Categories
हॉट टॉपिक्स

जाने कोरोना की तीसरी लहर से कैसे निपटने के लिए तैयार है सरकार

कोरोना की तीसरी लहर से कुछ इस तरह निपटेगी सरकार


पिछले साल से फैला कोरोना अभी भी रुकने का नाम नहीं ले रहा है अभी हमारे देश में कोरोना की दूसरी लहर की तबाही थमी भी नहीं है कि वैज्ञानिकों ने कोरोना की तीसरी लहर के आने का ऐलान कर दियाऔर सभी लोगों को एक नए संकट की चेतावनी दे डाली है। ऐसे में सभी लोगों के मन में ये सवाल उठने लगा है कि एक तरफ तो कोरोना की पहली और दूसरी लहर ने हमारे पूरे स्वास्थ्य सिस्टम की पोल खोलकर रख दी है ऐसे में अगर कोरोना की तीसरी लहर आती है तो हमारी सरकार इससे कैसे निपटेंगी। जहां वैज्ञानिकों ने कोरोना की तीसरी लहर के आने का ऐलान कर रखा है तो वही सभी लोग डर भी रही है कि कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए सरकार ने कोई ठोस तैयारी अभी से की है या नहीं। तो चलिए विस्तार से जानते है कि कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए सरकार ने क्या तैयारियां की है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से की मुलाकात

आज मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। उनकी यह मुलाकात लगभग दो घंटे की थी। इस मुलाकात में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना की तीसरी लहर के बारे में बात की। साथ ही साथ उन्होंने राज्य सरकार के एक साल के कार्यकाल समेत तमाम मुद्दों पर चर्चा की। इस बैठक की जानकारी खुद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर दी। शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर बताया कि आज नई दिल्ली में उनकी भेट प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हुई। इस बैठक में उन्होंने मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस की वर्तमान स्थिति से अवगत कराया। इसके साथ ही साथ उन्होंने कोरोना नियंत्रण को लेकर राज्य के द्वारा अब तक किए गए प्रयासों की जानकारी दी। इतना ही नहीं उन्होंने तीसरी लहर से निपटने के लिए तैयारियों पर भी बात की।

और पढ़ें:  जानें नुसरत जहां की प्रेग्नेंसी में किसके साथ जुडा रहा है नाम

कोरोना की अगली लहर की तैयारी’

कोरोना की तीसरी लहर के लिए देश कितना तैयार है ये तो समय के साथ ही पता चलेगा। अगर हम दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल की बात करें तो दिल्ली में कोरोना मरीजों की देखभाल करने के लिए 5000 युवाओं को उनके द्वारा 2-2 हफ़्ते की ट्रेनिंग दी जाएगी। कोरोना की तीसरी लहर से बचने के लिए युवाओं को ये ट्रेनिंग आईपी यूनिवर्सिटी दिलवाएगी। सभी युवाओं को दिल्ली के 9 बड़े मेडिकल इंस्टीट्यूट में बेसिक ट्रेनिंग की सुविधा मिलेगी। दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल के अनुसार युवाओं की ट्रेनिंग होने के बाद स्वास्थ्य सुविधाएं बढ़ेंगी। उनके अनुसार इन लोगों को कोरोना मरीजों को मास्क लगवाने, उन्हें ऑक्सीजन लगवाने और सैनेटाइज करने जैसे बेसिक कामों की ट्रेनिंग दी जाएगी।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com
Categories
हॉट टॉपिक्स

जानें नुसरत जहां की प्रेग्नेंसी में किसके साथ जुडा रहा है नाम

यश दासगुप्ता और नुसरत जहां राजस्थान एक साथ गए ट्रिप पर..

आपको बता दे कि इन दिनों एक बार फिर तृणमूल कांग्रेस की सांसद और बंगाली एक्ट्रेस नुसरत जहां काफी ज्यादा चर्चा में आई है। अपनी कारनामों के कारण नुसरत अक्सर सुर्खियों में रहती हैं। जब से नुसरत तृणमूल कांग्रेस की सांसद बनी है तब से ही उन्हें विवादों का सामना करना पड़ रहा है। अभी एक बार फिर नुसरत काफी ज्यादा चर्चा में आ रही है इस बार उनके चर्चा में आने का कारण उनकी प्रेग्‍नेंसी है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार नुसरत छह महीने से प्रेग्‍नेंट है और जल्द ही माँ बनने वाली है। लेकिन हैरानी की बात ये है कि उनके पति और बिजनेस मैन निखिल जैन का कहना है कि  यह  बच्‍चा उनका नहीं। उनके अनुसार नुसरत और वो पिछले छह महीने से एक दूसरे से अलग रह रहे हैं। फिर ये बच्चा उनका कैसे हो सकता है।

