काम की बात करोना

Good Parenting tips: सिर्फ मोबाइल से नहीं बल्कि इन 5 तरीकों से करें अपने बच्चों को एंटरटेन

Good Parenting tips: जानें बच्चों की ऑनलाइन क्लास के बाद कैसे रखें उन्हें टीवी, मोबाइल और लैपटॉप से दूर


Good Parenting tips: पिछले साल से फैला कोरोना वायरस आज भी पूरी तरह खत्म नहीं हुआ है। कोरोना वायरस के कारण अभी भी कई चीजें बंद है जैसे बच्चों के स्कूल। बच्चों के स्कूल जब से ऑफलाइन से ऑनलाइन शिफ्ट हुए हैं तब से मानों पेरेंट्स की क्लासेज शुरू हो गई है। ऑनलाइन क्लासेस खत्म होते ही अब बच्चे घंटों तक लैपटॉप में ही गेम्स खेलते रहते है और जैसे ही पेरेंट्स लैपटॉप बंद कराते है तो उनका टीवी ऑन हो जाता है जिसके बाद टीवी के रिमोट के लिए बच्चों की आपस में झगड़े होने लगते है और अगर आप टीवी का रिमोट छिपा दे तो उसके बाद जनाब शुरू हो जाते हैं मोबाइल पर। क्या ऐसा ही कुछ हाल आपके बच्चों का भी होता है ? जैसा की हम सभी लोग जानते है कि महामारी के दौरान बच्चों का ज्यादातर समय घर पर ही बीत रहा है। जिसके कारण अभी बच्चों का स्क्रीन टाइम बढ़ गया है जो की कम होना चाहिए, यह कहना तो आसान है लेकिन किया क्या जाए, यह एक सबसे बड़ा सवाल है। तो चलिए आज हम आपको कुछ घर पर क्रिएटिवली इंगेज के बारे में बताते हैं।

Parenting

रीडिंग: आपको बचपन से ही अपने बच्चे को रीडिंग की हैबिट डालनी चाहिए। आपको उन्हें छोटी -छोटी स्टोरी बुक्स लाकर देनी चाहिए। आपको उन्हें एडवेंचर से लेकर थ्रिलर तक, फेयरी टेल से लेकर मोरल स्टोरीज तक सभी तरह की किताबों से इंट्रोड्यूस कराना चाहिए। इससे आपका बच्चा नए नए शब्द सीखेगा, साथ ही साथ उसके पढ़ने और लिखने की स्किल्स भी बेहतर होगी।

बच्चों के साथ मिल कर खेले गेम्स: आपको अपने बच्चे को अकेले फोन के साथ कभी नहीं छोड़ना चाहिए, आपको हमेशा कोशिश करनी चाहिए की आप अपने बच्चों के साथ खेले। चेस, लूडो से लेकर इंजीनियरिंग और साइंस से रिलेटेड कई गेम्स आपको मार्केट में अवेलेबल हैं। आप इन गेम्स को अपने बच्चों के साथ खेल सकते है। आपको हर गेम का एक्सपेरिमेंट अपने बच्चों के साथ मिल कर सकना चाहिए इससे बच्चों में इंटरेस्ट डेवलप होता है।

International Girl Child Day 2021: जानें कब और क्यों मनाया जाता है अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस

आर्ट और क्राफ्ट: आपको बता दें कि आर्ट और क्राफ्ट एक्टिविटी से न सिर्फ आपके बच्चे की क्रिएटिविटी बढ़ती है बल्कि इससे आपके बच्चे का फेकस, एटेंशन भी सुधरता है। इससे आपके बच्चे को रंगों की पहचान होगी, साथ ही साथ आपके बच्चे का हेंड आई कोऑर्डिनेशन भी बढ़ेगा। आपने देखा होगा कि बच्चों को जो होमवर्क मिलता है उसमें भी ऐसी कई सारी एक्टिविटी होती हैं वो सभी एक्टिविटी इसी कारण होती है। आपको इन एक्टिविटीज में अपने बच्चे का साथ देना होगा और उनका इंटरेस्ट डेवलप करने का प्रयास करना होगा।

बच्चों की हॉबीज पर दें ध्यान: ये बात तो हम सभी लोग जानते ही है कि बच्चे जैसे जैसे बड़े होते हैं अपने आस पास के वातावरण से बहुत कुछ सीखते हैं। बच्चे अपने वातावरण के अनुसार ही अपनी हॉबीज डेवलप करते है। इसलिए आपको एक माता पिता होने के नाते ध्यान रखना चाहिए कि आपके बच्चे को किस चीज में रूचि है।

parents

वॉक या एडवेंचर स्पोर्ट्स: आपको हमेशा अपने बच्चे को अपने साथ हर रोज़ वॉक पर या फिर रनिंग पर जरूर लें कर जाना चाहिए। इससे पेरेंट्स और बच्चों की बॉन्डिंग भी मजबूत होती है, साथ ही साथ बच्चों की फिटनेस भी बनी रहती है। बाहर जाने से बच्चे कई सारी नई नई चीजें सीखते हैं।  जब भी आप बच्चों को बाहर लेकर जाए तो रास्ते में आने वाली कई चीजों के बारे में उन्हें बताते हैं। समय समय पर अपने बच्चों के साथ शॉर्ट या लॉन्ग ट्रिप भी प्लान करें जिससे आपके बच्चों को बाहरी दुनिया का पूरा एक्सपोज़र मिलेगा।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Back to top button
Hey, wait!

अगर आप भी चाहते हैं कुछ हटके वीडियो, महिलाओ पर आधारित प्रेरणादायक स्टोरी, और निष्पक्ष खबरें तो ऐसी खबरों के लिए हमारे न्यूज़लेटर को सब्सक्राइब करें और पाए बेकार की न्यूज़अलर्ट से छुटकारा।