पॉलिटिक्स

उत्‍तर प्रदेश के चाचा भतीजे आए आमने-सामने

उत्‍तर प्रदेश के चाचा भतीजे आए आमने-सामने


परिवार और पार्टी के बीच संग्राम

उत्‍तर प्रदेश के चाचा भतीजे आए आमने-सामने :- उत्‍तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी और परिवार के बीच संग्राम जारी है। आज पार्टी के मुख्‍य मुलायम सिंह यादव ने बड़ी बैठक बुलाई तो पार्टी का संग्राम सड़क तक पहुंच गया। साथ ही समाजवादी पार्टी के कार्यालय के बाहर मुख्‍यमंञी अखिलेश यादव और शिवपाल यादव के समर्थकों के बीच जमकर नारेबाजी और हाथापाई भी हुई।

उत्‍तर प्रदेश के चाचा भतीजे आए आमने-सामने
अखिलेश यादव और मुलायम सिंह यादव

यहाँ पढ़ें : नवजोत सिंह सिध्‍दू को मिला उप मुख्यमंत्री का ऑफर

दिमाग खराब हो गया- मुलायम सिंह

मुलायम सिंह यादव ने बैठक  में कहा, कि शिवपाल यादव बड़े नेता हैं। समाजवादी पार्टी में हो रहे टकराव से दुखी हूं। साथ ही कहा, कि लोहिया जी के दिखाए मार्ग पर आगे चलें। मुलायम ने कहा, कि जरूरत पड़ी तो हम जेल जाने से भी पीछे नहीं हटे थे। इस पार्टी बनाने के लिए बहुत संघर्ष किया है।  हम जेल भी गए कोई नहीं जानता। समाजवादी पार्टी के नेताओं को हिदायत देते हुए कहा, कि  ज्यादा बढ़-चढ़कर बातें नहीं करें। मगर मुलायम सिंह यादव ने इशारों में यह  साफ कहा दिया, कि पद मिलते ही दिमाग खराब हो गया। लेकिन अगर आलोचना सही है तो सुधरने की जरूरत है। कुछ नेता सिर्फ चापलूस हैं। नारेबाजी करने वाले लोग पार्टी से बाहर होंगे।

उत्‍तर प्रदेश के चाचा भतीजे आए आमने-सामने
पार्टी और परिवार के बीच संग्राम

अखिलेश यादव हुए भावुक

मुलायम यादव के द्वारा बुलाई गई बैठक में सबसे पहले अखिलेश यादव को अपनी बात रखने का मौका मिला। मुख्‍यमंञी ने कहा, कि मेरे पिता मेरे गुरू है। नेताजी ने मुझे अन्‍याय से लड़ना सिखाया है। साथ ही अखिलेश यादव ने भावुक होते हुए कहा, कि मैं नई पार्टी क्‍यों बनाऊंगा। मैं किधर भी जाऊंगा। मै बर्बाद हो जाऊंगा। कई लोग गलतफ़मी पैदा करने की कोशिश कर रहे है। अगर नेताजी चाहें तो मुझे पार्टी से बाहर निकाल सकते है। नेताजी कहते है तो मैं इस्‍तीफा दे देता।

क्‍या अखिलेश से कम काम किया- शिवपाल

आज हुई बैठक में शिवपाल यादव ने अपने समर्थकों को संबोधित करते हुए मुख्‍यमंञी पर आरोप लगाया कि अखिलेश यादव ने अलग पार्टी बनाकर दूसरे दल के साथ चुनाव लड़ने की बात कही है। मैं कसम खाकर कहता हूं कि अखिलेश यादव ने यह बात कही। साथ ही शिवपाल ने पूछा, कि क्या मैंने मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव से कम काम किया है। मेरे विभाग मुझ से छीने गए मेरा कसूर क्या था। मैंने तो मुख्‍यमंत्री और नेताजी के हर आदेश को माना है।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Back to top button