Categories
विदेश

पाकिस्तान ने तेज किया सीजफायर उल्लंघन, मुंहतोड़ जवाब देने के आदेश

पाकिस्तान ने तेज किया सीजफायर उल्लंघन


पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में घुसकर भारतीय सैनिकों के द्वारा की गई सर्जिकल स्ट्राइक से बौखलाया हुआ पाकिस्तान ने सीमा पर सीजफायर उल्लंघन बहुत तेज कर दिया है। गुरुवार यानि कल शाम से ही एलओसी पर पाकिस्तान की ओर से जबरदस्त गोलाबारी हो रही है। आज सुबह नौशेरा, सुंदरबनी और पालनावाला सेक्टर में पाकिस्‍तान  की ओर से सीजफायर उल्‍लंघन हुआ। इस से पहले कल शाम को कठुआ, हीरानगर, अरनिया, राजौरी, सुंदरबानी और मेंढर में पाकिस्‍तान की ओर से भारी गोलाबारी की गई है। छोटे ऑटोमेटिक हथियारों और मोर्टार से जबरदस्‍त गोलीबारी की जा रही है। इस गोलीबारी में पाकिस्तानी रेंजर्स की ओर से भारतीय सेना की चौकियों को ज्‍यादा निशाना बनाया जा रहा है।

हर फायरिंग का जवाब

कल शाम एलओसी के काफी करीब आ कर  पाकिस्तानी सैनिकों ने भारतीय सैनिकों पर मोर्टार दागे है।पाकिस्‍तान से की जा रही फायरिंग में बीते 24 घंटे में दो जवान शहीद हो गए है। जबकि अभी एक जवान जख्मी है। पाकिस्‍तान की आरे से की जा रही गोलीबारी का भारत की ओर से मुंहतोड़ जवाब दिया जा रहा है, जिसमें एक पाक रेंजर मारा गया है। साथ ही बीएसएफ के द्वारा दी जा रही  जवाबी कार्रवाई में पाकिस्तान की सीमा में भारी नुकसान हुआ है। बीएसएफ की फायरिंग से पाक की सीमा के नारोवाल के शकरगढ़ में आग लग गई है। वहां कई गांव जल गए है और अफरातफरी की स्थिति बना गई है।

तेज हुआ सीजफायर उल्लंघन

यहाँ पढ़ें : पाक की ओर से इंटरनेशल बॉर्डर पर सीजफायर का उल्‍लंघन

पाकिस्‍तान सेना का हाथ

जम्‍मू के अखनूर में सेना के पोस्ट पर आतंकी हुआ है। इस हमले में  पांच जवान घायल हो गए है। अखनूर में हुए आतंकी हमले के पीछे पाकिस्तान की सेना का हाथ माना जा रहा है। केरी, मेंढर और पुछ में भी पाकिस्तान की ओर से गोलीबारी की जा रही है।

राजनाथ सिंह का निर्देश

पाकिस्तान की ओर से अखनूर में हो रही भारी गोलीबारी को देखते हुए  केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने बीएसएफ के डीजी से बात की है  और उन्‍हें फायरिंग का जवाब देने का निर्देश दिया है। राजनाथ सिंह ने कहा है, कि  जवान पहले फायरिंग ना करे, मगर पाकिस्तान की हर हरकत का मुंहतोड़ जवाब दें।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
भारत

पाकिस्तान के एक अफसर को भारत छोड़ने का आदेश दिया

पाकिस्तानी कर्मचारी को भारत छोड़ने का आदेश


भारत में जासूसी करने और साथ ही गोपनीय रक्षा दस्तावेजों को चुराने के आरोपी और पाकिस्तान के उच्‍चायोग महमूद अख्तर के कर्मचारी को भारत छोड़ने के आदेश दिए गए है। 35 वर्षीय महमूद अख्तर को दिल्ली पुलिस ने  गोपनीय दस्तावेजों के साथ हिरासत में लेकर पूछताछ की और फिर रिहा कर दिया। पाकिस्तान के कर्मचारी के साथ दो पाकिस्तान के जासूसों को भी गिरफ्तार किया गया है। जिन का नाम मौलाना रमजान और सुभाष जहांगीर हैं।

महमूद अख्तर

दिल्ली पुलिस के द्वारा दी गई, जानकारी के मुताबिक, खुफिया सूचनाओं के आधार पर महमूद अख्तर को बुधवार यानि कल रात हिरासत में लिया गया था। राजधानी दिल्ली के डिप्लोमेटिक एन्क्लेव चाणक्यपुरी में स्थित पुलिस थाने में उस से पूछताछ की गई थी , मगर बाद में उसे छोड़ दिया गया। दरअसल, उस के पास  बीएसएफ की तैनाती और रक्षा तैनाती नक्शों से जुड़े दस्तावेज थे। साथ ही उस के पास फर्जी आधार कार्ड मिले थे।

यहाँ पढ़ें : पाक की ओर से इंटरनेशल बॉर्डर पर सीजफायर का उल्‍लंघन

 रैकेट एक साल से सक्रिय

जेपीसी रविंद्र यादव ने यह जानकारी साझा की है, कि मौलाना रमजान और सुभाष जहांगीर को पाकिस्तान के उच्चायुक्त को खुफिया जानकारी देने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। रमजान और सुभाष दोनों राजस्थान के नागौर के रहने वाले हैं। साथ ही रविंद्र ने यह भी जानकारी दी, कि यह  रैकेट एक साल से सक्रिय था। इन दोनों के पास से डिफेंस से जुड़े मैप, बीएसफ अधिकारियों की लिस्ट और कई वीजा बरामद हुए है।

मौलाना रमजान और सुभाष जहांगीर

इस मामले में विदेश मंत्रालय ने पाकिस्तान के उच्चायुक्त ‘अब्दुल बासित’ को तलब किया था। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने यह जानकारी दी है, कि  विदेश सचिव ने पाकिस्तान के उच्चायुक्त को यह बताने के लिए तलब किया था कि जासूसी गतिविधियों में लिप्त पाकिस्तान उच्चायोग के कर्मचारी को अनाधिकृत व्यक्ति घोषित किया गया है।

आप को बता दें, इस से पहले नवंबर 2015 में पाकिस्तान के खुफिया एजेंसी से जुड़े जासूसों का पता चला था।  तब इस मामले में थल और वायु सेना में कार्यरत कुछ लोगों सहित 10-12 लोगों को गिरफ्तार किया गया था।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
विदेश

पाकिस्तान के पुलिस ट्रेनिंग सेंटर पर आंतकी हमला

पाकिस्तान के पुलिस ट्रेनिंग सेंटर पर आंतकी हमला


पुलिस ट्रेनिंग सेंटर में हमला

पाकिस्तान के पुलिस ट्रेनिंग सेंटर पर आंतकी हमला :- पाकिस्तान के क्वेटा शहर में  पुलिस ट्रेनिंग सेंटर पर बीती रात को आंतकी हमला हुआ है। पाकिस्‍तान के अखबार ‘डॉन’ की ख़बर के मुताबक सोमवार यानि कल देर रात आतंकवादी हमले में 60 से अधिक कैडेटों हो गई है। वहीं 100 से ज्‍यादा पुलिसवाले घायल हो गए है। लेकिन पाकिस्‍तानी सैनिकों के द्वारा चलाया गया ऑपरेशन में एक आंतकी को मार दिया और वहीं दो आंतकियों ने खुद को बम से ही उड़ा लिया। पाकिस्तान में इस वर्ष हुए सर्वाधिक भीषण हमलों में से एक हमला है।

पुलिस ट्रेनिंग सेंटर पर आंतकी हमला

इंटर सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस का बयान

पाकिस्‍तान में हुए हमले को लेकर इंटर सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस ने एक बयान जारी किया है। इस बयान के अनुसार क्‍वेटा के सरियब रोड़ पर स्थित पुलिस ट्रेनिंग सेंटर में करीबन साढ़े 11 बजे पाचं से छः आंतकियों ने हथियार लेकर प्रवेश किया। घुसते ही गोलीबारी शुरू कर दी। गोलीबारी के वक्‍त ट्रेनिंग सेटर के हॉस्‍टल में करीबन 60 कैडेट मौजूद थे, जिन्‍हे बंधक बना लिया गया था। उस के बाद पाकिस्‍तानी सैनिकों के द्वारा तीन घंटे तक चले ऑपेरशन में करीबन 200 कैडेट्स को सुरक्षित बचा लिया गया।

अस्‍पताल में इमरजेंसी ऐलान

आंतकी हमले में हुए घायलों को पास ही के अस्पतालों में दाखिल कराया गया। साथ ही पास के सभी  अस्पतालों में इमरजेंसी की घोषणा की गई और डॉक्टरों की छुट्टियां भी कैंसिल कर दी गई।  पाकिस्‍तानी  सैनिक अभी भी आसपास के इलाकों में सर्च ऑपरेशन चला रहे हैं।

गृह मंत्री ने की हमले की पुष्टि

बलूचिस्तान के गृह मंत्री ‘मीर सरफराज अहमद बुगती’ ने पुलिस ट्रेनिंग सेंटर पर हुए आंतकी हमले की पुष्टि कर दी है। गृह मंत्री ने बताया है, कि इस तरह के आतंकी हमलों से निपटने के लिए हमारे सुरक्षाबल सक्षम हैं। कुछ दिन पहले ट्रेनिंग सेंटर में करीबन 700 कैडेट्स थे, जिन में  से कुछ कैडेट्स हाल ही में पास होकर चले गए। पाकिस्‍तान की  सरकार ने पुलिस ट्रेनिंग सेंटर पर हुए आतंकी हमले की निंदा की है।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
भारत

पाकिस्‍तान की ओर से गोलीबारी में एक जवान शहीद

पाकिस्‍तान की ओर से गोलीबारी में एक जवान शहीद


एक बार फिर सीजफायर का उल्‍लंघन

पाकिस्‍तान की ओर से गोलीबारी में एक जवान शहीद :- पाकिस्तानी सैन्य बलों ने एक बार फिर सीजफायर का उल्‍लंघन करते हुए जम्मू की 20 से ज्‍यादा चौकिंयों को निशाना बनाया है। पाकिस्‍तान की ओर से हो रही भारी गोलीबारी में बीएसएफ का एक जवान शहीद हो गया। चार दिनों में यह दूसरा जवान शहीद हो गया है। पाकिस्‍तान की ओर से की गई गोलीबारी में दो महिलाओं के साथ एक आदमी भी घायल हुआ है। तीनों को अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है। इससे पहले 20 अक्‍टूबर को पाकिस्‍तानी रेंजर्स की ओर से जम्‍मू के हीरानागर सेक्‍टर में गुरनाम नाम के एक जवान शहीद हो गए है।

पाकिस्‍तान रेंजर्स की कई चौकियों को नुकसान

पाकिस्‍तान की ओर से हो रही गोलीबारी का भारत के सैनिक जवाब दे रहे है। ख़बर है, कि बॉर्डर के पास पाकिस्‍तान रेंजर्स की कई चौकियों को नुकसान पहुंचाया गया है। साथ ही कुछ घर भी जल गए है। बीएसएफ ने पाकिस्‍तान के रेंजर्स द्वारा  लगातार हो रही फायरिंग को रोकने के लिए अपनी फायरिंग की पांच गुना बढ़ा दी है।   बीती रात से जम्मू के आरएस पुरा, पुलवामा, पर्गवाल और अखनूर सेक्टर सहेत 20 से ज्यादा बीएसफ पोस्ट और गांवों में भारी गोलीबारी हो रही है।

