Categories
लाइफस्टाइल

आज के समय पर हर माँ बेटी के बीच जरूर होनी चाहिए ये 5 बातें

आज के समय पर एक माँ को अपनी बेटी को आत्म-निर्भर और स्वाभिमानी बनाने के लिए उसे सीखनी चाहिए ये चीजे


एक माँ और बेटी का रिश्ता कैसा होता है ये शायद हमें आपको बताने की जरूरत नहीं है हर माँ बेटी के बीच एक मजबूत और अटूट रिश्ता होता है जो प्यार और विश्वास से बना होता है। अगर आप एक माँ है या एक बेटी है तो आप इस बात को अच्छे से समझ सकते है कि माँ और बेटी के बीच किस तरह की बांडिंग होती है। ये एक ऐसा रिश्ता होता है जिसे हम कह सकते है कभी ना टूटने वाला रिश्ता। जैसे जैसे बेटी बड़ी होती जाती है उसका और उसकी माँ का रिश्ता और भी ज्यादा अटूट और गहरा होते जाता है और माँ की उसके प्रति और भी अधिक जिम्मेदारी बढ़ जाती है। अगर आप एक माँ है तो आपका काम सिर्फ अपनी बेटी को घर के काम सीखना और पढ़ाना ही नहीं है, बल्कि आपकी जिम्मेदारी है उनको जिम्मेदार बनाना, आत्म-निर्भर बनाना और स्वाभिमानी बनाना। एक बेटी अपनी माँ के सबसे ज्यादा करीब होती है वह जितनी चीजें अपनी माँ से सीखती हैं, उतनी तो वो स्कूल में भी नहीं सीखती है। तो चलिए जानते उन चीजों के बारे में जो आज  के समय में हर माँ बेटी के बीच होनी चाहिए।

स्वाभिमान: एक माँ और बेटी का रिश्ता बहुत ही प्यार और अटूट होता है। इसलिए माँ और बेटी को हमेशा एक दूसरे को समझना चाहिए कि वह जैसी भी हैं सुन्दर है और उन्हें अपने आप को ऐसे ही पसंद करना चाहिए। इससे दोनों को एक दूसरे के अंदर स्वाभिमान और आत्मविश्वास बढ़ाने में मदद मिलेगी।

स्वतंत्रता: एक माँ होने के नाते आपको हमेशा अपनी बेटी को समझाना और सिखाना चाहिए कि स्वतंत्र बने और हर उम्र में अपना काम खुद करें। जिससे की आपको कभी भी किसी भी काम के लिए दूसरों पर निर्भर नहीं होना पड़ेगा।

सेल्फ-केयर: आपने देखा होगा कि अक्सर घरों में माएं अपने घर के कामों में इतना बिजी रहती हैं कि वह अपने ऊपर ध्यान ही नहीं देती है। ऐसे में हर बेटी को अपनी माँ को सेल्फ-पेंपरिंग, रेडी होना और ट्रेंडिंग चीजों से भी रूबरू जरूर कराना चाहिए। साथ ही अपनी माँ को सेल्फ केयर करना भी सिखाना चाहिए। आपको उन्हें बताना चाहिए कि सेल्फ केयर का मतलब केवल मेकअप करना नहीं होता। सेल्फ केयर का मतलब होता है रेस्ट करना, खुद की सेहत का ख्याल रखना और अपने लिए समय निकालना। इससे आप दोनों का रिश्ता और भी ज्यादा मजबूत बनाता है।

और पढ़ें: जानें लिपस्टिक खरीदते हुए आपको किन बातों का रखना चाहिए ध्यान, ताकि मिलें बेस्ट रिज़ल्ट

स्ट्रांग: आज के समय में हम सभी लोगों का लाइफस्टाइल काफी ज्यादा बदल चुका है। जिसके कारण आज के समय में अक्सर लोगों की जिंदगी काफी ज्यादा भागदौड भरी हो गई है। आज के समय पर हर कोई डिप्रेशन का शिकार हो रहा है। ऐसे में आपको एक दूसरे को डिप्रेशन में जाने से रोकना चाहिए। आपको एक दूसरे के साथ मॉर्निंग वॉक पर और जिम जाना चाहिए। जो आज के समय पर डिप्रेशन और तनाव से लड़ने के लिए जरूरी होता है।