और पढ़ें:  देश में यलो फंगस का अटैक, जानें क्या है इसके लक्षण

जाने क्यों नुसरत ने पति निखिल जैन के साथ अपनी शादी को बताया अवैध

अभी हाल ही में चर्चा में आई  थी कि टीएमसी सांसद नुसरत ने सभी लोगों को यह कह कर चौंका दिया कि पति निखिल जैन के साथ उनकी शादी वैध नहीं हैं। फिर तलाक कैसा। अभी हाल ही में एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार नुसरत प्रेग्‍नेंट है और जल्द ही माँ बनने वाली है। लेकिन नुसरत के पति के अनुसार उन्हें इसके बारे में कुछ भी मालूम नहीं। उन्होंने कहा वो पिछले साल नवंबर से ही नुसरत से अलग रह रहे हैं। निखिल जैन की इस बात के बाद से ही हर कोई शॉक्ड है और जिसके बाद ही खबरों के गलियारों में नुसरत के अफेयर की चर्चा जोरो शोरों से चल रही है।  एक रिपोर्ट के अनुसार नुसरत का एक्टर यश दासगुप्ता के साथ अफेयर था। ऐसे भी सभी लोग जानना चाहते है कि ये यश दासगुप्ता है कौन।

जाने कौन है यश दासगुप्ता

यशदास गुप्ता बंगाल के एक पॉपुलर एक्टर है। आपको बता दे कि इस साल 2021 में हुए पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में यश दासगुप्ता ने बीजेपी का दामन थाम लिया था। वो पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में खड़े भी हुए थे लेकिन उन्हें हार का सामना करना पड़ा।  खबरों के अनुसार पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के दौरान ही यश दासगुप्ता नुसरत को डेट कर रहे थे। इस बात को हवा तब मिलीजब दोनो एक साथ राजस्थान ट्रिप पर गए।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
हॉट टॉपिक्स

देश में यलो फंगस का अटैक, जानें क्या है इसके लक्षण

जाने क्या है ये यलो फंगस, कैसे है और से ज्यादा खतरनाक


जैसा की हम अभी लोग जानते हैं कि पिछले साल से ही पूरी दुनिया कोरोना वायरस महामारी को झेल रही है इस महामारी के कारण लाखों लोगों की जान तक चली गई। अभी दुनिया इस कोरोना वायरस महामारी से उभर नहीं पायी थी कि ब्‍लैक फंगस और व्‍हाइट फंगस शुरू हो गया। इतना ही नहीं ब्‍लैक फंगस और व्‍हाइट फंगस के बाद तो अभी हमारे देख में यलो फंगस भी अटैक कर चुका है। यलो फंगस का पहला मामला गाजियाबाद में देखने को मिला था। खबरों की माने तो यलो फंगस को ब्‍लैक और व्‍हाइट फंगस से ज्‍यादा खतरनाक बताया जा रहा है। गाजियाबाद के जिस मरीज में यलो फंगस पाया गया है उनकी उम्र महज 34 साल है और वो पहले कोरोना से भी संक्रमित हो चुका था साथ ही साथ वो मरीज डाइबिटीज से भी पीड़ित है।

जाने क्या है ये यलो फंगस

आपको बता दे कि यलो फंगस, ब्‍लैक और व्‍हाइट फंगस से ज्यादा खतरनाक है। यलो फंगस को घातक बीमारियों में से एक माना जा रहा है। यलो फंगस पहले मरीज को अंदर से कमजोर करता है उसके बाद मरीज को सुस्‍ती आना, कम भूख लगना या फिर बिल्‍कुल भूख खत्‍म होने की शिकायत आने लगती है। इतना ही नहीं यलो फंगस जब जिस व्यक्ति को होता है तो उसका वजन लगातार कम होने लगता है। और धीरे धीरे ये काफी ज्यादा घातक हो जाता है। अगर किसी मरीज को पहले से कही पर भी कोई चोट लगी हो या कटा हो तो उस जगह से मवाद का रिसाव होने लगता है। उसके बाद मरीज का घाव काफी धीमी गति से ठीक होता है। इस दौरान मरीज की आंखें अंदर की तरफ धंस जाती हैं और शरीर के कई अंग काम करना बंद कर देते है।

और पढ़ें:  जानें भारत के 5 टॉप न्यूज़ एंकर के बारे में, साथ ही उनके सैलरी पैकेज

जाने यलो फंगस होने पर क्या करें

अगर किसी व्यक्ति को काफी समय से काफी ज्यादा सुस्‍ती आ रही हो या बहुत कम भूख लग रही हो तो या फिर उसका खाने का बिलकुल भी मन न करता हो तो उससे आपको बिलकुल भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। जितना जल्दी हो सकें आपको व्यक्ति को डॉक्टर के पास लेकर जाना चाहिए। यलो फंगस का इलाज amphoteracin b इंजेक्शन है। जो कि एक ब्रॉड स्पेक्ट्रम एंटीफ़ंगल है।

