भारत

सरकार की नई नीति क्या है जिसके कारण देश में आज हड़ताल

देश के लगभग सभी हिस्सों में ट्रेड यूनियनों द्वारा हड़ताल की गई है। हड़ताल का असर कई हिस्सों में दिख रहा है तो थोड़ा ही नजर आ रहा है। बैंकिग, टेलीकॉम, कोल इंडिया के लगभग 18 लाख कर्मचारी आज हड़ताल पर हैँ। हड़ताल का मुख्य मकसद है सरकार की नई श्रमिक नीतियों का विरोध और बेहतर वेतन की मांग।

तो चलिए जरा सरकार की नई नीति के बारे में जानते है जिसके कारण पूरे देश में हड़ताल है।

BL22STRIKE2_1184954g

मांग करते मजदूर

  • ट्रेड यूनियन द्वारा की गई इस हड़ताल में न्यूनतम मजदूरी बढ़ाने की मांग की गई थी। जिसके तहत देश कि वित्तमंत्री अरुण जेटली ने मजदूरी 246 रुपए से बढ़ाकर 350 रुपए करने का ऐलान किया था। जबकि श्रमिक संगठन से कम से कम 18,000 करवाना चाहते है।
  • सभी सेक्टर के श्रमिकों के लिए पेंशन कम से कम तीन हजार रुपए की जाए।
  • ट्रेड यूनियन सरकार का विदेश निवेश को ढील देने के मामले में विरोध कर रहा है।
  • यूनियन श्रमिकों को स्थायी न कर उन्हें कॉन्ट्रेक्ट पर रखने का विरोध कर रहा है।
  • यूनियन सरकार की नई नीतियों के साथ-साथ एफडीआई का विरोध कर रहा है। इनका कहना है कि सरकार एफडीआई के मामले में एक बार फिर विचार करें।
  • घाटे में चल रहे सार्वजनिक उपक्रमों को बंद करने की योजना का भी श्रमिक संगठन विरोध कर रहे हैं।टैग- ट्रेड यूनियन, सरकारी नीति, एफडीआई, हड़ताल
Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Back to top button