Categories
भारत लेटेस्ट

पाकिस्तान ने फिर  किया सीज फायर उल्लंघन, भारतीय सेना का एक जवान शहीद

सीज़ फायर उल्लंघन के दौरान एक जवान शहीद 


भारतीय सेना ने जब से पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक की है उसके बाद से पाकिस्तान कुछ न कुछ ऐसा करने में लगा है जिससे उसके नापाक इरादों में वो कामयाब हो जाए  लेकिन भारतीय सेना हमेशा इस बात का मुँह तोड़ जवाब देती हैं।  हाल ही में एक ऐसा मामला सामने आया है जिसमे पाकिस्तान ने सीज फायर उल्लंघन किया है और पकिस्तान की इस हरकत से एक भारतीय सेना के जवान को अपनी जान से हाथ धोने पड़ें। सूत्रों के अनुसार,जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के राजौरी जिले के नौशेरा सेक्टर में पाकिस्तान ने सीज फायर का नियम तोड़ा है।

पकिस्तान का सीज फायर उल्लंघन

ये पहली बार नहीं हुआ है जब पकिस्तान ने सीज फायर उल्लंघन किया है , वो पहले भी कई बार सीज फायर का उल्लंघन करके कई इलाकों में घुसपैठ कर चूका हैं। कभी पाकिस्तान जम्मू कश्मीर में आतंकियों द्वारा सैन्य हमले करवाता है तो कभी किसी और तरीके से आतंक फैलाता हैं। हालाँक,  भारतीय सेना हमेशा पाकिस्तान के इरादों को नापक कर देती हैं। इस बार ही भारतीय सेना ने पाकिस्तानी गोलाबारी का मुंहतोड़ जवाब दिया हैं।

पिछले 24 घंटों में पाकिस्तानी सेना ने तीन बार सीजफायर का उल्लंघन किया। इस सीज फायर में लगातार तीसरे दिन भी सीजफायर का उल्लंघन करते हुए मंगलवार को पाकिस्तान ने जम्मू-कश्मीर के तंगधार में मोर्टार दागे दिए जिसकी वजह से एक बी भारतीय सेना के जवान को शहीद होना पडा। हालाँकि भारतीय सेना भी इस हमले के जवाब में ताबड़तोड़ फायरिंग कर रही हैं। इसी  दौरान पाकिस्तानी सैनिकों ने कई स्थानों पर घुसपैठ करने की कोशिशें भी की।  घुसपैठ की कोशिश करने वाले आतंकियों ने जम्मू के तीन इलाकों में गोलीबारी की लेकिन सेना के जवानों आतंकियों का  सामना करते हुए उन्हें सीमा से बाहर खदेड़ दिया।

एक जवान शहीद 

पाकिस्तान द्वारा ने जम्मू-कश्मीर हुए तीसरे दिन के सीजफायर उल्लंघन में शहीद हुए जवान का नाम नायक कृष्ण लाल है। भारतीय सेना के सूत्रों के मुताबिक, भारतीय सुरक्षा बलों ने जवाबी फायरिंग में पाकिस्तान के 2 जवानों को ढेर कर दिया है।  कुछ सूत्रों के मुताबिक, सीज फायर उल्लंघन के कारन और पाकिस्तान के लगातार गोलाबारी करने से पिछले रविवार को 10 दिन के बच्चे की भी मौत हो गई थी, जबकि 2 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए थे।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.com
Categories
भारत लेटेस्ट

अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में कुलभूषण जाधव की किस्मत का फैसला, आमने सामने होंगे भारत-पाक

अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में कुलभूषण जाधव की किस्मत का फैसला, आमने सामने होंगे भारत-पाक


अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत (आईसीजे) में आज यानि 17 जुलाई, 2019 भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव से जुड़े मामले में बुधवार को सुनवाई होगी। आज शाम साढे छह बजे नीदरलैंड में द हेग के ‘पीस पैलेस’ में सार्वजनिक सुनवाई होगी जिसमे अदालत के प्रमुख न्यायाधीश अब्दुलकावी अहमद यूसुफ कुलभूषण जाधव की किस्मत का फैसला सुनाएंगे।

कौन हैं कुलभूषण जाधव?

