Categories
बिना श्रेणी

Goverdhan puja 2019: गोवर्धन पूजा के  पीछे  छुपी है यह पौराणिक कथा

जाने क्या है गोवर्धन पूजा का शुभ मुहूर्त


हिन्दू धर्म में गाय के गो को बेहद पवित्र माना जाता है। इस दिन गाय के गो की पूजा की जाती है , वही गोवर्धन पूजा को लोग अन्नकूट के नाम से भी जानते है।   दिवाली के ठीक अगले दिन मनाई जाने वाली गोवेर्धन पूजा की अधिक मान्यता है। इस साल गोवर्धन की पूजा का यह पर्व 28  अक्टूबर को पड़ रहा है। इस दिन सभी लोग अपने घर में गौर  की पूजा करते है। द्धापर युग से शुरू हुई इस पूजा के दिन भगवान् श्री कृष्ण की भी पूजा की जाती है।

शास्त्रों के अनुसार गाय को उतना ही पवित्र माना जाता है जीतना माँ गंगा को निर्मल जल। लेकिन क्या आप जानते है की गोवर्धन पूजा के पीछे की पौराणिक कथा

गोवर्धन पूजा पौराणिक कथा 

प्राचीन समय की बात है एक बार मूसलाधार बारिश से बचाने के लिए भगवान श्री कृष्ण ने 7 दिनों तक गोवर्धन पर्वत को अपनी अंगुली पर उठाये रखा। जिसे इंद्र देवता क्रोधित हो गए और उन्होंने बारिश तेज़ करदी। उस गोवर्धन के नीचे सभी बृजवासी सुरक्षित थे। श्री कृष्ण ने साँतवे दिन पर्वत  को नीचे रखा और गोवर्धन पूजा के साथ अन्नकूट मनाने को कहा तब से दिवाली के अगले दिन यानी कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को गोवर्धन पूजा और अन्नकूट मनाया जाने लगा।

और पढ़े: दिवाली के अगले दिन क्यों की जाती है गोवर्धन पूजा? यहाँ जाने

यह है पूजा करने का सही शुभ मुहूर्त

गोवर्धन पूजा सांय काल मुहूर्त – दोपहर बाद 15:24  बजे से सांय 17 :36 बजे तक

प्रतिपदा तिथि प्रारम्भ – 09 :08 बजे (28 अक्टूबर ) से

प्रतिपदा तिथि समाप्त  – 06 : 13 बजे (29 अक्टूबर ) तक

गोवर्धनपूजा करने की विधि

गोवर्धन की पूजा करने के लिए आप अपने  घर के बाहर गोबर से गोवर्धन का चित्र बनाए। उसकी पूजा के लिए रोली , चावल , खीर  , बताशे , जल , दूध , पानी , केसर और फूल आदि से दीपक जलाकर उसकी पूजा करे। ऐसा करने से आपको लाभ होगा और आप पर हमेशा भगवान श्री कृष्ण  की कृपा बनी  रहेगी

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
धार्मिक

Happy Diwali 2019:दिवाली के अवसर पर अपनों को इस ख़ास अंदाज़ में करे विश

 इस दिवाली बाँटे प्यार अपनों के साथ  


आज पूरे देश में दिवाली का त्योहार बड़े ही धूम धाम से मनाया जा रहा है।लोग आज अपने घरों  को सजा रहे है एक दूसरे को मिठाई  देकर आपस में प्यार बाँट रहे है। आपको बता दें की हर साल कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि को दीपावली का त्योहार मनाया जाता है। इस साल यह त्योहार 27 अक्टूबर को मनाया जा रहा है । दीपावली का यह त्योहार धनतेरस से शुरू होकर नरक चतुर्दशी, दिवाली, गोवर्धन पूजा के बाद भाई दूज तक चलता है।

आज सभी लोग शाम को माँ लक्ष्मी की पूजा करेंगे और अपने घरों को दीपक, लाइट्स और रंगोली से सजायेंगे। ऐसे में अगर आप अपने दोस्तों और रिश्तेदारों तक मां लक्ष्मी का आशीष पहुंचाना चाहते हैं तो उनके साथ शेयर करें ये प्यार भरा सन्देश।

दिवाली पर इस ख़ास अंदाज़ में करे अपने दोस्तों को विश :

1. श्री राम आपके घर में सुख की बारिश करें, माता लक्ष्मी आपको धन से परिपूर्ण करें,