जाने क्यों फैलता है यलो फंगस

आपको बता दें कि अभी तक की जानकारी के अनुसार लोगों में यलो फंगस गंदगी के कारण फैलता है। इसलिए आपको अपने घर के आस पास सफाई रखनी चाहिए। और जितना हो सके अपना और अपने घर वालों का ध्यान रखना चाहिए। अपने घर और अपने आस पास सफाई रख कर आप फंगस से छुटकारा पा सकते है। पुराने खाद्य पदार्थों को अपने घर से जल्द से जल्द हटाने से भी आप इस खतरनाक फंगस से बचा सकते है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
हॉट टॉपिक्स

जानें भारत के 5 टॉप न्यूज़ एंकर के बारे में, साथ ही उनके सैलरी पैकेज

जाने भारत के टॉप न्यूज़ एंकर के बारे में


ये बात तो शायद हमें आपको बताने कि जरूरत नहीं है कि एक न्यूज़ चैनल में एंकर का क्या महत्त्व होता है। किसी भी न्यूज़ चैनल में एक एंकर का रोल बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। एक एंकर ही होता है जो लोगों के सामने खबर को रखता है। सिर्फ लोगों के सामने खबर नहीं रखता बल्कि खबरों से लोगों को भी जोड़ता है। इसका सारा दारोमदार एक एंकर के हाथ में ही होता है। ये बात तो सभी लोग जानते हैं कि खबर की रोचकता सिर्फ खबर में ही नहीं बल्कि उसे पेश करने वाले एंकर और पेश करने का तरीका भी खबर के प्रति हमारी दिलचस्पी बनाए रखने का अहम तरीका है। किसी भी न्यूज़ चैनल को या न्यूज़ शो को हिट करने की जिम्मेदारी न्यूज़ एंकर पर ही है। जिसके लिए न्यूज़ चैनल उन्हें अच्छी खासी रकम भी देते हैं तो चलिए आज हम आपको भारत के बेस्ट 5 न्यूज़ एंकर के बारे में बताएंगे साथ ही आपको बतायेगे उनका सैलरी पैकेज।

बरखा दत्त: बरखा दत्त को पत्रकारिता की दुनिया में किसी इंट्रोडक्शन की जरूरत नहीं है। बरखा दत्त पत्रकारिता की दुनिया में एक जाना माना चेहरा है। उन्हें एक तेज-तर्रार न्यूज़ एंकर के रूप में जाना जाता है। बरखा दत्त पिछले कई सालों से NDTV से जुडी हुई है। अगर हम बात करें उनके सैलरी पैकेज की तो उन्हें हर साल करीब 3 करोड़ रुपए का पैकेज मिलता था। वर्तमान में वह मोजो न्यूज से जुड़ी हुई हैं।

रवीश कुमार: रवीश कुमार को भी पत्रकारिता की दुनिया में किसी इंट्रोडक्शन की जरूरत नहीं है। रवीश कुमार भी पिछले कई सालों से NDTV से ही जुड़े हुए है। रवीश कुमार को तो पत्रकारिता के क्षेत्र में कई सारे पुरस्कार भी मिल चुके है। अभी रवीश कुमार हमारे देश के सबसे प्रसिद्ध पत्रकारों में से एक है। अगर हम बात करें रवीश कुमार के सैलरी पैकेज की तो उन्हें हर साल करीब 2.16 करोड़ रुपए मिलते है।

सुधीर चौधरी: ज़ी न्यूज़ के वरिष्ठ संपादक और बिजनेस हेड सुधीर चौधरी को पत्रकारिता की दुनिया में भला कौन नहीं जानता। सुधीर चौधरी का न्यूज़ शो डीएनए दुनिया भर में काफी ज्यादा प्रसिद्ध है। अगर बात की जांए सुधीर चौधरी के सैलरी पैकेज की तो उन्हें हर साल करीब  3 करोड़ रुपए मिलते है।

और पढ़ें:  Eid-ul-Fitr 2021: कोरोना वायरस में कुछ इस तरह मनाएं ईद का त्योहार, दोस्तों और परिवार वालों को भेजे ये मैसेज

अंजना ओम कश्यप: पत्रकारिता की दुनिया की जानी मानी एंकर अंजना ओम कश्यप जितना अपनी एंकरिंग के लिए प्रसिद्ध है उतना ही वो अपनी खूबसूरती के लिए भी जानी जाती है। साथ ही साथ वो अपनी बेबाक और कटाक्ष अंदाज के लिए भी जानी जाती है। अगर बात की जाए अंजना ओम कश्यप के सैलरी पैकेज की तो उन्हें हर साल करीब 1 करोड़ रुपए मिलते है।