कुलभूषण सुधीर जाधव का जन्म 16 अप्रैल 1970 महाराष्ट्र के सांगली में हुआ था। इनके पिता मुंबई पुलिस के एक काबिल अफसर थे। 1987 में कुलभूषण ने डिफेन्स अकैडमी को ज्वाइन किया था। इसके बाद इन्होने 1991 में नौसेना के इंजिनियरिंग विभाग में जॉब की थी। कुलभूषण जाधव भारतीय नौसेना के पूर्व अधिकारी थे। जाधव ने 14 वर्ष पहले अपनी इच्छा के अनुसार सेनावृत्ति ले ली थी।

22 महीने पहले तीन मार्च, 2016 को कुलभूषण तब सुर्ख़ियों में आये जब पाकिस्तान ने उनको एक जासूस बताते हुए कैद कर लिया था। पाकिस्तान ने कुलभूषण को रॉ का एजेंट बताते हुए बलूचिस्तान से कैद करने की बात को सामने रखा था। पाकिस्तान ने कुलभूषण पर हुसैन मुबारक पटेल नाम का पासपोर्ट जब्त होने का दावा भी किया था।

 

पाक सरकार द्वारा कुलभूषण को फांसी की सजा

अप्रैल 2017 में पाकिस्तानी की सैन्य अदालत ने भारतीय नौसेना के सेवानिवृत्त अधिकारी जाधव (49) को एक बंद कमरे में सज़ा सुनाई थी। इस सुनवाई के दौरान कुलभूषण को ‘‘जासूसी और आतंकवादी ’’ करार कर दिया गया था। इन्ही आरोपों की वजह से कुलभूषण को मौत की सजा सुनाई थी। पाकिस्तान में उन पर ईरान में कथित रूप से घुसने का आरोप भी लगाया गया था।

पाकिस्तान अदालत द्वारा जाधव को दबाव देकर एक कबूलनामे पर ‘‘जासूसी और आतंकवादी” होने का दावा करके उनसे हस्ताक्षर करवा लिए गए थे। कुलभूषण को मौत की सजा सुना दी गयी थी जिसकी भारत सरकार ने काफी निंदा की और आईसीजे (इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ़ जस्टिस) के दरवाज़े खटखटाएं।

इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस और वियना संधि के प्रावधान

भारत सरकार ने 8 मई 2017 को वियना संधि के प्रावधानों का उल्लंघन होने की बात पर जोर देते हुए आईसीजे से इस मामले पर दखलंदाजी करने को कहा। इस मामले ने इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस पहुंचने के बाद से तूल पकड़ लिया। भारत ने नयी दिल्ली को जाधव तक राजनयिक पहुंच देने से बार बार इंकार करके पाकिस्तान के द्वारा वियना संधि के प्रावधानों का उल्लंघन करने की बात कही और इस मामले में अपना पक्ष रखा।

18 मई 2017 को आईसीजे की दस सदस्यीय पीठ की बैठक हुई जिसमे भारत और पाकिस्तान आमने सामने आये। इस सुनवाई के दौरान भारत और पाकिस्तान ने अपना-अपना पक्ष रखा। इस सुनवाई के बाद जाधव की मौत की सजा रोक दी गई।

आईसीजे में , भारत और पाकिस्तान दोनों ने अपना अपना पक्ष रखा था और जवाब दिये थे। इस मामले में भारत की तरफ से हरीश साल्वे ने इस मामले की पैरवी की। उन्होंने पाकिस्तान पर आरोप लगाते हुए पाकिस्तान की सैन्य अदालतों के निर्णयों और कामकाज के तरीके पर सवाल उठाए। उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ कुलभूषण पर दबाव डालकर कबूलनामे पर हस्ताक्षर करने की बात को भी सामने रखा। इसी बीच उन्होंने कुलभूषण की मौत की सजा को निरस्त करने के लिए आईसीजे से अनुरोध किया था।

 

आखिरी फैसला क्या हुआ था

इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस में जब यह मामला आया था तो इस पर 21 फरवरी, 2019 को एक ओर बैठक हुई थी। न्यायाधीश यूसुफ की अध्यक्षता में आईसीजे की 15 सदस्यीय पीठ की बैठक में भारत और पाकिस्तान के पक्ष सुनने के बाद इस मामले पर फैसला आज के दिन सुनाने के लिए रोक दिया गया था।

आज दो साल और दो महीने बाद इस मामले का फैसला हो जायेगा।

Read More:- चंद्रयान- 2 की लॉन्चिंग में आई बाँधा, जाने क्या है बड़ी वजह ?

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.commobil

Categories
भारत लेटेस्ट

Jharkhand:Mob Lynching ‘जय श्री राम’ के बावजूद नही बच पायी तबरेज़ की जान, भारत के 50 से ज्यादा शहरों में प्रदर्शन

हिरासत में लिये गए सभी आरोपियों में कुछ 10वी पास तो कुछ अनपढ़


Jharkhand – झारखण्ड मे 18 जून को हुई एक घटना ने इंसानियत को झकझोड़ कर रख दिया है. आपको याद दिलाते चलें कि 18 जून को चोरी के आरोप में भीड़ के हत्थो चढ़े तबरेज़ अंसारी ने दम तोड़ दिया है.इस घटना में मॉब लिंचिंग जैसे घिनौने कृत्य के अलावा भी इंसानियत को शर्मसार किया गया. जी हाँ,कानून को अपने हाथो मे लेने वालों को जैसे ही पता चला कि पीटा जा रहा युवक मुस्लिम है तो उसे अधमरा करने के बाद उससे जय श्री राम और जय हनुमान के नारे तक लगवाए गये. मार खाते हुए तबरेज ने जान बचाने के लिये कई बार नारे लगाए मगर फिर भी वो हमारे बीच नही है. इस वीडियो को देख कर आपको भी एहसास होगा की भारत मे बदलाव और शिक्षा की कितनी ज्यादा आवश्यकता है.

नज़र डालिये इस वीडियो पर-

आपको जानकर कोई हैरानी नही होगी की इस मामले मे गिरफ्तार किये गए अधिकतर लोग 10वी पास हैं या अनपढ़ है.जाहिर है कि कोई भी पढ़ा लिखा व्यक्ति ऐसे घिनौने कृत्य में शामिल नही हो सकता हैं. आज भारत के 50 से ज्यादा शहरों में मॉब लिंचिंग के खिलाफ प्रदर्शन किया जा रहा है.

बीते दिन दिल्ली के जंतर मंतर मे भी कई युवाओं द्वारा प्रदर्शन किया गया था.

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.com
Categories
बिना श्रेणी पॉलिटिक्स भारत भारतीये पॉलिटिक्स

भारत का भविष्य बदल देंगे ये 5 युवा राजनेता 

जानिये कौन हैं भारत के सबसे कम उम्र वाले नेता


दुनिया में कई सारे देश हैं और हर देश की पहचान उसके संविधान और नेताओं से होती है।  हर देश के नेता जहाँ देश की जिम्मेदारी लेते हैं वही देश का भविष्य बदलने और देश को आगे बढ़ाने की भी कुव्वत रखते हैं।  यही वजह है की भारत के हर नागरिक की उम्मीदें देश के युवा नेताओं से बंधी हुई हैं।

जानते हैं भारत के 5 सबसे कम उम्र वाले नेताओं को:-

1 प्रियंका गाँधी वाड्रा (INC)