अपना बचाव: आज के समय पर महिलाओं के साथ जो अत्याचार हो रहे हैं, उन्हें देख कर आपको भी लगता होगा कि आपको अपनी बेटी को सेल्फ डिफेंस की चीजे सीखनी चाहिए। ताकि समय आने पर वह अपने आप को अनजान लोगों से बचा सके। अपना बचाव करना सिखाने के लिए आपको उन्हें इसकी ट्रेनिंग दिलानी चाहिए।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
वीमेन टॉक

Mother’s Day special: जाने कोरोना महामारी के बीच कैसे मनाएं मदर्स डे

लॉकडाउन के दौरान कुछ ऐसे प्लान करें अपनी माँ के लिए सरप्राइज


जैसा की हम सभी लोग जानते है कि इस समय हमारा पूरा देश कोरोना महामारी से जूझ रहा है। और इस समय देश के कई राज्यों में लॉकडाउन भी लगा हुआ है। इसी बीच मदर्स डे आ रहा है। और लॉकडाउन के कारण न तो आप अपनी माँ को सरप्राइज ट्रैवल टिकिट दे सकते हैं और ना ही कही डिनर पर ले जा सकते है। बल्कि इस बार तो कई लोगों के लिए गिफ्ट देना भी काफी ज्यादा मुश्किल हो गया है एक तरफ तो लॉकडाउन दूसरी तरफ पैसों की किलत। क्योकि इस कोरोना लॉकडाउन के कारण कई लोगों ने अपनी नौकरियां खो दी है। लेकिन इन सबके बीच भी आप अपनी माँ को स्‍पेशल फील करा सकते है। हर साल मदर्स डे मई के दूसरे रविवार को मनाया जाता है। और इस दिन का खासा उत्‍साह पूरी दुनिया में देखने को मिलता है। हमे उम्मीद है कि इस बार भी लॉकडाउन इस उत्‍साह को कम नहीं कर पाएगा। अगर आप अपनी माँ के पास है तो इस बार आप भी उनको स्पेशल फील करने के लिए ये आइडियाज ट्राई कर सकते है।

लंच या डिनर: अगर आप भी उन लोगों में से है जो इस कोरोना महामारी के बीच भी अपने माँ पापा के पास है तो आपके माँ पापा के लिए इससे बड़ा और अच्छा सरप्राइज और गिफ्ट और कुछ हो ही नहीं सकता है। आप चाहो तो मदर्स डे के मौके पर अपनी माँ के लिए घर पर ही उनका पसंदीदा लंच या डिनर बना सकते है। सबसे जरूरी, ऐसे खास मौके पर एक साथ समय बिताना सबसे ज्यादा मायने रखता है।

और पढ़ें: इंग्लैंड में बैंक इंवेस्टर बैंकर रही महुआ मित्रा भारतीय राजनीति का अहम हिस्सा है

ओटीटी: अगर आपकी माँ भी डिजि‍टल दुनिया से सक्रिय नहीं हैं तो इस मदर्स डे आप उनको इस डिजि‍टल दुनिया से सक्रिय करा सकते है। आप उन्हें  किसी भी डिजिटल प्लेटफॉर्म नेटफ्लिक्स, ZEE5, अमेज़ॅन प्राइम, हॉटस्टार की कोई शानदार वेब-सीरीज या फिर फिल्म दिखा सकते है। और उनका ये दिन स्पेशल बना सकते है।

केक बनाएं: इस मदर्स डे शेफ की कैप लगाओ और अपनी माँ के लिए स्पेशल केक या मफिन बनाओ। हम में से कई लोग ऐसे भी होते है जिनका अपने पैरेंट्स के लिए कुछ स्‍पेशल करने की इच्‍छा होती है लेकिन समय की कमी के कारण हम कुछ कर नहीं पाते। तो अब मौका है आप अपनी माँ के लिए मदर्स डे पर एक स्पेशल केक या मफिन बना सकते है।

