Categories
पॉलिटिक्स

गुजरात मे विधानसभा चुनाव की तारीख का ऐलान, दो चरणों में होगा चुनाव

रैली की वीडियो रिकॉर्डिंग होगी


 

कई दिनों से गुजरात विधानसभा चुनाव को लेकर चर्चा चल रही थी। आखिरकार आज उसका इंतजार खत्म हो गया है। बुधवार को प्रेस कांफ्रेंस करके विधानसभा चुनाव की तारीख का ऐलान हो गया है। चुनाव दो चरणों मे होगा। पहले चरण के लिए 9 दिसंबर को वोट डाले जाएंगे। दूसरे चरण में 93 विधानसभा सीटों पर चुनाव होगा, दूसरे चरण के लिए 14 दिसंबर को वोट डाले जाएंगे। वोट की गिनती 18 दिसंबर को होगी। पहले फेज में 19 जिलें में वोटिंग होगी, तो वहीं दूसरी फेज में 14 जिले में वोट डाले जाएंगे।

गुजरात में विधानसभा चुनाव तारीख का ऐलान

 
वीवीपैड का इस्तेमाल किया जाएगा
प्रेस कांफ्रेंस में मुख्य चुनाव आयुक्त अचल कुमार ज्योति ने कहा कि गुजरात की 182 सीटों पर कुल 4.30 करोड़ वोटर हैं। चुनावों के लिए 50,128 पोलिंग स्टेशन बनाए गए हैं। उन्होंने कहा कि गुजराती भाषा में भी वोटिंग गाइड दी जाएगी। चुनावों में वीवीपैड का इस्तेमाल होगा।
अचल कुमार ज्योति ने कहा कि हर पोलिंग बूथ पर एक महिला चुनावकर्मी मौजूद रहेगी। ऐसी गुजरात के चुनावों मे पहली बार होगा। सभी उम्मीदवारों को हलफनामा भरना होगा। अगर हलफनामे में कोई भी कॉलम खाली रहता है, तो उम्मीदवार को नोटिस भेजा जाएगा। हर सीट को पोलिंग बूथ की वीवीपैट पर्चियों की गिनती होगी। 102 बूथ पर महिला पोलिंग स्टाफ मौजूद रहेगा।
चुनाव की तारीख का ऐलान होती ही राज्य में आचार सहिंता लागू हो जाएगी। जिसके कारण सभी बॉर्डर चेकपोस्ट को सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में रखा जाएगा।
आचार सहिंता के लागू होते ही चुनाव प्रचार की प्रक्रिया भी शुरु हो जाएंगी। मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि सभी बड़ी रैलियों की वीडियो रिकॉर्डिंग की जाएगी ताकि किसी तरह की कोई गड़बड़ी न हो।

Categories
पॉलिटिक्स भारतीये पॉलिटिक्स

महज चार दिनों में योगी ने किए कई बड़े ऐलान

आइये जाने योगी ने किये कौन – कौन से बड़े ऐलान


हाल ही में देश के पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव हुए थे। इन पांच राज्यों में से चार राज्यों में बीजेपी की सरकार बनी है। सिर्फ पंजाब में ही कांग्रेस अपनी साख बचा पाई है। चुनाव पांच राज्यों मे हुए है लेकिन चर्चा सिर्फ एक की है। सिर्फ एक ही राज्य के कामकाज का ब्योरा सबसे ज्यादा मीडिया में छाया हुआ है। हो भी क्यों न यूपी में बीजेपी ने बहुमत की सरकार बनााई है और एक योगी को वहां का मुख्यमंत्री बनाया गया है। अब तो आप समझ ही गए होंगे हम किसकी बात कर रहे हैं- जी हाँ, हम बात कर रहे है योगी आदित्यनाथ। योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री बने महज़ वहार दिन हुए है पर इन चार दिनों मे उन्होंने ने कई बड़े ऐलान किये है।

योगी आदित्यनाथ

अजय बिष्ट यानि की योगी आदित्यनाथ यूपी के 21वें मुख्यमंत्री बने हैं। इनके मुख्यमंत्री बनने से पहले केशव मौर्य और मनोज सिंहा का नाम भी सुर्खियों में आया था। लेकिन ताज योगी आदित्यनाथ के सिर पर ही सजा। योगी ने 19 मार्च को मुख्यमंत्री पद की शपथ ग्रहण की। पदभार संभालते ही योगी ने कई सारे काम किए हैं।

अभी योगी को अपना पदभार संभाले एक सप्ताह भी नहीं हुआ है। लेकिन इन कुछ दिनों में ही प्रदेश में कई बदलाव और जरुरी ऐलान किए हैं। चलिए जरा उन पर नजर डालते हैं

रोड साइड रोमियो की खैर नहीं

योगी ने मुख्यमंत्री बनते है महिलाओं की सुरक्षा को तव्वजो दिया है। बीजेपी के चुनावी वायदे के हिसाब से राज्य के हर शहर में एंटी रोमियो स्कवॉड बनाने का आदेश दिया गया है। ताकि महिलाओं को घर से बाहर निकलने मे किसी तरह की परेशानी न हो। लोगों का कहना था कि पिछली सरकार इसको लेकर जरा भी ध्यान नहीं देती थी । जिसके कारण कॉलेज की लड़कियों और महिलाओं को कई तरह की परेशानी होती थाी।