47 वर्ष की प प्रियंका गाँधी वाड्रा भारतीय राजनीतिज्ञ हैं जो नेहरू-गाँधी परिवार से ताल्लुक रखती हैं. प्रियंका गाँधी को इस लोकसभा चुनाव में कई बार प्रचार प्रसार करते देखा गया। प्रियंका कांग्रेस की हैं।  प्रियंका गाँधी ने 1998 में हुए एक इंटरव्यू में कहा की ‘मेरे दिमाग में यह बात बिलकुल स्पष्ट है कि राजनीति शक्तिशाली नहीं है, बल्कि जनता अधिक महत्वपूर्ण है और मैं उनकी सेवा राजनीति से बाहर रहकर भी कर सकती हूँ। तथापि उनके औपचारिक राजनीति में जाने का प्रश्न परेशानीयुक्त लगता है: “मैं यह बात हजारों बार दोहरा चुकी हूँ, कि मैं राजनीति[3] में जाने की इच्छुक नहीं हूँ…”

2 -सचिन पायलट (INC)

लेफ्टिनेंट सचिन पायलट 41 वर्ष के एक भारतीय राजनीतिज्ञ तथा वर्तमान राजस्थान सरकार में उपमुख्यमंत्री हैं. वे भारत सरकार की पंद्रहवीं लोकसभा के मंत्रीमंडलमें संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री में मंत्री रहे है। ये चौदहवीं लोकसभा में राजस्थान के दौसा लोकसभा क्षेत्र का भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की ओर से प्रतिनिधित्व करते हैं। ये 2012 से अब तक भारतीय राजनीति का हिस्सा बने हुए हैं

3-राज्यवर्धन सिंह राठौड़(BJP)

49 साल के राजयवर्धन सिंह ने 2013 में अपने राजनितिक करियर की शुरुवात की थी वो 16 वीं लोकसभा में जयपुर ग्रामीण लोकसभा क्षेत्र से भाजपा के सांसद चुने गये। राजयवर्धन 2004 ग्रीष्मकालीन ओलम्पिक, एथेंस में डबल ट्रैप स्पर्धा में रजत पदक विजेता हैं। वो प्रथम भारतीय हैं जिन्होंने व्यक्तिगत रजत पदक जीता। उनसे पहले ब्रितानी मूल के भारत में जन्मे नॉर्मन प्रिचर्ड ने 1900 ग्रीष्मकालीन ओलम्पिक में दो रजत पदक जीते।10 सितंबर 2013 को राठौर बीजेपी में शामिल हुए और इसके पहले वह रेवाड़ी में नरेंद्र मोदी की एक रैली का हिस्‍सा बने थे। राठौर ने राजनीति में आने के लिए सितंबर 2013 में ही सेना से वॉलेंटरी रिटायरमेंट ले लिया और बतौर कर्नल वह अपने पद से रिटायर हुए।

4 -ज्योतिरादित्य माधवराव सिंधिया (INC)
ज्योतिरादित्य भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से सम्बन्ध रखते हैं। 48 वर्षीय ज्योतिरादित्य सिंधिया मनमोहन सिंह के सरकार में केन्द्रीय मंत्री रहे हैं इनके पिता स्व.श्री माधवराव सिन्धिया जी भी गुना से कांग्रेस के विजयी उम्मीदवार रहे थे। ज्योतिरादित्य सिंधिया 2019 लोकसभा चुनाव में गुना सीट से कांग्रेस उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ा।भाजपा उम्मीदवार के.पी.यादव ने 125549 वोटों से हराया। ये 2012 से अब तक राजनीती में बने हुए हैं
5-मिलिंद देवड़ा (INC)
31 अगस्‍त 2009 को उन्‍होंने केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी समिति का सदस्‍य घोषित किया गया। 30 अक्‍टूबर 2012 को वे केंद्रीय नौका-परिवहन के राज्‍यमंत्री बनें। राजनीति के अलावा मिलिंद गिटार बजाना भी जानते हैं और वे खेलों को प्रोत्‍साहन देने वाले युवा राजनीतिज्ञ हैं, वे क्रिकेट क्‍लब ऑफ़ इंडिया, बॉम्‍बे जिमखाना आदि के सदस्‍य हैं। मिलिंद 2004 से अब तक राजनीती में बने हुए हैं
Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.in
Categories
भारत

विजय दिवस 2018: आखिर क्यों मनाया जाता है यह दिवस?