डांस-गाना: आप इस लॉकडाउन का सबसे अच्छा फायदा मदर्स डे मनाने के लिए उठा सकते है। अगर आपकी माँ उन लोगों में से है जिनको डांस-गाना पसंद है तो आप उनके लिए घर में कुछ स्नैक्स बनाएं और डांस-गाने की पार्टी कर लें। और अपनी माँ के साथ डांस करें। और उनके पसंदीदा गाने सुनें और उन्‍हें भी गाने के लिए कहें।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
मनोरंजन

जाने उन बॉलीवुड हसीनाओं के बारे में जो जल्द बनने वाली हैं माँ

बॉलीवुड दीवाज जिनके घर आने वाला है एक नन्हा मेहमान


Indian celebrities who are pregnant now : साल 2020 किसी के लिए भी कुछ खास नहीं रहा था इसी लिए सभी लोगों को साल 2021 से काफी ज्यादा उम्मीदे हैं। आपको बता दें कुछ बॉलीवुड सितारों के लिए साल 2021 काफी ज्यादा खुशनुमा भरा साबित होने वाला है। इस साल की शुरुआत में ही अनुष्का शर्मा ने एक प्यारी से बेटी को जन्म दिया है तो वही साल के दूसरे महीने में करीना कपूर भी अपने दूसरे बेटे को जन्म दिया। अभी बहुत सी ऐसी बॉलीवुड अभिनेत्रियां हैं जिन्होंने कुछ समय पहले ही अपनी प्रेग्नेंसी की घोषणा की है। तो चलिए आज हम आपको उन बॉलीवुड हसीनाओं के बारे में बताएंगे जो इस साल माँ बने वाली है।

Image source – Shreya Ghoshal Insta

श्रेया घोषाल: आज के समय में श्रेया घोषाल को भला कौन नहीं जनता। श्रेया घोषाल बॉलीवुड की एक मशहूर प्लेबैक     गायिका है। वह शादी के 6 साल बाद माँ बनने जा रही है। श्रेया घोषाल ने खुद कुछ समय पहले सोशल मीडिया पर बेबी बंप के साथ अपनी प्रेग्नेंसी की घोषणा की थी।

और पढ़ें: एक समय पर ये बॉलीवुड हसीनाएं थी ओवरवेट, लेकिन आज बन चुकी है लोगों की फिटनेस इंस्पिरेशन

नीति मोहन: श्रेया घोषाल की तरह नीति मोहन भी बॉलीवुड की एक मशहूर गायिका है। इस साल नीति मोहन पहली बार माँ बनने जा रही है।  कुछ समय पहली ही उन्होंने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर अपने बेबी बंप की तस्वीर साझा करते हुए अपने फैंस को ये खुशखबरी दी थी।

दीया मिर्जा: दीया मिर्जा ने इसी साल 15 फरवरी 2021 को मुंबई के एक बिजनेसमैन वैभव रेखी से शादी की थी। और उसके बाद दोनों हनीमून मनाने के लिए मालदीव गए थे। यही से दीया ने अपने बेबी बंप फ्लॉन्ट करते हुए तस्वीर साझा की। और अपने फैंस को माँ बनने की खबर दी।

लीजा हेडन: बॉलीवुड की खूबसूरत हसीना लीजा हेडन इस साल जून में माँ बन जाएंगी। लीजा हेडन ने साल 2016 में एक बिजनेसमैन डीनो ललवानी से शादी की थी। जिसके बाद लीजा ने  दो बेटों को जन्म दिया। अब इस जोड़े का ये उनका तीसरा बच्चा है।

किश्वचर मर्चेंट: टेलीविजन की हॉट और बेहद खूबसूरत हसीना किश्वर मर्चेंट भी इस साल माँ बनने वाली है। किश्वचर मर्चेंट ने भी अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर तस्वीर साझा कर अपने फैंस को ये खुशखबरी दी थी आपको बता दे कि किश्वचर मर्चेंट 40 साल की उम्र में पहली बार माँ बनने जा रही है। वो इस साल अगस्त में अपने पहले बच्चे को जन्म देगी।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
काम की बात करोना

जननी सुरक्षा योजना के तहत कहीं मिल रहा है लाभ, तो कहीं बैंक खातों को बिना अभाव

योजना के तहत अस्पताओं में डिलीवरी करवानी वाली महिलओं की संख्या में वृद्धि


गर्भवती महिला और नए जन्मे बच्चें की मृत्युदर में आई कनी

हर घर किलकारियों से भरा रहे और मां और बच्चा दोनों सुरक्षित रहें. इसलिए सरकार द्वारा जननी सुरक्षा योजना लाई गई. जिसके कारण गर्भवती महिलाएं और बच्चें की मातृदर में कमी लाने की कोशिश की गई है. 

अहम बिंदु

  • जननी सुरक्षा योजना का उद्देश्य
  • लाभ
  • मृत्युदर में कमी
  • कमी
  • आशा वर्क्स का दायित्व

जननी सुरक्षा योजना को 12 अप्रैल 2005 को प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह द्वारा नेशनल हेल्थ मिशन के तहत लाया गया. यह केंद्रीय योजना है जो परिवार एवं कल्याण मंत्रालय द्वारा संचालित होती है. जिसके अंतर्गत ग्रामीण महिलाओं को 1400 और शहरी महिलाओं को 1000 रुपए की धनराशि दी जाती है. इसके साथ ही मातृ वंदना योजना के 5000 भी इसके साथ मिलते हैं. इस योजना के तहत आज करोड़ों महिलाओं को लाभ मिला है. और कई आज भी इस योजना के लाभ से वंचित हैं. 

जननी सुरक्षा योजना का उद्देश्य

  • पहला उद्देश्य यह है कि गर्भवती महिला और बच्चे की मृत्युदर में कमी लाना. सरकारी बेवसाइट के अनुसार जीवित जन्म में मातृत्व- मृत्युदर(एमएमआर) को 1/100 के स्तर पर लाना और शिशु मृत्युदर को 25/1000 के स्तर पर लाना. 
  • अस्पताल में डिलीवरी को बढ़ावा देना. गांव और दूर दराज के इलाकों में लोग आज भी घर पर ही डिलीवरी करवाते हैं. जिसके कारण कई बार जज्जा और बच्चा दोनों की जान पर खतरा बना रहता है. 
  • आर्थिक सहायता का उद्देश्य है यह है कि डिलीवरी के बाद जो महिलाएं पोषक तत्वों को सेवन नहीं कर पाती थी वह अपने शरीर को मजबूती देने के लिए पोषण तत्वों का सेवन कर सकें जिससे महिला शारीरिक रुप से मजबूत हो. 

कैसे और कब लाभ लें

  • योजना के तहत दो बच्चों तक महिला को इस योजना का लाभ मिलता है. 
  • .योजना का लाभ दो किस्तों में मिलता है. छह हजार रुपए में तीन हजार डिलीवरी से पहले और तीन डिलीवरी के बाद मिलता है. 
  • इस योजना का लाभ लेने के लिए पहले गर्भवती महिला को किसी भी सरकारी अस्पताल में पंजीकरण कराना पड़ता है. जिसमें आशा वर्क्स उसकी सहायता करती है. इतना ही नहीं डिलीवरी के पहले वहां जांच भी करानी पड़ती है. 

योजना का लाभ लेने के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेज

  • आधारकार्ड
  • वोटर आईडी
  • गर्भवती महिला का बैंक खाता, पहले नगद दिया जाता था लेकिन अब बैंक खातों में ट्रांसफर किया जाता है. 
  • सरकारी अस्पताल द्वारा जारी डिलीवरी सार्टिफिकेट
  • दस्तावेज

योजना का फायदा और मृत्युदर में कमी

आंकड़ो की बात करें तो इकॉनोमिक्स टाइम की एक खबर के अनुसार सालना 1600 करोड़ खर्च कर सरकार एक करोड़ महिलाओं को इसका लाभ दे रही है. इतना ही नहीं इस योजना के तहत लोगों में जागरुकता भी फैली है. पहले जहां जानकारी के अभाव में लोग अपनी जान गंवा लेते थे वहीं इस योजना के बाद से लोगों में स्वास्थ्य संबंधी साफ-सफाई से लेकर खाने पीने तक के लिए जागरुकता का काम किया गया है. जिससे गांव एवं दूर-दराज के इलाकों में महिलाओं को डिलीविरी के लिए परेशानी नहीं हो रही है. इतना ही नहीं जज्जा और  बच्चा के पोषण का भी ध्यान रखा जा रहा है. टीकाकरण को लेकर भी सतर्कता बरती जा रही है. डिलीविरी के बाद उसी अस्पताल में बच्चे का पांच साल तक टीकाकरण किया जाता है. 

यूनिसेफ की एक रिपोर्ट के मुताबिक 2017 तक भारत में गर्भवती महिलाओं की मृत्युदर में 55 प्रतिशत की कमी आई है. इसी साल स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने एक आंकड़ा प्रस्तुत करते हुए बताया कि गर्भवती महिलाओं की मृत्युदर में कमी आई है. साल 2011-13 में 167, 2014-16 में 130 और 2015-17 में 122 तक कमी आई है. 

यूनिसेफ की रिपोर्ट

योजना से लाभन्वित ज्योत्सना मिश्रा की डिलीवरी इसी साल जनवरी में नोएडा के जिला अस्पताल में हुई थी. उन्होंने बताया कि डिलीवरी के तीन महीने पहले उन्हें 3 हजार दिए गए था. जब उनका मेडिकल कार्ड बनाया गया था और 3 हजार डिलीवरी के ढाई महीने बाद बच्चे को टीका लगने के उपरांत उनके अकांउट में आएं थे. उनका कहना है कि इससे सबसे अच्छा फायदा यह है कि डिलीवरी के बाद पैसों के अभाव में कोई महिला पोषक तत्वों से वंचित नहीं रह सकती है. 

कमी

इस बात में कोई दोतरफा राय नहीं है कि योजना कोई भी हो उसमें कुछ न कुछ कमी जरुर होती है. गांव कनेक्शन वेबसाइट पर छपी एक खबर के अनुसार योजना का लाभ कई महिलाओं को नहीं मिला है. खबर के अनुसार कानपुर देहात की आकांक्षा सिंह का कहना है कि उनका बच्चा आठ महीने का हो गया है लेकिन अभी उन्हें पैसे नहीं मिल पाएं है. ऐसा यह पहला मामला नहीं है. सरकार ने लाभ लेने के लिए एक अनिर्वाय शर्त रखी है कि महिला को पैसा उसके बैंक खाते में ही ट्रांसफर किया जाएगा.  लेकिन कई महिलाएं ऐसी है जिनके पास बैंक खाता नहीं होता है. ऐसे हालात में महिलाएं इसके लाभ से वंचित रह जाती है. एक महिला ने नाम न बताने की शर्त पर बताया कि उनकी डिलीवरी साल 2018 में हुई थी . उनके पास सारे जरुरी कागज मौजदू थे बस एक बैंक खाता न हो पाने के कारण उन्हें 1400 रुपए नहीं मिल पाएं. सरकार द्वारा जनधन योजना के तहत बैंक खाता बनाने का विकल्प दिया है . लेकिन कई महिलाओं के जरुरी दस्तावेज पूरे न हो पाने के कारण यह भी नहीं हो पा रहा है. 

योजना में आशा वर्क्स की भूमिका

  • अपने क्षेत्र की गर्भवती महिलाओं की पहचान करना जिसको योजना का लाभ मिलना है.
  • अस्पताल में डिलीवरी करवाने के बारे में महिलाओं को जानकारी देना, ताकि स्वस्थ्य और सुरक्षित डिलीवरी हो सकें
  • पंजीकरण में महिलाओं की मदद करना ताकि उन्हें आर्थिक लाभ मिल सकें. 
  • जननी सुरक्षा योजना कार्ड और बैंक खाते जैसे महत्वपूर्ण चीजें को मुहैय्या कराने में मदद करना. 
  • टीबी के खिलाफ बीसीजी टीकाकरण सहित, नवजात शिशुओं के लिए  टीकाकरण की व्यवस्था करना. 

