Categories
लाइफस्टाइल

जानें आप कैसे बन सकते है एक अच्छे लीडर, साथ ही  एक अच्छे लीडर की 5 विशेषताएं

जानें एक अच्छे लीडर की कुछ खास विशेषताएं


क्या आपको पता है एक अच्छा लीडर कौन होता है और उसमें क्या क्या लीडरशिप स्किल होनी चाहिए. एक अच्छा लीडर बनने के लिए सबसे पहले व्यक्ति को एक अच्छा इंसान बनना चाहिए. व्यक्ति को सबसे पहले अपने दिमाग को एक लीडर के दिमाग की तरह बनाना होता है फिर उसके बाद अपने तौर तरीको को बदलना होता है, एक कुशल और सफल लीडर बने के लिए आज हम आपको कुछ टिप्स देने जा रहे है हो सकता है कि इनमे से कुछ तो आप पहले से जानते होंगे किन्तु कुछ टिप्स पर आपको काम करने की आवश्यकता हो, तो चलिए जानते है एक अच्छे लीडर की कुछ अच्छी विशेषताएं

1. लचीलापन: एक अच्छा लीडर बने के लिए फ्लेक्सिबिलिटी बहुत ज्यादा जरूरी है. क्योंकि अगर आप एक अच्छे लीडर और एक अच्छे इंसान बनना चाहते है तो आपको लोगों के साथ नरमाई रखनी होगी..और सभी लोगों के साथ टाइम बिताना होगा. जिसे लोग आपसे डरे न बल्कि दिल से आपका सम्मान करें. आपको अपनी टीम से काम या फिर अपना गोले पूरा करना चाहिए या की टाइम. अगर आप अपनी टीम के साथ फ्लेक्सिबिलिटी दिखाते हैं उनके बुरे समय में उनको सपोर्ट करते है तो वो भी हर कदम पर आपका साथ देंगे.

और पढ़ें: Overthinking आपके लिए हो सकती है घातक, स्वास्थ्य पर पड़ सकता है बुरा असर

2. क्रिएटिविटी: रोज कुछ नई बाते करें, रोज कुछ नया करने की कोशिश करे. किसी भी काम को करने के लिए कछ अलग तरह से सोचे. एक काम को करने के बहुत सारे तरीके होते हैं. एक अच्छे लीडर के नाते आप अपने तरीके से काम को कर सकते है जिसे काम जल्दी और अच्छी तरीके से हो जाए. शुरू शुरू में आपको थोड़ी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा लेकिन कुछ समय बाद आपको आदत बन जायेगी.

3. प्रतिनिधि: एक अच्छे लीडर की खास बात ये होती है कि जब वो किसी काम को करता है तो उस समय वो किसी दूसरे काम को नहीं कर रहा होता और अपना सारा समय उस काम में लगा देता है और अपने काम के प्रति समर्पित हो जाता है.  उस काम का पूरी तरह से प्रतिनिध्त्वि करता है.

4. आत्मविश्वास: आत्मविश्वास एक अच्छे लीडर की खास पहचान है और एक अच्छा निचोड़ भी है. अगर आप एक लीडर है और अपने अंदर आत्मविश्वास की कमी है तो आप एक अच्छे लीडर नहीं बन सकते क्योंकि अगर आपके अंदर ही कॉन्फिडेंस नहीं होगा तो आप अपनी टीम को कैसे मोटिवेट करेंगे. आपका सेल्फ कॉन्फिडेंस, आपका आत्मविश्वास बढ़ाता है.

5. कमिटमेंट: अगर आप एक लीडर है और आपने अपनी टीम से कोई वादा किया है तो आपको उससे पूरा करना चाहिए फिर चाहे आपको उससे फायदा हो या नुकसान. अन्यथा आपको किसी से कोई वादा नहीं करना चाहिए. क्योंकि अपनी बात पर न रहना, उनको पूरा न करना लोगों के बीच आपकी छवि ख़राब कर सकती है. इसलिए अपनी लीडरशिप को इम्प्रूव करने के लिए कमिटमेंट बेहद जरूरी है.