यहाँ जाने की कैसे भारत ने पाकिस्तान पर पाई थी विजय?


विजय दिवस एक ऐसा दिन है जिसे कोई भी नहीं भूल सकता क्यूंकि इस दिन भारत और पकिस्तान के बीच हूआ युद्ध में कई जवान शहीद हुए और भारत ने 1971 में बांग्लादेश को पाकिस्तान से आज़ाद कराया था । भारत की इस बड़ी जीत को याद करते हुए हर साल विजय दिवस 16  दिसम्बर को मनाया जाता है.

यहाँ जाने आखिर ने इस युद्ध में भारत ने पाकिस्तान पर कैसे जीत पाई?

यह युद्ध 1971 मे शुरू हुआ था जब पाकिस्तान फौज गैर-मुस्लिम आबादी को निशाना बना  रहे थे जिसके बाद भारत ने यह खबर सुनकर  इस युद्ध में भाग लिया। यह युद्ध महज 14 दिन तक चला जिसमे 93 हजार पाक सैनिकों ने खुद को हथियारों समेत सरेंडर किया था. साथ ही इस युद्ध में भारत के 3 हजार  जवान  शहीद हो गए और कुछ घायल भी हुए थे. लेकिन यह युद्ध भारत के लिए ऐतिहासिक युद्ध रहा है इसलिए हर साल 16  दिसंबर को  विजय दिवस मनाया जाता है

बता दे की यह युद्ध तब हुआ था जब भारत में कांग्रेस की सरकार थी उस समय हमारी प्रधानमंत्री  इंदिरा गाँधी थी. उन्होंने जनरल मानेकशॉ की राय लेकर इस युद्ध में उन्हें जाने की अनुमति दी क्यूंकि तब पाकिस्तानी वायुसेना के विमानों ने भारतीय वायु सीमा को पार करके पठानकोट, श्रीनगर, अमृतसर, जोधपुर, आगरा आदि सैनिक हवाई अड्डों पर बम गिराना शुरू कर दिया था .

इसलिए  इंदिरा गाँधी ने तुरंत फैसला लेकर  जनरल मानेकशॉ को पूरी सेना के साथ युद्ध के लिए भेजा. भारतीय सेना ने युद्ध पर पूरी तरह से अपनी पकड़ बना ली और अंत में भारत को पाकिस्तान पर जीत हासिल हुई.

लेकिन भारत के जितने भी जवान इस युद्ध में शहीद हुए उनकी याद में यह दिन मनाया  जाता  है  ताकि  हर देशवासी के दिल में देशप्रेम को लेकर जो उमंग है  वो जिन्दा रहे.
Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in

Categories
भारत

आज गाँधी जयंती के साथ स्वच्छ भारत अभियान को हुए 4 साल

जाने स्वच्छ भारत अभियान से जुड़ी  कुछ अहम बातें 


आज यानि 2  अक्टूबर को गाँधी जयंती है.  इस  दिन महात्मा गाँधी का जन्म  हुआ था जिनका पूरा नाम  मोहनदास  करम चाँद गाँधी  है.  वही आज के दिन  देश के प्रधान मंत्री  द्वारा  शुरू किया  गया  स्वच्छ  भारत अभियान को भी 4  साल पूरे हो चुके है. इसी के साथ देश में स्वच्छता को लेकर सभी को साफ़ सफाई की और प्रेरित  किया गया. ताकि लोग अपने आस- पास सफाई रखे और बीमारियों से बचें. महात्मा  गाँधी  का स्वच्छ  भारत  नरेंद्र सपना प्रधानमंत्री  नरेंद्र   मोदी ने पूरा कर दिखाया.