जवान शहीद सुशील कुमार

यहाँ पढ़ें : पाक की ओर से इंटरनेशल बॉर्डर पर सीजफायर का उल्‍लंघन

बीएसएफ का दावा

संघर्षविराम उल्लंघन से कुछ ही घंटे पहले बीएसएफ के महानिदेशक ‘अरुण कुमार’ ने पाकिस्तान देश को आगाह करते हुए कहा था, कि अगर बीएसएफ के किसी भी जवान को निशाना बनाया गया तो उसे खतरनाक परिणाम भुगतना पड़ेगा। साथ ही बीएसएफ ने दो दिन पहले यह दावा किया था, कि बीएसएफ के एक कांस्टेबल को गोली मारने के बाद भारत की ओर से जवाबी कार्रवाई में पाकिस्तानी रेंजर्स के सात जवानों को मार दिया गया है।

जवान शहीद सुशील कुमार

हरियाणा के कुरुक्षेत्र के पिहोवा के रहने वाले जवान सुशील कुमार को बीती रात यानि रविवार को पाकिस्‍तान की ओर से हुई फायरिंग में स्पिलनटर गर्दन पर लग गई थी। इसके बाद सुशील कुमार को तुरंत ही पास के अस्पताल ले जाया गया, लेकिन उनकी जान नहीं बचाई जा सकी।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
विदेश

पाक की ओर से इंटरनेशल बॉर्डर पर सीजफायर का उल्‍लंघन

पाक की ओर से इंटरनेशल बॉर्डर पर सीजफायर का उल्‍लंघन


इंटरनेशल बॉर्डर पर सीजफायर

पाक की ओर से इंटरनेशल बॉर्डर पर सीजफायर का उल्‍लंघन :- पाकिस्तान रेंजर्स की ओर से लगातार इंटरनेशल बॉर्डर पर सीजफायर का उल्‍लंघन किया जा रहा है। शुक्रवार यानि कल  रात पाकिस्‍तान की ओर से जम्मू जिले के आरएस पुरा सेक्टर में छोटे हथियारों से गोलीबारी करते हुए संघर्ष विराम का उल्लंघन किया गया है। साथ ही रजौरी में भी गोलीबारी की गई है। बता दें, दिन में भी पाकिस्‍तान की ओर से लगातार हीरानगर, सांबा और अखनूर में गोलीबारी की गई थी। भारतीय सेना यह गोलीबारी का मुंहतोड़ जवाब दिया है।

खबरों की माने तो भारत की जवाबी कार्रवाई में पाकिस्‍तान की सीमा पर भारी नकुसान हुआ है। जम्मू के उपायुक्त सिमरनदीप सिंह ने गोलीबारी की जानकारी देते हुए, बताया कि,  सीमा से सटे इलाकों में रहने वाले लोगों से यह कहा गया है, कि वे घरों के भीतर रहें।

युद्धविराम उल्लंघन

यहाँ पढ़ें : एक बार पाकिस्तान की तरफ से युद्धविराम का उल्लंघन

बीएसएफ ने की जानकारी साझा

बीएसएफ की ओर से जानकारी साझा की गई है, कि आंतकियों की भार‍तीय सीमा में घुसपैठ कराने के लिए ही पाकिस्‍तानी रेंजर्स की ओर से गोलीबारी की जा रही थी। साथ ही  संघर्ष विराम के उल्लंघन की इस ताजा घटना से कुछ घंटे पहले ही बीएसएफ ने यह दावा किया, कि जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर संघर्ष विराम के उल्लंघन का मुंहतोड़ जवाब देते हुए पाकिस्तान रेंजर्स के सात जवानों और एक आतंकवादी को मार गिराया गया है।

हीरानगर सेक्टर

दरअसल, शुक्रवार की  सुबह  साढ़े नौ बजे के करीब पाकिस्‍तान की तरफ से बीएसएफ के बोबिया पोस्‍ट पर अचानक फायरिंग शुरू हो गई। जम्मू-कश्‍मीर के हीरानगर सेक्टर में यह फायरिंग हुई। सुबह हुई गोलीबारी में भारत के सेना ने भी मुहंतोड़ जवाब दिया। मगर इस फायरिंग में बीएसएफ का गुरूनाम सिंह नाम का एक जवान घायल हो गया। गुरूनाम सिंह जवान को तुरंत जम्मू के एक सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया। जवान की हालत अभी गंभीर बनी हुई है।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
विदेश