अर्नब गोस्वामी: अर्नब गोस्वामी को भी पत्रकारिता की दुनिया में किसी इंट्रोडक्शन की जरूरत नहीं है। पत्रकारिता की दुनिया में अर्नब गोस्वामी अपने खास अंदाज के लिए जाने जाते हैं हालांकि अभी अर्नब गोस्वामी ने अपना खुद का चैनल खोल लिया है। उनका उनके चैनल पर ही एक शो आता है ‘पूछता है भारत’ जो कभी ज्यादा प्रसिद्ध है। अगर हम बात करें अर्नब गोस्वामी के सैलरी पैकेज की तो उन्हें हर साल करीब 12 करोड़ रुपए मिलते है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
हॉट टॉपिक्स

Eid-ul-Fitr 2021: कोरोना वायरस में कुछ इस तरह मनाएं ईद का त्योहार, दोस्तों और परिवार वालों को भेजे ये मैसेज

ईद-उल फित्र के मौके पर अपने परिवार वालों को और दोस्तों ऐसे दे मुबारकबाद


Eid-ul-Fitr 2021: ये बात तो हम सभी लोग जानते हैं कि ईद मुस्लिम समुदाय का सबसे बड़ा त्योहार है और इस ईद को ईद-उल फित्र या फिर लोग मीठी ईद के नाम से भी जानते है। ईद-उल फित्र का त्योहार रमजान के महीने में रोज़े रखने के बाद ईद का चांद दिखने के बाद ही मनाया जाता है। इसको भाई चारे का प्रतीक भी माना जाता है। साथ ही इसका जश्न 3 दिनों तक मनाया जाता है। लेकिन जैसे की हम सभी लोग देख रहे है कि अभी हमारे देश के ज्यादातर राज्यों में लॉकडाउन जैसी पाबंदियां लगाई गई है जिसके चलते सभी लोग अपने अपने घरों पर ही रहने को मजबूर है लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि आप अपने परिवार वालों को और दोस्तों को मुबारकबाद नहीं दे सकते। तो चलिए आज हम आपके लिए ईद-उल फित्र के मौके पर कुछ शानदार मैसेज लाए है जिन्हें आप अपने दोस्तों और परिवार वालों को भेज सकते है।

Image Source- Pixabay

1. तमन्ना आपकी सब पूरी हो जाए,

हो आपका मुकद्दर इतना रोशन कि,

आमीन कहने से पहले ही आपकी हर दुआ कबूल हो जाए।

ईद मुबारक 2021

2. देखा ईद का चांद तो

मांगी ये दुआ रब से,

देदे तेरा साथ ईद का तोहफा समझ कर।

ईद मुबारक 2021

3. ऐ चांद उनको, मेरा ये पैगाम कहना

खुशी का दिन और हंसी की शाम कहना

जब देखें वो तुझे, मेरी तरफ से उनको ईद मुबारक कहना

ईद मुबारक 2021

और पढ़ें:  कोरोना से रिकवर करने के बाद आप कब लगवा सकते हैं वैक्सीन?

4. ये दुआ मांगते हैं हम ईद के दिन,

बाकी ना रहे आपका कोई गम

आपके आंगन में उतरे रोज खुशियों भरा चांद,

और महकता रहे फूलों का चमन ईद के दिन।

ईद मुबारक 2021

5. रात को नया चांद मुबारक

चांद को चांदनी मुबारक

फलक को सितारे मुबारक

सितारों को बुलन्दी मुबारक

और आपको हमारी तरफ से ईद मुबारक।

ईद मुबारक 2021

जाने कब मनाया जाएगा ईद-उल फित्र का त्योहार?

हर साल रमजान के पाक महीने में रोज़े रखने के बाद अंत में ईद का त्योहार बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। हालांकि, हर साल ईद 29 या फिर 30 रोज़े रखने के बाद ही मनाई जाती है, ये पूरी तरह से चांद पर निर्भर होता है। अगर हम इस साल की बात करें, तो इस साल अगर 12 मई को 29 वें रोज़े के दिन चांद दिखाई दिया तो ईद का त्योहार13 मई 2021 को मनाया जाएगा। और अगर 13 मई को यानि की 30वें रोज़े के दिन चांद दिखा तो ईद को त्योहार 14 मई 2021 को मनाया जाएगा। अब देखना ये है कि ईद का चांद दिखाई कब देता है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
हॉट टॉपिक्स

एक दिन में हुए कोरोना के 19.83 लाख टेस्ट, जिनमे से 3.48 लाख लोग निकले संक्रमित, जाने पॉजिटिविटी रेट का क्या है हाल