अफसरों को पुराना रवैया सुधारने की दी सलाह

योगी अपने सख्त रवैया और सीधी बात करने के लिए जाने जाते है। इसलिए अपना सख्त रवैया दिखाते हुए सरकारी अफसरों को कहा है कि वह सरकारी कामकाज का पुराना रवैया बर्दाश्त नहीं करेंगे। अब यूपी के अफसरों की खैर नहीं है क्योंकि योगी यूपी के मुख्यमंत्री है। योगी का कहना है कि जनता ने बदलाव के लिए हमें चुना है इसलिए उनको यह सबकुछ करके दिखाना होगा ताकि जनता का विश्वास सरकार पर बना रहे।

हूटरों के प्रयोग पर रोक

तीसरे दिन यूपी के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने यूपी मंत्रिमंडल के विभागों का बंटवारा किया। सभी मंत्रियों को उनके विभाग बांटे गए। इसके साथ ही सीएम ऑफिस ‘लोक भवन’ में बैठक की गई। बैठक के दौरान योगी ने मंत्रियों से उनके कामों के सुझाव मांगे। साथ ही मंत्रियों को सख्त निर्देश दिया है कि वह हूटर का प्रयोग न करें।

वेबसाइट द्वारा जनमत संग्रह

यूपी में गायों की बढ़ती तस्करी और अवैध बूचडखानों को लेकर योगी सख्त हो गए है। गौहत्या को लेकर मुख्यमंत्री ने एक वेबसाइट बनाई है। जिसके द्वारा गौहत्या को लेकर जनमत संग्रह इकट्ठा किया जा रहा है।
योगी की वेबसाइट है http://www.yogiadityanath.in/ है। इस वेबसाइट पर आप अपने सुझाव भी दे सकते हैं।

बूचड़खानों को बंद करने के निर्देश

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपना काम संभालते ही अपने चुनावी वायदों को पूरा करना शुरू कर दिया । अपने चुनावी वायदे के अनुसार योगी ने यूपी के पुलिस आधिकारियों से बूचड़खाने बंद करने के लिए एक्शन प्लान तैयार करने को कहा। उन्होंने कहा कि पशुओं की तस्करी पूरी तरह बंद होनी चाहिए । साथ ही कहा है कि ऐसे मामलों में कतई ढिलाई न की जाए, नहीं तो ऐसे मामलों में जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाई जाएं।

पान और प्लास्टिक पर प्रतिबंध

योगी ने सरकारी कार्यलयों, चिकित्सालयों तथा शिक्षण संस्थानों मे पान,गुटखा,तंबाकू, पान मसाले पर तत्काल रोक लगाने को कहा है। इसकी सबसे बड़ी वजह है सरकारी कार्यलयों मे जगह-जगह पान की पीक का दिखाई देना। इसके साथ ही पॉलिथीन के प्रयोग को प्रतिबंधित करने का निर्देश दिया है। ताकि इसके द्वारा स्वच्छ भारत अभियान को बढ़ावा दिया जाएं।

थाने का किया मुआयना

अपने कामकाज के चौथे दिन यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अचानक लखनऊ के हजरतगंज पुलिस स्टेशन पहुंचे। यहां पहुंच कर उन्होंने कामकाज का जायजा लिया। पुलिस स्टेशन की स्वच्छता का निरीक्षण किया।

निरीक्षण के दौरान योगी ने कहा कि अफसरों की तैनाती, उनकी संख्या, काम और सफाई पर यूपी पुलिस को चुस्त दुरस्त करेंगे। साथ ही कहा है कि यूपी में अब कानून का राज होगा।

Categories
पॉलिटिक्स भारतीये पॉलिटिक्स

विपक्षी दल हार को सम्मान के साथ स्वीकर करें- केंद्रीय मंत्री वैंकेया नायडू

केंद्रीय मंत्री वैंकेया नायडू ने कहा विपक्षी दल हार को सम्मान के साथ स्वीकर करें


पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव के परिणाम आने के बाद से ईवीएम मशीन पर सवाल या निशाना लगाएं जा रहे है। पंजाब में केजरीवाल की हार और यूपी में मायावती की हार ने ईवीएम पर सवाल खड़ा कर दिया है। ईवीएम पर बार-बार उठते सवालों के बीच आज केंद्रीय मंत्री वैंकेया नायडू में जवाब दिया है।

वैंकेया नायडू

ईवीएम पर सवाल न उठाए

आज लोकसभा के बाहर नायडू ने कहा कि विपक्षी दल हार को सम्मान के साथ स्वीकार करें। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि जहां तक ईवीएम में छेड़छाड़ की बात है तो विपक्षी दलों को यह नहीं भूलना चाहिए कि जब परिणाम उनके पक्ष मे आते है तो वही ईवीएम सही हो जाते है। वहीं, जब परिणाम विरोध में आते हैं तो ईवीएम में कमियां नजर आने लगती है। यह दोहरा व्यवहार किसी के लिए भी शोभा नहीं देता।