निष्कर्ण

पिछले कुछ सप्ताह से हम लगातार सरकार की स्वास्थ्य संबंधी योजनाओं के बारे में जानकारी दे रहे हैं. इस बार जननी सुरक्षा योजना के तहत महिलाओं को लाभ तो मिल रहा है. लेकिन लाभ सभी महिलाओं तक नही पहुंच रहा पा रहा है. पूरे आर्टिकल के दौरान हम इस निष्कर्ष पर पहुंचे है कि इस योजना के द्वारा महिलाओं में अस्पताओं में डिलीवरी कराने की संख्या में वृद्धि हुई है. जिसका साफ मतलब है जज्जा और बच्चा दोनों ही डिलीवरी के बाद कुछ समय के लिए डॉक्टरों की निगरानी में  रहेंगे. जबकि घर में डिलीवरी करवाने से मेडिकल सुविधा पूरी तरह से मिल नहीं पाती है.  इसके साथ ही डिलीवरी के बाद बच्चे और मां को जरुरी टीके भी उसी वक्त लग जाते हैं.

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
लाइफस्टाइल

5 तरीके जिनसे लॉकडाउन के दौरान आप रख सकते है अपनी मां की सेहत का ख्याल

जाने कैसे रखें अपनी मां की सेहत का ख्याल


ये माँ की दुनिया भी कितनी अजीब होती है न. इनके पास पूरे परिवार के लिए बहुत सारा समय होता है. लेकिन अपने लिए एक मिनट भी नहीं होता. जिसका नतीजा यह होता है कि उम्र के साथ उनका स्वास्थ्य बिगड़ने लगता है. छोटी-मोटी परेशानियां जिनको वो हमारे कारण अनदेखा कर देती है वो एक बड़ा रूप धारण कर लेती हैं. माँ बच्चे के जन्म से ले कर सालों तक उसकी देखभाल करती है. उसका ध्यान रखती है. इसलिए बच्चों को भी बड़ा होने के बाद अपनी माँ का ख्याल उसी तरह रखना चाहिए. जैसे माँ बच्चे का बचपन में रखती है. जैसा कि हम लोग देख रहे है कि पिछले कुछ महीनों से देश में कोरोना महामारी चल रही है जिसके कारण पूरे देश में लॉकडाउन लगा हुआ है और हम अपने घरों से बाहर नहीं जा पा रहे. ज्यादातर लोग अपने घरों से ही काम कर रहे है. और ऐसे में ये एक अच्छा समय है जब आप अपनी माँ को समय दे सकते हैं और उनका ध्यान रख सकते हो. तो चलिए आज आपको माँ का ध्यान रखने के लिए कुछ टिप्स बताते हैं. 

एक्सरसाइज: माना की माँ को समझना आसान नहीं होता, लेकिन ये भी सच है कि सेहतमंद रहने के लिए एक्टिव रहना बेहद जरूरी है इस लिए अपनी माँ को सेहतमंद रखने के लिए उन्हें कुछ एक्सरसाइज करने के लिए मनाएं. ऐसी बहुत सारी एक्सरसाइज हैं जो आप उन्हें घर पर ही करा सकते हैं. 

और पढ़ें: जाने स्ट्रॉबेरी के फायदों के बारे में, इम्यूनिटी बूस्ट से ले कर स्ट्रेस तक में है फायदेमंद

उनकी दोस्त बनें: जैसा की हम लोग देख रहे है कि पिछले कुछ समय से पूरे देश में कोरोना वायरस फैला हुआ है जिसका सबसे ज्यादा खतरा बुजुर्ग लोगों को ही है. ऐसे में आपके माता पिता का डर में होना और चिंतित होना स्वभाविक है.  आप उन लोगों के साथ बैठे, उनसे बात करें. उनके साथ एक दोस्त की तरह पेश आएं. ऐसे समय में आप अपने माता पिता को हौसला दे सकते है. उनके डर को कम करने की कोशिश कर सकते है.

रेगुलर हेल्थ चेकअप: उम्र बढ़ने के साथ आपकी माँ को कई स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं. जिन्हे अक्सर वो लापरवाही में अनदेखा कर देती है. इस समय कोरोना लॉकडाउन के कारण आप घर पर हैं. तो आप अपनी माँ का रेगुलर हेल्थ चेकअप करा सकते है. इससे आपको पता चलेगा कि आपकी माँ के शरीर के किस भाग को ज्यादा केयर की जरूरत है.

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com