महंगा साबित हुआ टिक टॉक पर वीडियो बनाना, सैलरी भी घटी, पद भी गंवाया 

0
74
TIK TOK

टिक टॉक बनाना पड़ सकता है आपको महंगा


इन दिनों टिक टॉक पर वीडियो बनाने का क्रेज चला हुआ है. टिक टॉक ने इस कदर लोगों को क्रेजी बना दिया है कि जब जहां मौका मिला, वीडियो बनाना शुरु. घर में, रास्ते में, पार्क में, छत पर मतलब जहां मौका मिला वहीं शुरु हो गए. कई बार कुछ लोगों ने धार्मिक स्थलों पर ही वीडिया शूट कर दिया, जिसकी वजह से काफी आलोचना भी हुई. टिक टॉक वीडियो शूटिंग के चक्कर में दुर्घटनाओं की भी काफी खबर आई लेकिन लोग भला कहां मानने को तैयार हैं. टिक टॉक के प्रति दिवानगी बढ़ती ही जा रही है लेकिन इस बार तो ऐसा मामला सामने आया है, जिसके जानने के बाद बहुत सारे लोग अपने इस शौक को यहीं पर विराम देने का मन बना लेंगे.

मामला तेलंगाना के खम्मम नगर निगम का 

दक्षिण भारत के राज्य तेलंगाना के खम्मम नगर निगम के भी कुछ कर्मचारियों को भी ऐसे ही टिक टॉक पर वीडियो बनाकर स्टार बनने का भूत सवार था. ऑफिस ऑवर में ही नगर निगम के 11 कर्मचारी टिक टॉक वीडियो बनाने में मशगूल थें कि खबर बाहर चली गई. नगर निगम के अफसरों को अपने कर्मचारियों की इस करतूत का पता चला तो कड़ी कार्रवाई करते हुए इन सभी कर्मचारियों की सैलरी तो काट ही ली गई, पद भी छीन लिया गया.

इन सभी कर्मचारियों को नगर निगम अधिकारियों ने भविष्य में ऐसी भूल न करने और इस आदत से तौबा करने की चेतावनी देते हुए कहा कि अगर आगे से ऐस हुआ तो आप सभी को नौकरी से निकाल दिया जाएगा.

सभी कर्मचारी पद से हटाए गए 

मीडिया में आई खबरों के अनुसार खम्मम नगर निगम के आयुक्त जे श्रीनिवासन राव ने इन सभी 11 कर्मचारियों के खिलाफ ऑफिस टाइम में ही टिक टॉक वीडियो बनाने का मामला सामने आने के बाद उनके पदों से हटाने की कार्रवाई कर दी है. ये सभी संविदा पर नियुक्त कर्मचारी थें. इन सभी के तबादले का आदेश जारी कर दिया गया है.

पुरुषों के साथ साथ महिला कर्मचारी भी शामिल

बताया जाता है कि दोषी पाए गए इन कर्मचारियों में पुरुषों के साथ साथ महिलाएं भी शामिल हैं. ऐसा ये लोग पहले से करते आ रहे थें. कई कर्मचारियों ने भी वरिष्ठ अधिकारियों तक ये शिकायत पहुंचाई थी कि कुछ लोगों को बुरी तरह से टिक टॉक वीडियो बनाने का शौक चढ़ा हुआ है और ये लोग अपना ये शौक ऑफिस के समय में ही पुरा करते हैं, जिसकी वजह से आम लोगों का काम नहीं हो पा रहा है.  इसके बाद ये सभी लोग वरिष्ठ पदाधिकारियों के रडार पर थें. एक दिन ये सभी 11 कर्मचारी ऑफिस के समय में ही टिक टॉक पर वीडिया शेयर करते हुए और चैटिंग करते हुए रंगे हाथों पकड़े गए. वहीं पकड़े गए सभी 11 कर्मचारियों ने भी अपना पक्ष रखा और बताया कि जिन वीडियो के आधार पर उन पर कार्रवाई की गई है, वो सभी पुराने हैं और काफी वक्त पहले के हैं. उन लोगों पर साजिश के तहत दुर्भावनापूर्ण तरीके से कार्रवाई की गई है.

Read More:-#faceApp: सोशल मीडिया पर छाया बूढ़ा होने का “Craze”

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.com