विशाखापट्नम गैस लीक हादसा: 11 लोगों की मौत, सैकड़ों बीमार, जाने ऐसे ही एक और गैस हादसे के बारे में

0
55
visakhapatnam gas leak

विशाखापट्टनम में दिल दहला देने वाला गैस लीक हादसा


आंध्रप्रदेश के विशाखापट्टनम के वेंकटपुरम गांव में गुरुवार को देर रात करीब 3 बजे केमिकल फैक्ट्री से स्टाइरीन गैस लीक होने से अब तक वहा 11 लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें दो बच्चे भी शामिल है। मौके पर सभी आपातकालीन सेवाएं वहा पहुंची। जिसके कारण 300 से ज़्यादा लोगों को अस्पताल में भर्ती करवाया गया। ये गैस एलजी पॉलिमर्स के प्लांट से लीक हुई। स्टाइरीन गैस प्लास्टिक, फाइबर ग्लास, रबर और पाइप बनाने में इस्तेमाल होती है। इस गैस का असर प्लांट के आसपास के तीन से चार किमी इलाके में रहा। पुलिस ने आसपास के इलाक़ों को खाली करा कर सैकड़ों लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया। खबरों के मुताबिक फिलहाल अब वहा कहीं भी गैस लीक नहीं हो रही। सुरक्षा के लिहाज़ से चार गांवों को ख़ाली कराया गया है।

और पढ़ें: लॉकडाउन 3.0 में छूट मिलने के बाद शराब की दुकानो के बाहर भारी भीड़, Social Distancing की उड़ी धज्जियां

विशाखापट्नम गैस लीक हादसा ने दिलाये देश को भोपाल गैस कांड की याद

अभी आंध्रप्रदेश के विशाखापट्टनम में जो गैस लीक हादसा हुआ उसने देश को भोपाल गैस कांड की याद दिला दी। 36 साल पहले भोपाल में ऐसी ही एक दुर्घटना हुई था। जिसे देश ‘भोपाल गैस कांड’ या ‘भोपाल गैस त्रासदी’ के नाम से जनता है। यह हादसा विश्व की सबसे भीषण औद्योगिक दुर्घटनाओं में से एक था। ये हादसा 2 दिसंबर 1984 को हुआ था। इस हादसे में भोपाल की यूनियन कार्बाइड फैक्ट्री से जहरीली गैस का रिसाव हुआ था, जिसका असर आज भी वहां के लोगों में देखा जा सकता है। हालांकि, यूनियन कार्बाइड फैक्ट्री में हुआ हादसा विशाखापत्तनम में हुए हादसे से कहीं ज्यादा डराने वाला और घातक था।

भोपाल में 2-3 दिसंबर 1984 की काली रात को यूनियन कार्बाइड की फर्टिलाइजर फैक्ट्री से जहरीले गैस का रिसाव शुरू हुआ था। उसके बाद धीरे धीरे ये पूरे शहर में बादल की तरह छा गया। उस समय लोग सो रहे थे। सोने के दौरान कई लोगों की दर्दनाक मौत हो गई और जिनकी जानें बच गईं, उनके फेफड़े कमजोर पड़ गए और आखें खराब हो गईं। इस हादसे का असर लोगों के जिस्म पर ही नहीं, बल्कि उनके दिमाग पर भी पड़ा था। इनमें से कई की तो सुधबुध ही चली गई, वे मनोरोगी हो गए। यह जहरीली गैस मिथाइल आइसोसाइनाइड थी। इस दुर्घटना के कुछ ही घंटों के भीतर 3,000 लोग की मौत हो गयी और लगभग 1.02 लाख लोग प्रभावित हुए थे। ये इतना बड़ा हादसा था जिसका असर आज भी भोपाल में देखने को मिलता है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com