Jannah Theme License is not validated, Go to the theme options page to validate the license, You need a single license for each domain name.
सेहत

Sleeping Issues: अच्छी नींद, अच्छा जीवन : बेहतर नींद के लिए अपनाएं यह खास टिप्स

Sleeping Issues: ब्लड प्रैशर, डायबिटीज, लिवर तक पर असर डालती है बुरी नींद! अच्छी नींद के लिए आज से ही अपनाएं यह चुनिन्दा तरीके!


Highlights:

  • Sleeping Issues: अच्छी नींद से क्या-क्या लाभ हो सकते है?
  • बेहतर नींद के लिए जरूरी टिप्स क्या है?
  • अनिंद्रा क्या होती है?
  • नींद की सही मात्रा क्या है?

Sleeping Issues: अच्छी नींद आपके स्वास्थ्य के लिए चमत्कार कर सकती है। आयुर्वेद, अच्छी नींद को स्वास्थ्य के तीन स्तंभों में से एक मानता है। यह न केवल डायबिटीज और ब्लड प्रैशर जैसी कुछ स्वास्थ्य स्थितियों को प्रबंधित करने में मदद करती है बल्कि यहां तक कि प्रजनन क्षमता में सुधार करने में भी बड़ी भूमिका निभा सकती है। अच्छी नींद आपके सिस्टम को रीसेट करने में बहुत करगार साबित हो सकता है।

विशेषज्ञ का मानना है कि नींद की गुणवत्ता में सुधार ऑटो प्रतिरक्षा विकार, हार्मोनल असंतुलन, त्वचा के मुद्दों, कैंसर, और थायरॉयड के लक्षणों से राहत दिलाने में मदद कर सकता है। हम में से बहुत से लोग देर रात तक अपने गैजेट्स से चिपके रहते हैं, अपने सक्रिय दिमाग को आराम नहीं दे पाते हैं और जल्दी नींद के लाभकारी लाभ प्राप्त करने में असमर्थ होते हैं।

Sleeping Issues
Sleeping Issues

यदि आप मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों से जूझ रहे हैं, तो सही नींद को नियमित मात्रा में लेने से आपको लक्षणों को प्रबंधित करने और तेजी से ठीक होने में मदद मिल सकती है।

“नींद सबसे अच्छा ध्यान का तरीका हैं”- दलाई लामा

आगे इस लेख में हम जानेंगे शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक स्तर पर नींद कितना फायदेमंद होता है।

अच्छी नींद से क्या-क्या लाभ हो सकते है?

  • अच्छी नींद आपकी थकान को दूर करती है और आपको आने वाले दिन के लिए तरोताजा महसूस कराने में मदद करती है।
  • एक अच्छी नींद आपके मानसिक तनाव को मुक्त करने में मदद कर सकती है कोर्टिसोल या तनाव हार्मोन को कम करके।
  •  नींद भी डिटॉक्सीफिकेशन में अहम भूमिका निभाती है। यह आपके लीवर को बेहतर तरीके से डिटॉक्सीफाई करने में आपकी मदद करता है।
  • नींद मनुष्य शरीर में हार्मोनल संतुलन लाने में मदद करती है और शरीर के मेटाबोलिज्म में सुधार भी करता है।
  • अच्छी नींद का आपके मूड अच्छा प्रभाव पड़ता है।
  • यह शरीर में स्वस्थ कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बनाए रखने में मदद करता है।
  • गहरी नींद लेने से आपकी भूख और पाचन के सुधार में मदद मिल सकती है, यह भूख और तृप्ति के हार्मोन जैसे घ्रेलिन और लेप्टिन को नियंत्रित करता है।

बेहतर नींद के लिए जरूरी टिप्स क्या है?

