Makar sankranti 2020: क्या होगा राशियों पर असर?

0
46
Makar sankranti 2020

Makar sankranti 2020: क्यों और कैसे मनाया जाता है मकर संक्रांति का पर्व?


Makar sankranti 2020: मकर संक्रांति का त्योहार हिन्दू धर्म का एक प्रमुख त्योहारों है जो हर साल 14 जनवरी को मनाया जाता है। सूर्य के उत्तरायन होने पर यानि जब सूर्य उत्तरायन होकर मकर रेखा से गुजरता है, तब संक्रांति मनाई जाती हैं। हिंदू धर्म के अनुसार सूर्य हर महीने  में अपना राशि परिवर्तन करते हैं और जब वे अपना राशि बदलते हैं तब संक्रांति मनाई जाती है। इस तरह साल में 12 संक्रांति मनाई जाती है लेकिन इन सभी संक्रांतियों में मकर संक्रांति सबसे महत्वपूर्ण होती है। आइये जानते है मकर संक्रांति के बारें में।

मकर संक्रांति 2020 शुभ मुहूर्त

हर साल 14 जनवरी को मकर संक्रांति का त्यौहार मनाया जाता है।  हालाँकि साल 2020 में मकर संक्रांति दो दिन यानी 14 और 15 जनवरी को मनाई जा रही हैं।इसका कारण यह है कि इस बार सूर्य का परिवर्तन 15 जनवरी को होने के कारण इसी दिन मकर संक्रांति मनाई जायेगी। हालाँकि कुछ लोग हर साल को 14 जनवरी को यह त्यौहार मानकर इस दिन यह मन रहे हैं। इस बार मकर संक्रांति का शुभ मुहूर्त 15 जनवरी सुबह 7:05 बजे से शाम 5:46 तक है।

मकर संक्रांति का महत्व

हिंदू धर्म में मकर संक्रांति का बहुत महत्व होता हैं। इस दिन विशेष रूप से तिल और गुड़ का बेहद महत्व होता है। इस दिन सुहानगण महिलाये तिल और गुड़ के लड्डू एवं अन्य व्यंजन भी बनाकर साथ में सुहाग की सामग्री का आदान प्रदान करती हैं। इस दिन को सुहागन महिलायें पति की आयु लंबी होने के लिए मानी जाती है। इस दिन को स्नान और दान का पर्व भी कहा जाता है। इस दिन कई लोग तीर्थों एवं पवित्र नदियों में जाकर स्नान करके और दान पण्य कमाते हैं। हिन्दू धर्म में इस दिन दिए दान के महत्व को सूर्य देव के प्रसन्न होने के साथ जोड़ते हैं।

और पढ़ें: गर्म पानी कैसे है आपके स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद

मकर संक्रांति के दिन क्या  करें

इस दिन सुबह नहा धोकर सुहागन महिलायें पूजा पाठ करके सुहाग की चीज़ें आपस में एक दूसरे यानी बहिन,बेटियों या रिश्तेदार के साथ आदान प्रदान कर सकती हैं।

पूर्वजों के नाम पर श्राद्ध-तर्पण का कार्य करना चाहिए जिससे पितरों की आत्मा को शांति  प्राप्त हो।

इस दिन तिल के लड्ड़ओं या सूखे तिल कूट को बनाकर पूजा में भोग लगाकर सबको प्रसाद वितरण करें।

शास्त्रों में बताया गया है कि मकर संक्रांति के दिन  तिल का प्रयोग 6 प्रकार से करने से अनंत सुख मिलता है।

6 प्रकार से तिल का प्रयोग कैसे करें

• पानी में तिल मिलाकर स्नान करें
• तिल का तेल शरीर पर लगाए
• पितरों को तिलयुक्त जल से तर्पण करें
• अग्नि में तिलों का हवन करें
• बहन-बेटी को तिलों से बने पदार्थों का दान करें
• तिल से बने प्रदार्थों का सेवन करें

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments