Categories
हॉट टॉपिक्स

National technology day: क्यों मनाया जाता है राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस, जाने इसका इतिहास और 2020 का थीम

National technology day: राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस का इतिहास



National technology day: हर साल की तरह इस साल भी 11 मई को राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस मनाया जा रहा है। इस दिन देश में टैक्नोलॉजी क्रांति आई थी। इस दिन को 1998 के पोखरण परमाणु परीक्षणों और अंतरिक्ष में भारत की तकनीकी प्रगति की वर्षगांठ का प्रतीक माना जाता है। 11 मई 1998 को, भारत ने राजस्थान में भारतीय सेना के पोखरण टेस्ट रेंज में ऑपरेशन शक्ति मिसाइल को सफलतापूर्वक फायर किया था। जो पोखरण में पांच परमाणु परीक्षणों में से पहला था। परीक्षण का नेतृत्व एयरोस्पेस इंजीनियर और दिवंगत पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम ने किया था। बाद में प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने भारत को एक परमाणु संपन्न देश घोषित किया था। उसके बाद भारत परमाणु क्लब देशों में शामिल होने वाला छठा देश बना गया था। इसलिए, 1999 से 11 मई को राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस के रूप में मनाया जाता है।

टेक्नोलॉजी का हमारे जीवन में महत्व

आज के समय में टेक्नोलॉजी का हर किसी के जीवन में खास महत्व है क्योंकि यह न सिर्फ व्यक्ति का विकास करती है, बल्कि देश-दुनिया के विकास में भी अपनी महत्वपूर्ण भागीदारी निभाती है। इस समय हमें टेक्नोलॉजी ने इस तरह  घेर रखा है कि हम अपनी हर जरुरत को पूरा करने के लिए टेक्नोलॉजी पर निर्भर है। इतना ही नहीं इंसान लगातार टेक्नोलॉजी पर निर्भर होता जा रहा है। इसका मुख्य कारण है, टेक्नोलॉजी हमारे हर काम को बेहतर और आसान बनाने में हमारी सहायता करती है। किसी देश या देश के नागरिकों को विकास करने के लिए टेक्नोलॉजी की बहुत ज्यादा जरुरत है।

और पढ़ें: Happy Mothers Day 2020: लॉकडाउन में इस साल ऐसे मनाएं मदर्स डे, इस तरह से करें अपनी मां को खुश

राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस थीम 2020

राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस को भारत की केंद्र सरकार, अनुसंधान विभाग एवं संबंधित कार्यालय मिलकर मनाते है। राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस को मनाने के लिए हर साल एक नई थीम रखी जाती है, इस साल 2020 की थीम है “विज्ञान में महिलाएं”

कैसे मनाया जाता है राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस

1. राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस के मौके पर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग कार्यक्रमों का आयोजन करता है।
2. राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस के मौके पर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वारा कुछ होनहार वैज्ञानिकों को पुरस्कार से सम्मानित किया जाता है।
3. इस दिन भारत के लगभग सभी टेक्निकल कॉलेज में कई तरह के कार्यक्रम आयोजित किए जाते है।
4. राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस के मौके पर टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में कामयाबी के बारे में लोगों को उजागर किया जाता है।
5. कॉलेजों द्वारा आयोजित की जाने वाली प्रतियोगिताओं में छात्रों के माता पिता को भी आमंत्रित किया जाता है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
लाइफस्टाइल

Instagram New Updates: एंड्रॉयड यूज़र्स के लिए इंस्टाग्राम से डिसेबल हो गए ये फीचर्स

IGTV वीडियोज़ को स्टोरीज़ पर नहीं शेयर कर पाएंगे एंड्रॉयड यूज़र्स


Instagram New Updates: सोशल मीडिया किसे पसंद नहीं होता, अगर बात करे इंस्टाग्राम की, तो ये सभी लोगो को बहुत पसंद होता है। अभी भारत में कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन चल रहा है। ऐसे में सभी लोग अपने घरों पर ही है। ऐसे में वो लोग बहुत ज्यादा सोशल मीडिया इस्तेमाल कर रहे है। जिससे उनका टाइम पास हो जाये और वो बोर भी न हो। ऐसे में इंस्टाग्राम ने एंड्रॉयड यूज़र्स के लिए कुछ फीचर डिसएबल कर दिए है। एंड्रॉयड इंस्टा यूज़र्स के लिए ये एक बुरी खबर है। दरअसल इंस्टाग्राम से एक फीचर अचानक गायब हो गया है। कुछ एंड्रॉयड यूज़र्स ने रिपोर्ट किया है कि वह IGTV वीडियोज़ को स्टोरीज़ में नहीं शेयर कर पा रहे हैं। यूज़र्स का कहना है कि ये फीचर अचानक डिसएबल हो गया है।