इससे पहले आज ईवीएम पर सवालों उठाने वाले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पत्रकार वार्ता कर एक बार फिर ईवीएम पर सवाल उठाते हुए आरोप लगाया था कि पंजाब विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी के वोट अकाली दल गठबंधन और कांग्रेस को ट्रांसफर किए गए। केजरीवाल में बुधवार को आरोप लगाया कि आप को पंजाब से बाहर रखने के लिए ईवीएम में छेड़छाड़ की गई।

ईवीएम की विश्वसनीयता पर सवाल उठाते हे केजरीवाल ने कहा कि भाजपा और अकालिओं के गठबंधन को 30 फीसदी वोट कैसे मिल गए।

काला दिवस मनाएंगी मायावती

वहीं मायावती ने यूपी मे कहा कि यह लोकतंत्र की हत्या की जीत है। मोदी 325 सीटें जीते लेकिन उनके चेहरे पर रौनक नजर नहीं आ रही है। जिस भाजपा ने मुस्लिम उम्मीदवार नहीं उतारे उसे मुस्लिम इलाको से इतने वोट कैसे मिले।

मायावती ने कहा कि अप्रैल की 11 तारीख को काला दिवस मनाएंगी और इस मामले को अदालत तक लेकर जाएंगी।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
भारतीये पॉलिटिक्स पॉलिटिक्स

मनोहर पर्रिकर होंगे गोवा के मुख्‍यमंत्री

मनोहर पर्रिकर बनेगे गोवा के मुख्‍यमंत्री


11 मार्च को गोवा के विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद से नई सरकार के गठन को लेकर पणजी से राजधानी दिल्ली तक सियासत गर्मा गई है. ये मामला सुप्रीम कोर्ट तक भी पहुंचा है. कांग्रेस पार्टी ने पूर्व केन्‍द्रीय रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर के सीएम शपथ ग्रहण पर रोक लगाने की मांग भी की है. मगर कोर्ट ने पर्रिकर के शपथ पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है.

14 मार्च को इस याचिका पर सुनवाई करते हुए, सुप्रीम कोर्ट ने मनोहर को 16 मार्च को गोवा में बहुमत परीक्षण कराने को कहा है. साथ ही कोर्ट ने राज्यपाल से इससे पहले सभी प्रक्रिया पूरी करने को कहा है.

मनोहर पर्रिकर

17 विधायक के साथ राजभवन पहुंचे दिग्विजय सिंह

इस सब के बीच कांग्रेस पार्टी ने गठन के लिए कोई भी कसर नहीं छोड़ रही है. कांग्रेस के 17 विधायक के साथ महासचिव दिग्विजय सिंह बस से राजभवन पहुंचे हैं. दरअसल, कांग्रेस मांग कर रही है, कि सिंगल लार्जेस्ट पार्टी होने की वजह से पहले उन्हें सरकार बनाने का मौका मिलाना चाहिए. कांग्रेस इस मामले को सुप्रीम कोर्ट लेकर गई, जहां कोर्ट ने कांग्रेस को इसी बात के लिए फटकार लगी, कि अगर आपके पास संख्याबल है तो आप पहले राज्यपाल के पास क्यों नहीं गए थे?

सुप्रीम कोर्ट से कांग्रेस को कड़ी फटकार मिली

मनोहर पर्रिकर आज शाम पांच बजे गोवा के मुख्‍यमंत्री पद की शपथ लेने वाले हैं. कांग्रेस इस मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट पहुंची थी, मगर कोर्ट ने कांग्रेस से ही कई सवाल पूछ डाले थे. सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस से पूछा, कि अगर आपके पास संख्या है, तो संख्याबल के साथ गवर्नर के पास क्यों नहीं गए?. साथ ही कोर्ट ने कांग्रेस से कहा, कि अगर आप पहले गवर्नर के पास अपने संख्याबल के साथ जाते और फिर सुप्रीम कोर्ट आते तो हमारे लिए फैसला लेना आसान हो जाता.

इस सुनवाई के दौरान कांग्रेस पार्टी के वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने कोर्ट में कहा, कि हम गोवा में सरकार बना सकते हैं. चुनाव में कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बनी है. राज्यपाल को इस मामले में सबसे बड़ी पार्टी से पहले चर्चा करनी चाहिए थी.

दरअसल, कांग्रेस का आरोप है, कि गोवा के राज्यपाल को सबसे बड़े दल को पहले मौका देना चाहिए था. बीजेपी को सरकार बनाने से विधायकों की खरीद-फरोख्त को बढ़ावा मिलेगा.

लोकसभा से किया वॉकआउट

कांग्रेस सरकार ने मणिपुर और गोवा राज्‍य को लेकर लोकसभा में मुद्दा उठाया था और कहा, कि वहां पर जो हो रहा है वह ठीक नहीं है. इस मुद्दे पर कांग्रेस और एनसीपी ने लोकसभा से वॉकआउट किया. कांग्रेस सरकार का आरोप है, कि दोनों राज्‍य में डेमोक्रेसी का मर्डर किया गया है.