जाने कितनी गिरावट आई पॉजिटिविटी रेट में


पिछले साल से फैले कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में तबाई मचाई हुई है। अभी हमारे देश में इस कोरोना वायरस की दूसरी लहर चल रही है जिससे सभी लोग मिल कर लड़ रहे है। इस कोरोना वायरस को हराने के लिए हमारे देश में लगातार टेस्टिंग भी हो रही है। बीते दिनों हमारे देश में कोरोना टेस्टिंग का रिकॉर्ड 19 लाख 83 हजार 804 तक पंहुच गया था। यह अभी तक का एक दिन में किये गए टेस्ट का सबसे बड़ा आंकड़ा है। इससे पहले 30 अप्रैल को 19.45 लाख टेस्ट किए गए थे। इन सबके बीच अच्छी खबर यह है कि टेस्टिंग बढ़ाने के बाद भी नए संक्रमितों में कोई बढ़ोतरी नहीं हुई। बीते दिन 3.48 लाख लोगों में ही कोरोना की पुष्टि हुई। यानि की अभी हमारे देश में पॉजिटिविटी रेट 17.6% है। जो की दो दिन पहले 24.9% था। बीते दिन सबसे अच्छी बात यह है कि कल लगातार दूसरे दिन नए संक्रमितों से ज्यादा ठीक होने वाले लोगों की संख्या थी। पिछले 24 घंटे में 3 लाख 55 हजार 256 लोग कोरोना से ठीक हुए। इससे पहले सोमवार को कोरोना से संक्रमितों लोगों के 3 लाख 29 हजार 491 केस आए थे जिनमें से 3 लाख 55 हजार 930 मरीज ठीक हुए थे।

मौत के आंकड़ों ने बढ़ाई देश की चिंता

पिछले कुछ दिनों में मौत के आंकड़ों ने देश की चिंता बढ़ा दी थी। बीते 24 घंटे में 4,198 लोगों ने अपनी जान गंवाई थी। ऐसा तीसरी बार हुआ है जब मौत का आंकड़ा 4 हजार के पार पंहुचा गया था। इससे पहले 7 मई को 4,233 लोगों ने और 8 मई को 4,092 लोगों ने इस कोरोना वायरस महामारी से अपनी जान गंवाई थी। इन दो बीते दिनों में एक्टिव कोरोना से संक्रमितों की संख्या करीब 42 हजार घट गयी है। 9 मई को सबसे ज्यादा 37.41 लाख मरीजों का इलाज चल रहा था। जबकि अब यह आंकड़ा घटकर 36.99 लाख ही रह गया है।

Read more: अगर आप भी गर्मियों में चाहते हैं चमकदार त्वचा, तो कुछ इस तरह करें अपनी त्वचा की देखभाल

देश के 18 राज्यों में लगाई गई लॉकडाउन जैसी पाबंदियां

अभी हमारे देश के 18 राज्यों में लॉकडाउन जैसी पाबंदियां लगाई गई है। इनमें हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान, ओडिशा, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, छत्तीसगढ़, केरल, गोवा, तेलंगाना, तमिलनाडु, मिजोरम और पुडुचेरी शामिल हैं। इन राज्यों में पिछले लॉकडाउन जैसे ही कड़े प्रतिबंध लगाए गए हैं। लोगों को अपने घरों पर ही रहने को कहा जा रहा है बिना किसी जरूरी काम के किसी को भी घर से बाहर जाने की अनुमति नहीं है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
हॉट टॉपिक्स

कोरोना से रिकवर करने के बाद आप कब लगवा सकते हैं वैक्सीन?


जाने कोरोना से रिकवर करने वाले लोग कब और कैसे लगवाएं वैक्सीन?


पिछले साल से फैला हुआ कोरोना वायरस आज भी रुकने का नाम नहीं ले रहा है अभी हमारे देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर चल रही है। जिसने पुरे देश में कोहराम मचाया हुआ है। लेकिन इस बार तो हमारे देश में इस वायरस से बचने के लिए टीकाकरण अभियान चल रहा है। जिसे पहले 45+ वाले लोगों के लिए शुरू किया गया था लेकिन अभी हाल ही में 1 मई से टीकाकरण अभियान 18+ के लोगों के लिए भी खोल दिया गया है। अभी हमारे देश में हर रोज लाखों लोग इस कोरोना संक्रमण का शिकार हो रहे है। ऐसे में अभी कोरोना से रिकवर होने वाले लोगों के मन में यह सवाल आ रहा है कि वे कब और कैसे वैक्सीन लगवा सकते हैं? क्योकि अभी कोरोना से रिकवर होने वाले लोगों के लिए वैक्सीनेशन के कोई भी खास निर्देश नहीं है। तो चलिए आज हम आपको इसके बारे में विस्तार से बतायेगे।