और दीप की रौशनी आपके घर से दुःख-कष्ट को दूर करे – दीपावली की शुभकामनाएं

2. दीपावली है दीपों का त्यौहार,

घर लाये आपके सुख, समृद्धि और प्यार – दिवाली की आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं

3. हंसते हुए दीप तुम जलाना, जीवन में नई खुशियों लाना,

दुख दर्द अपने भूल कर,सबको गले लगाना- दीवाली की शुभकामनायें

4. अच्छे की बुरे पर विजय हो, सब जगह बस आपकी जय हो

आपके पूरे परिवार को दिवाली की हार्दिक शुभकामनाये

5. पल पल सुनहरे फूल खिले, कभी न हो आपका कांटो से सामना

आपकी जिंदगी  हमेशा खुशियों से भरी रहे- आप सभी को दिवाली की हार्दिक शुभकामनाये

Read more: दिवाली पर प्रदूषण से करे स्किन का इस तरह बचाव

6. आपको  मिले आशीर्वाद गणेश से, विद्या मिले सरस्वती से

धन मिले लक्ष्मी से, आप सभी को हैप्पी दिवाली

7. दिवाली पर बनती है रंगों की रंगोली

दीप जलाए, और साथ में खुशियाँ बाटे – हैप्पी दिवाली

8. सुख संपदा आपके जीवन में आए

लक्ष्मी जी आपके घर में समाए

भूल कर भी आपके जीवन में कभी दुःख ना आये – हैप्पी दिवाली

9. झिलमिलाते दीपों की रोशनी से प्रकशित

दिवाली आपके लिए लेकर आये सुख समृद्धि

हैप्पी दिवाली

10. पूजा की थाली, रसोई  में पकवान

आँगन में दिया , खुशियों हो तमाम – हैप्पी दिवाली

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
बिना श्रेणी

दिवाली पर प्रदूषण से करे स्किन का इस तरह बचाव

फॉलो करे यह टिप्स और रखे अपनी स्किन की देखभाल


देश भर  में दिवाली के त्योहार को लेकर बड़े ही जोरों शोरो से तैयारी चल रही है। लेकिन वही दीवाली के आते ही धुंध और हवा में प्रदूषण भी दिखने लगता है जिसकी वजह से बाहर साँस लेना भी मुश्किल हो जाता है। क्योंकि प्रदूषण ना केवल हमारी सेहत को नुकसान पहुंचाता है, बल्कि यह स्किन के लिए हानिकारक भी होता है।

आपको बता दें की प्रदूषण के वजह से स्किन बेजान और रूखी हो जाती  है। साथ ही स्किन प्रॉब्लम्स भी जैसे एक्ने, पिंपल्स, ब्लैकहेड्स और ब्रेकआउट्स हो सकते हैं। इसलिए जरूरी है कि आप दिवाली के समय में पॉल्यूशन से अपनी स्किन को बचाये ताकि आपकी स्किन को कोई नुकसान ना पहुँचे। इसलिए आज हम आपको बताएँगे स्किन की देखभाल करने के लिए कुछ ऐसे टिप्स जिसे आपकी स्किन को इस दिवाली नहीं पहुँचेगा  कोई नुक्सान

फॉलो  करे यह टिप्स और रखे अपनी स्किन की देखभाल

1.बाहर सनस्क्रीन लगा कर जरूर निकले

आप जब भी घर से बाहर निकले पहले सनस्क्रीन जरूर लगाएं। पूरी तरह सन प्रोटेक्शन पाने के लिए सनस्क्रीन कम से कम एसपीएफ 30 वाला होना चाहिए। साथ ही अपने चेहरे को दुपट्टे से जरूर ढक  कर रखे ।

2.एंटी-ऑक्सिडेंट का सेवन प्रदूषण से बचने  के लिए जरूर करे

दिवाली में मिठाई ना खाएं ऐसे कैसे हो सकता है । अगर आप चाहते है कि दिवाली पर आपकी स्किन ग्लो करे और आपकी त्वचा को कोई नुकसान ना हो, तो आपको मिठाईयां भूलकर हरी सब्जियां खाने पर फोकस करना होगा। एंटीऑक्सिडेंट्स फ्री रेडिकल्स से लड़ने का सबसे बेहतर तरीका हैं और एंटी-ऑक्सिडेंट्स की सही मात्रा के लिए सही आहार लेना जरूरी है। सब्जियां और फल जैसे टमाटर, गाजर, शकरकंद और हरी पत्तेदार सब्जियां जरूर खाएं।

