लाइफस्टाइल

Shani Dev: जाने शनि देव की दृष्टि से बचने के उपाय

जाने क्यों होती है शनि देव की तीसरी दृष्टि सबसे खतरनाक


आपको बता दे कि हमारे देश में ज्योतिष शास्त्र में ग्रहों के दृष्टि को बहुत महत्व दिया गया है। ज्योतिष और शास्त्र के अनुसार प्रत्येक ग्रह जिस घर में बैठा होता है वहां से वो अपने से सातवें घर में मौजूद ग्रह पर पूर्ण दृष्टि या प्रभाव दिखाता है। परंतु मंगल, बृहस्पति और शनि ग्रह की तीन दृष्टियां होती हैं। आपको बता दे कि इसमें शनि की तीन दृष्टियों 3,7,10 होती है जिनमे से तीसरी दृष्टि को बहुत ही शक्तिशाली और कष्टकारी माना जाता है। आपको बता दे कि जिस भी व्यक्ति के जीवन पर शनि के तीसरी दृष्टि का असर होता है, उसकी जिंदगी नर्क जैसी हो जाती है। तो चलिए आज हम आपको शनि देव के सबसे खतरनाक तीसरी दृष्टि से बचने के उपाय बताएंगे। तो चलिए जानते है इनके बारे में विस्तार से।

1. आपको बता दे कि शास्त्र के अनुसार हनुमान ने शनि देव की जान बचाई थी। इसलिए अगर आप शनिवार के दिन लाल आसन पर लाल धोती पहनकर हनुमान जी की मूर्ति के सामने तेल का दीपक जलाने है और हनुमान चालीसा के 21 बार पाठ करते है तो इससे आपको शनि की तीसरी दृष्टि से राहत मिलती है।

शनि देव

और पढ़ें: अगर आप भी चाहते है न्यू लुक, तो अपनाएं ये ट्रेंडी हेयर कट

2. आपको बता दे कि अगर आप शनि देव की तीसरी दृष्टि से बचना चाहते है तो इसके लिए आपको शनिवार के दिन अपने घर पर आने वाले अतिथियों का भूल से भी अपमान या तिरस्कार नहीं करना चाहिए। अपने सामर्थ्य के अनुसार, आप जो कर सकते हैं, अवश्य करें।

3. ये बात तो शायद आप भी जानते ही होंगे कि शनि देव को काली चीजें पसंद होती हैं, इसलिए शनिवार के दिन काले घोड़े को सवा किलो चना खिलाने से शनि की तीसरी दृष्टि से बचा जा सकता है।

4. अगर आप शनि देव की तीसरी दृष्टि से बचना चाहते है तो इसके लिए आपको नियमित रूप से गरीबों की सेवा, रोगियों की सेवा, भीखारियों की सेवा करनी चाहिए। ऐसा करने से शनि की तीसरी दृष्टि से बहुत हद तक राहत मिलती है।

5. आपको बता दे कि शनिवार के दिन शनि मंदिर में सरसों का तेल चढ़ाने से और सरसों के तेल का दान करने से हम शनि के तीसरी दृष्टि के प्रकोप से बच सकते हैं।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Back to top button
Hey, wait!

अगर आप भी चाहते हैं कुछ हटके वीडियो, महिलाओ पर आधारित प्रेरणादायक स्टोरी, और निष्पक्ष खबरें तो ऐसी खबरों के लिए हमारे न्यूज़लेटर को सब्सक्राइब करें और पाए बेकार की न्यूज़अलर्ट से छुटकारा।