Image Source- Pixabay

जाने कब और कैसे लगवाएं वैक्सीन

सफदरजंग हॉस्पिटल के कम्यूनिटी हेड जुगल किशोर जी का कहना है कि कोरोना से रिकवर करने वाले लोगों को कोरोना वैक्सीन लगाने के लिए कम-से-कम 6 हफ्तों का इंतजार करना चाहिए। उसके बाद उन्होंने बताया, अगर कोई व्यक्ति कोरोना से रिकवर हुआ है और उसने कोरोना वैक्सीन का पहला डोज लगावाया है तो उसे दूसरे डोज के लिए 6 हफ्तों का इंतजार करना चाहिए। डाक्टर जुगल किशोर जी के अनुसार जिस दिन कोरोना से रिकवर हुए व्यक्ति के शरीर से कोरोना के लक्षण खत्म हो जाते हैं उसके बाद वो 6 से 8 हफ्तों के बाद कोरोना का टीका लगवा सकता है। और आपको बता दे कि कोरोना से रिकवर करने वाले लोगों की टीकाकरण प्रक्रिया भी आम लोगों के टीकाकरण प्रक्रिया की तरह ही होती है।

और पढ़ें: कोरोना में मरने वाले लोगों में 15 फीसदी वायु प्रदूषण के शिकार है-रिपोर्ट

Image Source- Pixabay

6 हफ्तों से पहले वैक्सीन लगाने के नुकसान

अगर आप कोरोना से रिकवर होने के तुरंत बाद ही वैक्सीन लगवाते है तो आपके शरीर में एंटीबॉडी बनने में दिक्कत होगी। डाक्टर जुगल किशोर ने बताया कि जब भी कोई मरीज कोरोना से रिकवर हो जाता हैं तो उनके शरीर में एंटीबॉडी बनने की प्रक्रिया शुरू हो जाती है। और वैक्सीन भी शरीर में जाकर एंटीबॉडी बनाती है लेकिन अगर आपके शरीर में रिकवर होने के कारण एंटीबॉडी बनाने की प्रक्रिया शुरू हुई है और ऐसे में आप कोरोना की वैक्सीन भी ले लेंगे तो आपको दिक्कत हो सकती है। अगर आप बिना 6 हफ्तों का इंतजार किये वैक्सीन लगवाएंगे तो वो आपके शरीर में जाकर अपना काम करने में असमर्थ होगी।

Image Source- Pixabay

वैक्सीन लगवाने के बाद भी बरते सावधानी

इन सारी चीजों के साथ ही डॉक्टर जुगल किशोर कहते है कि जो भी लोग कोरोना वैक्सीन के लिए जा रहे है। उनके लिए भी वैक्सीन लगवाने के बाद भी कोरोना गाइडलाइन्स का पालन करना बेहद जरूरी है। क्योकि अक्सर लोगों को लगता है कि कोरोना वैक्सीन लगवाने के बाद वह सुरक्षित है लेकिन ऐसा नहीं है। वैक्सीन लगवाने के 2 से 6 हफ्ते के बाद व्यक्ति सुरक्षित होता है। अगर कोई व्यक्ति वैक्सीन लगवाने के बाद भी संक्रमण के संपर्क में आता है तो उसके संक्रमित होने का खतरा रहता है। इसलिए सभी लोगों के लिए बेहद जरूरी है कि वो वैक्सीन लगगवाने के बाद भी कोरोना गाइडलाइन्स का पालन करें।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
हॉट टॉपिक्स

28 अप्रैल से शुरू होगा 18+ वालों का टीकाकरण : कैसे करे रेजिस्टर ?

28 अप्रैल से शुरू होगा कोरोना वैक्सिनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन


साल 2020 किसी के लिए भी कुछ खास नहीं रहा था लेकिन सभी लोगों को साल 2021 से काफी ज्यादा उम्मीदें थी। इस साल की शुरुआत में काफी हद तक कोरोना के केस कम होने लगे थे लोगों के दिलों में ये उम्मीद जगने लगी थी कि शायद अब उनको कोरोना वायरस महामारी से छुटकारा मिल जायेगा। लेकिन छुटकारा मिलने की जगह एक बार फिर कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर शुरू हो गयी। एक तरफ हमारे देश में कोरोना महामारी से जंग लड़ते हुए टीकाकरण अभियान तेज किया जा रहा है तो वही दूसरी तरफ कोरोना भी अपना कहर बरसा रहा है। कोरोना वैक्सिनेशन का तीसरा फेज 1 मई से शुरू होना है जिसमे 18 साल से अधिक उम्र के लोगों को वैक्सीन दी जाएगी। जिसे लेकर अभी लोगों के मन में बहुत सारे सवाल है जैसे वैक्सिनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन कब और कैसे शुरू होगा। जिसे लेकर अभी सोशल मीडिया काफी तरह की अफवाहें और गलत जानकारियां शेयर की जा रही है। तो चलिए आज हम आपको कोरोना वैक्सिनेशन के बारे में विस्तार से बताते है।

