Jannah Theme License is not validated, Go to the theme options page to validate the license, You need a single license for each domain name.
वीमेन टॉक

WHO on Top Women Health Issues: सावधान! अगर आप जूझ रहे है इन बीमारियों से तो जल्द से जल्द इलाज करवाना है जरूरी

 WHO on Top Women Health Issues:  कैंसर, डिप्रेशन और एचआईवी के साथ क्या है अन्य बीमारियां  जिनसे बरतनी  चाहिए सावधानी


Highlights:

  • WHO on Top Women Health Issues: क्या है महिलाओ मे पाये जाने वाली सबसे ज्यादा स्वास्थ्य समस्या?
  • कौन से कैंसर सबसे अधिक महिलाओ को पहुंचाता है तकलीफ?
  • पुरुषों से अधिक महिलाओ में पाये जाते है मानसिक स्वास्थ्य में तकलीफ!

दुनिया भर में महिलाओं को अभी भी कई स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ता है। दुनिया आधुनिकता की ओर चल तो पड़ी  है मगर अब भी कई ऐसे देश, शहर, और गाँव है जहां स्वस्थ सेवाए न के बराबर है। सिर्फ स्वस्थ सेवाओ का होना ही जरूरी  नहीं है बल्कि उनके प्रति महिलाओ में जागरूकता का होना भी उतना ही जरूरी होता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन यानि WHO संयुक्त राष्ट्र की एक विशेष एजेंसी है जो अंतरराष्ट्रीय सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए जिम्मेदार है। यह संगठन न सिर्फ स्वास्थ के विभाग को प्रगतिशील बनाने पर जुटी है बल्कि स्वास्थ के प्रति लोगो में जागरूकता फैलाने का काम भी करती आ रही है।
WHO की एक रिसर्च के मुताबिक महिलाओ को जिन स्वास्थ संबन्धित परेशानियों से सबसे ज्यादा गुजरना पड़ता है उन्हे हमने आगे इस लेख में विस्तार में बताया है।

WHO on Top Women Health Issues

यह है दुनिया भर के महिलाओं के स्वास्थ्य से जुड़े हुए कुछ मुख्य मुद्दे:

कैंसर

महिलाओं को प्रभावित करने वाले सबसे आम कैंसर में से दो स्तन और गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर हैं। महिलाओं को जीवित और स्वस्थ रखने के लिए इन दोनों कैंसर का जल्द पता लगाना महत्वपूर्ण है। नवीनतम वैश्विक आंकड़े बताते हैं कि हर साल लगभग 5 लाख से अधिक महिलाएं कैंसर से मर जाती हैं। इनमें से अधिकांश मौतें निम्न और मध्यम आय वाले देशों में होती हैं जहां स्क्रीनिंग, रोकथाम और उपचार लगभग न के बराबर होता है।

प्रजनन स्वास्थ्य

एक तिहाई 15 से 44 वर्ष की आयु की महिलाओं के लिए यौन और प्रजनन, स्वास्थ्य समस्याएं के लिए जिम्मेदार हैं। असुरक्षित यौन संबंध एक प्रमुख जोखिम कारक है – विशेष रूप से विकासशील देशों में महिलाओं और लड़कियों के बीच। यही कारण है कि 222 मिलियन महिलाओं को सेवाएं प्राप्त करना बहुत महत्वपूर्ण है, जिन्हें गर्भनिरोधक सेवाएं नहीं मिल रही हैं, जिनकी उन्हें आवश्यकता है।

मातृ स्वास्थ्य

पिछली शताब्दी में शुरू किए गए गर्भावस्था के दौरान देखभाल में बड़े पैमाने पर सुधार से कई महिलाएं अब लाभान्वित हो रही हैं। लेकिन यह लाभ दुनिया के हर कोने तक नहीं फैल पायी और 2013 में, गर्भावस्था में जटिलताओं से लगभग दुनिया भर में 3 लाख से अधिक महिलाओं की मृत्यु हो गई। इनमें से अधिकांश मौतों को रोका जा सकता था, यदि परिवार नियोजन और कुछ मूलभूत सेवाओं की पहुंच होती।

Read more: Period Cramps: इन तरीको से छूमंतर हो जायेगा पीरियड्स मे होने वाला दर्द!

एचआईवी

एड्स महामारी में तीन दशक बीत चुके हैं, यह युवा महिलाएं हैं जो नए एचआईवी संक्रमणों का खामियाजा भुगतती आरही हैं। बहुत सी युवतियां अभी भी एचआईवी के यौन संचरण से खुद को बचाने और उनके लिए आवश्यक उपचार प्राप्त करने के लिए संघर्ष करती हैं। यह उन्हें विशेष रूप से टि. बी. यानि ट्यूबरकुलोसिस के प्रति भी संवेदनशील बनाता है। कम आय वाले देशों में 20-59 वर्ष की महिलाओं की मृत्यु के प्रमुख कारणों में से यह एक है।

WHO on Top Women Health Issues

लेकिन गोनोरिया, क्लैमाइडिया और सिफलिस जैसी बीमारियों को रोकने और उनका इलाज करने में बेहतर काम करना बेहद महत्वपूर्ण है। अनुपचारित उपदंश हर साल 200,000 से अधिक मृत जन्म और प्रारंभिक भ्रूण मृत्यु के लिए और 90 000 से अधिक नवजात शिशुओं की मृत्यु के लिए जिम्मेदार है।