Swachhata Hi Seva

इन 4  सालो में स्वच्छता अभियान के जरिए 8 करोड़ शौचालय बनवाए गए. जिसमे 90 प्रतिशत  से ज्यादा भारतीय शौचालय का इस्तेमाल कर पा रहे है.  जबकि 2014  में यह संख्या  काफी कम  थी. सिर्फ 40  प्रतिशत लोग ही शौचालय  को का इस्तेमाल कर रहे थे.  लेकिन प्रधान मंत्री   नरेंद्र मोदी ने स्वच्छता  अभियान शुरू कर के इस संख्या को बढ़ा दिया।

जाने स्वच्छ भारत अभियान से जुड़ी  यह  कुछ  अहम बातें : 

1 .स्वच्छ भारत अभियान  के जरिये भारतीय रेलवे ने 37,000 जैव-शौचालयों की स्थापना की और 2018 तक, फिर सभी ट्रेन-कोच जैव-शौचालयों को फेंक दिया।

2 .स्वच्छ अभियान को प्रमोट करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कपिल शर्मा, भारतीय क्रिकेट टीम, किरण बेदी, सौरव गांगुली,  और अमिताभ बच्चन  सितारों का नाम आगे किया।

3 . इस अभियान के जरिये कई सारे राज्यों से लोग ने इसमें अपना योगदान के लिए इस अभियान से जुड़े.

4 . सरकार ने 201 9 तक लगभग 11.1 करोड़ पर्सनल और कम्युनिटी शौचालयों का निर्माण करने का लक्ष्य रखा है .

5 . स्वच्छ भारत अभियान को और प्रमोट करने  के लिए मोदी ने स्वच्छ  भारत अभियान पार्ट-2  स्वच्छता  ही सेवा अभियान को हाल ही मे  लॉन्च किया है.

तो यह है स्वच्छ अभियान से जुड़ी कुछ एहम बातें जो यह साबित करते है  की देश स्वच्छता  की और बढ़ रहा है सभी देश को स्वच्छ रखने में  अपना पूरा योग दान दे रहे है।  अब वो दिन दूर नहीं जब भारत  सफाई को लेकर बाकि देश से भी टॉप पर रहेगा

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
भारत

पी.एम मोदी ने बढ़ाया एक बार फिर से दोस्ती का हाथ

भारत से चीन को चीनी , आयात करने की तैयारी 


यह बात सभी जानते है की पी एम मोदी सिर्फ देश के पीएम नहीं बल्कि एक बहुत अच्छे से इंसान है. वह कभी भी दूसरो की मदद करने से पहले पीछे नहीं हटते चाहे वो दोस्त हो या दुशमन. इस बार पीएम मोदी ने इस बात को साबित कर दिया.

भारत के साथ चीन के रिश्ते भले ही कुछ समय से अच्छे न हो लेकिन भारत ने फिर भी चीन के आगे मदद के द्वारा चीन के आगे दोस्ती का हाथ बढ़ाया है, भारत पहली बार चीन को चीनी निर्यात करने जा रहा है. सूत्रों के मुताबिक पीएम मोदी ने चीन यात्रा के दौरान शी जिनपिंग को यह वादा किया की भारत 10 से 15 लाख टन चीनी निर्यात की जाएगी. यह सौदा करीब 50 करोड़ डॉलर का हो सकता है.साथ ही चावल और दवाओं के निर्यात से भी व्यापार घाटे में कमी लाने की उम्मीद की जा रही है.

