Jannah Theme License is not validated, Go to the theme options page to validate the license, You need a single license for each domain name.
सेहत

सर्दी के मौसम में आलस और सुस्ती को कहें अलविदा, जानिए कैसे: Winter

 Winter: शीत ऋतुओं में आलस की वजह से बिस्तर छोड़ने का मन बनाना ज्यादातर उसके कारणों में से एक होता है। इस समय में ठंड के कारण शरीर में एक अलग प्रकार की थकावट और नींद की भूख महसूस होती है। इसके अलावा, कई लोगों को शीतलता में बढ़ोतरी होती है जिससे उन्हें सोने में और भी आराम मिलता है।

ठंडी में बिस्तर न छोड़ने के लिए आपकी मदद करेंगी ये चीजें: Winter

 Winter: सर्दियों के मौसम में आलस और सुस्ती का अनुभव करना कोई नया नहीं है। ठंडी ठंडी हवाओं और शीतलता के मौसम में, बिस्तर से उठकर निकलना या बिस्तर छोड़ने का मन बनाना आसान नहीं होता। यह समय है जब हमें अपनी सोच और कृतित्व को ध्यान में रखकर संतुलित डाइट बनाने की जरूरत होती है।

शीत ऋतुओं में आलस की वजह से बिस्तर छोड़ने का मन बनाना ज्यादातर उसके कारणों में से एक होता है। इस समय में ठंड के कारण शरीर में एक अलग प्रकार की थकावट और नींद की भूख महसूस होती है। इसके अलावा, कई लोगों को शीतलता में बढ़ोतरी होती है जिससे उन्हें सोने में और भी आराम मिलता है।

लेकिन, इस समस्या को दूर करने के लिए हमें सही डाइट को अपनाना चाहिए। इससे हमारे शरीर को ऊर्जा मिलती है और हम अपने दिन को सकारात्मक ढंग से शुरू कर सकते हैं।

इस मौसम में, हमें गर्म दूध, जीरा पानी, अदरक वाली चाय जैसी गर्मी देने वाली चीजें अपनी डाइट में शामिल करनी चाहिए। इन गर्म चीजों से हमारा शरीर गर्म रहता है और हमारी ऊर्जा बढ़ती है।

Read more:- Winter: सर्दियों में आलस को दूर करने के लिए फॉलो करें ये 5 टिप्स

फलों और सब्जियों को भी अपने आहार में शामिल करना चाहिए। इनमें विटामिन्स, मिनरल्स और विटामिन सी की अच्छी मात्रा होती है जो हमारे शरीर को ठंडक प्रदान करती हैं। 

आलसी और सुस्त न होने के लिए हमें समय-समय पर गर्म कपड़ों का इस्तेमाल करना चाहिए। ये हमें ठंड से बचाते हैं और हमें गर्म रखते हैं, जिससे की हमारी ऊर्जा बढ़ती है।

We’re now on WhatsApp. Click to join.

सोने से पहले हल्की व्यायाम और ध्यान करना चाहिए। इससे नींद भी अच्छी आती है और सुबह उठने में भी आसानी होती है।

इस तरह, सही डाइट और थोड़ी समय की नियमित व्यायाम से हम शीतकाल में भी अपने आपको सक्रिय और चरमपंथी बना सकते हैं।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com   

Back to top button