मनोहर पर्रिकर को सरकार बनाने का न्योता

गोवा के राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने मनोहर पर्रिकर को सरकार बनाने का न्योता दिया है और उन्‍होंने रक्षा मंत्री पद से इस्तीफा भी दे दिया है. दरअसल, बीजेपी ने गोवा में 21 विधायकों का समर्थन होने का एक पत्र राज्यपाल को सौंपा था. वहीं कांग्रेस ने गोवा की राज्यपाल को पत्र लिखकर कहा है, कि सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते उसे सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया जाए. 16 मार्च को सुबह 11 बजे विधानसभा बुलाई जाएगी, जिसमें भाजपा अपना बहुमत साबित करेगी.

आइए जानें किस पार्टी के पास है, कितनी सीटें दोनों राज्‍य में.

गोवा राज्‍य 40 सीटें

कांग्रेस- 17 सीटें
बीजेपी- 13 सीटें
महाराष्ट्रवादी गोमांतक- 3 सीटें
गोवा फॉरवार्ड पार्टी- 3 सीटें
नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी- 1 सीट
निर्दलीय- 3 सीटें

मणिपुर राज्‍य 60 सीटें

कांग्रेस के पास 28 सीटें
बीजेपी के पास 21 सीटें
नागालैंड पीपुल्स फ्रंट के पास 4 सीटें
नेशनल पीपुल्‍स पार्टी के पास 4 सीटें
तृणमूल कांग्रेस के पास 1 सीट
लोक जन शक्ति पार्टी के पास 1 सीट
निर्दलीय के पास 1 सीट

Categories
पॉलिटिक्स भारत

यूपी में बीजेपी और पंजाब में कांग्रेस है आगे- एग्जिट पोल

यूपी में बीजेपी है आगे- एग्जिट पोल


पांच राज्यों में हुए चुनाव को लेकर एग्जिट पोल आना शुरु हो गए। एग्जिट पोल की माने तो यूपी में बीजेपी की सरकार बना रही है। पंजाब विधानसभा चुनाव के नतीजे 11 मार्च को आएंगे। लेकिन नतीजे आने पहले ही एग्जिट पोल के अनुसार तो पंजाब में कांग्रेस की सरकार बन रही।

वहीं दूसरी ओर आम आदमी पार्टी भी बहुमत की सरकार का दावा कर सकती है। उत्तराखंड और मणिपुर में भी चुनाव नतीजे में कुछ अंतर कम ही लग रहा है। यहां भी बीजेपी ही बड़ी पार्टी के रुप मे उभरकर बाहर आएगी।

बिहार में एग्जिट पोल गलत साबित हुआ

यूपी के एग्जिट पोल के अनुसार बीजेपी यहां सरकार बनाती नजर आ रही है। वहीं सपा और कांग्रेस का गठबंधन दूसरे नंबर पर है। मायावती का पार्टी बीएससपी तीसरे नंबर पर है। बीजेपी और सपा और कांग्रेस के गठबंधन में 161 से 265 सीटों का अंतर होगा।

आज चाणक्य के अनुमान के अनुसार बीजेपी को यूपी में 285 सीटों की बढ़त मिल रही है। वहीं राहुल गांधी ने यूपी में अपनी जीत का दावा किया है। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा “यूपी में हम जीतेंगे और 11 मार्च को बात करेंगे। बिहार मे भी एग्जिट पोल गलत साबित हुए थे।“ हालांकि उन्होंने एग्जिट पोल पर बोलने से इंकार कर दिया है।

पंजाब में कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच टक्कर

वहीं पंजाब की बात करें तो एग्जिट पोल के अनुसार पंजाब की सत्ता पर काबिज अकाली दल को 117 सीटों मे से ईकाई की संख्या में सीट नहीं मिलेंगी। वहीं सीवोटर की मानें तो पंजाब को आम आदमी को पूर्ण बहुमत के साथ 63 सीटें मिल रही है। वहीं एक्सिस के अनुसार कांग्रेस पूर्ण बहुमत के साथ प्रदेश में अपनी सरकार बनाएंगी। अन्य की मानें तो पंजाब के मुकाबला कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच है।

उत्तराखंड में बीजेपी की सरकार बनती दिख रही है। वहीं मणिपुर में राज कर रही कांग्रेस का सफाया होगा और बीजेपी के पैर वहं पड़ेगे।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
पॉलिटिक्स भारतीये पॉलिटिक्स

यूपी और मणिपुर में आज आखिरी चरण का चुनाव, 11 को फैसला

यूपी और मणिपुर में आज आखिरी चरण का चुनाव


यूपी और मणिपुर में आखिरी चरण का चुनाव हो रहा है। यूपी में 7 जिलों में 40 सीटों पर वोट डालें जा रहे हैं। वहीं दूसरी ओर मणिपुर में 6 जिलों में 22 सीटों के लिए चुनाव हो रहे हैं।