सोशल मीडिया से मिली जानकारी के मुताबिक़ ये परेशानी सिर्फ एंड्रॉयड यूज़र्स को ही आ रही है। आईफोन यूज़र्स को ऐसी कोई परेशानी नहीं हो रही है। वो आराम से अपनी स्टोरीज़ में IGTV वीडियोज़ पोस्ट कर पा रहे हैं। एंड्रॉयड यूज़र्स के लिए इंस्टाग्राम में IGTV वीडियोज़ के नीचे पेपर प्लेन का आईकन बना होता है, जिस पर टैप करके यूज़र पोस्ट को शेयर कर पाते हैं। अब इस पर टैप करने पर ‘Add video to Story’ का ऑप्शन नहीं मिल रहा है। परन्तु एंड्रॉयड यूज़र्स अभी भी IGTV वीडियोज़ को अपने दोस्तों के साथ डायरेक्ट मैसेज के ज़रिए शेयर कर सकते हैं।

और पढ़ें: Smartphones 2020: इस साल के ये हैं सबसे बेहतरीन लॉन्च होने वाले स्मार्टफोन, जानें इनके बारे में

एंड्रॉयड यूज़र्स को कब से आ रही है इंस्टाग्राम पे ये दिक्कत।

एंड्रॉयड पर इंस्टाग्राम यूज़ करने वाले यूज़र्स का कहना है कि उनको ये दिक्कत इंस्टाग्राम अपडेट करने के बाद आई है, लेकिन कुछ लोगों ने कहा है कि उन्होंने इंस्टाग्राम को अपडेट भी नहीं किया फिर भी उन लोगों को ये परेशानी आ गयी। इंस्टाग्राम के अनुसार उन्होंने दो दिन पहले अपनी IGTV ऐप को रीडिज़ाइन किया है। लेकिन कंपनी ने इस फीचर हटाने पर कोई जानकारी नहीं दी। कंपनी ने IGTV ऐप के होम पेज की डिज़ाइन को पूरी तरह से बदल दिया है। जिसे क्रिएटर्स पर ज़्यादा फोकस किया जा सके।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
अजब - गजब लेटेस्ट

omg !!! बिना हाथ लगाए आपके साथ -साथ घूमने लगता है ये उड़ने वाला छाता

बिना हाथ लगाए आपके साथ -साथ घूमने लगता है ये उड़ने वाला छाता: जानिए कैसे? 


लगी आज सावन की झड़ी हैं। जी हाँ, बारिश का मौसम आते ही आपको एक छाते का ही तो सहारा होता है जो आपको भीगने से बचा सकता हैं।  हमारे भारत देश में ज्यादातर सामान्य छाते ही देखने को मिलते हैं।  लेकिन क्या कभी आपने उड़ने वाले छाते के बारे में सुना है ?   2017 में ही कंपनी ने इस की खोज शुरु कर दी थी जिससे की वो उपयोगकर्ता को समझ सके. जापान एक ऐसा देश है जो पूरी दुनिया में अपनी तकनीकी  क्षमता के लिए जाना जाता है. इसी क्रम में जापान की एक जानी मानी आईटी कंपनी ने एक ऐसे छाते का अविष्कार किया है जो उड़ान भरता है.

उड़ने वाले इस छाते की यह विशेषता है कि बरसात के वक्त आपको इसे हाथ से पकड़ कर चलने की जरुरत नहीं होती बल्कि छाते में लगे सेंसर की सहायता से यह खुद उसी दिशा में आपके साथ साथ चलने लगता है, जहां तक आपको जाना होता है या जिस ओर जाना होता है. ऐसी स्थिति में जब आपके दोनों हाथों में सामान होता है और छाता पकड़ने की गुंजाईश न के  बराबर होती है, तब ये छाता आपके लिए काफी उपयोगी साबित हो सकता है.
कैसे उड़ता है यह छाता? 

