Categories
लाइफस्टाइल

समर में अपने लुक को ऐसे बदले

इस चुभती- जलती गर्मी में पहने कॉटन के कपड़े


जब मौसम चुभती- जलती गर्मी का हो तब आपको अपने ड्रेसिंग स्टाइल पर ज्यादा ध्यान देने की जरूरत होती है. मौसम बदलते रहते है जैसे कभी सर्दी कभी गर्मी तब हम उसके हिसाब से पहनते है . वैसे ही गर्मी के सीजन में  मौसम के हिसाब से कपड़ों को पहनना चाहि और सबसे अधिक समस्‍या गर्मी में होती है, क्‍योंकि इस मौसम में गलत कपड़ों का चुनाव करने न केवल बीमारी हो सकती है बल्कि इसका असर त्‍वचा पर भी पड़ता है, इसलिए कपड़ो पर ख़ास ध्यान देना चाहिए.

गर्मियों में सबसे ज्यादा ध्यान आप रंग पर दे क्यूंकि अगर आप ज्यादा डार्क रंगों के कपड़ो को पहनते है तो आप स्किन एलेर्ग्य हो सकती है क्यूंकि धुप डार्क कोलौर्स को अब्सोर्ब करता है जिससे आपकी त्वचा जलने लगती है.

Also Read: कान्स 2018 के रेड कारपेट पर इस एक्ट्रेस का छाया लुक

कपड़ो में आप कॉटन और शिफोन के कपडे पहने इसमें आपको गर्मी कम लगती है और इसमें आपको धुप चुभती नहीं है साथ ही कॉटन हेंडलूम व खादी ठंडक पहुंचाने वाले व पसीना सोखने वाले फेब्रिक हैं जिससे आप तपती गर्मी में भी अच्छा महसूस करते हैं. खादी का कुरता स्टाइल से पहने जो ढीला हो उसके साथ ही चूड़ीदार सलवार पहनें.इस मौसम में कली वाले कुरते अनारकली पेटर्न में अलग-अलग प्रिंट के साथ पहने जा सकते हैं.

ऐसी चुभती गर्मी में सिल्क और सिंथेटिक कपड़ो को तो इगनोरे ही करे, और जिनपे ज्यादा वर्क हो क्यूंकि गर्मी में आपको इन कपड़ो से स्किन इन्फेक्शन हो सकता है. इसलिए गर्मी में कपड़ो का सही चुनाव करे.

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
सेहत

गर्मियों में गन्ने का जूस पीना क्यों है जरुरी

गन्ने के जूस को पीने से क्या है फायदे जाने ?


यह बात सभी जानते है की मई की शुरुआत होने तक गर्मिया  हद से ज्यादा बढ़ जाती है , ऐसे चुभती- तपती गर्मी में ज्यादा से ज्यादा पानी पीना जरुरी होता है पानी के साथ आप अपने डाइट चार्ट में सुबह डेली जूस को भी रखे . रोज सुबह आप ऑरेंज या गन्ने का जूस जरुर पिए क्यूंकि गन्ने का जूस पीने के कई फायदे भी होते हैं.

गन्ने का जूस

गन्ने का जूस आपकी बॉडी के लिए बहुत ही ज्यदा फायदेमंद है क्यूंकि इसमें कैल्शियम, कार्बोहाइड्रेट, विटामिन ए, फास्फोरस पोटेशियम और विटामिन बी होता है जो आपको कई बीमारियों से दूर रखते है. इसे पीने से आपको गर्मियों में राहत मिलती है.

जाने गन्ने के जूस के कई सारे फायदे :

1.गन्ने का जूस आपकी त्वचा के लिए काफी अच्छा रहता है. इसे पीने से आपकी त्वचा ग्लो और सॉफ्ट रहती है.

Also Read: गरमियों में तरबूज कैसे रखता है आपकी स्किन को हाइड्रेटेड

2.गन्ने का जूस आपके पाचन को भी ठीक रखता है.

3.गन्ने का जूस पीने से रक्त कोशिकाए स्वस्थ रहती है.

4.यह आपको किडनी की समस्याए से भी दूर रखता है.

5.जिसे पथरी की दिक्कत है यह उनके लिए भी फायदे मंद रहता है , यह पथरी गलाने में मदद करता है.

यह सारे फायदे होते है गन्ने के जूस पीने से , अगर आप इसका हर रोज सेवन नहीं कर सकते तो इसका आप हफ्ते में भी सेवन कर सकते है. हफ्ते में कम से कम एक बार गन्ने का जूस ज़रूर पिए. साथ ही आप गन्ने के जूस के साथ और भी जूस पिए जैसे ऑरेंज जूस या फिर अन्नार का जूस गर्मी में  यह डिहाइड्रेशन की दिक्कत से बचाता है. इसलिए जितना हो सके गर्मियों में ठंडा पिए तब आपको चुब्ती गर्मियों का पता भी नहीं चलेगा और आप स्वस्थ रहेंगे.

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.in

 

Categories
लाइफस्टाइल

गर्मियों में अपने चेहरे को इस तह निखारे

हफ्ते में अपने चेहरे पर इस का दो बार इस्तेमाल करे   


चुभती गर्मी का मौसम आ चूका है और इस गर्मी में आपकी स्किन और जलने लागत है. अपने चेहरे को निखारने के लिए आप अपनी स्किन का रखे बेहद ख्याल क्यूंकि ये यही टाइम होता है जब स्किन टाइनी होने लगती है और आपके चेहरे पर झुरिया दिखाई देती है, इसलिए हर रोज पानी ज्यादा पिए कम से कम 12 गिलास पर डे जिससे आपका चेहरा ग्लो करेगा

Representative Image

आप अपने चेहरे पर घर के नुसके को भी अपना सकती है. साथ ही बेसन और दूध हल्दी को मिक्स कर के उसके पेस्ट को अपने चेहरे पर लगा सकते है जिससे आपके चेहरे को ठंडक मिलेगी. साथ ही आप टमाटर को कट कर के उसके बीच के  पार्ट्स से अपने चेहरे पर रगड़े जिससे आपके चेहरे की जो गंदगी होगी वो बाहर आ जायेगी साथ ही एक और भी उसका है आप हफ्ते में दो बार मुलातनी मिटटी का थोडा सा पेस्ट बनाकर अपने चेहरे पर इस्तेमाल करे इससे स्किन की गंदगी भी निकलेगी और  चेहरा भी  निखरेगा .

Also Read : ट्रू पर्सन और ऑनेस्ट पर्सन में क्या अन्तर होता है:

अपनी स्किन को ग्लो करने के लिए आप गुलाब जल से भी अपने चेहरे को भी निखर सकते है. तो ये है घर के नुस्के जिससे अप अपने चेहरे को निकह्र सकते है इनके साथ लेकिन  आपको अपने डाइट पर भी ध्यान देना होगा यानी आपका खाना पीना भी हल्का होना चाहिए. गर्मी के हिसाब से आपको फ्रूट्स सलाद औ ड्रिंक्स पिए जिससे फिट भी रहेंगे. गर्मियों में ज्यादा ऑयली फ़ूड न कहए चेहरे पर पिम्प्लस ज्यादा निकलते है. बाहर के जंक फ़ूड को अपने डाइट में तो बिलकुल न रहने दे

सुबह योग करे मैडिटेशन करे इससे भी चेहरे पर ग्लो  आता है और आपके माइंड पीस के लिए अच्छा है. अब आपको बार बार हर महीने जाकर ब्यूटी पार्लर में पेसे खर्च नहीं करने पड़ेंगे . अब घर में ही आप अपनर चेहरे को निखार सकते है और फिट रह सकते है.

