लाइफस्टाइल

Good Friday and Easter: गुड फ्राइडे और ईस्टर को मनाने के पीछे की कहानी क्या है?

Good Friday and Easter : ईसा मसीह के जीवन से जुड़े हैं गुड फ्राइडे और ईस्टर, जानिए क्या है इनका महत्व


Highlights:

  • ईसाई धर्म में गुड फ्राइडे और ईस्टर का बड़ा महत्व है।
  • गुड फ्राइडे और ईस्टर को ईसाई समुदाय का बड़ा पर्व कहा जाता है।

Good Friday and Easter: ईसाई धर्म में गुड फ्राइडे और ईस्टर का बड़ा महत्व है। गुड फ्राइडे और ईस्टर को ईसाई समुदाय का बड़ा पर्व कहा जाता है।गुड फ्राइडे को काले दिवस के रूप में भी मनाया जाता है। मान्यताओं के अनुसार इसी दिन ईसा मसीह ने अपने प्राण त्यागे थे। इस दिन को प्रभु यीशु के बलिदान के रूप में याद किया जाता है। गुड फ्राइडे को होला फ्राइडे, ब्लैक फ्राइडे और ग्रेट फ्राइडे के नाम से भी जाना जाता है। वहीं ईस्टर संडे पर उनकी खुशी दोगुनी हो जाती है।

ईसाई धर्म में यह मान्यता है कि गुड फ्राइडे के तीसरे दिन यानी गुड फ्राइडे के बाद आने वाले रविवार को ईसा मसीह दोबारा जीवित हुए थे। ईसा मसीह के जीवित होने की खुशी में ईसाई धर्म के लोग ईस्टर संडे मनाते है।

बाइबल के अनुसार, दोबारा जीवित होने के बाद यानी की ईस्टर संडे के 40 दिन बाद तक ईसा मसीह पृथ्वी पर रहे थे। इस दौरान उन्होंने लोगों को प्रेम और करुणा का पाठ पढ़ाया। चलिए इस आर्टिकल में जानते हैं इस साल गुड फ्राइडे कब और ईस्टर कब मनाया जाएगा और इनके महत्व क्या हैं।

इस साल 15 अप्रैल को गुड फ्राइडे मनाया जायेगा। गुड फ्राइडे हर ईस्टर संडे से पहले मनाया जाता है। ईस्टर 17 अप्रैल को मनाया जाएगा।

कैसे मनाया जाता है गुड फ्राइडे ?

इस दिन लोग व्रत रखते हैं और चर्च में जाकर विशेष प्रार्थना करते हैं। इस दिन की एक बहुत ही खास बात है। गुड फ्राइडे पर चर्च के घंटे नहीं बजाए जाते, बल्कि लकड़ी के खटखटे बजाए जाते हैं। इस दिन लोग चर्च में क्रॉस को चूमकर प्रभु ईसू को याद करते हैं। प्रभु यीशु को दुनिया में प्रेम और शांति का प्रतीक कहा जाता है और यही वजह है कि इस दिन लोग प्रभु इसु के उपदेशओं को स्मरण करते हैं। लोग प्रभु यीशु के बताए प्रेम, सत्य और विश्वास के मार्ग पर चलने की शपथ लेते हैं। ऐसी मान्यता है कि गुड – फ्राइडे के दिन दान – धर्म के कार्य किए जाते हैं।

Read More- Online Dating scam: ऑनलाइन डेटिंग के नाम पर मिला धोखा, ये दो किस्से सुन कर उड़ जाएंगे आपके होश!

ईस्टर संडे का खास महत्व

क्रिसमस के अलावा ईस्टर ईसाई धर्म का सबसे बड़ा और प्रमुख पर्व है। दोनों ही त्योहारों को ईसा मसीह के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है। ईस्टर को बदलाव का भी दिन कहा जाता है। कहा ये जाता है कि इस दिन ईसा मसीह के जीवित होने के बाद उनको यातनाएं देने वाले और उनको सूली पर चढ़ाने वाले को भारी पश्चाताप हुआ था।

ईस्टर पर अंडे को बहुत महत्व दिया जाता है। अंडों को अलग – अलग रंगों से सजाया जाता है और फिर इन्हें एक – दूसरे को तोहफे में देकर लोग ईस्टर मनाते हैं। ईस्टर के दिन अंडे को इसलिए महत्व दिया जाता है क्योंकि ईसाई धर्म के लोग अंडे को लोग नया जीवन और उमंग का प्रतीक मानते हैं।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Back to top button