यह छाता आपके साथ साथ ड्रोन तकनीक की मदद से उड़ता है. इस ड्रोन में सेंसर लगा होता है, जिसे यह पता चलता रहता है कि आपको किसी दिशा में जाना है. सेंसरयुक्त इस छाते का वजन पांच किलों के आस पास होता है. अभी इस तकनीक को पूरी तरह से विकसित किया जाना बाकी है. अभी यह सिर्फ पांच मिनट तक ही व्यक्ति के साथ साथ उड़ान भर सकता है. इसे बनाने वाली जापानी कंपनी आशी पॉवर इस पर काफी गहनता से कार्य कर रही है.

आशी पॉवर टेलिकॉम टेक्नॉलॉजी की अग्रणी कंपनी है. आशी पॉवर की तकनीकि विशेषज्ञों की एक पूरी टीम इस पर शोध कार्य कर रही है. ओलिंपिक से पहले बाजार में लाना लक्ष्य  आशी पॉवर से जुड़े सूत्रों के मुताबिक वर्ष 2020 में होने वाले ओलिंपिक और पैरा ओलिंपिक गेम्स से पहले इस छाते को व्यवहारिक उपयोगिता के साथ बाजार में लाना लक्ष्य है. आशी पॉवर के प्रेसिडेंट केंजी सुजुकी ने मीडिया के साथ इस छाते पर चर्चा करते हुए बताया कि उनके दिमाग में 2014 में ही इस तरह के छाते के निमार्ण की बात आई थी. उनका मानना था कि दुनिया भर में तकनीक लगातार आगे बढ़ रही है. ऐसे में अब एक ऐसे छाते का निर्माण भी बेहद जरुरी है जो कि बारिश या धूप के समय जब व्यक्ति के दोनों हाथ व्यस्त हो तो भी वो बिना हाथ से पकड़े छाते का इस्तेमाल कर सके.
तकनीकी अड़चनों के बावजूद मिलेगी कामयाबी 

केंजी सुजुकी ने सिविल एयरोनॉटिक्स के नियमों की जानकारी देते हुए बताया कि ड्रोन को किसी भी सार्वजनिक जगह या किसी व्यक्ति या भवन से करीब 30 मीटर की दूरी पर चलना चाहिए. यही वजह है कि प्रारंभ में उड़ने वाले इस छाते का इस्तेमाल निजी स्थानों पर ही होगा. आशी पॉवर ने कुछ वर्ष पूर्व ऐसे सेंसर तकनीक पर काम शुरु किया था जिससे की वो यूजर को पहचान सके और आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस की सहायता से उन्हें फॉलो कर सके. अभी इस सिस्टम की दिक्कत यह है कि इसका वजन ज्यादा है, जिसकी वजह से यह ज्यादा समय तक उड़ान भर पाने में सक्षम नहीं है. इसके अलावा थोड़ी कानूनी अड़चन भी है, फिर भी हम उम्मीद कर सकते हैं कि उड़ने वाला छाता जल्द ही पूरी दुनिया में छा जाएगा.

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.com
Categories
सामाजिक

फेसबुक पर यूजर करेंगे चैट ‘टॉकिंग रोबोट’ से

शेयर कर सकेंगे अपनी समस्याएं


फेसबुक इन दिनों अपने यूज़र्स के लिए बहुत ही खास और अलग फीचर लेन वाला है। दरअसल फेसबुक अपने यूज़र्स के लिए ‘टॉकिंग रोबोट’ बनाने जा रहा है और ये रोबोट सोशल नेटवर्किंग साईट पर लोगों की समस्यों को सुनकर उनकी प्रोब्लेम्स दूर करने में मदद करेगा।

फेसबुक

Related : यह आसान-सी ट्रिक, फेसबुक फोटो पर दिलाएगी ज्यादा से ज्यादा लाइक्स!

फेसबुक में एप्पल सिरी और अमेज़न एलेक्सा की तरह वाँइस असिस्टेंट फीचर शामिल होने जा रहा है। वैसे तो फेसबुक की तरफ से कोई अधिकारिक बयान नहीं आये हैं लेकिन टेक्नोलॉजी एक्सपर्ट इस टॉकिंग रोबोट के बनाये जाने का दावा कर रहे है।

आपको बता दें कि इससे पहले भी एक खबर आई थी जिसमें फेसबुक एक स्मार्ट स्पीकर ला रहा है, जिसे 2018 में मार्केट में उतारा जाएगा। इस स्पीकर को फेसबुक की बिल्डिंग 8 डिपार्टमेंट में रेडी किया जा रहा है। हालाकिं इसका डिजाईन तैयार किया जा चूका है। इसे पेंटागन टेक्नोलॉजी मेन्यूफेक्चर कर रही है। अमेरिका के फ्यूचरिस्ट मार्टिन फोर्ड का कहना है कि फेसबुक बात-चीत करने वाली ‘AI’ टेक्नोलॉजी पर भी काम कर रही है।