3.ज्यादा से ज्यादा पानी पिए

अगर आप चाहते है की आपकी त्वचा हमेशा खिली- खिली रहे तो ज्यादा पानी पिए जो शरीर से सभी टॉक्सिन्स को बाहर निकालने में मदद करता है इसलिए आपको अपने पानी का सेवन बढ़ाने की आवश्यकता है। दिन में कम से कम 7-8 गिलास पानी पिएं।

और पढ़े: दिवाली पर माँ लक्ष्मी को करे इस प्रकार प्रसन्न

4. विटामिन ई

अपनी स्किन पर ऐसा मॉइश्चराइज़र लगाए जो विटामिन ए, सी, और ई से समृद्ध हो। मेकअप लगाने से पहले मॉइश्चराइज़र का उपयोग करें। यह आपकी त्वचा की रक्षा करेगा और प्रदूषण से लड़ने में मदद करेगा। रात में, सोने से पहले, अपने चेहरे पर विटामिन ई ऑयल लगाएं और अच्छी तरह से मालिश करें। सोने से पहले अतिरिक्त तेल पोंछ लें। विटामिन ई उम्र बढ़ने के संकेतों को रोकता है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
धार्मिक

धनतेरस पर पूजा में इन सामग्री को करे शामिल, होगी धन की प्राप्ति

पाना चाहते है धन की प्राप्ति यह सब करे जरूर


आज पूरे देश भर में धनतेरस का त्योहार जोरो शोरो से मनाया जा रहा है। लोग आज धनतेरस के लिए अपने घरो में सोना और वाहन जैसी चीजों को खरीदकर उनकी पूजा कर रहे है। अगर आप चाहते है की हमेशा आप पर धन की प्राप्ति हो तो धनतेरस  की पूजा में आप इन सामग्री को जरूर करे शामिल।

पाना चाहते है धन की प्राप्ति यह सब करे जरूर :

पान: धनतेरस पर पूजा की सामग्री के लिए पान का इस्तेमाल जरूर करें। ऐसा माना जाता है की पान के पत्ते में देवी-देवताओं का वास होता है। इसलिए धनतेरस और दिवाली की पूजा में इसका इस्तेमाल शुभ माना जाता है।

सुपारी: धनतेरस की पूजा में सुपारी का इस्तेमाल के बिना पूजा शुरू ही नहीं होती है। सुपारी को ब्रह्मदेव, यमदेव, वरूण देव और इंद्रदेव का प्रतीक माना जाता है। धनतेरस के दिन पूजा में प्रयोग की गई सुपारी को तिजोरी में रखना लाभदायक होता है।

साबुत धनिया: धनतेरस के दिन आप साबुत धनिया खरीदकर लेकर आएं और इसे मां लक्ष्मी के सामने अर्पित करें। इससे आपकी सारी आर्थिक परेशानी दूर हो जाएगी।

Read more: दिवाली पर माँ लक्ष्मी को करे इस प्रकार प्रसन्न

बताशा और खील: बताशा माता लक्ष्मी का सबसे प्रिय भोग है। माता लक्ष्मी की पूजा में बताशे का प्रयोग करने से हर समस्या का समाधान होता है।

कपूर: मां लक्ष्मी, कुबेर और भगवान धनवंतरी की पूजा में कपूर जरूर जलाएं। कपूर जलाने से घर की नकारात्मक ऊर्जा बाहर जाती है और सकारात्मक ऊर्जा घर में आती है।

धनतेरस पर इन चीज़ो की न करे खरीदारी

धनतेरस के दिन लोहा, कांच और एल्मुनियम के बर्तन नहीं खरीदना चाहिए। इससे आपके ग्रहो पर बुरा प्रभाव पड़ता है। जब भी कोई बर्तन ख़रीदे कर लाये तो उसमे कोई अन्न रख कर लेकर आये। यह बात  हमेशा ध्यान दे की घर में कभी खली बर्तन नहीं लाना चाहिए। साथ  ही आपको इस दिन काले रंग से बचना चाहिए। यह अशुभ माना जाता है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
धार्मिक

दिवाली के अगले दिन क्यों की जाती है गोवर्धन पूजा? यहाँ जाने

क्या है हिन्दुओ  में इस दिन का महत्व?


