Categories
हॉट टॉपिक्स

मेट्रो के मुसाफिर को झेलनी पड़ रही है बड़ी मुसीबते, न टोकन मिल रहा, न कैश लिया जा रहा है

जानें मेट्रो में सफर करने वाले लोगों को किस तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है


साल 2020 पूरी तरह से कोरोना की भेंट चढ़ गया. कोरोना वायरस के कारण डीएमआरसी ने करीब साढ़े 5 महीने तक मेट्रो  बंद रखने के बाद अभी मेट्रो का ऑपरेशन दोबारा शुरू किया है.  मेट्रो को दोबारा शुरू हुए साढ़े 3 महीने से ज्यादा समय बीत चुका है. अभी मेट्रो में सफर करने वाले यात्रियों की संख्या भी तेजी से बढ़ रही है. दूसरी तरफ अभी देश में चल रहे किसान आंदोलन के कारण बॉर्डर्स बंद होने से सभी लोग पूरी तरफ से मेट्रो पर निर्भर हो है.  लेकिन कोरोना लॉकडाउन के बाद से मेट्रो को चलाने के लिए तय किए गए नियम कायदों में अभी तक कोई बदलाव नहीं किया गया है. जिसके कारण अभी मेट्रो में सफर करने वाले लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. तो चलिए जानते है मेट्रो में सफर करने वाले लोगों को अभी किस तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है

 

किस तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है यात्रियों को

कोरोना और लॉकडाउन के बाद से मेट्रो को चलाने के लिए तय किए गए नियमों के कारण अभी लोगों को काफी सारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. खासतौर पर अभी टोकन सिस्टम और कैश से स्मार्ट कार्ड रिचार्ज कराने का सिस्टम पूरी तरह बंद होने से लोगों को खासी दिक्कते हो रही हैं.अभी आप कस्टमर केयर सेंटर पर केवल अपने डेबिट और क्रेडिट कार्ड से ही स्मार्ट कार्ड रिचार्ज करवा सकते है.वो भी आप 200 रुपए से कम का रिचार्ज नहीं कर सकते. वहीं दूसरी ओर स्टेशनों पर लगी टिकट वेंडिंग मशीनों में 100 रुपए का भी रिचार्ज कर सकते है. लेकिन वह भी आप कैश नहीं, बल्कि डेबिट या क्रेडिट कार्ड से करा सकते है. जबकि कई सारे मेट्रो स्टेशनों पर वेंडिंग मशीनें खराब पड़ी हुई हैं जिसके कारण लोग उनसे रिचार्ज नहीं करा पाते.

 

और पढ़ें: किसान आंदोलन में स्लोगन और बॉयकॉट का नारा बना रहा है इसे और मजबूत

 

क्या सभी मेट्रो स्टेशनों पर वेंडिंग मशीनें काम करती है

डीएमआरसी के नए नियमों के अनुसार आप अपना स्मार्ट कार्ड रिचार्ज सिर्फ डेबिट या क्रेडिट कार्ड से ही करा सकते हैं. लेकिन कई बार मेट्रो स्टेशनों पर लगी वेंडिंग मशीनें खराब  होती हैं जिसके कारण लोग उनसे रिचार्ज नहीं करा पाते. कुछ मेट्रो स्टेशनों पर अगर वेंडिंग मशीनें चल भी रही है लेकिन लोग  मशीन के द्वारा कार्ड रिचार्ज कराने की बजाय कस्टमर केयर सेंटर की विंडो पर खड़े नजर आते है क्योंकि वेंडिंग मशीन से डेबिट या क्रेडिट कार्ड के द्वारा स्मार्ट कार्ड रिचार्ज कराने का सिस्टम है जो कई सारे लोग को समझ नहीं आता. कुछ मेट्रो स्टेशनों पर तो मदद करने के लिए कोई गार्ड या मेट्रो का कोई कर्मचारी मौजूद होता है लेकिन कुछ पर तो न को गार्ड होता है न ही कोई मेट्रो कर्मचारी.

 

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com