लाइफस्टाइल

अगर आपको भी पीरियड्स में होती है हैवी ब्लीडिंग और कमजोरी, तो अपनी डाइट में शामिल करें ये चीजें

अगर पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द और कमजोरी से पाना कहते है छुटकारा, तो इन चीजों को करे डाइट में शामिल


ये बात तो सभी महिलाएं जानती है कि पीरियड्स के दिन सभी महिलाओं के लिए एक जैसे नहीं होते है। लेकिन हम में से ज्यादातर महिलाओं को पीरियड्स के दौरान पेट में तेज दर्द, कमजोरी, नींद न आना या फिर बहुत ज्यादा ब्लीडिंग और बदन दर्द, सिर दर्द जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। अगर किसी महिला को पीरियड्स के दौरान सामान्य से बहुत ज्यादा ब्लीडिंग होती है तो उससे मेडिकल सांइस में ‘Menorrhagia’ कहा जाता है।

इस समस्या में महिलाओं को बहुत ज्यादा ब्लीडिंग होने के साथ ही साथ उनका पीरियड्स साइकल 7 दिन का हो जाता है। इस दौरान महिलाओं को कई बार इतनी ज्यादा ब्लीडिंग होती है कि उन्हें पैड 2 घंटे में ही बदलना पड़ता है। अगर आप भी उन महिलाओं में से है जिनके साथ ऐसा हो रहा है तो आपको बता दे कि हैवी ब्लीडिंग और कमजोरी को दूर करने के लिए आपको अपनी डाइट में थोड़े बदलाव करने होंगे। तो चलिए जानते है किन चीजों को आपको अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए।

पीरियड्स, हैवी ब्लीडिंग

बॉडी को रखें हाइड्रेटेड: जिन भी महिलाओं को पीरियड्स के दौरान हैवी ब्लीडिंग होती है हो सकता है उनका ब्लड वॉल्यूम कम हो। पीरियड्स के दौरान हैवी ब्लीडिंग होने पर आपको अपनी बॉडी को हाइड्रेट रखने की कोशिश करनी चाहिए। हैवी ब्लीडिंग या फिर कमजोरी के कारण महिलाओं को चक्कर आना आम बात है। ऐसे में अगर आप अपनी बॉडी को हाइड्रेशन रखेंगे तो आपको चक्कर आने की दिक्कत का सामना नहीं करना पड़ता।

और पढ़ें:  सेफ यूट्यबर जिनके मिलियन में सब्सक्राइबर है, जो आपको बनाते हैं कुकिंग एक्सपर्ट

पीरियड्स, हैवी ब्लीडिंग

विटामिन-ई: आपको बता दे कि पीरियड्स के दौरान होने वाले हैवी ब्लीडिंग और दर्द को कम करने में विटामिन-ई एक अहम भूनिका निभाता है। अगर आपको हर बार हैवी ब्लीडिंग और दर्द का सामना करना पड़ता है तो आपको पीरियड्स शुरू होने के ठीक दो दिन पहले से ही विटामिन-ई लेना शुरू कर देना चाहिए। और आपको इससे बहुत ज्यादा नहीं लेना इससे आपको बस पीरियड्स के तीसरे दिन तक ही लेना है। साथ ही साथ हमेशा ध्यान रखें विटामिन-ई की कमी को पूरी करने के लिए कोई भी सप्लीमेंट लेने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर ले।

विटामिन-डी: आपको बता दे कि विटामिन डी आपके पीरियड्स या मासिक चक्र को सही रखने में आपकी मदद करता है। लेकिन अगर आप विटामिन डी की कमी को दूर करने के लिए को टेबलेट या पाउडर लेने की सोच रहे है तो उससे पहले आपको एक बार जरूर अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। वैसे तो विटामिन डी का सबसे बड़ा स्त्रोत सूरज की रोशनी है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Back to top button
Hey, wait!

अगर आप भी चाहते हैं कुछ हटके वीडियो, महिलाओ पर आधारित प्रेरणादायक स्टोरी, और निष्पक्ष खबरें तो ऐसी खबरों के लिए हमारे न्यूज़लेटर को सब्सक्राइब करें और पाए बेकार की न्यूज़अलर्ट से छुटकारा।