Jannah Theme License is not validated, Go to the theme options page to validate the license, You need a single license for each domain name.
वीमेन टॉक

जाने कौन है एकता जायसवाल, जो हैंडमेड कपड़ों को बढावा देने के साथ बुनकरों को दे रहीं है रोजगार

जाने बुनकरों को रोजगार देने वाली एकता जायसवाल के बारे में


आज के समय में हमारे देश में ज्यादातर कपड़े अब मशीनों से ही बनकर तैयार होते है. जबकि बहुत पहले से ही हमारा देश खादी और सूती कपड़े को हाथ से बनाने के हुनर के लिए पूरी दुनिया में जाना जाता है. लेकिन एक बार फिर हमारे देश में डिजाइनर कपड़ों को हाथ से बनाने का काम शुरू लिया गया है. इस काम को करने की शुरुआत नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी हैदराबाद के स्नातक की छात्रा एकता जायसवाल ने की है. एकता जायसवाल हैंड एंब्रायडरी और हाथों की कारीगरी के जरिए नए नए ब्रांड हस्तकथा के लिए ड्रेस डिजाइन करती है.

एकता जायसवाल बुनकरों और कारीगरों को देती है रोजगार

एकता जायसवाल बताती है कि वो अपने ब्रांड को बढावा देने के लिए ड्राइंग, एंब्रायडरी के साथ ही प्रिंटिंग का काम भी अपने हाथों से ही करती हैं. जैसे की हम सभी लोग देखते है कि आज के समय में ज्यादातर लोग अपने बड़े डिजाइनर और प्रोडक्शन को बढाने के लिए ज्यादातर मशीन का इस्तेमाल करते है लेकिन एकता जायसवाल अपने ब्रांड के कपड़ों को बनाने के लिए भारतीय कारीगरों का सहारा लेती हैं. जिससे की हमारे देश में हाथों से बने कपड़ों को बढावा मिले. साथ ही साथ बुनकरों और कारीगरों को रोजगार भी मिले.

और पढ़ें: जानें उस महिला के बारे में जिन्होंने ब्रिटिश शासन को मानवता पर कलंक कहा…

एकता जायसवाल अपने बिजनेस के लिए इस्तेमाल करती है ई-कॉमर्स वेबसाइट

एकता जायसवाल बताती है कि उन्होंने अपने एक बिजनेस की शुरूआत अपनी एक सहेली दिव्या के साथ की थी. एकता जायसवाल और दिव्या ने ये बिजनेस 2016 में मिलकर शुरू किया था. इसमें उन्होंने एक अमेरिकन ई-कॉमर्स वेबसाइट ‘इट्सी’ पर हस्तकथा को बेचना शुरू किया था. हस्तकथा के जरिए ही एकता जायसवाल लोककला और पारंपरिक कपड़ों के इस्तेमाल से लिनेन और कॉटन के गारमेंट्स बनाती हैं. इसमें वो लड़कियों के लिए मैक्सी ड्रेस, जंप सूट्स, स्कार्फ आदि डिजाइन के कपडे बनती है.

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Back to top button