कोरोना वैक्सिनेशन को लेकर केंद्र सरकार ने किया ट्वीट

कुछ समय पहले सोशल मीडिया पर यह अफवा फैलाई जा रही थी कि 1 मई से होने वाले टीकाकरण के लिए 18+ वाले लोगों का रजिस्ट्रेशन 24 अप्रैल से शुरू होगा। लेकिन ये बस एक अफवा और गलत जानकारी है। अभी हाल ही में सरकार की तरह से कोरोना वैक्सिनेशन को लेकर सही जानकारी दी गई है। केंद्र सरकार की ओर से ट्विटर अकाउंट पर बताया गया था कि 18+ वाले लोगों के कोरोना वैक्सिनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन 24 अप्रैल से नहीं, बल्कि 28 अप्रैल से शुरू होगा।

और पढ़ें: एक बार फिर बढ़ा कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा, एक दिन में तीन लाख के करीब पहुंचे आंकड़े

बिना रजिस्ट्रेशन नहीं करवा पाएंगे कोरोना वैक्सिनेशन

केंद्र सरकार की ओर से दी गयी जानकारी के अनुसार 1 मई से होने वाले टीकाकरण के लिए 18+ वाले लोगों का रजिस्ट्रेशन 28 अप्रैल से शुरू होगा। साथ ही साथ केंद्र सरकार ने ये जानकारी भी दी कि बिना रजिस्ट्रेशन कराए कोरोना की वैक्सीन नहीं लगाई जाएगी। यह जानकारी आप Mygov के ट्विटर अकाउंट पर जा कर देख सकते है। 28 अप्रैल से शुरू होने वाले कोरोना वैक्सिनेशन की अपॉइंटमेंट 1 मई से शुरु होगी। 18+ वाले लोगों को बिना अपॉइंटमेंट के टीकाकरण की अनुमति नहीं दी जाएगी।

जाने कैसे कराना होगा रजिस्ट्रेशन?

केंद्र सरकार की ओर से कोरोना वैक्सिनेशन के रजिस्ट्रेशन का प्रॉसेस भी बताया गया है। अभी भी कोरोना वैक्सिनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन का प्रॉसेस पहले की ही तरह है। आपको कोविन पोर्टल https://selfregistration.cowin.gov.in/ पर या फिर आरोग्य सेतु ऐप के जरिये अपना रजिस्ट्रेशन कराना होगा।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
हॉट टॉपिक्स

आज मिली पेट्रोल-डीजल के दामों में राहत, पांच दिन बाद घटे पेट्रोल-डीजल के दाम

जाने अपने शहर के पेट्रोल-डीजल के दाम


पेट्रोल डीजल की बढ़ती महंगाई से पूरे देश की जनता परेशान है लेकिन आज यानि की मंगलवार की सुबह लोगों को एक राहत की खबर सुनने को मिली। एक बार फिर पांच दिनों बाद तेल कंपनियों ने पेट्रोल डीजल की कीमतों में कटौती की है। आज सुबह तेल कंपनियों ने अनुसार तय हुई कीमतों से पेट्रोल 22 पैसे और डीजल 23 पैसे सस्ता हुआ। अगर हम देश की राजधानी दिल्ली की बात करें तो दिल्ली में आज पेट्रोल का दाम 90.56 रुपये जबकि डीजल का दाम 80.87 रुपये प्रति लीटर है। वही अगर हम मुंबई की बात करें तो मुंबई में पेट्रोल की कीमत 96.98 रुपये व डीजल की कीमत 87.96 रुपये प्रति लीटर है। तो चलिए जानते है बाकी राज्यों के पेट्रोल-डीजल के दामों के बारे में।

जाने देख के प्रमुख महानगरों में पेट्रोल डीजल की कीमतों के बारे में

शहर         डीजल          पेट्रोल

दिल्ली         80.87          90.56

मुंबई          87.96          96.98

कोलकाता   83.75           90.77

चेन्नई          85.88          92.58

नोएडा        88.91           81.33

बेंगलुरु       93.59           85.75

हैदराबाद    94.16           88.20

जयपुर        97.08           89.35

लखनऊ      88.85           81.27

पटना          92.89           86.12

और पढ़ें: होली की थकान को करना चाहते हैं दूर, तो खाएं ये सारी चीज़ें

Image source – Indian express

रोज छह बजे बदलती है पेट्रोल डीजल की कीमतें

आपको बता दें कि रोज छह बजे पेट्रोल डीजल की कीमतों में बदलाव आता है। रोज छह बजे से पेट्रोल और डीजल की नई दरें लागू की जाती है। पेट्रोल व डीजल के दाम में एक्साइज ड्यूटी, डीलर कमीशन और अन्य चीजें जोड़ने के बाद इसका दाम लगभग दोगुना हो जाता है। इन्हीं मानकों के अनुसार पेट्रोल डीजल के रेट तेल कंपनियों द्वारा तय किये जाते है। उसके बाद पेट्रोल पंप वाले खुद को खुदरा कीमतों पर उपभोक्ताओं के अंत में करों और अपने स्वयं के मार्जिन जोड़ने के बाद पेट्रोल बेचते हैं। इतना ही नहीं पेट्रोल और डीजल रेट में कॉस्ट भी जुड़ती है।

