मनोरंजन

कंगना: मैं एक अवांछित बच्ची थी!

बॉलीवुड की क्वीन यानी के अभिनेत्री कंगना रनौत का कहना हैं कि वह एक अवांछित बच्ची थीं, उन्हें हमेशा उनके घर में यह एहसास दिलाया जाता था कि उनके पैदा होने से कोई खुश नहीं हैं।

जी हां, भले ही कंगना ने अपने जीवन में अनेको अवार्ड जीते हो या अपने किरदार से लाखोँ दिलो पर राज किया हो लेकिन ‘फेमिना पत्रिका’ के नए कवर पेज जारी करने के अवसर पर उन्होनें कहा कि मांओं, बहनों का निस्वार्थ भारतीय महिलाओं की भक्ति-पूजा बंद होनी चाहिए। महिलाओं के बारे में हमेशा यह कहा जाता है कि वह अग्निपरीक्षा देंगी या फिर अपने पति तथा पिता कि खुशी में ही वह खुशी देखेंगी। यह बेहद प्रतिगामी सोच है।

femina

इसके साथ ही 28 वर्षीय कंगना ने महिला दिवस के मौके पर भी यह मांग कि सिर्फ पुरूषों की खुशी की परवाह करने वाली महिलाओं को निस्वार्थ भारतीय महिला बनाकर पेश करना बंद करना चाहिए क्योंकि यह काफी प्रतिगामी कदम है।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Back to top button