महिलाओं के खिलाफ हिंसा

महिलाएं विभिन्न प्रकार की हिंसा के अधीन हो सकती हैं, लेकिन शारीरिक और यौन हिंसा – या तो जीवनसाथी या किसी और द्वारा – विशेष रूप से हानिकारक है। आज, 50 वर्ष से कम उम्र की तीन में से एक महिला ने साथी द्वारा शारीरिक और/या यौन हिंसा का अनुभव किया है, या गैर-साथी यौन हिंसा – हिंसा जो उनके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को छोटी और लंबी अवधि में प्रभावित करती है।

मानसिक स्वास्थ्य

रिसर्च बताते हैं कि पुरुषों की तुलना में महिलाओ मे  चिंता, डिप्रेशन का अनुभव अधिक देखने को मिलता है। महिलाओं के लिए डिप्रेशन सबसे आम मानसिक स्वास्थ्य समस्या है और 60 वर्ष से कम उम्र की महिलाओं के लिए आत्महत्या मृत्यु का एक प्रमुख कारण भी है

Read more: First transgender advocate of Maharashtra: पवन यादव की Inspiring कहानी जो आपको पूरे साल के लिए कर देगी मोटीवेट!

मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों के प्रति महिलाओं को संवेदनशील बनाने में मदद करना और उन्हें सहायता लेने के लिए आत्मविश्वास देना महत्वपूर्ण है।

गैर-संचारी रोग

2012 में, 70 वर्ष की आयु तक पहुंचने से पहले गैर-संचारी रोगों से लगभग 4.7 मिलियन महिलाओं की मृत्यु हो गई – उनमें से अधिकांश निम्न और मध्यम आय वाले देशों से थीं। सड़क यातायात दुर्घटनाओं, तंबाकू के हानिकारक उपयोग, शराब, ड्रग्स के दुरुपयोग और मोटापे के परिणामस्वरूप उनकी मृत्यु हो गई।

युवा लड़कियो का माँ बनना

किशोर लड़कियों को कई यौन और प्रजनन स्वास्थ्य चुनौतियों का सामना करना पड़ता है जैसे एसटीआई, एचआईवी और गर्भावस्था। लगभग 13 मिलियन किशोर लड़कियां, 20 वर्ष से कम आयु वाले हर साल बच्चे को कभी चाहते हुये तो कभी न चाहते हुये जन्म देती हैं। उन गर्भधारण से जटिलताएं उन युवा माताओं के लिए मृत्यु का एक प्रमुख कारण हैं। कई महिलाए असुरक्षित गर्भपात के परिणाम भी भुगतते हैं।

WHO on Top Women Health Issues

वृद्ध होना

अक्सर घर में वर्षो काम करने के बाद, वृद्ध महिलाओं के पास पुरुषो की तुलना में पेंशन, स्वास्थ्य लाभ, देखभाल और सामाजिक सेवाओं तक कम पहुंच होती है। वृद्धावस्था में महिलाओ की अन्य स्थितियों, जैसे मनोभ्रंश के साथ गरीबी, दुर्व्यवहार और आमतौर पर खराब स्वास्थ्य का अधिक जोखिम होता है।

Read more: Women Empowerment: जानें राष्ट्रपति Pratibha Patil के कुछ अनकहे पहलू

Conclusion: अक्सर घर में वर्षो काम करने के बाद, वृद्ध महिलाओं के पास पुरुषो की तुलना में पेंशन, स्वास्थ्य लाभ, देखभाल और सामाजिक सेवाओं तक कम पहुंच होती है। वृद्धावस्था में महिलाओ की अन्य स्थितियों, जैसे मनोभ्रंश के साथ गरीबी, दुर्व्यवहार और आमतौर पर खराब स्वास्थ्य का अधिक जोखिम होता है।हाल के वर्षों में दुनिया ने बहुत प्रगति की है। हम पहले के मुक़ाबले स्वास्थ के बारे में अब और अधिक जानते हैं, और समय के साथ हम अपने ज्ञान को लागू करने में बेहतर होते जा रहे हैं।

महिलाओं के स्वास्थ्य को प्रभावित करने वाले महत्वपूर्ण कारणो में से दो है लड़कियों के लिए स्कूल में नामांकन दर और महिलाओं की अधिक राजनीतिक भागीदारी, यह दुनिया के कई हिस्सों में बढ़ी है मगर अब भी कई एसे देश है जो इन मामलो में अब भी पिछड़े हुये है। बहुत सी महिलाएं अभी भी शिक्षित होने, खुद का समर्थन करने और जरूरत पड़ने पर स्वास्थ्य सेवाएं प्राप्त करने के अवसर से चूक रही हैं।

WHO की यह रिसर्च पर हमारे तरफ से इस लेख में हमने महिलाओ के स्वास्थ में पाये जाने वाले कुछ एहम मुद्दो को आप सब से सांझा किया है। इस तरह की महिलाओ से जुड़ी समस्याओ को आसान भाषा में Onworldnews की वैबसाइट पर अधिक जानकारी के लिए पा सकते है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Himanshu Jain

Enthusiastic and inquisitive with a passion in Journalism,Likes to gather news, corroborate inform and entertain viewers. Good in communication and storytelling skills with addition to writing scripts
Back to top button