अक्टूबर का महीना खत्म होने वाला है और दिवाली भी नजदीक आ गयी है। दिवाली के अगले दिन ही गोवर्धन की पूजा की जाती है और इस साल गोवेर्धन की पूजा 28 अक्टूबर को पड़ रही है। आपको बता दें की गोवर्धन पूजा को कई लोग अन्नकूट की पूजा से भी जानते है। इस दिन विभिन्न प्रकार के अन्न को समर्पित और वितरित करने के कारण ही इस उत्सव या पर्व का नाम अन्नकूट पड़ा है। इस दिन अनेक प्रकार के पकवान, मिठाई से भगवान कृष्ण को भोग लगाया जाता है।

क्यों की जाती है दिवाली के अगले दिन गोवेर्धन की पूजा?

गोवर्धन की पूजा करने के पीछे एक कहानी है ऐसा माना जाता है की भगवान श्रीकृष्ण इंद्र का अभिमान तोड़ना चाहते थे। इसके लिए उन्होंने गोवर्धन पर्वत को अपनी छोटी अंगुली पर उठाकर गोकुल वासियों की इंद्र से रक्षा की थी। इसके बाद भगवान कृष्ण ने स्वंय कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा के दिन 56 भोग बनाकर गोवर्धन पर्वत की पूजा करने का आदेश दिया था, तभी से गोवर्धन पूजा की प्रथा आज भी कायम है और हर साल गोवर्धन पूजा की जाती है और अन्नकूट का त्योहार मनाया जाता है।

इसके अलावा इस दिन लोग घरो में गाय के गोबर से गोवर्धन की छवि बनाकर उनको पूजते है और अन्नकूट का भोग भी लगाया जाता है। इस दिन मंदिरो में भी अन्न दान किया जाता है। साथ ही धन-दौलत, गाड़ी, अच्छे मकान के लिए कृष्ण जी और मां लक्ष्मी को प्रसन्न किया जाता है ताकि नौकरी या व्यापार में खूब तरक्की मिल सके। इस बार गोवेर्धन की पूजा आप दोपहर 3 बजकर 2 मिनट से लेकर शाम के 5 बजकर 15 मिनट तक कर  सकते है।

और पढ़े: जाने अपनी राशि के हिसाब से क्या खरीदे इस धनतेरस

दोस्तो को यह मैसेज भेज कर दें गोवर्धन की शुभकामनाएं

1. कृष्ण की शरण में आकर

भक्त नए जीवन पाते  है

इसलिए गोवर्धन पूजा के दिन

हम सच्चे मन से मनाते है

हैप्पी गोवर्धन पूजा

2. बंसी के धुन पर सभी के दुःख हरता है

वो कान्हा ही है जो सारे चमत्कार करता है

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
धार्मिक

Dhanteras 2019 – जाने अपनी राशि के हिसाब से क्या खरीदे इस धनतेरस

इस धनतेरस अपने जीवन साथी के लिए क्या खरीदना रहेगा शुभ


धनतेरस के दिन घर में सुख और समृद्धि के लिए माँ लक्ष्मी और कुबेर की पूजा करते है। अगर हम शास्त्रों के अनुसार देखे तो इस दिन धनवंतरी का जन्म हुआ था और यही वजह है की इस दिन को धनतेरस बोलते है। धनतेरस की शाम परिवार की मंगलकामना के लिए यम नाम का दीपक जलाया जाता है। मान्यता है की समुद्र मंथन से समय कलश के साथ माता लक्ष्मी का जन्म हुआ उसी के प्रतीक के रूप में सौभाग्य वृद्धि के लिए बर्तन खरीदने की परम्परा शुरू हुई थी। इसलिए आज हम आपको बताएँगे की आपकी राशि के लिए धनतेरस पर क्या खरीदना सबसे शुभ रहेगा।

मेष: मेष राशि के लोग पीतल के बर्तन खरीद सकते है और अगर पटनेर को गिफ्ट करना है तो आप चाँदी या सफ़ेद धातु के हार ले सकते है।

वृष: वृष राशि के लोग चाँदी के कलश खरीदना शुभ रहेगा और जीवनसाथ के लिए आप सोने की चूड़ी या अंगूठी भी ले सकते है।

मिथुन: इस राशि के लोग धनतेरस पर सफ़ेद धातु के श्री यंत्र या गणेश खरीद सकते है कांसे का बर्तन खरीदना भी सही रहेगा और जीवनसाथी के आप पीतल का कोई भी धातु खरीद सकते है।

कर्क: जीवनसाथ के लिए कर्क राशि के  लोग  मोती और हीरे की अंगूठी खरीद सकते है जो की शुभ रहेगा। इस राशि वालो के लिए पारद का शिवलिंग खरीदना भी शुभ होगा।