ऐसा बताया जाता है की चीन जो है वो चीनी के सबसे बड़े आयातकों में से है. चीन के उपभोक्ता हर साल करीब 1.4 करोड़ टन चीनी का उपभोग करते हैं. चीन में चीनी का उपभोग भारत से बहुत कम है, जबकि वहां की जनसंख्या भारत से ज्यादा है. भारत में हर साल करीब 2.5 करोड़ टन चीनी का उपभोग होता है.

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.in

 

Categories
भारत

शिल्पा शिंदे और सुनील ग्रोवर लगाएंगे आईपीएल मे कॉमेडी का तड़का

क्रिकेट के मौसम में कॉमेडी की बरसात


सुनील ग्रोवर बहुत जल्द अपने नये शो “धन धना धन” में  टीवीपुर की भाभीजी, बिग बॉस 11 की विनर शिल्पा शिन्दे के साथ नजर आएंगे। हाल ही में सुनील ग्रोवर ने अपना प्रोमो लॉन्च किया है। सुनील ग्रोवर के इस प्रोमो में भारत के क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी भी नजर आए है।

सुनील ग्रोवर कपिल शर्मा शो में डॉ मशहूर गुलाटी का किरदार और कॉमेडी नाईट्स विथ कपिल शर्मा में गुत्थी के किरदार से बहुत मशहूर हो गये थे.

सुनील ग्रोवर एंड शिल्पा शिन्दे

उन्होनें अपने दोनो ही किरदारो से लोगो को खूब गुदगुदाया और काफी ज्यादा सुर्खियां बटोरी। अब उनके आने वाले नये शो में भी ये दावा किया जा रहा है की सुनील ग्रोवर का एक नया अंदाज देखने मिलेगा जो लोगो को फिर अपने कॉमेडी पंच से हंसने पर मजबूर कर देगा.

Also Read: रणवीर सिंह के बाद अब परिणीती ने आईपीएल में परफॉर्म करने से किया इनकार

कापिल शर्मा के साथ स्टेज शेयर करने के बाद अब सुनील ग्रोवर अपने इस नये शो में अकेले कितने चार चांद लगाते है ये तो शो देखने के बाद पता चलेगा। क्रिकेट फीवर के चलते अपने शो को  IPL के समय लॉन्च करने खतरो के खिलाड़ी से कम नहीं है.

सुनील ग्रोवर के इस शो में कपिल शर्मा के टीम मेमबर अली अज़गर और सुगंधा मिश्रा के जॉइन करने की भी खबर सामने आ रही हैं। साथ ही क्रिकेट सम्राट कपिल देव और विरेंद्र सहवाग भी शामिल होंगे। तो ये शो क्रिकेट-कॉमेडी का मिश्रण होगा। शो “धन धना धन” में ठहाको के साथ चौको-छक्को की भी बारिश होगी। क्योंकी ये शो 7 अप्रैल मतलब (आईपीएल) के साथ शुरुआत  कर रहा है.

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.in

 

Categories
भारत

काले हिरण केस मे सलमान खान दोषी करार

सलमान खान को हो सकती है जेल


20 साल पुराने काले हिरण केस को लेकर आज जोधपुर सीजीएम कोर्ट में होगी सुनवाई. जज के फैसले से होगी बॉलीवुड एक्टर सलमान खान keके किस्मत का फैसला. सलमान खान जोधपुर के लिए रवाना हो चुके है.

इससे पहले भी सलमान खान को इस  केस में कुछ दिन के लिए जेल हुई थी. जिसमे उन्हें जेल के बैरक नंबर एक में रखा गया था. वह अगस्त के महीने में 7 दिन के लिए जेल में रहे थे.

सलमान खान को हुई जेल

हिरण केस मामले में अकेले सलमान ही नहीं बल्कि उनके साथ सैफ अली खान, तब्बू और  नीलम भी शामिल है. ये सभी सलमान के साथ फैसले के लिए जोधपुर कोर्ट पहुच गए है. अगर सलमान को इस केस में सजा होती है तो उन्हें जेल भी हो सकती है. इससे सलमान खान के काम पर काफी असर पड़ेगा उनके कई प्रोजेक्ट्स रुक सकते है .