एक बार पाकिस्तान की तरफ से युद्धविराम का उल्लंघन

एक बार पाकिस्तान की तरफ से युद्धविराम का उल्लंघन


एक बार फिर युद्धविराम उल्लंघन

एक बार पाकिस्तान की तरफ से युद्धविराम का उल्लंघन :- जम्मू-कश्‍मीर के हीरानगर सेक्टर में एक बार फिर पाकिस्तान की तरफ से युद्धविराम का उल्लंघन किया है। सबह साढ़े नौ बजे के करीब पाकिस्‍तान की तरफ से बीएसएफ के बोबिया पोस्‍ट पर अचानक फायरिंग शुरू हो गई। भारत के सेना ने भी इस फायरिंग का मुहंतोड़ जवाब दिया। मगर इस फायरिंग में बीएसएफ का एक जवान गुरूनाम सिंह घायल हो गया है। गुरूनाम सिंह जवान को तुरंत जम्मू के एक सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। गुरूनाम जवान की हालत अभी गंभीर बनी हुई है। भारत की तरफ से कई गई कार्रवाई में पाकिस्‍तानी रेंजर्स का एक जवान भी मारा गया है। साथ ही कई घायल हो गए है। जम्मू में तैनात बीएसएफ के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है, कि अगर पाकिस्तान की ओर से ऐसे ही गोलीबारी जारी रही तो उसका मुहतोड़ जवाब भी दिया जाएगा।

युद्धविराम उल्लंघन

यहाँ पढ़ें : जम्‍मू-कश्‍मीर में एक दर्जन से ज्‍यादा कर्मचारी बर्खास्‍त दिए

आतंकियो ने घुसपैठ की कोशिश

आपको ये बता दें, कि पिछले दो दिनों से पाकिस्‍तान की तरफ से इस पूरे इलाके में कई बार फायरिंग हो चुकी है। पाकिस्‍तान रेंजर्स आंतकी घुसपैठ के लिए इस तरह की फायरिंग कर रहे है। दरअसल, इस इलाके में बुधवार की रात को पांच से छह आतंकियो ने घुसपैठ की कोशिश की थी, मगर बीएसएफ जवानों के चौकसी  की वजह से वापस उन्हें लौट जाना पड़ा था। इसी दौरान बीएसएफ के सेना और आतंकियों के बीच 20 से 25 मिनट तक गोलीबारी भी हुई थी। बीएसएफ ने इंटरनेशनल बॉर्डर के उस पार पाकिस्तान में मौजूद लांचिंग पैड के आसपास आतंकियों के मूवमेंट को नोटिस किया है। साथ ही इस जानकारी और रिपोर्ट  गृह मंत्रालय को भेजी है।

बीते महीने 28 और 29 सितंबर को पाकिस्‍तान के कब्‍जे वाले कश्‍मीर में आतंकियों के लॉन्चिंग पैड्स पर सर्जिकल स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने 33 दफा से ज्यादा बार युद्धविराम का उल्लंघन किया है।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
भारत

अमेरिकी खुफिया एजेंसियों ने भारत को हर मदद का ऑफर दिया है- अमेरिकी राजदूत

अमेरिकी खुफिया एजेंसियों ने भारत को हर मदद का ऑफर दिया है- अमेरिकी राजदूत


सैन्य सहायता में 73 प्रतिशत की कटौती

अमेरिकी खुफिया एजेंसियों ने भारत को हर मदद का ऑफर दिया है- अमेरिकी राजदूत:- पाकिस्‍तान के कब्‍जे वाले कश्‍मीर में भारत के सैनिको के द्वारा किया गया सर्जिकल स्ट्राइक को अमेरिका देश ने एकदम सही कदम बताया है। भारत में अमेरिका देश के राजदूत रिचर्ड राहुल वर्मा ने भारत में हुए उरी हमले के बाद दिए पहले इंटरव्यू में यह कहा है, कि पाकिस्तान को दी जाने वाली सैन्य सहायता में भी 73 प्रतिशत की कटौती की गई है।