सिंह: इस राशि के लोग लक्ष्मी-गणेश की मूर्ति सोने या पीले धातु के रूप में खरीदें। जीवनसाथी के लिए सोने या पीले पुखराज का लॉकेट लें।

कन्या: कन्या  राशि के लोग घर के लिए चाँदी के लक्ष्मी-गणेश की मूर्ति खरीद सकते है या फिर पारद या सोने के श्रीयंत्र  भी खरीद सकते हैं। जीवनसाथी के लिए चांदी का आभूषण ले सकते हैं।

तुला: घर के मंदिर के लिए चाँदी के श्रीयंत्र और दक्षिणवर्ती शंख लेसकते है और वही जीवनसाथी के लिए मुंगे की माला और अथवा कंगन खरीद सकते है।

वृश्चिक: तांबे के कलश, पीला कोई भी धातु खरीदना शुभ रहेगा। जीवनसाथ के लिए मोतियों की माला देना शुभ रहेगा।

धनु: इस राशि वाले लोगो के लिए पीला धातु खरीदना शुभ रहेगा और वही मुंगे का सामान खरीदना भी लाभदायक होगा।

मकर: जीवनसाथी को तो आप हीरे या चाँदी का कोई भी सामन देना शुभ रहेगा। बेडरूम के लिए सफेद धातु में मेज या कुछ भी खरीद सकते हैं।

कुंभ: इस राशि के लोग घर के मंदिर के लिए आप सफ़ेद धातु या चांदी का दीप दान लें। जीवनसाथी के लिए सोना माणिक्य या पुखराज की अंगूठी भी खरीद सकते हैं।

मीन: इस राशि के लोग अपने लिए पीला पुखराज ले सकते है या फिर आप घर के लिए चाँदी या सफ़ेद पिरामिड या गणेश या सरस्वती की मूर्ति लेना शुभ रहेगा। जीवनसाथी के लिए पन्ने या हीरे की अंगूठी लें।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
बिना श्रेणी

इस दिवाली पर क्या दें अपने रिश्तेदारों को तोहफा

तोहफे में कभी न दे लक्ष्मी- गणेश अंकित सिक्के उपहार में


दिवाली के अवसर पर अपने रिश्तेदारों और दोस्तों को गिफ्ट देने के चलन है और उन्हें गिफ्ट देने के लिए हम काफी सारी चीजें खरीदते है मगर हम में से बहुत कम लोग यह जानते है की वो गिफ्ट लोगो पर क्या प्रभाव डालते है। तो चलिए हम जानते है की इस दिवाली आप क्या गिफ्ट् दे सकते है आपने दोस्तों और रिश्तेदारों को।

गिफ्ट्स में क्या नहीं देने चाहिए:

काफी ज्योतिषो के अनुसार, दिए गए उपहार से न केवल इसे लेने वाले की बल्कि देने वाले की किस्मत भी बनती और बिगड़ती रहती है। इस अवसर पर कभी भी पानी से रिलेटेड कोई भी चीजें नहीं देनी चाहिए क्योंकि ये माता लक्ष्मी का संबंधित पर्व होता है और उनका वास भी जल में ही होता है। दिवाली और धनतेरस के अवसर पर नुकीली चीजें खरीदने से बचना चाहिए। साथ ही ऐसी कोई वस्तु जिसमें तीखे किनारे हों, अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को गिफ्ट में भी नहीं देनी चाहिए।

Read more: इन एयरिंग्स के साथ अपने लुक को बनाये और भी बेहतर

सोने-चांदी के सिक्के:

अगर आप इस दिवाली किसी को भी पानी का जग और ग्लास दे रहे है तो वो नहीं देनी चाहिए, इसके बदले आप चांदी-सोने के सिक्के भी गिफ्ट के तोर पर दे सकते है।लेकिन जिसपर लक्ष्मी- गणेश अंकित हो वो सिक्के मत दे क्यूंकि दे देना शुभ नहीं माना जाता है।

शुभ चीजें जो आप दे सकते है:

