Jannah Theme License is not validated, Go to the theme options page to validate the license, You need a single license for each domain name.
लाइफस्टाइल

पीरियड पेन से मुक्ति पाने के लिए प्रभावी तरीके

पीरियड पेन से मुक्ति


लड़कियों के लिए महीने के ‘वो दिन’ सबसे मुश्किल होते। ना तो काम करने की हिम्मत होती ही और ना ही कुछ भी सहने की शक्ति। पीरियड के दिनों में लड़कियां अक्सर दर्द, मूड स्विंग और चिड़चिड़े होने के दौर से गुज़रती है। इस बात से कोई मना नहीं कर सकता कि पीरियड्स में होने वाला दर्द और क्रेम्पस के कारण बहुत ही ज़्यादा पीड़ा और तकलीफ होती है।

पीरियड पेन
पीरियड पेन

तभी हम लाए है पीरियड पेन से मुक्ति के ऐसी तरीके जो बहुत ही प्रभावशाली है और उन दिनों के होने वाली तकलीफ से आपको राहत मिल सकती है।

दादी नानी का नुस्खा

ये सबसे पुराना तरीका है। दादी कहती थी की उन दिनों में गरम पानी की बोतल से सिकाई करनी चाहिए। सिकाई करने से क्रेम्पस ठीक हो जाते है। दिन में कम से कम दो बार 10 से 15 मिनट की सिकाई से ही काफी फर्क पड़ सकता है।

पीरियड पेन
सिकाई करे

बादाम अजवाइन

बादाम और अजवाइन को भून लें और उसमें थोड़ी सी शक्कर/ गुड़ या शहद दाल दे। इससे ना सिर्फ आपको दर्द में आराम मिलेगा पर आपको ताकत भी मिलेगी।

हल्दी दूध

हल्दी वाला दूध हर बीमारी के उपचार के लिए फायदेमंद माना जाता है। पीरियड में हल्दी वाला दूध पीने से दर्द कम होता है और आपके शरीर को शक्ति और ताकत भी मिलती हैं।

पानी

इन दिनों में अक्सर शरीर में पानी की कमी हो जाती है। इसलिए ध्यान रखे की आप ज़्यादा से ज़्यादा पानी पियें। इससे सीधे तरीके से तो नहीं पर अप्रत्यक्ष रूप से दर्द और क्रेम्प में राहत मिलती है। आप अपनी पानी की बोतल में पुदीना या नींबू भी मिला सकते है।
हर्बल चाय
पीरियड्स में ये बेहतर होगा की आप किसी भी प्रकार के कैफ़ीन वाले पदार्थों का सेवन न करे। कॉफ़ी, कोल्ड ड्रिंक या चाय ना पिए। उसकी जगह आप हर्बल चाय पिए। ये आपके मासपेशियों को आराम देता है और क्रेम्पस के कारण होने वाले दर्द को कम करता है।

गर्म शावर

शरीर और दिमाग को शांत करने के लिए आप गर्म शावर ले। इससे आपके शरीर को थोड़ा आराम मिलेगा और आपका दर्द भी कम होगा।

चॉकलेट

वैसे तो चॉकलेट में कैफ़ीन होती है। पर चॉकलेट खाने से आपके में स्ट्रेस हॉर्मोन्स की मात्रा कम होती है। आपके मूड स्विंग ठीक होते है और क्रेम्पस के दर्द में भी बहुत फर्क पड़ता हैं।

Back to top button