Categories
वीमेन टॉक

जानें कौन है पंडित नंदिनी भौमिक, जिन्होंने तोड़ी समाज की रूढ़िवादी सोच

जानें नंदिनी भौमिक ने कैसे सदियों से चली आ रही परंपरा में सेंध लगा


आपने अपने घरों की शदियों और पूजाओं में पंडितों को देखा होगा. अगर हम हिंदू रीति-रिवाजों की बात करे तो हर शादी, हर पूजा में पंडित होते हैं बिना पंडितों की कोई पूजा की कल्पना ही नहीं कर सकता. ये आपके साथ भी होता होगा, कि एक पंडित का नाम आते ही आपके ख्याल में एक आदमी की छवि घूमती होगी. क्योंकि हमने बचपन से पुरुष को ही आपके घरों में पूजा-पाठ और धार्मिक अनुष्ठान कराते देखा है. लेकिन अब समय बदल गया है आज के समय में महिलाएं वो सभी काम करती है जो एक समय पर सिर्फ पुरषों द्वारा किये जाते थे. आज हम आपको ऐसी ही एक महिला नंदिनी भौमिक के बारे में बताने जा रहे है जिन्होंने सदियों से चली आ रही इस परंपरा में सेंध लगा कर पूजा-पाठ का अनुष्ठान कराया.

 

जाने कौन है नंदिनी भौमिक

नंदिनी भौमिक कोलकाता की रहने वाली है.. वह पेशे से संस्कृत की प्रोफेसर और नाटक कलाकार हैं. इतना ही नहीं नंदिनी भौमिक विवाह में मंत्रोच्चारण के साथ विवाह संपन्ना कराती हैं. नंदिनी ने ये काम कोई नया शुरू नहीं किया है वो पिछले दस सालों से लगातार शादियों को संपन्न कराने का काम करती आ रही हैं.  नंदिनी भौमिक अभी तक चालीस से ज्यादा शादियां करा चुकीं. नंदिनी को संस्कृत के श्लोकों का काफी ज्यादा ज्ञान है. इतना ही नहीं नंदिनी भौमिक शादियों में संस्कृत के
श्लोकों को अनुवाद करके भी कहती हैं.

 

और पढ़ें: जाने भारत की उन महिला वैज्ञानिकों के बारे में, जिन्होंने बढ़ाया देश का मान, नहीं मानी विपरीत परिस्थितियों में भी हार

शादियों में नंदिनी भौमिक किन किन भाषाओं में श्लोक पढ़ती हैं

नंदिनी भौमिक को न सिर्फ संस्कृत और हिंदी भाषा का ज्ञान है बल्कि उनको कई ओर भी भाषाओं का ज्ञान है दरअसल, जिन शादियों में दूल्हा दुल्हन को संस्कृत में श्लोक नहीं समझ आते, उन शादी में नंदिनी उस जोड़े के लिए अंग्रेजी और बंगला में श्लोकों का अनुवाद करती हैं.. जिसे की दूल्हा दुल्हन को श्लोकों का सही अर्थ समझ आ सके. इतना ही नहीं, नंदिनी शादियों में पीछे से रवींद्र नाथ टैगोर का संगीत भी बजवाती है..नंदिनी शादी में होने वाले कन्या दान की रस्म का घोर विरोध करती है. नंदिनी का मानना है कि लड़की कोई वस्तु नहीं, जिसका दान किया जाए. वो शादियों में कन्यादान नहीं करतीं. नंदिनी के इस कार्य को अब बहुत सारे लोगों की सराहना भी मिल रही है.

 

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com