Jannah Theme License is not validated, Go to the theme options page to validate the license, You need a single license for each domain name.
हॉट टॉपिक्स

OMICRON- जानें क्या हैं omicron के लक्ष्ण और किन-किन देशों में है इसका कहर

OMICRON के लिए भारत सरकार द्वार जारी जरुरी निर्देश


साल 2020 में शुरु हुआ कोरोना का दौर थमने का नाम नही ले रहे है। अब कोरोना को आए हुए लगभग दो साल होने वाले हे। इसी दौरान कोरोना के अलग-अलग वेरिएंट के बारे में आपने सुना होगा। अब कुछ दिनों से ओमिक्रॉन वेरिएंट की बात चल रही है। तो चलिए जानते हैं कोरोना के इस वेरिएंट के बारे में।  कौन-कौन देश में यह फैला है। इसके क्या लक्षण है। विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा इसको लेकर क्या कदम उठाए जा रहे हैं। और भारत सरकार ने क्या निर्देश जारी किए हैं।

बीबीसी की खबर के अनुसार दिल्ली के एम्स अस्पताल के निदेशक डॉक्टर रणदीप गुलेरिया का कहना है कि अभी ओमिक्रॉन के नए वेरिएंट को लेकर जो भी जानकारियां उपलब्ध हैं। उनसे कई तरह की संभावनाओं को संकेत मिलता है। लेकिन किसी ठोस नतीजे पर पहुंचने के लिए उन्हें वैज्ञानिक आधार पर जांचने की आवश्यकता है।

ओमिकॉन के लक्ष्ण

कोरोना के इस वेरिएंट की पुष्टि सबसे पहले दक्षिण अफ्रीका में की गई है। जिसका नाम विश्व संगठन ने चिंता का विषय बताते हुए ओमिक्रॉन रख दिया था। इसके लक्ष्ण की पुष्टि दक्षिण अफ्रीका की डॉक्टर एंजेलिक कोएत्जी ने की। बीबीसी की खबर  के अनुसार उन्होंने बताया कि अभी तक यह वेरिएंट जिन भी लोगों में मिला है। उनमें कोविड के बहुत मामूली लक्षण नजर आए हैं। ज्यादातर मरीजों में बदन दर्द, थकावट की शिकायत हो रही है।

भारत सरकार द्वारा जारी निर्देश

विश्व स्वास्थ्य संगठन के कोविड वेरिएंट ओमीक्रोन को जुडे खतरे को बहुत ज्यादा खतरनाक बताया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा कि यह कितना संक्रामक और खतरनाक स्ट्रेन है। इसे लेकर अनिश्चितता बनी हुई है। इसे देखते हुए सरकार ने जरुरी निर्देश जारी किए हैं। जिसके अनुसार विदेशों से आने वाले यात्रियों से अपने 14 दिन की हिस्ट्री का रिकॉर्ड मांगा जाएगा। जिसमें यह बताया जाएगा कि इन 14 दिनों में उन्होंने कहां-कहां यात्रा की है। यह जानकारी स्वयं यात्री को एयरपोर्ट के पोर्टल पर अपलोड करनी होगी।

जिसमें यात्री को RT-PCR की नेगेटिव रिपोर्ट देनी होगी। पहले ही तरह इस बार भी यात्री को यात्रा से 72 घंटे पहले की गई जांच की कॉपी अपलोड करनी होगी। इसके लिए 12 जोखिम श्रेणी वाले देशों के यात्रियों को परीक्षण और अतिरिक्त निगरानी के अधीन रखा जाएगा। नए दिशा निर्देश के तहत यात्रियों को यात्रा से पहले यह सुनिश्चित करना होगा कि वे होम एवं इंस्टीट्यूशनल क्वारंटाइन से गुजरने के लिए सरकारी निर्देशों का पालन करेंगे। इतना ही नहीं 12 सबसे जोखिम वाले देश से यात्रा करने वाले यात्रियों का देश में प्रवेश के बाद कोरोना टेस्ट भी कराना होगा। यह सारे दिशा-निर्देश एक दिसंबर से प्रभाव में लाए जाएंगे।

 

खतरे के निशान वाले देश

1- ब्रिट्रेन समेत यूरोप के सभी देश

2- दक्षिण अफ्रीका

3- ब्राजील

4- बांग्लादेश

5- बोत्सवाना

6- चीन

7- मॉरीशस

8- न्यूजीलैंड

9- सिंगापुर

10- जिम्बाब्बे

11- हॉन्ग कॉन्ग

12- इजराइल

 

Back to top button