फेसबुक

Related : जानिए, कैसे फेसबुक के जरिए भारतीय कमा रहे मोटी कमाई

फेसबुक का उद्देश्य

फेसबुक का भविष्य का प्लान है कि जो भी यूज़र्स फेसबुक यूज कर रहे हैं वो लोग टाइपिंग ना करके सिर्फ बात-चीत करें। इसे प्रोसेस में लेन के लिए कई नए-नए कदम उठाये जा रहे हैं। जुलाई में ये भी खबर आई थी कि फेसबुक अपना स्मार्टफ़ोन ला रहा है। ये स्मार्टफ़ोन से बिलकुल अलग होगा और इसमें कई सारी एडवांस टेक्नोलॉजी भी दी जाएगी। इसमें कई तरह की फीचर्स स्पीकर, माइक्रोफोन, जीपीएस और टचस्क्रीन फीचर्स शामिल होंगे।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in

Categories
लाइफस्टाइल

सोशल मीडिया के बाद कैसे बदल गए लोग

सोशल मीडिया के बाद का बदलाव


सोशल मीडिया के बाद हम लोग तो ऐसे बदले की हमारा अस्तित्व उस तक ही सीमित रह गया। हमने सोशल मीडिया के माध्यम से अपनी ये बड़ी सी दुनिया को एक छोटे से डब्बे में सीमित करके रख दिया। पहले हम अपने रिश्तेदारों से और दोस्तों से बात करते थे। उनके हाल चाल और ज़िन्दगी में बारे बात करके उनकी खबर रखते थे। पर अब हम उनके जीवन में चल रही गतिविधियों को लाइक करते है।

कैसे बदला सोशल मीडिया ने हमे

चलिए जानते है कि ऐसी क्या चीज़े थी जो सोशल मीडिया के बाद से बदल गई:-

  1. पहले के ज़माने में बच्चे सच में खेलने जाते थे। पर अब बच्चे सिर्फ फ़ोन पर ऑनलाइन गेम्स खेलते है।
  2. हमारी सारी मेहनत सिर्फ हमे और हमारे परिवार को पता होती थी। और आज हर छोटी से छोटी चीज़ सबको पता होती है। हर काम करने से पहले हम उसे पोस्ट जो कर देते है।
  3. जन्मदिन पर, पहले तोहफे खोलने की ख़ुशी होती थी। और अब, मैसेज और नोटिफिकेशन देख कर ही लोग खुश हो जाते है।
  4. लोग अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से मिलने के लिए बहाने ढूंढते थे। पर अब उनके पास एक मैसेज भेजने की भी फुर्सत नहीं होती।
  5. हमारी सोच और दुनिया अब इसी तक सीमित है

    यहाँ पढ़ें : जानिए क्या होते है गेमिंग के फायदे और नुकसान

  6. पत्रों की जगह कब ई-मेल ने ले ली हमे पता ही नहीं चला। पहले ई-मेल मिलने की ख़ुशी होती थी और अब किसी दोस्त या रिश्तेदार का पत्र आजाए तो अचंभा होता है।
  7. कहीं घूमने जाने का मतलब होता था, परिवार के साथ मज़ा करना। सोशल मीडिया के बाद से इसका मतलब ही बदल गया है। अब सिर्फ घूमना तस्वीरो के लिए ज़रूरी है।
  8. लोगो की जीवनशैली का हिस्सा बनने की जगह, सोशल मीडिया ही लोगो की जीवन शैली बन गया।
  9. लोगो के लिए कोई भी खबर और जानकारी ढूँढना ज़्यादा आसान हो गया। पहले लोगो को समय लगता था, पर अब तो एक क्लिक में सब मिल जाता है।

सिर्फ परिवार, रिश्तेदारों और दोस्तों से ही नहीं पर नए लोगो से भी जुड़ना आसान बना दिया। हम जितना लोगो से सोशल मीडिया के माध्यम स्व जुड़ते रहे, उतना ही हम उनसे दूर होते रहे है। सोशल मीडिया ने हमे इस दुनिया से जितना जोड़ा है उतना ही दूर भी कर दिया है। हमारी दुनिया जितनी सिमित होती गयी, उतनी ही उलझती भी गयी।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in