वोट डालने आए लोग

नक्सल प्रभावित इलाकों शाम चार बजे वोट डाला जाएंगा

यूपी में चुनाव सुबह 7 बजे से लेकर शाम पांच बजे तक होगें। लेकिन नक्सल प्रभावित सोनभद्र की राबर्टसगंजव दुद्धी और चकिया सीटों पर मतदान सुबह सात बजे से लेकर शाम चार तक डाले जाएंगे।

प्रधानमंत्री की संसदीय क्षेत्र वाराणसी में सबकी निगाहें टिकी हुई है। यहां पर सभी पार्टियों ने प्रचार के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी थी। निर्वाचन आयोग के सूत्रों के अनुसार वाराणसी,गाजीपुर, जौनपुर,चंदौली, मिर्जापुर, भदोही और सोनभद्र की 40 सीटों पर दोपहर 12 बजे तक शांतिपूर्ण ढंग से चुनाव हुआ है।

मणिपुर में लोगों ने चुनाव में बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया है। दोपहर 1 बजे तक मणिपुर में 67 मतदान हुआ है। वहीं दूसरी ओर यूपी में 11 बजे तक 24 फीसदी मतदान हुआ।

535 उम्मीदवारो की किस्मत का फैसला

यूपी में अंतिम चरण के मतदान के लिए 535 उम्मीदवार मैदान पर है। इसके साथ ही 1.41 मतदाता इन उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला करेंगे। जिसमें से 64.76 लाख महिला मतदाता है। आज हो रहे चुनाव के लिए 14,458 मतदान बूथ बनाये गये हैं। भाजपा 32 सीटों पर चुनाव लड़ रही है जबकि चार-चार सीटें इसने अपने सहयोगी अपना दल और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी को दी हैं।

बसपा ने सभी सीटों पर प्रत्याशी उतरे हैं, सपा 31 सीटों पर है तो उसकी गठबंधन सहयोग कांग्रेस शेष 9 सीटों पर चुनाव लड़ रही है।

मुख्यमंत्री के विधानसभा क्षेत्र पर सबकी नजर

वहीं मणिपुर में 22 सीटों के लिए चुनाव लड़ा जा रहा है। इसमें मुख्यमंत्री इबोबी सिंह के विधानसभा क्षेत्र थौबल पर सबकी नजर रहेंगी।
राज्य में कुल 19,02,562 मतदाता है। जिसमें से 9,28,573 पुरुष और 9,73,989 महिलाएं है। इनमें करीब 45, 642 लोग पहली बार अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे।

आज हो रहे चुनाव के लिए कड़े इंतजाम किए गए हैं। राज्य में कुल 1,151 मतदान केंद्र है। सुरक्षा के लिहाज से सुरक्षा बलों की 280 कंपनियां को यहां तैनात किया गया है।

Categories
पॉलिटिक्स भारतीये पॉलिटिक्स

यूपी विधानसभा चुनाव- पांचवें चरण में रानियों के बीच है मुकाबला

पांचवें चरण में रानियों के बीच है मुकाबला


यूपी में आज पांचवें चरण के चुनाव के लिए वोटिंग की जा रही है। पांचवें चरण में रानियों के बीच है मुकाबला. पांचवें चरण में रानियों के बीच है मुकाबला वोटिंग सुबह सात बजे से शुरु हो गई है। पांचवे चरण के लिए 11 जिलों के 51 विधानसभा सीटें पर मतदान किया जा रहा है। दोपहर तीन बजे तक 49.43फीसदी मतदान हुआ था। बहराइज, गोडा, बस्ती, सुल्तानपुर, फैजाबाद, अंबेडकरनगर और कांग्रेस के गढ़ माने जाने वाले अमेठी में चुनाव हो रहा है। इस चरण के चुनाव के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने गोंडा, बस्ती और बहराइज में जनसभा भी की। अंबेडकरनगर जिले के आलापुर सीट से सपा प्रत्याशी की मृत्यु हो जाने स चुनाव निरस्त कर दिया गया है। अब यहां चुनाव आगामी 9 मार्च को होगा।

नतदान देने के लिए मतदाताओं की लंबी लाइऩ

किसने कहां डाला वोट

बीजेपी के स्टार प्रचारक विनय कटियार ने कटरा के पोलिंग बूथ पर वोट डाला। वोट डालने के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि विकास के साथ-साथ राम मंदिर भी जरुरी है। अमेठी के राजघराने के राजा संजय सिंह समेत दोनों रानियों अमिता और गरिमा सिंह ने भी मतदान किया। यूपी सरकार के गायत्री प्रजापति भी सुबह-सुबह पोलिंग बूथ पर वोटिं करने के लिए पहुंचे।