सलमान के काम पर असर पड़ने का मतलब है की उनके करोड़ों रूपए डूब सकते है. फिलहाल सलमान रेस 3 की शूटिंग कर रहे है. इस फिल्म की शूटिंग अभी पूरी नहीं हो पाई है, इसी बीच हिरण केस पर फैसला आना  सलमान के करियर पर पहाड़ टूटने जैसा ही है.

Also Read: ये एक्ट्रेस जल्द करने वाली है बॉलीवुड में एंट्री

फिल्म रेस 3 को  रेमो डिसूजा डायरेक्ट कर रहे है. इस केस में सलामन को सजा हो गई तो यह फिल्म बीच में ही अटक सकती है, इस फिल्म में लगे पैसे भी फंस सकते है. रेस 3 ही नहीं बल्कि सलमान इसके साथ भारत नाम की एक फिल्म में काम कर रहे हैं जिससे डायरेक्ट कर रहे है अली अब्बास जफर. इस फिल्म की शूटिंग जून में शुरू होने वाली है  और ये शूटिंग पंजाब, मुंबई, दिल्ली और अबुधाबी में होनी  है.

जोधपुर के सीजीएम कोर्ट में सलमान फिलहाल पहुच चुके है अब  देखना ये है की क्या सलामन खान को जेल हो जाएगी या उनकी किस्मत एक बार फिर उनको बचा लेगी.

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.in

 

 

Categories
भारत

राहुल गांधी ने चुनावी मौसम में तेजस्वी के साथ किया लंच

गुजरात के चुनावी रैली में व्यस्त है राहुल


गुजरात चुनाव जैसे-जैसे पास आते दिख रहे हैं। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी अपनी चुनावी रणनीति में बदलाव ला रहे हैं। मंदिरों में जाना, लोगों से मिलना और सबसे प्रमुख किसानों के मुद्दे पर बातचीत करना शामिल कर दिया। इस दरमियान राहुल 2019 की भी तैयारी कर रहे हैं। इसके मद्देनजर वह अपने विपक्षियों को आड़े हाथों ले रहे हैं।

राहुल गांधी

तेजस्वी ने लंच के लिए राहुल का आभार प्रकट किया

गुजरात के बाद आगे की रणनीति को आगे बढ़ाते हुए राहुल गांधी ने बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव से मुलाकात की।

तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर राहुल को लंच के लिए शुक्रिया भी किया। लंच के लिए राहुल आपने बिजी शेड्यूल के बीच भी लंच के लिए समय निकाला इसके लिए शुक्रिया.

इससे पहले राहुल गुजरात के दौरे पर हैं। जहां वह लगातार लोगों को संबोधित कर रहे हैं।

विदेश से लौटने के बाद आक्रमक रुप मे हैं राहुल

आपको बता दें राहुल गांधी से अमेरिका के दौर से लौटे है। तभी उनका अंदाज आक्रामक हो गया है। इसके अलावा सोशल मीडिया पर राहुल के तीखे ट्वीट, शायराना वार लोगों को खूब भा रहे हैं। यही कारण है कि अभी तक सोशल मीडिया पर बीजेपी से पिछड़ने वाली कांग्रेस अब टक्कर दे रही है। –

इसके साथ ही कांग्रेस का साथ कोई नया नहीं है। साल 2015 में बिहार विधानसभा चुनाव में बीजेपी के खिलाफ कांग्रेस-राजद-जदयू ने गठबंधन किया था। इस दौरान तेजस्वी राहुल की जोड़ी भी साथ में दिखी थी। जदयू ने जब महागठबंधन तोड़कर बीजेपी से हाथ मिलाया। उसके बाद भी कांग्रेस-राजद साथ ही रहे। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भी दोनों दलों के बीच मामला सुलझानें की कोशिशें की थी।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.in