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
हॉट टॉपिक्स

अब लोगों के दिलों से खत्म हो रहा है कोरोना का डर, भूल रहे है अपनी जिम्मेदारी

जाने क्यों खत्म हो रहा है लोगों के दिलों से कोरोना का डर


अभी कोरोना वायरस के कारण भारत सहित पूरी दुनिया परेशान है कोरोना वायरस के कारण 22 मार्च से पूरे देश में लॉकडाउन लगा हुआ है जो अभी तक पूरी तरफ हटा नहीं है. कोरोना वायरस को रोकने के लिए सरकार लगातार कोशिश कर रही है. इतने लम्बे समय से चल रहे कोरोना वायरस का अब लोगों के दिलों से डर खत्म  होता हुआ दिख रहा है. जहां  एक तरफ देश की राजधानी में एक बार फिर कोरोना के बढ़ते केस सामने आ रहे हैं. वही दूसरी तरफ सड़कों, बाजारों और कॉलोनियों की हालत देख कर विशेषज्ञों की चिंता बढ़ गई है विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना से बचने के लिए लोग अब खुद अपनी जिम्मेदारियों को भूल रहे हैं. अभी कोई मास्क लगाने में एतराज करता है तो कोई सोशल डिस्टैसिंग को समझने की कोशिश नहीं करता. इस समय सभी लोग सरकार से उम्मीद कर रहे है कि सरकार कोरोना की वैक्सीन जल्दी से जल्दी लॉन्च करें. दूसरी तरफ लोग अपनी खुद की जिम्मेदारियों पर ध्यान देने को तक तैयार नहीं है.

और पढ़ें: ग्रामीणों तक स्वास्थ्य सुविधा पहुंचाने के लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन लॉन्च किया गया

क्या कहना है इस पर दिल्ली के डॉक्टर्स का

सोशल मीडिया से मिली जानकारी के मुताबिक दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल के डॉक्टर्स का कहना है कि एक बार फिर दिल्ली में कोरोना वायरस के केस बढ़ने लगे है. दूसरी तरफ जांच भी दोगुनी रफ्तार से हो रही है. उनका कहना है कि सरकार के यह प्रयास तब तक सफल नहीं होंगे जब तक आम व्यक्ति भी इसमें अपना सहयोग नहीं देगा. उन्होंने कहा अभी लोगों में धीरे धीरे कोरोना के प्रति डर खत्म हो रहा है. अभी लोग घरों से बाहर और बाजारों में जाने से पहले मास्क लगाना जरूरी नहीं समझते. कुछ लोगों के फेस पर मास्क है तो किसी की गर्दन पर, तो कुछ लोगों के हाथ पर. सरकार और दिल्ली पुलिस का कहना है कि ऐसे लोगों के खिलाफ सख्ती से कार्रवाई की जाएगी और इनकी पहचान हर महीने उजागर भी की जाएगी. इससे फायदा यह होगा कि लोग अपनी जिम्मेदारियों को बेहतर तरीके से समझ सकें.

दिल्ली में कोरोना केस बढ़ने के कई कारण

दिल्ली स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहना है कि दिल्ली में केस बढ़ने के पीछे कई सारे कारण हैं  दिल्ली की झुग्गी-बस्ती में छोटे-छोटे घरों में बड़ी संख्या में लोग रहते हैं. अगर इनमें से किसी भी एक व्यक्ति को ये वायरस होता है तो बहुत बड़ी परेशानी खड़ी हो जाएगी. दूसरी तरफ अभी दिल्ली से बाहर गए लोग अपने काम पर वापस लौट रहे हैं. यह भी केस बढ़ने का एक कारण है. साथ ही अभी राजधानी दिल्ली के लोग कोरोना वायरस की जांच नहीं करवा रहे हैं. जिन भी लोगों में थोड़े बहुत कोरोना वायरस के लक्षण आ रहे है वो भी अब अपनी जांच कराने को तैयार नहीं है. वह बिना जांच करवाएं ही अपने नजदीकी डॉक्टर से बुखार की दवाएं लेकर खा रहे हैं.

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com