पांचवे चरण में सीटों का मामला

इस चरण में समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के गठबंधन का खासतौर पर लिटमस टेस्ट होगा क्योंकि इस चरण में जिन सीटों पर मतदान होना है उनमें करीब 80 प्रतिशत पर इन्हीं दलों का कब्जा है। साथ ही सपा और कांग्रेस गठबंधन के प्रत्याशी अमेठी और गौरीगंज विधानसभा सीटों पर आमने-सामने होने से दोनों पार्टियां दुविधा में है। कांग्रेस ने 11 जिलों में से सात जिलों में कोई प्रत्याशी चुनाव मैदान में नहीं उतारा है। जिसमें फैजाबाद, अंबेडकरनगर, श्रावस्ती, सिद्धार्थनगर, संतकबीरनगर, बस्ती और बहराइज शामिल है।

अमेठी में रानियों के बीच मुकाबला

अमेठी में त्रिकोणियां मुकाबला है यहां कांग्रेस नेता संजय सिंह की पहली पत्नी गरिमा सिंह, बीजेपी से और दूसरी पत्नी अमिता सिंह कांग्रेस की टिकट पर मैदान में है। वहीं तीसरी ओर सपा के बहुचर्चित नेता गायत्री प्रजापति की पत्नी मैदान में है।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
पॉलिटिक्स भारतीये पॉलिटिक्स

हर जगह मन की बात लेकिन बीजेपी की मन की बात कोई नहीं समझ पाया- अखिलेश यादव

बीजेपी की मन की बात कोई नहीं समझ पाया


यूपी मे पांचवे चरण के चुनाव के लिए चुनाव प्रचार जोरों से हो रहे हैं। यूपी के सीएम अखिलेश सिंह यादव आज सिद्धार्थनगर में एक रैली को संबोधित कर रहे हैं। कल पीएम मोदी ने गोंडा में चुनाव प्रचार किया था। हर जगह मन की बात लेकिन बीजेपी की मन की बात कोई नहीं समझ पाया- अखिलेश यादव।

अखिलेश सिंह यादव

नकल वाली बात पर दिया करारा जबाव

अखिलेश सिंह ने आज पीएम मोदी की नकल करने वाले बात पर जवाब दिया है। रैली को दौरान उन्होंने कहा कि हर किसी ने थोड़ी बहुत नकल की है। कैसा कोई नहीं है जिसने बचपन में पढ़ाई के दौरान नकल न की हो।

पीएम मोदी पर वार करते हुए अखिलेश ने कहा कि भाजपा ने तो हमारे वायदों की भी नकल है। पीएम न तो कपड़ो तक की नकल की है।
साथ ही कहा कि इतना झूठ बोलने वाला प्रधानमंत्री कहीं देखा, किसी ने देखा हो तो बताओ। ऐसा सपने दिखाने वाला प्रधानमंत्री नहीं देखा। अखिलेश यादव ने कहा कि आप कह रहे हैं कि गरीबों को लाभ मिल। हम पूछना चाहते है कि नोटबंदी का क्या फायदा हुआ जनता को इसका क्या लाभ मिला है। हम तो कहते हैं प्रधानमंत्री जी समाजवादियों से बहस कर लो, जो जगह तय करनी है कर लो।

हर जगह मन की बात

प्रधानमंत्री की मन की बात की चर्चा करते हुए अखिलेश ने कहा कि टीवी पर मन की बात, रेडियो पर मन की बात हर जगह मन की बात लेकिन आज तक कोई नहीं समझ पाया बीजेपी के मन की बात।
सीएम अखिलेश यादव ने कहा कि मोदी जी ने कल तीन पन्नों का भाषण दिया। लेकिन इतने लंबे भाषण ने कहीं भी किसान और गरीबों का जिक्र नहीं था।
कब्रस्तान और श्माशान को उठाते हुए अखिलेश ने कहा कि प्रधानमंत्री कब्रिस्तान और श्मासान की बात कर रहे हैं। हमे उनके डिजिटल इंडिया के सपने को बढ़ा रहे हैँ। इसके लिए हम लैपटॉप और स्मार्टफोन की बात कर हैं। प्रधानमंत्री जी को पता भी नहीं है कि यूपी मे डायल 100 भी है।

Categories
पॉलिटिक्स भारतीये पॉलिटिक्स

सपा- कांग्रेस गठबंधन ने जारी किया, साझा घोषणा पत्र

सपा- कांग्रेस गठबंधन ने जारी किया, साझा घोषणा पत्र


यूपी के विधानसभा चुनाव के लिए समाजवादी पार्टी और कांग्रेस पार्टी ने गठबंधन की साझा न्यूनतम प्रतिबध्ताएं घोषित कर दी है. शनिवार को लखनऊ के ताज होटल में उत्‍तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और कांग्रेस पार्टी के उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने मीडिया संवादादाताओं के सामने यूपी में सरकार बनने पर अपनी दस बड़े वादे पेश किए हैं.

