Categories
वीमेन टॉक

जानें कौन है मनदीप कौर, जो न्यूजीलैंड में बनी पहली भारतीय मूल की पुलिस सर्जेन्ट

टैक्सी ड्राइवर से ऑफिसर बनने तक का सफर


  आज भारतीय विश्व के हर कोने में अपना परचम लहरा रहे हैं।  इस पंक्ति में महिलाएं भी पीछे नहीं हैं। जहां सुंदर पिचई जैसे पुरुष गूगल के सीईओ बनकर भारत का नाम रोशन कर रहे हैं। वहीं इस कड़ी में महिलाएं भी आगे आ रही हैं। मनदीप कौर भी ऐसी ही एक भारतीय मूल की महिला है जो आज न्यूजीलैंड में भारत का नाम और ऊंचा कर रही है। तो चलिए आज आपको मनदीप कौर के बारे में  बताते हैं।

Image Source- Women economic forum

सीनियर सर्जेन्ट बनी मनदीप कौर

टैक्सी ड्राइवर से पुलिस सर्जेंट बनी मनदीप आज भारत का गर्व है। वह न्यूजीलैंड में भारत की पहली महिला पुलिस सर्जेंट बनी है। इसके लिए उनकी नियुक्ति मार्च महीने में हुई थी।  न्यूजीलैंड की मीडिया के अनुसार 52 वर्षीय मनदीप ने अपने करियर की शुरुआत 17 साल पहले की थी। उसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और आज वह कई भारतीय के लिए प्रेरणा का स्त्रोत है। मनदीप के पुलिस सर्जेंट बनने पर न्यूजीलैंड में भारत के उच्चायुक्त मुक्तेश परदेशी ने उन्हें गुरु देव जी की एक किताब तोहफे में दी। आज मनदीप न्यूजीलैंड मे फ्रंन्टलाइन सर्जेंट है। इसके अलावा वह घरेलू हिंसा और जांच में सहायक के तौर पर काम कर रही हैं।  इतना ही नहीं वह लोगों से लगातार मिलती हैं  और उन्हें उनकी परेशानियों के लिए सलाह भी दी हैं। इससे पहले उन्होंने न्यूजीलैंड में पुलिस के लिए भांगड़ा ग्रुप भी बनाया था। जहां वह स्वयं लोगों को भांगड़ा सीखती थी।

और पढ़ें:Dancing Dadi: जानें आखिर कौन है रवि बाला जो डांसिंग दादी के नाम से फेमस हैं.

न्यूजीलैंड में पहले टैक्सी चलाई

न्यूजीलैंड में अपने करियर के शुरुआती दौर में मनदीप ने न्यूजीलैंड  में टैक्सी चलाई। इस दौरान उनकी मुलाकात एक शख्स से हुई मनदीप की कद कठी को देखते हुए उन्होंने उन्हें पुलिस में ज्वांइन होने के लिए प्रेरित किया, और यही से शुरु हुआ उनकी जिदंगी में बदलाव का। मनदीप की जिदंगी में उसके धर्म ने अहम रोल अदा किया है। वह गुरुद्वारे में रोज भजन-कीर्तन करने जाया करती थी। लेकिन पुलिस की नौकरी करने के लिए बहुत सी विपरीत परिस्थितियों से होकर गुजरना पड़ता था। क्योंकि वह गुरुद्वारा में भजन गाया करती थी, इसलिए इस नौकरी के लिए उन पर सामजिक प्रेशर भी पड़ रहा था। लेकिन मनदीप के घरवालों इस मुश्किल दौर में उनका खूब साथ दिया।

कौन है मनदीप कौर?

मनदीप मूल रुप से पंजाब के चंडीगड की रहने वाली है। मात्र 18 साल की उम्र में ही उनकी शादी कर दी गई थी। साल 1992 में उनकी यह शादी टूट गई। इसके  बाद शुरु हुई मनदीप की असली परीक्षा, उन्हें अपने साथ-साथ दो बच्चों को भी पालना था। वह 1996 में ऑस्ट्रेलिया  गयी। उस वक्त उनके पास न तो कोई डिग्री थी और न ही उन्हें अंग्रेजी बोलने आती थी। इन दौरान उन्होंने सबसे पहले एक सेल्समैन की जॉब की। उसके बाद 1999 में वह न्यूजीलैंड आई और टैक्सी चलानी लगी और यही से शुरु हुई उनकी जिदंगी की एक और पारी, जहां आज वह कई महिलाओं के लिए प्रेरणा का स्त्रोत बन गई हैं।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com