दरअसल, एक अंग्रेजी अखबार को दिए गए इंटरव्यू में राहुल वर्मा ने यह कहा, कि उरी हमले में हुए आतंकी हमले के बाद अमेरिका और भारत दोनो देशों के बीच संवाद जारी था।

साथ ही अमेरिका के राजदूत ने यह भी कहा, कि उरी हमले के वक्त अमेरिका में थे, मगर वह अपना दौरा बीच में छोड़ कर ही वापस भारत लौट आए।  राहुल शर्मा ने यह बात भी साझा की है, कि  उरी हमले के बाद दोनों देशों के एनएसए लगातार एक-दूसरे के संपर्क में हैं। साथ ही सीमा पार से आतंकवाद को रोकने के लिए अमेरिका की खुफिया एजेंसियों ने भारत को हर तरह की मदद का ऑफर भी दिया है।

बराक ओबामा और नरेन्द्र मोदी

यहाँ पढ़ें : विद्या बालन पर अपहरण और खून का इल्‍जाम

भारत ने जो किया सही किया

राहुल वर्मा से जब यह सवाल पूछा गया कि क्या सर्जिकल स्ट्राइक के बारे में अमेरिका को पहले से जानकारी थी? तो उन्होंने जवाब में कहा, कि जिस दिन भारत की तरफ से सर्जिकल स्ट्राइक किया गया था, उस से एक दिन पहले भारत और अमेरिका के एनएसए के बीच फोन पर बातचीत हुई थी। इसके बाद उन्‍होनें कहा, कि हम समझते हैं कि भारत ने वह एक्शन लिया जो उसे अपनी सुरक्षा के लिए ठीक लगा।

उरी हमला

आप को बता दें, 18 सिंतबर की रात सीमा पार से आए चार पाकिस्तानी आतंकियों ने आर्मी बेस पर हमला कर दिया था। साथ ही जवानों पर अंधाधुंध फायरिंग भी की और ग्रेनेड फेंके और इस हमले में हमारे 19 जवान शहीद हो गए थे। इसके बाद भारत ने जवाबी कार्रवाई में सर्जिकल स्‍ट्राइक की थी।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
भारत

पाकिस्तान में स्थित गुटों को आतंकवादी घोषित करने को लेकर सर्वसम्मति हासिल नहीं कर सका भारत

 पाकिस्तान में स्थित गुटों को आतंकवादी घोषित करने को लेकर सर्वसम्मति हासिल नहीं कर सका भारत


पड़ोस में आतंकवाद का मदरशिप

 पाकिस्तान में स्थित गुटों को आतंकवादी घोषित करने को लेकर सर्वसम्मति हासिल नहीं कर सका भारत :- भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार यानि कल गोवा राज्‍य में बिक्‍स सम्मेलन के दौरान सदस्य देशों को साफ-साफ य‍ह  कहा दिया है,  कि भारत देश के पड़ोस में आतंकवाद का मदरशिप चल रहा है। जो कि  विकास और आर्थिक वृद्धि के ब्रिक्स के लक्ष्यों के लिए खतरा है। साथ ही नरेन्‍द्र मोदी ने यह भी कहा, कि आतंकवाद को पनाह देने वाले भी आतंकवादियों जितना ही बड़ा खतरा हैं, मगर नरेन्‍द्र मोदी के इतना कहने के बाद भी पांचों सदस्य देशों द्वारा स्वीकृत गोवा घोषणापत्र में भारत की उन चिंताओं का ज़िक्र नहीं है, जो सत्र के दौरान या सिर्फ प्रारंभिक सत्र के दौरान उठाई गई थीं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

