Chhapaak Review: छपाक घिरी विवादों से, वकील हुई निर्माताओं से खफा

0
57
chhapaak review

Chhapaak Review::निर्माताओं ने बदला ऐसिड फेंकने वाले आरोपी का नाम, ट्विटर पर मचा बवाल


Chhapaak Review:

फिल्म में शख्स का नाम क्यों बदला 

इन सभी यूजर्स का ये कहना है कि जब ये फिल्म सच्ची घटना पर आधारित है तो इस फिल्म में लक्ष्मी अग्रवाल पर एसिड फेकने वाले शख्स का नाम बदला जाना तो ठीक है लेकिन उनको हिंदू क्यों दिखाया गया है। हम आपको बता दें इस फिल्म की स्क्रिनिंग में गई हमारी टीम ने यह पुष्ठि की है कि सच्चाई में ऐसा नहीं है। हां यह सच है कि एसिड फेंकने वाले नदीम खान का नाम बदला गया है मगर उसका नाम राजेश नहीं बशीर खान रखा गया है। 

इस तरह से फिल्म में धर्म बदलने की बात कहने वाले यूजर्स की प्रतिकियाओं में सच्चाई नहीं हैं। एक यूजर ने तो ये तक कह दिया कि ओसामा बिन लादेन का नाम फिल्म में ओम प्रकाश तिवारी कर देते। 

सोशल मीडिया (Social media) पर कुछ यूजर्स दीपिका और उनकी फिल्म छपाक के खिलाफ #boycottchhapaak, #Rajesh और #NadeemKhan हैशटैग चला रहे हैं। दीपिका की तस्वीरें सोशल मीडिया पर सामने आईं लोग उन्हें जमकर ट्रोल करने लगें। दीपिका के जेएनयू प्रदर्शन में शामिल होने के बाद सोशल मीडिया पर  #BoycottChhapaak ट्रेंड करने लगा। भाजपा नेता तेजिंद्र सिंह बग्गा ने दीपिका के प्रदर्शन में शामिल होने पर निंदा की और ट्वीट कर उनकी फिल्म छपाक का बहिष्कार करने की बात कही। 

बालीवुड का समर्थन 

बालीवुड से दीपिका को जबर्दस्त समर्थन मिला है। तमाम फिल्मी हस्तियों ने उन्हें सराहा। शबाना आजमी ने बुधवार को ट्वीट किया, ‘जब पद्मावतको लेकर उन पर हमला हुआ तो बहुत कम लोग ही उनके समर्थन में आए। वह जानती हैं कि निशाना बनना कैसा लगता है। उन्होंने जेएनयू के विद्यार्थियों का समर्थन करके मिसाल कायम की है। दीपिका पादुकोण को और शक्ति मिले।’ 

जेएनयू में हिंसा को लेकर सबसे पहले आवाज उठाने वाले कलाकारों में शामिल स्वरा भास्कर ने कहा, ‘बॉलीवुड जेएनयू के रंग में रंग गया।संशोधित नागरिकता कानून के विरोध में मुखर आवाज उठाने वाले निर्देशक अनुराग कश्यप ने भी अभिनेत्री के प्रति सम्मान जाहिर करते हुए लोगों से उनकी फिल्म का पहला शो देखने की अपील की।

कश्यप ने कहा, ‘यह न भूलें कि दीपिका इस फिल्म की प्रोड्यूसर भी हैं। इसलिए काफी कुछ दांव पर है।निर्देशक विक्रमादित्य मोटवानी ने दीपिका को वास्तविक हीरोकरार दिया। फिल्म निर्माता महेश भट्ट ने कहा, ‘हम अब चुप्पी राजनहीं रह गए हैं।’ 

और पढ़ें: JNU हिंसा को लेकर पुलिस की कार्यवाही में 13 लोग की पहचान हुई

अभिनेत्री पायल रोहतगी ने सोशल मीडिया पर दीपिका की आलोचना की। पायल ने लिखा कि वे तो समझती थी कि दीपिका पढ़ी लिखी अभिनेत्री हैं लेकिन जेएनयू जाकर उन्होंने ये साबित कर दिया कि उन्हें सही गलत की समझ नहीं है।

संगीतकार व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने भी इस मामले को लेकर कई ट्वीट किए। उन्होंने कहा कि वे खुद दीपिका के प्रशंसक हैं और उन्हें इस मामले में राजनीति करना उचित नहीं लगता। मैं उन्हें उनकी फिल्म के लिए शुभकामना देता हूं।

सोनाक्षी सिन्हा – कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कौन सी राजनीतिक पार्टी के समर्थक हैं, क्या आप हिंसा का समर्थन करते हैं? टीचर्स और स्टूडेंट्स की खून से भरी तस्वीरें आपको विचलित नहीं करतीं? हम और ज्यादा कांटों पर नहीं बैठ सकते। दीपिका को और सारे बोलने वालों को बधाई, ये चुप रहने का समय नहीं है।     

फिल्म छपाक में क्रेडिट ना मिलने से खफा लक्ष्मी अग्रवाल के वकील

अपनी रिलीज़ से ठीक पहले, दीपिका पादुकोण की छपाक विवादों से घिर गयी है। लक्ष्मी अग्रवाल के वकील ने कहा है कि वह फिल्म और इसके निर्माताओं के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेंगी। पटियाला हाउस कोर्ट में लक्ष्मी अग्रवाल के मुकदमे की पैरवी और प्रतिनिधित्व करने वाली अपर्णा भट ने फेसबुक पर एक पोस्ट किया है जिसमें कहा है कि वह “फिल्म देखने के बाद काफी परेशान है क्योंकि निर्माताओं ने फिल्म में उनके नाम का कही भी उल्लेख नहीं किया है और उन्हें कुछ क्रेडिट भी नहीं दिया हैं”।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com