Jannah Theme License is not validated, Go to the theme options page to validate the license, You need a single license for each domain name.
काम की बात

नहीं रहें सिटी मांटेसरी स्‍कूल के संस्‍थापक डॉ. जगदीश गांधी, कार्डियक अरेस्ट के चलते हुआ निधन: Jagdish Gandhi Passes Away

जगदीश गांधी प्रखर शिक्षाविद माने जाते थे। विश्‍व के मुख्‍य न्‍यायाधीशों के अंतरराष्‍ट्रीय सम्‍मेलन के संयोजक डॉ गांधी का जन्‍म 10 नवंबर, 1936 को अलीगढ़ के गांव बरसौली में हुआ था। उनके पिता फूलचंद्र अग्रवाल गांव के लेखपाल थे।

Jagdish Gandhi Passes Away: दुनिया के सबसे बड़े स्कूल में गिना जाता है CMS का नाम, जानिए जगदीश गांधी से जुड़े कुछ रोचक बातें 


Jagdish Gandhi Passes Away: यूपी की राजधानी लखनऊ के प्रख्‍यात सिटी मांटेसरी स्‍कूल (सीएमएस) के संस्‍थापक डॉ. जगदीश गांधी का लंबी बीमारी के बाद रविवार रात निधन हो गया। 88 साल के गांधी का कई दिनों से मेदांता अस्‍पताल में इलाज चल रहा था। उनका अंतिम संस्‍कार मंगलवार को किया जाएगा। 23 जनवरी को अंतिम दर्शन के लिए उनका पार्थिव शरीर गोमती नगर एक्‍सटेंशन शाखा में अंतिम दर्शन के लिए रखा जाएगा।

इस बीमारी के कारण हुआ निधन

आपको बता दें कि जगदीश गांधी को कार्डियक रेस्पिरेटरी सिस्‍टम में दिक्‍कत के चलते मेदांता के क्रिटिकल केयर विभाग में एडमिट किया गया था। उनके निधन के बाद सीएमएस स्‍कूल के छात्र और शिक्षकों में गम का माहौल है।
We’re now on WhatsApp. Click to join

25 दिनों तक अस्‍पताल में भर्ती रहे

डॉ गांधी करीब 25 दिनों से मेदांता अस्‍पताल में भर्ती थे। सीएमएस की तरफ से एक बयान जारी कर बताया गया कि जो लोग पार्थिव शरीर का अंतिम दर्शन करना चाहते हैं, वे 23 जनवरी को दोपहर 2 बजे से शाम 5 बजे तक सीएमएस गोमतीनगर एक्‍सटेंशन परिसर के ऑडिटोरियम हॉल में आ सकते हैं।

जगदीश गांधी से जुड़े कुछ बातें 

जगदीश गांधी प्रखर शिक्षाविद माने जाते थे। विश्‍व के मुख्‍य न्‍यायाधीशों के अंतरराष्‍ट्रीय सम्‍मेलन के संयोजक डॉ गांधी का जन्‍म 10 नवंबर, 1936 को अलीगढ़ के गांव बरसौली में हुआ था। उनके पिता फूलचंद्र अग्रवाल गांव के लेखपाल थे।

दुनिया के सबसे बड़े स्कूल में गिना जाता है सीएमएस का नाम

सीएमएस स्‍कूल आज दुनिया के बड़े स्‍कूलों में गिना जाता है। 2019-20 में इस स्‍कूल के 55 हजार 547 छात्रों ने विभिन्‍न वैश्विक पुरस्‍कार अपने नाम किए हैं।

जगदीश गांधी ने 5 बच्चों से की थी स्कूल की शुरुआत

सीएमएस काउंसिल फॉर इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन (सीआईएससीई) से संबद्ध है। जगदीश गांधी ने केवल 5 बच्चों के साथ इस स्कूल की शुरुआत की थी औऱ आज यह दुनिया के बड़े स्कूलों में गिना जाता है। इस स्कूल के 55,547 छात्रों ने 2019-20 में वैश्विक पुरस्कार अपने नाम किया है।

जगदीश गांधी को मिल चुका है विज्ञान के छेत्र में पुरुस्कार

बता दें कि भारतीय शिक्षाविद् डॉ. जगदीश गांधी को ब्रिटेन की क्वीन्स यूनिवर्सिटी बेलफास्ट की चांसलर और पूर्व अमेरिकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन द्वारा सामाजिक विज्ञान में डॉक्टरेट की मानद उपाधि से सम्मानित किया था। भारत के पूर्व राष्ट्रपति और भारत रत्न, डॉ ए. पी. जे. अब्दुल कलाम और इंफोसिस के संस्थापक श्री एन आर नारायणमूर्ति ने साल 2009 और 2014 में विश्वविद्यालय से यह प्रतिष्ठित सम्मान प्राप्त किया है। जगदीश गांधी यह सम्मान पाने वाले पहले भारतीय शिक्षाविद हैं।
अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Back to top button