पॉलिटिक्स

बैन हटते ही चुनाव आयोग पर बरसी मायावती

बैन  के बाद क्यों है योगी आदित्यनाथ का प्रचार जारी ?

लोकसभा 2019  के चुनाव शुरू होने से पहले ही चुनाव आयोग ने सभी पार्टियों पर आचार सहिंता लागू कर दिया था  जिसके बावजूद कई पार्टियों ने इसका उल्लंघन किया.वही उल्लंघन करने वाली पार्टियों पर चुनाव आयोग ने कड़ी सख्ती बरती है. आपको बता दे कि अभी हाल ही में आचार सहिंता का उल्लंघन करने पर चुनाव आयोग ने  यूपी  के सीएम योगी आदित्यनाथ और बसपा प्रमुख मायावती पर चुनाव प्रचार से लेकर ट्वीट करने पर भी बैन लगाया था. जिसमे योगी आदित्यनाथ पर 72 घंटे तक और मायावती के लिए 48 घंटे  तक के लिए बैन लगाया

यहाँ भी पढ़े:चुनाव आयोग ने योगी और मायावती  पर कि सख्ती

बैन के बाद भी योगी का प्रचार जारी?

वही बसपा प्रमुख मायावती ने 48 घंटे के बैन  के हटने  के बाद चुनाव आयोग पर सीधा निशाना साधा और कहा की आखिर चुनाव आयोग कर क्या रही है , अगर बीजेपी पर ऐसी मेहरबानी जारी रही तो निष्पक्ष चुनाव असंभव. साथ ही मायावती ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर यह भी ट्वीट कर के लिखा कि यूपी के सीएम योगी आदित्यानथ बैन के बाद मंदिर-मंदिर घूम रहे है और चुनाव लाभ ले रहे हैं. उन पर आयोग इतना मेहरबान क्यों है?

मायावती ने चुनाव प्रचार के रोक थाम को लेकर चुनाव आयोग को तो घेरा ही साथ ही उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी पर भी निशाना साधा और कहा आज दूसरे चरण का मतदान शुरू हो चुके है और बीजेपी व पीएम मोदी उसी प्रकार से नरवस व घबराए लगते हैं जैसे पिछले लोकसभा चुनाव में हार के डर से कांग्रेस व्यथित व व्याकुल थी. इसकी असली वजह सर्वसमाज के गरीबों, मजदूरों, किसानों के साथ-साथ इनकी दलित, पिछड़ा व मुस्लिम विरोधी संकीर्ण सोच व कर्म है.

हालाँकि अभी तक चुनाव आयोग द्वारा  मायावती के सवाल को लेकर कोई  प्रतिक्रिया नहीं आयी है और वही अभी भी योगी आदित्यनाथ पर 24 का प्रचार  करने पर रोकथाम लगा हुआ है.

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.in 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Hey, wait!

अगर आप भी चाहते हैं कुछ हटके वीडियो, महिलाओ पर आधारित प्रेरणादायक स्टोरी, और निष्पक्ष खबरें तो ऐसी खबरों के लिए हमारे न्यूज़लेटर को सब्सक्राइब करें और पाए बेकार की न्यूज़अलर्ट से छुटकारा।