हॉट टॉपिक्स

Winter Session 2021: तीन कृषि कानून को रद्द करने वाला बिल दोनों सदनों में ध्वनिमत से पास

Winter sesson 2021:  पहले दिन बिटक्वाइन को नही मिली मान्यता, तीन कृषि कानून को रद्द करने वाला बिल दोनों सदनों में ध्वनिमत से पास


Winter Session 2021 : संसद का शीतकालीन सत्र आज शुरु हो गया है। शुरुआत के पहले ही दिन हंगामे के बीच इसे स्थगित करना पड़ा। खबर लिखने तक लोकसभा दो बजे से दोबारा शुरु होने के बाद हंगामे के बीच कल तक के लिए स्थगित कर दी गई और राज्यसभा 2.38 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई थी।   इससे पहले रविवार को सर्वदलीय बैठक में सभी राजनीतिक दलों ने हिस्सा लिया। जिसमें तनावपूर्ण माहौल को देखते हुए आम आदमी पार्टी ने वॉकआउट कर दिया था। इसके साथ ही विपक्षी पार्टियों ने शीतकालीन सत्र में पीएम मोदी के शामिल नहीं होने पर आपत्ति जाहिर करते हुए इसकी आलोचना की।

सप्ताह के पहले दिन शुरु हुए शीतकालीन सत्र से पहले पीएम मोदी ने कहा कि ‘यह संसद का एक महत्वपूर्ण सत्र है. देश की जनता चाहती है कि यह सत्र सुचारु रुप से चल सके जिससे जनता का कोई लाभ हो सके। हमारी सरकार हर सवाल का जवाब देने को तैयार है। हम हर तरह की चर्चा और जवाब के लिए तैयार हैं।   इसके साथ ही उन्होंने कहा कि देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है, हिंदुस्तान में चारों दिशाओं में आजादी के अमृत महोत्सव निमित रचनात्मक, सकारात्मक, जनहित, राष्ट्रहित के लिए, सामान्य नागरिक अनेक कार्यक्रम कर रहे हैं. आजादी के दीवानों ने जो सपने देखे थे, उन सपनों को पूरा करने के लिए देश का सामान्य नागरिक भी कोई न कोई दायित्व निभाने का प्रयास कर रहा है. ये अपने आप में भारत के उज्ज्वल  भविष्य के लिए शुभ संकेत है.’।

इससे पहले लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने शीतकालीन सत्र शुरु होने से पहले ट्वीट किया कि “लोकसभा का शीतकालीन सत्र आज से प्रारंभ हो रहा है। आशा है कि सत्र के दौरान सभी दलों  का सक्रिय सहयोग मिलेगा सदन सुचारु और व्यवस्थित रुप से चलेगा। माननीय सदस्य अनुशासन शालीनता के साथ कार्यवाही में अपनी सहभागिता निभाएंगे।। सामूहिक प्रयासों से हम सदन की गरिमा में अभिवृद्धि करेंगे।

इसके बाद सुबह 11 बजे के बाद दोनों सदनों में शीतकालीन सत्र की शुरुआत की गई। सत्र की शुरुआत होने के बाद लोकसभा अध्यक्ष ने नए सदस्यों को पद और गोपनीयता की शपद दिलाई। इससे पहले संसद के बाहर विपक्षी पार्टियों ने गांधी जी की प्रतिभा के पास कृषि कानूनों को लेकर विरोध प्रदर्शन किया।

लोकसभा की कारवाही शुरु होने से पहले ही हंगामे की भेंट चढ़ गई और इसे स्थागित कर दिया। इसी बीच कृषि मंत्री नरेश सिंह तोमर ने विवादित तीन कृषि कानूनों क रद्द करने वाले बिल को पेश किया। जो ध्वनिमत के साथ चार मिनट में पास कर दिया गया। इसके बाद दोपहर 2 बजे के बाद बिल ध्वनिमत के साथ राज्यसभा ने पास कर दिया गया।

वहीं दूसरी ओर कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने ट्वीट करके कहा था कि मोदी सरकार संसद में बिना बहस के कृषि बिल वापस लेना चाहती है। रमेश ने कहा कि 16 महीने पहले कृषि बिलों को बेहद आलोकतांत्रिक तरीके से पास किया गया था। और इसे वापस भी उसी तरीके से लेने की कोशिश हो रही है।

राकेश टिकैत की प्रतिक्रिया

शीतकालीन सत्र के दौरान तीन कृषि कानून रद्द होने पर भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष राकेश टिकैत ने कहा कि यह तो होना ही था। लेकिन किसान अभी अपना धरना प्रदर्शन खत्म नहीं करेंगे। सरकार जब तक हमारी एमएसपी के अलावा हमारी अन्य मांगों  नहीं मानेगी तबतक यह आंदोलन चलता रहेगा।

बिटकॉन पर वित्तमंत्री का जवाब

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सोमवार को लोकसभा में अपने जवाब में कहा कि सरकार के पास देश में  बिटक्वाइन को मुद्रा के रूप में मान्यता देने का कोई प्रस्ताव नहीं है। उन्होंने सदन को यह भी बताया कि सरकार  बिटक्वाइन लेनदेन पर डेटा एकत्र नहीं करती है। क्या सरकार के पास देश में  बिटक्वाइन को मुद्रा के रूप में मान्यता देने का कोई प्रस्ताव है के प्रश्न पर वित्त मंत्री ने कहा “नहीं, सर”।

इन विधेयकों को  पेश किया जाएगा

लोकसभा सचिवालय के अनुसार, आर्थिक एवं अन्य सुधार संबंधी विधेयकों में बिजली संशोधन विधेयक 2021, बैंकिंग कानून संशोधन विधेयक 2021, पेंशन सुधार संबंधी पीएफआरडीए संशोधन विधेयक, दिवाला एवं शोधन अक्षमता दूसरा संशोधन विधेयक 2021, ऊर्जा संरक्षण संशोधन विधेयक 2021, मध्यस्थता विधेयक 2021, चार्टर्ड एकाउंटेंट, कास्ट एंड वर्क्स एकाउंटेंट, कंपनी सेक्रेटरीज संशोधन विधेयक 2021 आदि शामिल हैं।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Back to top button
Hey, wait!

अगर आप भी चाहते हैं कुछ हटके वीडियो, महिलाओ पर आधारित प्रेरणादायक स्टोरी, और निष्पक्ष खबरें तो ऐसी खबरों के लिए हमारे न्यूज़लेटर को सब्सक्राइब करें और पाए बेकार की न्यूज़अलर्ट से छुटकारा।