जानिए अपने शहर के पेट्रोल डीजल के दाम

अगर आप अपने शहर के पेट्रोल डीजल की कीमत जानना चाहते है तो आप एसएमएस के जरिए भी जान सकते हैं। अगर हम बात करें इंडियन ऑयल की तो इंडियन ऑयल के अनुसार आपको RSP और अपने शहर का कोड लिखकर 9224992249 नंबर पर भेजना होगा। इससे आपको अपने शहर के पेट्रोल डीजल के दाम पता चल जायेगा। हर शहर का कोड अलग-अलग है, जो आपको आईओसीएल की वेबसाइट से मिल जाएगा।

100 रुपये के पार चला गया था पेट्रोल

जैसा की हम आपको बता चुके है कि किसी भी राज्य के वैट की स्थानीय दरों और परिवहन लागत के आधार पर देश भर में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में अंतर होता है। अगर हम पिछले महीने की बात करें तो पिछले महीने राजस्थान, महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश में कुछ स्थानों पर पेट्रोल की कीमत 100 रुपये प्रति लीटर से पार चली गयी थी। जिसके बाद पेट्रोल के बाद 100 रुपये के पार चले गया था।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
हॉट टॉपिक्स

Lockdown 2021: जाने संडे को किन किन जिलों में लगने वाला है लॉकडाउन

Lockdown 2021: भोपाल, इंदौर और जबलपुर के अलावा इन जिलों में लगाया गया संडे लॉकडाउन


 

कोरोना वायरस को एक साल से ज्यादा का समय हो चुका है लेकिन आज भी ये थमने का नाम नहीं ले रहा। इस दौरान कोरोना की वैक्सीन भी आ गयी है लेकिन उसके बाद भी ये कम नहीं हो रहा है। लगातार बढ़ते संक्रमण के बीच एक बार फिर कई राज्यों में लॉकडाउन की स्थिति बन गई है। मध्यप्रदेश में  अभी कोरोना संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी काफी तेजी से हो गई है।  इसे कम करने के लिए राज्य सरकार द्वारा सख्ती बरत जा रही है। मध्यप्रदेश सरकार ने उन सभी जिलों में जहां 20 से ज्यादा कोरोना केस है वहां स्विमिंग पूल, क्लब और सिनेमाघर सब कुछ बंद कर दिए है। पहले मध्यप्रदेश सरकार ने सिर्फ तीन जिलों भोपाल, इंदौर और जबलपुर में संडे लॉकडाउन लगाया था लेकिन अभी इनको तीन से बढ़ाकर सात कर दिया है तो चलिए जानते है किन किन जिलों में लगाया है संडे लॉकडाउन।

और पढ़ें: चुनाव प्रचार के दम पर क्या बीजेपी लोकसभा की तरह विधानसभा चुनाव में भी पार कर पाएंगी दहाई के आंकडे को

Image source – Hindustan Times

जाने कब से कब तक रहेगा संडे लॉकडाउन

मध्यप्रदेश सरकार ने कोरोना वायरस की स्थिति को देखते हुए मंत्रिमंडल के साथ बैठक करके चार और जिलों में लॉकडाउन लगाने का फैसला किया है। बुधवार शाम को मध्यप्रदेश सरकार ने लगातार बढ़ते कोरोना वायरस के केसों से चिंतित होकर बैतूल, छिंदवाड़ा, रतलाम और खरगौन में भी संडे लॉकडाउन लगाने का फैसला लिया है। जबकि पहले ये संडे लॉकडाउन सिर्फ भोपाल, इंदौर और जबलपुर में ही था। ये संडे लॉकडाउन शनिवार रात 10 बजे से शुरू होगा और सोमवार सुबह 6 बजे तक लागू रहेगा।

राज्य में बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामलों को देखते हुए मध्यप्रदेश सरकार ने सात जिलों में रेस्तरां में बैठकर खाने पर भी पाबंदी लगा दी है। मध्यप्रदेश में भोपाल, इंदौर, जबलपुर, बैतूल, छिंदवाड़ा, खारगौन और रतलाम अब लोग रेस्तरां में बैठकर खाना नहीं खा पाएंगे। लेकिन खाना पैक कराने और होम डिलीवरी के लिए आज भी सारे रेस्तरां खुले है। साथ ही मध्यप्रदेश सरकार ने ये भी बताया कि जिन राज्यों में 20 से अधिक कोरोना केस है वहां शादी समारोह में 50 और शव यात्रा में 20 से अधिक लोगों के शामिल नहीं हो सकते। इतना ही नहीं अभी मध्यप्रदेश में होली, शब-ए-बारात और ईस्टर के दौरान ज्यादा लोगों के इकट्ठे होने पर पाबंदी लगा दी गई है। इस बार आप सार्वजनिक जगहों पर त्योहार नहीं मना पाएंगे।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com