Categories
बिना श्रेणी

यौन शोषण के बुरे आईने को दिखाने वाली बॉलीवुड की 5 फ़िल्में

यौन-शोषण – समाज का बुरा आईना


यौन-शोषण यानि सेक्सुअल हर्रासमेंट (sexual harassment) आज हमारे समाज का वो बुरा आइना है जिसके खिलाफ पूरी दुनिया ने जंग छेड़ी हुई हैं। इस विषय से हमारा बॉलीवुड समाज भी अछूता नहीं रहा हैं। बॉलीवुड के कुछ ऐसे दिग्गज निर्देशकों ने कुछ ऐसी फ़िल्में बनायीं हैं जिंसमे यौन शोषण के बुरे आईने को अलग-अलग कहानियों के माध्यम से दर्शाया गया है। आईये जानते हैं वो यौन शोषण के बुरे आईने को दिखाने वाली बॉलीवुड की वो 5 फ़िल्में जिन्होंने समाज में फैली इस बुराई का अंत करने में मदद की।

1. भूमि (2017) – इस फिल्म में एक सिंगल फादर के द्वारा पाली गयी बेटी के बलात्कार और उसके रिवेंज की कहानी हैं। इसमें सिंगल फादर यानि अरुण सचदेवा की भूमिका में होते हैं संजय दत्त और उसकी बेटी भूमि यानि अदिति राव हैदरी है। इसकी कहानी में भूमि का बलात्कार होने के बाद एक बाप की जंग शुरू होती हैं।

2. पिंक (2016) – ये फिल्म समाज के उस आईने को दिखती है जहाँ लड़कियों के ना बोलने पर क्या होता है यह दिखाया गया हैं। इसमें चार लड़कियों की कहानी है जिनके साथ एक पार्टी में मौजूद कुछ लड़के छेड़छाड़ करते हैं। जब इसका विरोध किया जाता है तो बात बढ़ जाती हैं और इस फिल्म की लीड एक्ट्रेस तापसी पन्नू लड़के को घायल कर अपने दोस्तों के साथ वहां से भाग जाती हैं। इसके बाद शुरू होता है पुलिस, कोर्ट रूम और वकीलों की दलीलों का सफर। इस फिल्म में अमिताभ बच्चन एक वकील का रोल निभा रहें हैं।

3. मॉम (2017) – इस फिल्म में एक माँ की उसकी सौतेली बेटी के बलात्कार हो जाने के बाद उन लोगों के साथ जंग की कहानी है जिसमे वो सभी को एक अलग तरीके से बदला लेने का बनाती हैं। फिल्म में देवकी की भूमिका में श्रीदेवी है जो आर्या की माँ की भूमिका निभा रही हैं। आर्या के साथ एक पार्टी के दौरान रेप हो जाने के बाद शुरू होता हैं देवकी का अपनी बेटी को न्याय दिलाने का सफर।

Read more: हेल्थी ब्रेकफास्ट के लिए खाने में क्या चुनें

4. मातृ (2017) – ये फिल्म भी एक मां (रवीना टंडन) के बदले की कहानी है जिसमें उसकी बेटी का बलात्कार उसकी आंखों के सामने होता है। इस परिस्थिति में मां खुद के संभालते हुए कैसे सिस्टम से लोहा लेती है और कैसे सत्ता में बैठे दबंगों को इसकी सजा देती है यही इस फिल्म की कहानी है।

5. लज्जा (2001) – यह फिल्म उन औरतों के दर्द की कहानी है जिसमे उनके मर्दों द्वारा उनपर किये गए अत्याचार को दिखाया गया हैं। कैसे मुश्किल परिस्तिथों में एक औरत अपने सम्मान की रक्षा करती है और कैसे वो दूसरी औरतों का सहारा पाती हैं।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
मनोरंजन

#HappyBirthdayTaapsee:  एक्ट्रेस ना होकर सॉफ्टवेयर इंजीनियर हो सकती थी 

HappyBirthdayTaapsee : जाने उनसे जुडी कुछ ख़ास बाते


बॉलीवुड में अपनी एक्टिंग से दर्शकों के दिलों को छूने वाली बॉलीवुड की बोल्ड और बिंदास एक्ट्रेस तापसी पन्नू आज अपना 31वा जन्मदिन मनाने जा रही हैं। अपनी एक्टिंग का लोहा मनवा चुकी तापसी पन्नू एक्टिंग के साथ-साथ पढाई में भी बहुत इंटेलीजेंट थी। कंप्यूटर सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग की पढ़ाई के समय सब उन्हें कॉलेज में सेलिब्रिटी गर्ल बुलाते थे। उनकी अदाएं और हुस्न का जादू उस वक़्त भी चलता था। बनना तो वो सॉफ्टवेयर इंजीनियर चाहती थी उन्हें मॉडलिंग के बहुत सारे प्रोजेक्ट्स मिलें और उन्होंने तेलुगु, तमिल फिल्मों से अपना करियर शुरू किया। हालाँकि बाद में उन्हें बॉलीवुड में भी जगह मिल गयी और उन्होंने कई बड़े-बड़े एक्टर अमिताभ बच्चन, अक्षय कुमार जैसे अभिनेता के साथ काम किया।

 बॉलीवुड करियर का सफर

मॉडलिंग प्रोजेक्ट्स के दौरान उन्होंने फेमिना मिस फ्रेश फेस ( femina miss fresh face) और ‘साफी फेमिना मिस ब्यूटीफुल स्किन’ (Saafi femina miss beautiful skin) का खिताब भी जीता। उन्हें अपनी पहले फिल्म “झुम्माण्डि” जो की डारेक्टर राव द्वारा निर्देशित थी में लीड रोल निभाया। बॉलीवुड में पहली फिल्म “चश्मेबदूर” करने के बाद से सब उन्हें एक सफल अभनेत्री की तरह देखने लगें। इस फिल्म का गाना “डिशक्याउ” दर्शकों को बेहद पसंद आया जिसके बाद वो शोहरत कमाकर फेमस होती चली गयी।

मुंह फट अंदाज वाली तापसी पन्नू

बोल्ड और बिंदास एक्ट्रेस होने के साथ -साथ तापसी पन्नु को एक मुंह फट अंदाज वाली गर्ल भी जाना जाता हैं। अपने दिल की बात साफ़-साफ़ मुँह पर बोलना और सीधे अक्षरों में अपनी बात समझाने में उन्हें हुनर हासिल हैं। इसी मुंह फट अंदाज की वजह से वो बॉलीवुड में बहुत मशहूर है। वो हमेशा मीडिया वालों के लिए चर्चा का विषय रहती है कभी अपने विवादित बयान को लेकर तो कभी कुछ और। महिला सशक्तिकरण के विश्वास रखने वाली तापसी पुरुष और महिला को बराबर मानती हैं। उनके अनुसार, एक हीरो बनना व्यक्ति की काबिलियत और हौसले पर निर्भर करता है।

Read More :- #Dhinchakpooja : ढिंचैक पूजा का लेटेस्ट सांग “नाच के पागल” सुनकर फैंस ने दिया ऐसा रिएक्शन 

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.com