दरअसल, घोषणापत्र में आग्रह किया गया है, कि आतंकवादियों  के ठिकानों को खत्म किया जाए।  सभी देशों को व्यापक पहल करनी होगी, जिस में कट्टरपंथ से निपटना, आतंकियों की भर्ती रोकना और आतंकवाद को वित्तपोषण खत्म करना शामिल होगा। साथ ही  घोषणापत्र में कहा गया है, कि इंटरनेट और  सोशल मीडिया पर भी आतंकवाद से टक्कर लेनी होगी।

विचारों पर फोकस

गोवा में हुए दो दिन के ब्रिक्स सम्मेलन के समापन के बाद मीडिया से बातचीत के दौरन  सचिव ‘अमर सिन्हा’ ने यह कहा कि घोषणा पत्र में विचारों पर फोकस किया गया है। साथ ही यह भी बताया, कि वे लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद आदि जैसे पाकिस्तान में स्थित गुटों को आतंकवादी घोषित करने को लेकर सर्वसम्मति हासिल नहीं कर सके है। वजह यह बताई है, कि यह मामला सिर्फ भारत और पाकिस्तान देश से जुड़ा मामला हो जाता। मगर घोषणापत्र में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आतंकवादी घोषित किए जा चुके संगठनों से निपटने की ज़रूरत पर बल दिया गया है। बता दें, भारत में उरी हमले हुआ था, जिस में सेना के कैम्प पर आतंकवादी हमला किया गया था। साथ ही लगातार सीमापार से आतंकवाद की अन्य घटनाओं को लेकर पाकिस्तान देश पर अंगुली उठाने के मामले में चीन के दोहरे रवैये की वजह से भारत और चीन संबंधों में खटास व्याप्त रही।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
विदेश

अमेरिका ने लश्कर और हाफिज को कहा मासूमों का हत्यारा

अमेरिका ने लश्कर और हाफिज को कहा मासूमों का हत्यारा


अमेरिका ने लश्कर और हाफिज को कहा मासूमों का हत्यारा:- मुंबई हमले के मास्टरमाइड और आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैय्यबा के प्रमुख हाफिज सईद पर अमेरिका ने सख्त टिप्पणी की है।

लाखों निर्दोष लोगों को जान से मारा

अमेरिका का कहना है कि हाफिज सैय्यद ने लाखों लोगों और मासूम बच्चों की जान ली है। साथ ही उसे लाखों निर्दोष लोगों को जान मारने के लिए जिम्मेदार ठहराया है। अमेरिका ने उस पर उसके नाम की कोई टिप्पणी नहीं की है। जबकि उसके संगठन पर जमकर हमला किया गया है।

लश्कर-ए- तैय्यबा को संयुक्त राष्ट्र ने आतंकी संगठन की सूची में शामिल कर लिया है। अमेरिका के विदेश मंत्रालय के उप प्रवक्ता मार्क टोनर ने कहा ‘मैं ऐसे किसी भी सवाल का जवाब नहीं दूंगा जो उसके (हाफिज सईद) के बारे में किसी प्रकार की टिप्पणी करता हो।‘

टोनर ने कहा कि लश्कर और हाफिज दोनों एक ही है अमेरिकी सरकार ने इन्हें चिंहित किया हुआ है। इसमें कोई शक नहीं है कि लश्कर आतंकवादी हमलों में कई अमेरिकी नागरिकों सहित हजारों मासूमों की मौत का जिम्मेदार है।

हाफिज सईद

टोनर ने यह सारी बात गुरुवार को एक सवाल के जवाब पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा था। दरअसल कुछ दिनों पहले ही हाफिज ने अमेरिका पर टिप्पणी की थी। जिसके जवाब में यह सबकुछ कहा जा रहा है।

भारत ने कई बार की कारवाई की मांग

आपको बता दें, साल 2008 के मुंबई हमले का मास्टमाइड भी हाफिज सईद था। लगातार हुए सिलसिलेवार हमले में 166 लोगों को जान गवानी पड़ी थी। साथ ही हमले में लगभग 300 लोग घायल हुए थे। इस हमले के दूसरे मास्टमांइड और लश्कर-ए-तैय्यबा के ऑपरेशन कमांडर जकी-उर-रहमान लखवी फिलहाल अज्ञात ठिकानों पर रह रहे है।