आइए जानें साझा घोषण पत्र में किए गए वादेः-

  • किसानों को कर्ज से राहत, सस्‍ती बिजली और फसलों के उचित दाम दिए जाएंगे
  • युवाओं को फ्री स्मार्टफोन और 20 लाख युवाओं को कौशल प्रशिक्षण से रोजगार की गारंटी दी है
  • महिलाओं को सरकारी नौकरियों में 33% और पंचायत व स्‍थानीय चुनावों में 50% आरक्षण दिया जाएगा
  • कक्षा 9वीं से 12वीं के सभी छात्राओं और मेधावी छात्रों को मुफ्त साइकिल मिलेगी
  • 1 करोड़ गरीब परिवारों को 1000 रुपये मासिक पेंशन और शहरी गरीबों को 10 रूपये में दिन का भोजन दिया जाएगा
  • 10 लाख से ज्‍यादा दलितों व पिछड़े वर्ग के परिवारों को मुफ्त घर देंगे
  • 5 साल में हर गांव को बिजली पानी और सड़क देने का वादा किया है
  • तेज और असरदार कार्यवाई के लिए पुलिस का आधुनिकीकरण और डायल 100 योजना का विस्तार होगा
  • प्रदेश के सभी जिलों को 4 लेन रोड से और 6 प्रमुख शहरों को मेट्रो जोड़ेगे
  • लाभकारी योजनाओं में अल्‍पसंख्‍यक व पिछड़ों को जनसंख्‍या के अनुपात में हिस्‍सेदारी

राहुल गांधी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, कि उत्‍तर प्रदेश में विजन की सरकार आएगी, भाईचारे और मोहब्बत की सरकार होगी. ये दस प्वाइंस विकास की नींव बनेंगे. हम किसानों की मदद करेंगे और युवाओं को रोजगार देंगे.

लखनऊ के ताज होटल में घोषणा पत्र जारी करने के बाद दोनों ने मीडिया से बातचीत भी की. बातचीत के दौरन राहुल और अखिलेश ने जमकर प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी पर निशाना साधा. राहुल गांधी ने मोदी के मनमोहन सिंह और कांग्रेस पर हमले का तीखा जवाब देते हुए कहा, कि मोदी जी को गूगल सर्च करना, लोगों के बाथरूम में झांकना, जन्‍मपत्री पढ़ना अच्‍छा लगता है, यह सब वो करें मगर अपने फ्री टाइम में करें.

दरअसल, पीएम मोदी ने संसद में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर कटाक्ष किया था, कि बाथरूम में भी रेनकोट पहनकर नहाना डॉक्टर साहब से सीखें. साथ ही शुक्रवार को उत्तराखंड की सभा में पीएम मोदी ने कहा था, कि गूगल पर चेक करो तो सबसे ज्यादा चुटकुले कांग्रेस नेता यानी राहुल गांधी पर ही मिलते हैं.
साथ ही राहुल ने कहा, कि मोदी जी अपने वादे पूरे करें, जो उन्‍होंने नहीं किए हैं, मोदी जी हर साल दो करोड़ लोगों को रोजगार देने का वादा किया था, लेकिन सिर्फ एक लाख लोगों को ही रोजगार दे पाए हैं. राहुल गांधी ने कहा, कि अगर प्रधानमंत्री का काम होता है, रोज़गार देना, security देना और किसानों को उनका हक़ देना तो इन सब में हमारे प्रधानमंत्री 100% फेल हो गए हैं. सीटों पर विवाद को लेकर सवाल पूछने पर राहुल गांधी ने कहा, कि उत्‍तर प्रदेश की 99 फीसदी सीट पर कोई समस्‍या नहीं है, सिर्फ 6-7 सीट को लेकर थोड़ा विवाद है.

वहीं सीएम अखिलेश यादव ने भी विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा, कि कुछ लोग गठबंधन से डर गए है, साथ ही कहा, कि बहुत गुस्सा होना अच्छी बात नहीं है, इससे यह पता चलता है, कि पैरों के नीचे से ज़मीन सरक रही है. अखिलेश ने पीएम मोदी को जवाब देते हुए कहा, कि यह गठबंधन दो कुनबों का नहीं दो युवाओं का है.
दरअसल, उत्‍तरप्रदेश के बिजनौर में विजय शंखनाद रैली को संबोधित करते हुए, पीएम मोदी ने कहा था, कि ये गठबंधन दो पार्टी का नहीं दो कुनबों का है.
आप को बता दें, आज यूपी में 73 विधानसभा सीटों के लिए पहले चरण का मतदान हो रहा है. उत्तर प्रदेश के पश्चिमी हिस्से के 15 जिलों की 73 विधानसभा सीटों पर मतदान होना है. इस पहले चरण में 2,60,17,128 मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग करने वाले हैं, जिसमें 1,42,76,128 पुरुष और 1,17,76,308 महिलाएं हैं.

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
पॉलिटिक्स भारतीये पॉलिटिक्स

पीएम मोदी बोले,’ अखिलेश मेरे भाषण की नकल करते है, मेरी तरह सवाल पूछते हैं’

पीएम मोदी बोले,’ अखिलेश मेरे भाषण की नकल करते है, मेरी तरह सवाल पूछते हैं’


शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के बदायूं में एक जनसभा को संबोधित किया. इस जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम नरेन्‍द्र मोदी ने समाजवादी पार्टी, कांग्रेस, मुलायम सिंह, मायावती, अखिलेश यादव और राहुल गांधी पर जमकर निशाना साधा.