दिवाली या धनतेरस पर किसी को भी अष्टधातु से बनी हुई कोई वस्तु उपहार के रूप न दे और कोई भी मिश्रित धातु भी तूफे के रूप मना दे। आप देना चाहें तो सोने-चांदी के सिक्के, आभूषण दे सकते हैं। दीपावली पर लक्ष्मी और गणपति की प्रतिमा भूलकर भी किसी को भी न दे. ऐसी मान्यताएं है कि ऐसा करके आप अपना सौभाग्य किसी और को दे देते है और इसका मतलब यह भी हुआ की आप अपनी लक्ष्मी किसी और को दे रहे है। आप चाहे तो गिफ्ट के तौर पर स्टील और लोहे से बनी कोई भी चीज गिफ्ट कर सकते है। कभी भी सिल्क के कपड़े किसी को गिफ्ट न करें।अगर आप धनतेरस के दिन शॉपिंग कर रहे है, तो इस दिन सिर्फ अपने लिए ही समान खरीदें। ब्लैक कलर कोई भी सामान न ही अपने घर लाएं और न ही गिफ्ट करें।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
बिना श्रेणी

दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण से कैसे रखे आँखों ,फेफड़ो और स्किन को सुरक्षित

फेफड़ो के लिए हर्ब्स है बेस्ट


खुले आसमान में धूल भरे प्रदूषण ने पूरी तरह से अपना कब्जा जमा लिया है, जिसकी चपेट में पूरा उत्तर भारत आ गया है। दिवाली जैसे- जैसे पास आ रही है पॉल्यूशन का स्तर भी बढ़ता ही जा रहा है।प्रदूषण से लिपटी इन गहरी हवाओं के कारण साँस लेना भी मुश्किल हो गया है और इन हवाओं का असर सेहत पर पूरी तरह से पड़ रहा है। साँस लेने में, एलर्जी जैसी बिमारी देखनी पड़ती है तो अब ऐसे में बहुत ज़रूरी है की हम अपने स्वस्थ , अपनी स्किन का खास ख्याल रखे।

1. फेफड़ो के लिए हर्ब्स है बेस्ट:

धूल मिट्टी प्रदूषण से फेफड़ो पर काफी असर पड़ता है,जिससे साँस लेने में काफी परेशानी होती है इसलिए फेफड़ो को स्वस्थ रखना काफी ज़रूरी है। कुछ ऐसे ही हर्ब्स है जिसको खाने से हमारे फेफड़े काफी स्वस्थ रहते है। जैसे:

शहद–  शहद से फेफड़े मज़बूत होते है , इसे हर सुबह एक चमच खाने से आप अपने फेफड़ो को स्वस्थ रख सकते है।

अंगूर– अगर आपको खासी या अस्थमा की बीमारी है तो आपके लिए अंगूर परफेक्ट है, इससे फेफड़े साफ़ होते है।

अंजीर: सारा दिन धूल प्रदूषण में रहने से वो धूल फेफड़ो में चली जाती है अब उससे साफ़ करने के लिए अंजीर को रातभर भिगो कर रखे और उससे सुबह खा ले। इससे सारी गंदगी साफ़ हो जाती है।

2. आँखो की खास देखभाल करे :

वायु प्रदूषण की वजह से आँखो में ड्राइनेस, रेडनेस जैसी परेशानियां होने लगती हैं।  इन से बचने के लिए आपको अपनी आँखो की खास केयर करनी पड़ेगी। एयर पॉल्यूशन से आँखो को बचाने के लिए घर से बाहर निकलते समय आँखो पर सनग्लास लगाएं ऐसा करने से आँखो पर धूप और प्रदूषण का कम असर होता है। अगर आँखो में जलन होती है तो आप उससे गंदे हाथो से ना छुए, हमेशा साफ़ और मुलायम कपडे से ही आँखो को साफ करें। रात को सोने से पहले आँखो में शुद्ध गुलाब जल डालें, इससे आँखो फ्रैश हो जाती है और नींद भी अच्छी आती है।

Read more: Hair Tips : प्रदूषण से बालों को बचा कर रखे इनका ख़ास ख्याल

3. स्किन का रखे ध्यान:

धूल-मिट्टी भरे प्रदूषण का असर सेहत के साथ-साथ स्किन पर भी पड़ता है।इससे बचने के लिए फेसपैक का इस्तेमाल ज़रूर करे जो आपके फेस को ठंडक देता है  जैसे:

लौंग और पुदीने का फेस पैक: मुल्तानी मिट्टी में पुदीने की पत्तियों को मिला कर एक पेस्ट बन लीजिये और थोड़ा पानी मिलाकर करने के बाद आपका पेस्ट तैयार है उससे आप फेस पर 15-20  लागए। पुदीने और मुल्तानी मिटटी में ठंडा करने वाली प्रॉपर्टी होती है तो यह आपके चेहरे को ठंडा रखेगा।

