Jannah Theme License is not validated, Go to the theme options page to validate the license, You need a single license for each domain name.
विदेश

PM Modi Speech In US Parliament: अमेरिकी संसद को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा, जल्द ही भारत दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनेगा

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी राजकीय यात्रा पर इस समय अमेरिका में है। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार देर रात अमेरिकी संसद को दूसरी बार संबोधित किया। इससे पहले पीएम का संसद में जोरदार स्वागत किया गया।

PM Modi Speech In US Parliament: संबोधित करते समय लगते रहें मोदी-मोदी के नारे, भारत-अमेरिका के संबंधों को बताया ऐतिहासिक 

PM Modi Speech In US Parliament: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिकी यात्रा के दौरान कई कार्यक्रमों में शामिल हुए। यात्रा के पहले दिन पीएम मोदी ने संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में योग दिवस का प्रतिनिधित्व किया। वहीं गुरुवार रात अमेरिकी संसद को संबोधित करने के बाद पीएम मोदी ने व्हाइट हाउस में आयोजित राजकीय रात्रिभोज में हिस्सा लिया। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिकी संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित किया। इस दौरान पीएम मोदी ने आतंकवाद, लोकतंत्र समेत तमाम मुद्दों पर अपनी राय रखी। बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दूसरी बार अमेरिकी संसद को संबोधित किया। इस दौरान अमेरिकी सांसदों ने तालियों की गड़गड़ाहट के साथ पीएम मोदी का स्वागत किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण की शुरुआत में संसद को धन्यवाद दिया। 

PM मोदी को मिला रेड कार्पेट वेलकम

इससे पहले PM मोदी को व्हाइट हाउस में रेड कार्पेट वेलकम दिया गया। उन्हें अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन और उनकी पत्नी जिल बाइडेन ने रिसीव किया। इसके बाद बाइडेन ने स्वागत भाषण दिया। इस दौरान वहां मौजूद भारतीय मूल के लोगों ने मोदी-मोदी के नारे लगाए। वहीं, बाइडेन के स्वागत भाषण के जवाब में PM मोदी ने कहा- व्हाइट हाउस में हुआ शानदार स्वागत समारोह एक तरह से भारत के 140 करोड़ देशवासियों का सम्मान और गौरव है। अमेरिका में रहने वाले 4 मिलियन से अधिक भारतीय लोगों का भी सम्मान है।

मोदी-मोदी के लगे नारे

आपको बता दें कि पीएम मोदी भारतीय समयानुसार देर रात 1:30 बजे अमेरिकी कांग्रेस के ज्वॉइंट सेशन को संबोधित करने पहुंचे। स्पीकर और उपराष्ट्रपति कमला हैरिस ने पीएम मोदी का स्वागत किया। अमेरिकी कांग्रेस में ये पीएम मोदी का दूसरा संबोधन है। यूएस कांग्रेस में ‘मोदी-मोदी’ के नारे लगे। इससे पहले पीएम ने 2016 में अमेरिका की संसद में भाषण दिया था।

आज भी आतंकवाद सबसे बड़ा खतरा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस दौरान आतंकवाद का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि 9/11 हमले और मुंबई में 26/11 हमले के एक दशक से ज्यादा का समय बीत गया। इसके बाद भी कट्टरवाद और आतंकवाद पूरी दुनिया के लिए गंभीर खतरा है। उन्होंने कहा कि ये विचारधाराएं नई पहचान और नया रूप लेती रहती हैं। लेकिन इनके इरादे वही हैं। पीएम मोदी ने आतंकवाद को मानवता का दुश्मन बताते हुए कहा कि इससे निपटने में कोई किंतु-परंतु नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि हमें आतंक को बढ़ावा देनी वाली ताकतों पर काबू पाना होगा।

Read more: Jack Dorsey Claim On Indian Government: ट्विटर के पूर्व सीईओ जैक डॉर्सी ने भारत सरकार पर लगाए गंभीर आरोप, एलन मस्क ने किया खारिज

भारत-अमेरिका के संबंधों में ये ऐतिहासिक क्षण बताया

भारत-अमेरिका संबंधों पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “अमेरिका के साथ भारत के संबंध बहुत महत्वपूर्ण हैं। एक दशक पहले तक हम रक्षा मामलों में अनजान थे। अब अमेरिका हमारा सबसे बड़ा रक्षा साझेदार देश है। आज भारत और अमेरिका साथ मिलकर अंतरिक्ष, समुद्र, विज्ञान. कृषि, आर्ट, शिक्षा, ऊर्जा, स्टार्टअप से लेकर टेक्नोलॉजी तक में मिलकर काम कर रहे हैं। मैं कहना चाहता हूं कि हमारे संबंधों का दायरा असीमित है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दोनों देशों के संबंधों में ऐतिहासिक क्षण बताया।

प्रधानमंत्री मोदी ने उठाया ग्लोबल साउथ का मुद्दा

अपने संबोधन में प्रधानमंत्री मोदी ने एक बार फिर से ग्लोबल साउथ का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा, “नए वर्ल्ड ऑर्डर को विकसित करना जरूरी है। ग्लोबल साउथ को आवाज देकर आगे की राह बनाई जा सकती है। मैं मानता हूं कि अफ्रीकन यूनियन को G-20 की सदस्यता दी जानी चाहिए। दोनों देश इस राह में मील का पत्थर साबित हो सकते हैं।”

Read more: PM Modi US Visit 2023: अमेरिका के दौरे पर पीएम मोदी, विश्व व्यापार संगठन के विवादित मुद्दे पर होगी बातचीत

प्रधानमंत्री मोदी ने जय हिंद के साथ खत्म किया भाषण

अपने भाषण के अंतिम हिस्से में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “हम अलग-अलग इतिहास से आते हैं, लेकिन हम एक ही लक्ष्य साझा करते हैं। जब हमारे संबंध प्रगाढ़ होंगे तो इसका फायदा मानवता को होगा और लोकतंत्र दमकेगा। ये हमारे संबंधों का मिशन है।” मोदी ने अमेरिकी संसद के स्पीकर, सांसदों और उपराष्ट्रपति का शुक्रिया अदा करते हुए उन्होंने जय हिंद के साथ अपना भाषण खत्म किया। कुछ अमेरिका सांसदों ने उनके ऑटोग्राफ भी लिए।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Back to top button