धार्मिकसामाजिक

रक्षाबंधन : चंद घन्टों का ही होगा शुभ मुहूर्त

रक्षाबंधन का यह पर्व सिर्फ पौने तीन घंटों के लिए होगा


कहा जा रहा है कि रक्षाबंधन का यह पर्व सिर्फ पौने तीन घंटों के लिए ही मनाया जा सकता है। इसका मतलब यह है कि बहनें अपने भाईयों को सिर्फ इतने समय के लिए ही राखियाँ बांध पाएंगी। सुबह के समय में भद्रा और चंद्रग्रहण का सूतक होने से ऐसी परिस्थिति बताई जा जा रही है।

रक्षाबंधन
रक्षाबंधन

दरअसल बात ये है कि रक्षाबंधन का यह त्यौहार इस साल सात (7) अगस्त को मनाया जाने वाला है। भद्रा और चंद्रग्रहण का सूतक लगने से ही शुभ समय की कमी हो रही है। दोपहर 1:52 बजे चंद्रग्रहण का सूतक चलने वाला है और सूतक में रक्षाबंधन का पर्व नहीं मनाया जा सकता है और भद्रा में भी भाई को राखी नहीं बंधी जाती है। इसीलिए सुबह 11:05 बजे से दोपहर के 01:52 बजे तक यानि लगभग पौने तीन घंटे तक ही रक्षाबंधन का यह पर्व मनाया जा सकता है।

चंद्रग्रहण

माना यह भी जा रहा है कि इस चंद्रग्रहण के कारण समुंद्र में भी उथल-पुथल आदि के भी योग बन रहे हैं जिससे समुंद्री इलाकों में लोगों के जन-धन की हानि हो सकती है। इस ग्रहण का असर उसके एक-दो दिन तक भी देखने को भी मिल सकता है।

किस राशि के लिए शुभ, किस राशि के लिए अशुभ

इस बार चन्द्रग्रहण में पड़ने वाली राशियों मेष, सिंह, वृशिचक, मीन राशि वालों के लिए शुभ हैं जबकि वृष, कर्क, कन्या और धनु के लिए सामान्य और मिथुन, तुला, मकर, कुंभ राशि वालों के लिए अशुभ है। जिन राशियों के लिए यह अशुभ है उन्हें ग्रहण नहीं देखने चाहिए, वैसे तो ग्रहण देखने से तो सभी को ही बचना चाहिए।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
Back to top button