अखिलेश मेरे भाषण की नकल करते हैं

पीएम मोदी ने कहा, कि ‘अखिलेश यादव मेरे भाषण की नकल करते हैं. वो मेरे तरह सवाल-जवाब पूछने लगे हैं. अखिलेश पूछते है, कि क्या अच्छे दिन आ गए? ‘ मोदी ने कहा, कि ‘मैं कहता हूं कि उत्‍तर प्रदेश के अच्छे दिनों की जिम्मेदारी अखिलेश यादव की है. 5 साल से अखिलेश सरकार में हैं.’ पीएम मोदी ने कहा, कि ‘जहां भी ये नेता जाते हैं वहां जा कर सिर्फ नरेन्‍द्र मोदी की बात करते हैं, कहते हैं मोदी जी ने ये किया, मोदी जी ये करते है, लेकिन कोई अपने काम का हिसाब नहीं देते है.’

पीएम मोदी ने कहा, बदायूं तो वीआईपी जिला है, फिर विकास क्‍यों नहीं

पीएम नरेन्‍द्र मोदी ने बदायूं के लोग से कहा, कि ‘साल 2014 में मैं नहीं आ पाया था, उसके लिए क्षमा याचना, लेकिन इस बार आया हूं तो ब्याज समेत लौटा देना मुझे’. साथ ही कहा, कि बदायूं इतना बड़ा जिले होने के बाद भी क्या कारण है, कि हिन्दुस्तान में सबसे बुरे जिलों में से एक बदायूं है, सबसे बुरे 100 जिलों में बदायूं का नाम आता है. बदायूं तो वीआईपी जिला है, क्योंकि यह तो मुलायम सिंह यादव और मायावती का कार्य क्षेत्र रहा है, फिर भी बदायूं का विकास नहीं हुआ है. बदायूं के लोगों ने जिसे अपना आशीर्वाद दिया, उसी ने इस जिले का क्या हाल बना दिया है.

अखिलेश का काम नहीं कारनामें बोलते हैं

पीएम मोदी ने जनसभा में कहा, कि साल 2014 में बदायूं से मेरा सांसद नहीं जीता था, मगर बदायूं के लोग मेरे ही थे. मायावती और मुलायम सिंह को जहां पहुंचना था वह पहुंच गए, मगर आजादी के बाद इतने सालों भी यहां बिजली नहीं पहुंच पाई है. अखिलेश यादव बोलते हैं, कि काम बोलता है, जबकि यूपी का बच्चा-बच्चा जानता है, कि अखिलेश का काम नहीं कारनामें बोलते हैं.

18 हजार गांव में बिजली नहीं थी

आजादी के 70 सालों के बाद 18 हजार गांव ऐसे थे, जहां पर बिजली नहीं थी और ये आजाद भारत में ये सबसे बड़ा कलंक था. तो मैंने कहा, कि 1000 दिनों के भीतर बिजली पहुंचानी है, ये काम पूरा हो गया है. अकेले यूपी में 1500 गांव ऐसे थे, जहां बिजली नहीं थी, लेकिन बिजली पहुंच गई है.
मेरी लड़ाई में एक दिन इनको भी फेरे में लेगी

पीएम नरेन्‍द्र मोदी ने कहा, कि सपा और बसपा जानती है, कि मेरी भ्रष्टाचार के खिलाफ की लड़ाई में एक दिन इनको भी फेरे में लेगी. पीएम ने कहा, कि जिन्होंने गरीबों का लुटा है, मैं उन गरीबों को लौटा के रहूँगा. अगर यूपी की जनता कहती है, कि उनके हाल ठीक नहीं है, तो उसके लिए पांच साल समाजवादी पार्टी, पांच साल बहुजन समाजवादी पार्टी और 50 साल कांग्रेस के कारनामे इसके जिम्मेदार है.

मेरी सरकार जो भी करेगी , देश के लिए करेगी

पीएम मोदी अपनी सरकार के बारे बताते हुए कहा, कि मेरी सरकार जो भी करेगी, इस देश के गरीब लोगों के लिए, दलित के लिए , किसान, पीड़ित, शोषित और वंचित वर्ग के लोगों के लिए ही करेगी. मायावती और अखिलेश पर निशाना साधते हुए कहा, कि मायावती –अखिलेश मिले हुए हैं और अखिलेश सरकार ने भ्रष्ट अधिकारियों को मायावती सरकार से भी बेहतर सीटों पर बिठाया है

विपक्ष सबूत मांगता है

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने कहा, कि मैं आप सब को एक खुशखबरी देना चाहता हूं, हमारे देश के वैज्ञानिकों ने एक बड़ा ही पराक्रम कर दिखाया है. अगर कोई मिसाइल देश के आसमान में आती है तो हम उसे सफलता पूर्वक खत्म कर सकते हैं. मगर ये लोग सबूत मांगते हैं, अगर सबूत चाहिए तो ढेढ़ सौ किलोमीटर ऊपर जाओ. मोदी ने चुटकी लेते हुए कहा, कि अभी नहीं जाएंगे, एक महीने बाद जाएंगे क्‍योंकि जब कुछ करने को नहीं होगा.

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in