चंदन, नीम और तुलसी का फेस पैक:चंदन पाउडर,नीम का पेस्ट,तुलसी का पेस्ट और चुटकी भर हल्दी का पैक बना कर इस चेहरे पर 15-20 मिनट के लिए लगाएं। इन तीनो में ही ठंडा करने वाली प्रॉपर्टी है जो चेहरे के लिए सही रहता है।

अंडे और कैस्टर ऑयल का मास्क: त्वचा पर प्रदूषण के असर को खत्म करने के लिए एक अंडे में एक चम्मच कैस्टर ऑयल मिलाएं और इस पैक को चेहरे पर लगा लें। अंडा आपके चेरे से डर्ट हो हटा देगा।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com
Categories
लाइफस्टाइल

क्यों करते है दिवाली पर माँ लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा

आखिर क्यों बिठाया जाता है माँ लक्ष्मी को श्री गणेश के बाई ओर


दिवाली के त्यौहार को ‘कौमुदी महोत्सव’ भी कहा जाता है, लेकिन क्या आपको पता है की दिवाली पर लक्ष्मी और गणेश की पूजा क्यों की जाती है, वैसे सभी अच्छे और शुभ कामो में गणेश के साथ गौरी की पूजा की जाती है, लेकिन दिवाली पर यहां गणेश के साथ मां लक्ष्मी का पूजन क्यों किया जाता है? कई पुराणिक कथाओ में इस कहानी का ज़िक्र किया गया है की आखिर क्यों दिवाली के दिन गौरी और गणेश की पूजा क्यों की जाती है। तो चलिए हम आपको इसके पीछे की वजह बतातें है।

पूजा की पीछे की वजह:

पौराणिक ग्रथों में एक कथा है कि लक्ष्मी जी की पूजा गणेश जी के साथ क्यों की जाती है। एक बार एक वैरागी साधु को राजसुख भोगने की लालच होती है तो वो लक्ष्मी जी की आराधना करता है। उसकी आराधना से लक्ष्मी जी प्रसन्न होती है तथा उसको दर्शन देकर वरदान देती है कि उसे उच्च पद और प्रतिष्ठा प्राप्त होगी। वरदान मिलने के बाद उस में  घमंड आ जाता है और राजा को धक्का मार देता जिससे राजा का मुकुट नीचे गिर जाता है, राजा व उसके दरबारी के लोग उसे मारने के लिए दौड़ते है परन्तु इसी बीच राजा के गिरे हुए मुकुट से एक काला नाग लेकर भागने लगाता है, यह देख कर सबको लगाता है की साधु चम्तकारी है और उसकी जयकार करने लगते है।

उस साधु से प्रसन्न हो कर उस से मंत्री बना देता है, क्युकी उसी की कारण राजा की जान बची थी। राजा साधु से इतना खुश हो जाता है की उस मंत्री को अलग महल ही दे देता है। फिर राजा को एक दिन वह साधु भरे दरबार में हाथ खींचकर बाहर ले गया। यह देख दरबारी जन भी उसके पीछे भागे। सभी के बाहर जाते ही भूकंप आया और भवन खण्डहर में बदल गया और उसी साधु ने फिर से सबकी जान बचाई। अब इससे साधु का मान- सामन बढ़ जाता है और उसका घमड़ भी बढ़ जाता है।

तो उसी महल में गणेश की मूर्ति थी, उस मूर्ति को साधु ने हटा दी क्योकि दिखने में वो मूर्ति अच्छी नहीं है। साधु के इस काम से गणेश जी काफी गुस्सा हो जाते है और उसी दिन से साधु की बुद्धि पलट जाती है। उसके सारे काम खराब होने लग जाते है। तभी राजा साधू से नाराज हो कर उसे कारागार में दाल देता है।

उस जेल में वो फिर से लक्ष्मी जी की आराधना करता है तब लक्ष्मी जी उससे बताती है की उसने गणेश का उपमान किया था अब उससे गणेश जी को प्रसन्न करना होगा। माता का आदेश मिलने के बाद वो गणेश की आराधना करने लग जाता है जिससे गणेश जी का गुस्सा शांत हो जाता है और वो राजा को सपने आकर आदेश देते है की साधु को फिर से मंत्री बनाया जाये। राजा ने गणेश जी के आदेश का पालन किया और साधु को मंत्री पद देकर सुशोभित किया।

और पढ़ें: क्यों करती है माँ लक्ष्मी उल्लू की सवारी?

