स्तन गांठ में राहत के घरेलू नुस्खें 

0
129
breast lump

स्तन गांठ में राहत के घरेलू नुस्खें : कैसे कर सकते है बचाव ?


20 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं में स्तन गांठ होने से स्तन कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता हैं। लेकिन यह खतरा 40 की उम्र होने पर और भी ज्यादा होता हैं। इस उम्र में आपको स्तनों की देखभाल करना बहुत जरुरी होता है। स्तन कैंसर का सबसे बड़ा कारण स्तन गांठ होती हैं लेकिन यह जरुरी नहीं कि सभी स्तन गांठ कैंसर हों। घर पर स्तन स्वयं जांच करने के बाद आपको अगर कोई गंभीर समस्या महसूस होती है तो आप कुछ घरेलू नुस्खें आजमा सकते है जिससे आपको स्तन गांठ में राहत मिलेगी।

आइये जाने ऐसे घरेलू नुस्खों के बारे में जो स्तन गांठ में लाभदायक होते हैं –

आयोडीन का सेवन

स्तन में होने वाले गांठ की एक वजह शरीर में आयोडीन की कमी होती है। स्तन में गांठ से रहत पाने के लिए महिलाओं के लिए आयोडीन युक्त नमक का सेवन करना आवश्यक होता हैं। आपको ऐसा भोजन करना चाहिए जिसमें आयोडीन प्रचुर मात्रा में उपलब्ध हो जैसे मुनक्का, दही, ब्राउन राइस,रोस्टेकड आलू, दूध और सी फूड आदि।
कचनार की छाल
गुलाबी कचनार की छाल पुराने समय से उपयोग में आ रही हैं।  इसके लिए कचनार की छाल के बारीक पाउडर में सोंठ और चावल का मिलकर लगाने से आराम मिलता हैं। इसी के साथ इस पाउडर को सुबह पानी में मिक्स करके पीने से स्तन दर्द जाता हैं। आप इस पाउडर को गीला करके लेप की तरह भी लगा सकते हैं।

स्तनों की मसाज 
स्तनों की मसाज करने से स्तन गांठ में राहत मिलती हैं। इसके लिए आप कोई भी तेल जैसे कास्टर आयल (castor oil), आलमंड आयल (almond oil) या कोई अन्य तेल ले सकते हैं। स्तनों की मसाज हलके हाथ करें अन्यथा गाँठ में दर्द हो सकता हैं।

पत्तागोभी का उपयोग

स्तनों में गांठ होने पर पत्तागोभी के उपयोग से स्तन गांठ और दर्द को खत्म किया जा सकता हैं। इसके लिए स्तनों पर पत्तागोभी पत्तो को  लगाकर सो जाएं।  सुबह उठने पर आपको दर्द में आराम लगेगा।

सोयाबीन
सोयाबीन में फाइटोएस्ट्रोजेन (phytoestrogens) और कई अन्य तत्व शरीर में कैंसर सेल्स को बनने से रोकते हैं। स्तन कैंसर को शुरुआती चरण में ही रोकने के लिए इसमें आइसोफ्लेवोन्स भी होते हैं। सोयाबीन का उपयोग सब्जी, उबले हुए या स्प्राउट्स बनाकर खा सकते हैं।

Read More:- दिल्ली: साइबर सुरक्षा के लिए अध्यापकों को दी जाएगी ट्रेनिगं

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.com