यदि आप हर रात सोने के लिए संघर्ष कर रहे हैं, तो डाक्टरों के अनुसार आपको अच्छी नींद के लिए निम्नलिखित तरीके आज़माने चाहिए:

  • सुबह जल्दी उठने से नींद में मदद मिल सकती है।
  • रोजाना कम से कम 30 मिनट के लिए धूप में निकलें।
  • प्रतिदिन प्राणायाम का अभ्यास करें।
  • व्यायाम प्रति दिन करें।
  • पर्याप्त पानी पिएं।
  • रात का खाना जल्दी और हल्का खाएं।
  • सोने से एक घंटे पहले अपने गैजेट्स को स्विच ऑफ कर दें।

Read more: Ayurvedic Tips: अगर आप भी बढ़ाना चाहते है अपने बच्चे का कन्सन्ट्रेशन और फोकस, तो टॉय करें ये आयुर्वेदिक टिप्स

आइए अब जानते है अनिंद्रा क्या होती है और उसके परिणाम क्या हो सकते है।

अनिंद्रा एक ऐसी स्थिति है जिसमें व्यक्ति सो नहीं पाता है। अनिंद्रा से पीड़ित व्यक्ति में निम्नलिखित लक्षण पाये जा सकते है:

  • दिन भर नींद और थकान महसूस होती है।
  • हमेशा चिड़चिड़ा पन का रहना।
  • एक चीज पर ध्यान केंद्रित करने और चीजों को याद रखने में दिक्कत का महसूस होना।

लंबे समय तक नींद की कमी से मोटापा और हृदय रोगों का खतरा बढ़ सकता है। उचित प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया के लिए नींद बहुत महत्वपूर्ण है, नींद की कमी प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर कर सकती है। यह संक्रमण के लिए शरीर की संवेदनशीलता को बढ़ा सकता है और बीमारी से लड़ने की क्षमता को बाधित कर सकता है।

Sleeping Issues
Sleeping Issues

नींद की सही मात्रा क्या है?

नेशनल स्लीप फाउंडेशन निम्नलिखित नींद श्रेणियों की सिफारिश करता है:

नवजात शिशु (0-3 महीने): 14-17 घंटे
शिशु (4-11 महीने): 12-15 घंटे
बच्चे (1-2 वर्ष): 11-14 घंटे
प्रीस्कूलर (3-5 वर्ष): 10-13 घंटे
स्कूली उम्र के बच्चे (6-13 साल): 9-11 घंटे
किशोर (14-17 वर्ष): 8-10 घंटे
छोटे वयस्क (18-25 वर्ष): 7-9 घंटे
वयस्क (26-64 वर्ष): 7-9 घंटे
बड़े वयस्क (65 वर्ष और अधिक): 7-8 घंटे

उपरोक्त संख्या सामान्य परिस्थितियों में नींद की आदर्श मात्रा को दर्शाती है; हालांकि, कुछ मामले ऐसे होते हैं जब लोगों को अधिक नींद की आवश्यकता होती है, उदाहरण के लिए, बीमारी से लड़ने के दौरान, जेट लैग, आदि।

Read more: Period Cramps: इन तरीको से छूमंतर हो जायेगा पीरियड्स मे होने वाला दर्द!

Conclusion:

अच्छी नींद हर व्यक्ति के जीवन में प्राथमिकता होनी चाहिए। दुनियां भर में फैले कोरोनो महामारी से लड़ने में हमारे शरीर में एक ताकतवर रोग प्रतिरोधक क्षमता का होना बेहद महत्वपुर्ण है और इसे पाने के लिए रोज एक अच्छी नींद लेना जरूरी है।    नींद की स्वच्छता बनाए रखना, जैसे आरामदायक और अंधेरे, ठंडे वातावरण में सोना और रात में इलेक्ट्रॉनिक्स का इस्तेमाल न करना, अच्छी नींद पाने में मदद कर सकता है। नींद की गुणवत्ता में सुधार के लिए नियमित व्यायाम और शराब और कैफीन से बचना भी महत्वपूर्ण है।  Oneworldnews Hindi के साथ बने रहिए एसी स्वास्थ से जुड़ी महत्वपुर्ण बातों का लाभ लेने के लिए।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Himanshu Jain

Enthusiastic and inquisitive with a passion in Journalism,Likes to gather news, corroborate inform and entertain viewers. Good in communication and storytelling skills with addition to writing scripts
Back to top button