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.in

 

Categories
सामाजिक

माँ ना बन पाने की कुछ खास वजह

लाइफस्टाइल और आनुवंशिकता हो सकते हैं इसके बड़े कारण


भारत में 25% महिलाएं अपने अनिमियत पीरियड्स और पीरियड्स से जुडें समस्यों से परेशान हैं और इनमे से 90% मामलों में बीमारी के कारणों का पता नहीं चल पता। इस समस्या की चपेट में केवल महिलाएं ही नहीं बल्कि युवतियां भी हैं। ऐसे में आजकल कम उम्र में ही कुछ ऐसी बिमारियाँ शरीर को घेर लेती हैं। जिनसे निकल पाना आसान नहीं होता। हर लड़की का सपना होता है की वो माँ बनें। अगर माँ बनने की उम्र में अगर महिलाएं माँ नहीं बन पति तो वो उसकी जिंदगी की सबसे बड़ा अभिशाप बन जाता है। दुनिया मनो रुकी हुई सी लगने लग जाती है। वैसे तो माँ न बन पाने के कई कारण हैं जिसमे से सबसे बड़ा कारण है ओवरिज का फेल हो जाना। अगर किसी भी महिला के साथ ये समस्या है तो उसे जल्द किसी स्त्री रोग विशेषज्ञ को मिलना चाहिए।

माँ पिक्स

पीओएफ का मतलब होता है 40 की उम्र से पहले ओवरिज का सामान्य तरह से काम नहीं करना। ये ओवरिज सामान्य रूप से ऐसट्रोजन हर्मोने का निर्माण नहीं कर पाते या नियमित रूप से अंडे का रिलीज़ नहीं हो पता। इसे बाँझपन या बच्चे ना होने की आम समस्या कहते हैं। कई बार अपनी सही उम्र से पहले ओवरिज का फेल होने को भी मेनोपॉज से जोड़ दिया जाता है लेकिन ये दोनों समस्याएं बिलकुल अलग-अलग हैं। अगर किसी महिला का ओवरिज फेल हो गया है तो उसे अनिमियत पीरियड्स हो सकती है और वो गर्वधारण भी कर सकती है। उम्र से पहले मेनोपॉज का अर्थ है की माहवारी का स्थायी तौर पर रुक जाना और उसके बाद गर्भवती होना नामुमकिन है।

लाइफ स्टाइल और आनुवंशिकता है बड़ा कारण-

कुछ समय पहले से ही महिलाओ में ओवरिज के फेल होने के खतरे बढें हैं लेकिन पर्यावरण और लाइफ स्टाइल जैसे की धुम्रपान, शराब का सेवन, लम्बी और बड़ी बिमारियों जैसे जेनिटल टीवी, किमोथैरपी और रेडियोथैरपी होना भी इसके मुख्य कारण हैं। भारत में 30-40 आयु के लोगों में पीएफओं के मामले 0.1% है। ये आंकडें दिखने में नाममात्र के दिखतें हैं लेकिन 25% महिलाएं अनिमियत पीरियड्स और पीरियड्स से जुडें कई समस्यों से सामना कर रही हैं।

आज के बदलते पर्यावरण और लाइफ स्टाइल के कारण शरीर में कम उम्र की लड़कियां भी इस बिमारियों की चपेट में आ जाती हैं। लेकिन इस तरह की बिमारियों से बचने के लिए बेहतर है कि समय पर परिवार शुरू करने के बारे में सोचना चाहिए। अगर किसी भी ततः की दिक्कत आ रही हो तो अपना मेडिकल जाँच जरुर करवाएं।

आइवीएफ तकनीक-

एग डोनेशन के तकनीक को अपनाकर बच्चे की चाहत को पूरी की जा सकती है। इस तकनीक के बाद महिलाएं 35वर्ष के बाद भी गर्वधारण कर सकती हैं। ये तकनीक उन कपल्स के लिए चमत्कारी है जो इन बिमारियों की वजह से परेशान रहते हैं। ऐसे में महिलाओं को अपनी जीवन शैली नियंत्रित करने की खास जरुरत है। जिससे इन समस्यों से आसानी से बाहर निकला जा सके।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in