम समस्याओं से छुटकारा दिलाती है।

8. यह शरीर मुद्रा से सूजन मिटाकर उसे हल्का-फुल्का और चुस्त बनाती है।

रिंग फिंगर
रिंग फिंगर

9. इस मुद्रा को नियमित करने से बेचैनी और चिंता कम होती है और दिमाग भी शांत बना रहता है।

10. सूर्य मुद्रा करने से शरीर में गर्मी बढ़ती है तो गर्मियों में मुद्रा करने से पहले एक गिलास पानी पी लेना चाहिए।

11. प्रातः सूर्योदय के समय स्नान आदि से निवृत होकर इस मुद्रा को करना अधिक लाभदायक होता है और सायं कालीन सूर्यास्त से पूर्व कर सकते हैं।

12. अनामिका उंगली पृथ्वी एवं अंगूठा अग्नि तत्व का प्रतिनिधित्व करता है। इन तत्वों से मिलकर शरीर में तुरंत ऊर्जा उत्पन्न हो जाती है।

13. सूर्य मुद्रा के अभ्यास से व्यक्ति में अंतर्ज्ञान जागृत होता है।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.in

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
Back to top button