इस प्रकार लक्ष्मीजी और गणेश जी की पूजा साथ-साथ होने लगी। बुद्धि के देवता गणेश जी की भी पूजा लक्ष्मीजी के साथ ज़रूर करनी चाहिए क्योंकि यदि लक्ष्मीजी आ भी जाये तो बुद्धि के उपयोग के बिना उन्हें रोक पाना मुश्किल है। इस प्रकार दीपावली की रात्रि में लक्ष्मीजी के साथ गणेशजी की भी आराधना की जाती है।

दीपावली पर लक्ष्मी जी के साथ गणेश जी की पूजा करने की एक और भावना ये भी कही गई है कि माता लक्ष्मी अपने प्रिय पुत्र की तरह हमारी भी सदैव रक्षा करें और हमें भी उनका स्नेह और आशीर्वाद मिलता रहे।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com
Categories
लाइफस्टाइल

यह है दिल्ली की बेस्ट मार्केट्स जहाँ दिवाली का सभी सामान मिलेगा सस्ता

जाने दिल्ली की बेस्ट मार्केट्स के बारे में जहाँ आप कर सकते है दिवाली  की खरीदारी


अक्टूबर के महीने के साथ त्योहारो का सीजन भी शुरू हो गया है। दश्हरा के बाद अब दिवाली का भी त्योहार आ गया है। दीपावली को दीपों का पर्व भी कहा जाता है। दीपावली पर लोग अपने घरों में साफ-सफाई का ख़ास ख्याल रखते हैं। इस त्योहार के मौके पर लोग अपने घर के लिए सजावट का सामान भी ख़रीदते है। अगर आपको अपने घर की सजावट के लिए खरीदना है सामान तो यह है दिल्ली-एनसीआर की कुछ बेस्ट मार्केट्स:

जाने दिल्ली की बेस्ट मार्केट्स के बारे में जहाँ आप कर सकते है दिवाली की खरीदारी

1. चाँदनी चौक

बात चाहे कपड़ो की हो या घर की सजावट की इन सभी सामान  को खरदीने के लिए चाँदनी चौक दिल्ली के बेस्ट मार्केट्स  में से एक है।  इस मार्किट में आपको छोटी से बड़ी सभी चीज़े मिल जाएगी। अगर आपको दिवाली के लिए सजावट का सामान खरीदना है तो आप यहाँ से खरीद सकते है। जहाँ आपको मिट्टी से बने सुन्दर दीये मिल सकते हैं। आपको इस साल दीपावली के खरीदारी के लिए चांदनी चौक जरूर जाना चाहिए।

2. सरोजनी मार्किट

सरोजनी मार्किट दिल्ली की सबसे बेस्ट मार्केट्स में से एक है। सरजोनि मार्किट वैसे तो कपड़ो के लिए काफी मशहूर है लेकिन आपको यहाँ सजावट का सामना भी अच्छा मिलेगा। यह मार्केट अपने सस्तें दाम पर समान बेचने के लिए भी जानी जाती है। तो आपको इस साल की दीपावली की खरीदारी यहां से करनी चाहिए।

3.  सेंट्रल मार्किट

दिल्ली की सेंट्रल मार्किट खाने -पीने को लेकर काफी मशहूर है। लोगो को लगता है की यह मार्किट  साउथ दिल्ली मे हैं तो महंगी होगी लेकिन यह मार्किट बिलकुल भी महंगी नहीं है। इस मार्केट में आपको अच्छे कपडे से लेकर घरों की सजावट का सभी चीजें आपको असानी से मिल जाएगा। इस बार की दीपावली की खरीदारी करने के लिए आपको जरूर लाजपत नगर जाना चाहिए।

और पढ़ें: इस दिवाली कैसे करे घर का मेकओवर?

4. पहाड़गंज मार्केट

पहाड़गंज मार्केट के बारे में बहुत कम ही लोग जानते हैं कि यहां पर दीपावली के समय बहुत ही सुंदर घरों के सजानें के लिए सामान मिलते हैं। इस बाजार में आपको चांदी के आभूषण और चमड़े के सामान सस्ते दाम में मिल जाएंगे। इस मार्केट में आपको सड़क के किनारे कुछ बेहतरीन लैंप और मिट्टी से बने दीये आपको मिल जाएंगी। इस दीपावली आपको जरूर यहां पर जाकर खरीदारी करनी चाहिए।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com