हॉट टॉपिक्स

Sakat Chauth 2022: जाने कब है सकट चौथ का व्रत, इस बार सकट चौथ पर बन रहा है विशिष्ट संयोग, जानें पूजा का शुभ मुहूर्त

Sakat Chauth 2022: जाने क्यों मनाया जाता है सकट चौथ का व्रत?


Highlights:

  • जाने क्या होता है सकट चौथ
  • क्यों रखा जाता है सकट चौथ का व्रत
  • जाने सकट चौथ पर बन रहे विशिष्ट संयोग के बारे में
  • सकट चौथ के दिन चंद्र दर्शन का मुहूर्त
  • जाने सकट चौथ की पूजा विधि

Sakat Chauth 2022: हिन्दू धार्मिक मान्यताओं के अनुसार सकट चौथ का व्रत भगवान गणेश के प्रति अपनी आस्था प्रकट करने के लिए रखा जाता है। सकट चौथ का व्रत माघ माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी के दिन मनाया जाता है। इस साल सकट का व्रत 21 जनवरी को रखा जाएगा। मान्यताओं के अनुसार सकट चौथ का व्रत रखने से संतान और परिवार सुरक्षित रहता है। इतना ही नहीं इसके साथ ही बता दें कि सकट चौथ का व्रत रखने से जीवन में आ रही सभी समस्याओं से छुटकारा मिलता है। सकट चौथ का व्रत माताएं अपने बच्चों की लंबी आयु, अच्छी सेहत और जीवन में सुख-समृद्धि की कामना के लिए रखती है। इस दिन सभी माताएं भगवान गणेश का व्रत रखती है और उनका पूजन करती है। बता दें कि सकट चौथ के व्रत को तिलकुट चतुर्थी के नाम से भी जाना जाता है। सकट चौथ के व्रत में काले तिल का विशेष स्थान होता है। इस साल सकट व्रत के दिन विशिष्ट संयोग बन रहा है, जो कि पूजन के लिए विशेष फलदायी है। तो चलिए विस्तार से जानते है इस पूजन के विशिष्ट संयोग के बारे में।

Read more: Legend Pandit Birju Maharaj Passes Away: नहीं रहे भारत के गौरव पंडित बिरजू महाराज, जानिए उनसे जुड़ी कुछ ख़ास बातें!

सकट चौथ पर विशिष्ट संयोग

हिंदी पंचांग गणना के अनुसार माघ माह की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि 21 जनवरी को सुबह 8:52 बजे से शुरू होगी। जो कि 22 जनवरी को सुबह 9: 14 बजे तक रहेगी। इसलिए सकट चौथ का व्रत 21 जनवरी को रखा जाएगा। हमारे ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इस साल का सकट चौथ का व्रत सौभाग्य योग में शुरू हो रहा है। जो कि 21 जनवरी को 3:05 तक रहेगा। उसके बाद शोभन योग लग जाएगा। बता दें कि ये दोनों ही योग गणेश पूजन के लिए अति शुभ है। गणेश पूजन दिन के समय में करने का विधान है इसलिए सौभाग्य योग में 3:05 बजे तक पूजन करना शुभ रहेगा।

Sakat Chauth 2022
Sakat Chauth 2022

Read more: Loan for Women Entrepreneurs: महिलाओ को अपना बिज़नेस बढ़ाने के लिए कहा से मिलेगा आसान फ़ाइनेंस?

सकट चौथ के दिन चंद्र दर्शन का मुहूर्त

सकट चौथ के दिन व्रत रखने के बाद चंद्रमा का दर्शन जरूर किया जाता है। ऐसे में इस बार सकट चौथ के दिन चंद्र दर्शन का मुहूर्त 21 जनवरी की रात को 9 बजकर 5 मिनट पर होगा। ऐसे में जो भी महिलाएं इस बार सकट चौथ का व्रत रखेंगी वे पूजा के बाद चंद्रमा का दर्शन करते हुए जल अर्पित करें।

Read more: Delhi First Electric Bus: ‘नए युग की शुरुआत’: 5 बड़ी बाते!

जाने सकट चौथ की पूजा विधि

सकट चौथ के दिन महिलाएं सुबह जल्दी उठकर स्नान करने के बाद व्रत का संकल्प लेती है। उसके बाद जो भी महिलाएं सकट चौथ का व्रत रखेंगी वो लाल रंग के कपड़े पहनकर भगवान गणेश की पूजा करेंगी। सकट चौथ की पूजा करने के लिए आपके पास मां लक्ष्मी और भगवान गणेश की मूर्ति दोनों होनी चाहिए। हिन्दू धार्मिक मान्यताओं के अनुसार पूजा में गणेश मंत्र का जाप करना बेहद फलदाई बताया गया है। गणेश मंत्र का जाप करते हुए 21 दुर्वा भगवान गणेश को जरूर अर्पित करें। पूजा खत्म हों के बाद चांद को अर्घ्य दें, फिर फलाहार करते हुए व्रत का पारण करें।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Back to top button