भारत

मुलायम सिंह अब भी सपा का चेहरा है- मुख्यमंत्री अखिलेश सिंह यादव

मुलायम सिंह यादव अब भी पार्टी का चेहरा: मुख्यमंत्री अखिलेश सिंह यादव

समाजवादी पार्टी में कई दिनों से चल रहे परिवारवाद के संघर्ष पर आखिरकार चुनाव आयोग ने विराम चिन्ह लगा ही दिया। कई दिनों से चल रहे इस आपसी मतभेद के बीच चुनाव आयोग ने सपा की कमान यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश सिंह यादव को सौंप दी है।

मुलायम सिंह यादव अब भी पार्टी का चेहरा

चुनाव आयोग के फैसले के बाद आज यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेख सिंह यादव ने कहा है“उनके पिता और समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव अब भी पार्टी का चेहरा हैं।“

इससे पहले चुनाव आयोग ने अखिलेख को साइकिल को चुनाव चिन्ह देने की अनुमति दी थी।

इसके साथ ही अखिलेश ने कहा कि उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव में सपा मुलायम सिंह यादव के संरक्षण में लड़ेगी।

अखिलेश सिंह और मुलायम सिंह एक साथ
अखिलेश सिंह और मुलायम सिंह एक साथ

गठबंधन के लिए कुछ दिन और करना होगा इंतजार

वहीं दूसरी ओर कांग्रेस के साथ गठबंधन को लेकर भी सपा जोर मारने लगी है। मुख्यमंत्री अखिलेख सिंह यादव का कांग्रेस के साथ गठबंधन को लेकर कहना है कि अभी कुछ दिन और इंतजार करना होगा।

इसी के साथ ही कहा कि विधानसभा चुनाव को लिए उम्मीदवारों की सूची एक दो दिन में जारी की जाएंगी।

पिता के साथ रिश्ता कभी खत्म नहीं हो सकता

अखिलेश का अपने पिता मुलायम सिंह के साथ संबंध को लेकर कहना है कि वह एक ऐसा रिश्ता है जो कभी खत्म नहीं हो सकता। लेकिन पिता और पुत्र का झगड़ा किसी से नहीं छुपा है। बात चुनाव आयोग तक पहुंच गई।

इसके साथ ही कहा है कि हम दोनों के बीच कोई मतभेद नहीं है। यहां तक की हम दोनों के लिस्ट में लगभग 90 फीसदी उम्मीदवार एक समान हैं। अब हम पर बड़ी जिम्मेदारी है और हमारा पूरा ध्यान सरकार बनाने पर है।

इससे पहले गठबंधन को लेकर कांग्रेस की तरफ से मुख्यमंत्री उम्मीदवार शीला दीक्षित ने कहा है कि अगर कांग्रेस और सपा का गठबंधन हो जाता है तो वह मुख्यमंत्री उम्मीदवार से नाम वापस ले लेगी क्योंकि एक राज्य में दो मुख्यमंत्री नहीं हो सकते।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Hey, wait!

अगर आप भी चाहते हैं कुछ हटके वीडियो, महिलाओ पर आधारित प्रेरणादायक स्टोरी, और निष्पक्ष खबरें तो ऐसी खबरों के लिए हमारे न्यूज़लेटर को सब्सक्राइब करें और पाए बेकार की न्यूज़अलर्ट से छुटकारा।