पिछले कई सालों से भारत मुंबई हमले के आरोपियों के खिलाफ पाकिस्तान से कारवाई करने की मांग कर रही है, क्योंकि इस हमले के ज्यादातर आरोपी पाकिस्तान में ही अपना ठिकाना लगाकर बैठे हैं।

पाकिस्तान द्वारा आतंकियों को अपनी जमीन पर संरक्षण देने के कारण पूरी दुनिया में उसकी चर्चा हो रही थी। जिसके बाद कुछ दिनों पहले ही पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने इस आतंकियों के खिलाफ कारवाई करने को कहा था।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
पॉलिटिक्स

इस सर्जिकल स्‍ट्राइक की सफलता के हकदार नरेन्‍द्र मोदी है : मनोहर पर्रिकर

इस सर्जिकल स्‍ट्राइक की सफलता के हकदार नरेन्‍द्र मोदी है


मोदी को जाता है सर्जिकल स्‍ट्राइ का श्रेय

इस सर्जिकल स्‍ट्राइक की सफलता के हकदार नरेन्‍द्र मोदी है:- मुंबई के मटीरियल्स इंजीनियरिंग टेक्नोलॉजी के एक कार्यक्रम केन्‍द्रीय रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने भारतीय सेना द्वारा की गई सर्जिकल स्ट्राइक पर यह कहा है, कि इसका श्रेय किसी के साथ साझा करने में कोई गुरेज नहीं है। साथ ही कहा, कि यह सर्जिकल स्‍ट्राइक किसी राजनीतिक पार्टी ने नहीं किया है। इस स्‍ट्राइक का श्रेय हर भार‍तीय को जाता है। सर्जिकल स्‍ट्राइक के साबुत मांगने वालों पर तंज कसते हूए कहा, कि इस का श्रेय शक करने वालों पर भी जाता है।

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी को इस सर्जिकल स्‍ट्राइक का श्रेय देते हुए कहा, कि इस सर्जिकल स्‍ट्राइक की सफलता के हकदार नरेन्‍द्र मोदी है, उनके ही निर्णायक रवैये और योजना से ही ये सफल हुआ है। दरअसल, राहुल गांधी और दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री केजरीवाल सहित विपक्ष के कई नेताओं ने य‍ह कहा था, कि भारत के प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी और उनके कई मंत्री सर्जिकल स्‍ट्राइक में सरकार के रोल को बढ़ा चढ़ाकर प्रस्‍तुत कर रहे है। लेकिन नरेन्‍द्र मोदी ने अपने मंत्र‍ियों से सर्जिकल स्‍ट्राइक पर खुद की पीठ थपथपाने से बचने के लिए बोला था।

रक्षा मंत्री, मनोहर पर्रिकर

राजनाथ सिंह और अमित शाह

वही नरेन्‍द्र मोदी के एक और केन्‍द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार यानि कल यह कहा था, कि नरेन्‍द्र मोदी ने यह साबित कर दिया है कि भारत कमज़ोर देश नहीं है। भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह ने एक बयान में कहा था, कि भारतीय सेना की हिम्मत की दाद देनी होगी मगर प्रधानमंत्री की राजनीतिक इच्छाशक्ति का उस स्ट्राइक की सफलता के पीछे बहुत बड़ा हाथ है और जो कि ‘100 परसेंट परफेक्ट’ साबित हुई।

सर्जिकल स्ट्राइक

आप को बता दें, 29 सिंतबर को कुछ आंतकवा‍दी भारत में घूसपैठ करने की कोशिश कर रहे थे, उस दौरन भारतीय सैनिकों ने पाकिस्‍तान के कब्‍जे वाले कश्‍मीर में सर्जिकल स्‍ट्राइक की थी। सर्जिकल स्‍ट्राइक करीबन साढे़ बारह बजे से सुबह साढ़े चार बजे तक चली। जिसमें 38 से ज्‍यादा आंतकवादी मारे गए।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in