वीमेन टॉक

Tejashwi Abhilash: जाने कौन है 10 साल की उम्र में अपने नाम दो रिकॉर्ड्स करने वाली तेजस्वी अभिलाष,

Tejashwi Abhilash: जाने कौन है तेजस्वी अभिलाष


Tejashwi Abhilash: ये कहावत तो आपने भी अपने घर पर अपनी माँ या फिर अपनी दादी से जरूर सुनी होगी कि ‘अगर आपके हौसले बुलंद है तो आपकी उम्र सिर्फ एक नंबर होती है’। तो चलिए आज हम आपको एक ऐसी ही लड़की के बारे में बताने जा रहे है जो 10 साल की उम्र में इस कहावत की एक जीती जागती उदाहरण बन गई हैं। तेजस्वी अभिलाष ने महज 59 सेकेंड में डिजिटल डूडल बनाकर इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स और एशिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में अपना नाम दर्ज करा लिया है। इतना ही नहीं इसके साथ ही वो ऐसा करने वाली एशिया की सबसे कम उम्र की युवा लड़की भी बन गई हैं, जिसने इतने कम समय में इस आर्ट को पूरा किया। इतनी छोटी उम्र में डिजिटल ड्राइंग की दुनिया इस तरह का इतिहास रचने वाली कोच्चि के त्रिशुर की तेजस्वी अभिलाष आज के समय पर युवाओं के लिए एक प्रेरणा बन रही हैं। तो चलिए जानते है इनके बारे में विस्तार से।

जाने कहा से मिली तेजस्वी अभिलाष को इसके लिए प्रेरणा

motivational

आपको बता दें कि तेजस्वी अभिलाष के चाचा नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी बेंगलुरु के लिए ड्राइंग असाइनमेंट बनाते रहते हैं। उन्हें देख कर ही तेजस्वी अभिलाष को इसकी प्रेरणा मिली। अपने चाचा की कला को देखते देखते तेजस्वी अभिलाष खुद भी इसमें अपना हाथ आजमाने लगीं। वैसे तो तेजस्वी बचपन से ही किसी भी चीज को बहुत तेजी से सीखती थी उसके अंदर नई चीजों को तेजी से सिखने की ललक थी। उनका अपने चाचा के साथ ये कला तेजी से सीखना रंग लाई और आज के समय पर वो अपने युवा साथियों के लिए प्रेरणा बन रही हैं। तेजस्वी अभिलाष ने एक मीडिया इंटरव्यू में बताया कि ‘मैं अपने अंकल को डिजिटल आर्ट बनाते हुए देखती थी तो उन्हें देख कर ही मुझे उसे सीखने की ललक लगी। जिसके बाद ही मैंने उनसे सीखना शुरू किया, और धीरे-धीरे कई सारे चित्र, कार्टून और आकृतियां भी बनाएं। आगे वो बताती है कि समय के साथ चीजें निखरती गईं और मेरा चीजों को लेकर उत्साह बढ़ता गया’।

और पढ़ें:  Malalai Kakar: जाने कौन है कर्नल मलालाई कक्कड़, जिन्होंने अफगानिस्तान में महिलाओं की सुरक्षा के लिए पहनी थी वर्दी

तेजस्वी अभिलाष ने जाहिर की दो रिकॉर्ड्स की खुशी

success story

तेजस्वी अभिलाष का नाम दो रिकॉर्डस में दर्ज होना उनके लिए बहुत ज्यादा खुशी और उत्साह देने वाली चीज थी। तेजस्वी कहती हैं कि ‘मेरे मां पापा ने मेरा उत्साह बढ़ाया। अगर वो कहती है कि मेरी मां ने ही रिकॉर्ड की सलाह दी। आगे वो कहती है कि आप चाहे तो किसी भी उम्र में कुछ भी सीख सकते हो। बस आपकी इच्छा शक्ति मजबूत होनी चाहिए। फिर वो कहती है कि अब मैं कोशिश करूंगी की डूडल इससे भी कम समय में बनाओ। आखिर में वो बोलती है कि निश्चित ही अपना नाम रिकॉर्डस में देखना काफी सुकून देता है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Back to top button
Hey, wait!

अगर आप भी चाहते हैं कुछ हटके वीडियो, महिलाओ पर आधारित प्रेरणादायक स्टोरी, और निष्पक्ष खबरें तो ऐसी खबरों के लिए हमारे न्यूज़लेटर को सब्सक्राइब करें और पाए बेकार की न्यूज़अलर्ट से छुटकारा।