Jannah Theme License is not validated, Go to the theme options page to validate the license, You need a single license for each domain name.
लाइफस्टाइल

Onam food: इस बार 20 अगस्त से 31 अगस्त तक मनाया जाएगा ओणम पर्व

Onam food: ओणम त्यौहार दक्षिण भारत में मलयालम कैलेंडर के अनुसार, विशेष पारंपरिक व्यंजनों की सुंदरता और मिठास के आयुर्वेदिक संगम के साथ मनाया जाता है।

Onam food: खास त्योहार पर बनाएं ये खास व्यंजन


दक्षिण भारत में एक खास पर्व शुरू हो रहा है, जिसका नाम है ओणम पर्व। यह महत्वपूर्ण पर्व मलयालम कैलेंडर के अनुसार मनाया जाता है और इसमें सौंदर्य और पारंपरिक व्यंजनों का खास मिलान होता है।

थिरुवोणम: पर्व का महत्व

ओणम पर्व की शुरुआत थिरुवोणम नक्षत्र के साथ होती है। यह पर्व 10 दिन तक चलता है और इसमें हर दिन खास आयोजन होते हैं। इस बार, यह पर्व 20 अगस्त से शुरू हो रहा है और 31 अगस्त तक चलेगा।

Read More: Sawan special Food: सावन में खाएं लौकी वाले कुट्टू के पकोड़े

परंपरिक रंग, सजावट और पूजा

ओणम पर्व के दौरान घरों की सजावट में खास ध्यान दिया जाता है। घरों को 12 दिनों तक फूलों और रंगोलियों से सजाया जाता है, और इन दिनों भगवान विष्णु और महाबली की पूजा की जाती है। यह पर्व नई फसल की अच्छी उपज की खुशी में भी मनाया जाता है।

पारंपरिक व्यंजन: ओणम के स्वाद

ओणम पर्व के दौरान आप अपने परिवार के साथ मिलकर इन खास पारंपरिक व्यंजनों का आनंद लें सकते है। यहां है कुछ प्रमुख विकल्प:

एरिसेरी: कद्दू की सब्जी जिसमें हरी मिर्च, लहसुन और नारियल का स्वाद मिलता है।

पुलिसरी: लौकी, खीरा और नारियल से बनी रायता जिसमें प्याज और अन्य मसाले शामिल होते हैं।

ठेंगा चोरू: नारियल वाले चावल जिसमें उड़द दाल और काजू से बनी मसाले दार सब्जी।

रसम: तुअर दाल से बनी यह गरमा गरम सब्जी चावल के साथ परोसी जाती है।

उल्ली थीयाल: छोले की सब्जी जिसमें नारियल की ग्रेवी और मसाले मिलते हैं, यह ओणम के मौके पर विशेष रुचि पैदा करती है।

ओणम पर्व दक्षिण भारत की विशेषता को दर्शाता है और साथ ही परिवार के साथ मिलकर पारंपरिक व्यंजनों का आनंद उठाने का भी एक अच्छा मौका है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com 

Back to top button