वीमेन टॉक

Top Female Filmmakers of India: सबसे Successful और Powerful निर्देशक जिनकी फिल्में है मिसाल! जानिए इन Amazing महिलाओं की पूरी सूची!

Top Female Filmmakers of India: अपनी फिल्मों से दुनिया  भर में किया है भारत का नाम ऊंचा! Farah Khan Kunder और Zoya Akhtar से लेकर Meghna Gulzar तक जानिए इन सबके बारे में!


Highlights:

Top Female Filmmakers of India: ऐसे निर्देशक जिन्होंने अपना लोहा पूरे विश्व में मनवाया!

रीमा दास की “विलेज रॉकस्टार” ने जीते अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार!

मसाला फिल्मों में फराह ख़ान का हाथ शायद ही कोई पकड़ सकता है!

Top Female Filmmakers of India: महिलाएं आज के समय में किसी भी क्षेत्र में पुरुषों से कम नहीं हैं। उन्होंने जीवन के हर पहलू में खुद को साबित किया है और अपनी उपलब्धियों से दुनिया को गौरवान्वित किया है। बॉलीवुड में लंबे समय तक महिलाओं को पुरुषों की तुलना में कम महत्व दिया जाता था। लेकिन अब समीकरण बदल रहा है, और फिल्म निर्माण के हर कदम पर महिलाएं अपना उत्कृष्ट प्रदर्शन दे रही है। हाल ही में कई महिला निर्देशक के रूप में उभरी हैं जो अपनी फिल्मों से दुनिया भर में भारत को गौरवान्वित महसूस कर रही है।

जहां किसी ज़माने में फिल्म निर्माण की कला को सिर्फ पुरुषों से जोड़ा जाता था वहीं आज के युग में कुछ महिलाएं ऐसी भी हैं जिन्होंने इस रूढ़िवादिता को तोड़कर यह साबित कर दिया है कि, लिंग सपनों के आड़े नहीं आ सकता। इस लेख में आगे हम उनमें से ही कुछ चुनिंदा महिलाओं की बात करेंगे।

Read More –Low Budget Blockbuster Bollywood Movies: ऐसी फिल्में जिनको लगी Bumper Opening!

ज़ोया अख्तर

एक फिल्म निर्देशक और पटकथा लेखक, ज़ोया ने हाल के वर्षों में कुछ बेहतरीन फिल्में बनाकर एक फिल्म निर्देशक के रूप में अपने काम से अपना नाम बना लिया है। ज़ोया की फिल्मों में एक अनूठा तत्व और भावना होती है। उन्होंने लक बाय चांस, जिंदगी ना मिलेगी दोबारा, बॉम्बे टॉकीज और दिल धड़कने दो जैसी फिल्मों का निर्देशन किया है। उनकी ज्यादातर फिल्में आलोचनात्मक और व्यावसायिक हिट रही हैं। वह बॉलीवुड के आज के सर्वश्रेष्ठ निर्देशकों में से एक हैं।

फराह खान

फराह खान बॉलीवुड की सर्वश्रेष्ठ और सबसे सफल महिला व्यावसायिक निर्देशकों में से एक हैं। उन्होंने अपनी मजेदार और मनोरंजन से परिपूर्ण फिल्मों के साथ बड़ी सफलता का स्वाद चखा है। वह बॉलीवुड में एक प्रसिद्ध कोरियोग्राफर भी है। उन्होंने सुपरहिट फिल्म मैं हूं ना से निर्देशन की शुरुआत की थी जिसके बाद उन्होंने ओम शांति ओम, हैप्पी न्यू ईयर और तीस मार खां जैसी फिल्मों का भी निर्देशन किया।

Read More- Top Bollywood Action Films: जबरदस्त! सस्पेंस और थ्रिलर से भरी बॉलीवुड फिल्में जिन्हें बार – बार देखने का मन करेगा!

मीरा नायर

मीरा नायर एक भारतीय फिल्म निर्देशक है, उनकी फिल्में ज्यादातर जीवन के सामाजिक क्षेत्र पर आधारित हुआ करती है। उन्होंने अपने करियर के दौरान कई समीक्षकों द्वारा प्रशंसित फिल्में बनाई है। उनकी फिल्में अक्सर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कार जीतती है और यादगार बन जाती हैं। सलाम बॉम्बे, माई ओन कंट्री, मिसिसिपी मसाला, मानसून वेडिंग, वैनिटी फेयर, अमेलिया, द रिलक्टेंट फंडामेंटलिस्ट, ए सूटेबल बॉय आदि उनके निर्देशन में बनी फिल्में हैं।

अपर्णा सेन

पद्म श्री के साथ नौ राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों से सम्मानित अपर्णा ने एक फिल्म निर्देशक, पटकथा लेखक और अभिनेता की भूमिका निभाई है। उन्होंने बंगाली भाषा में 36 चौरंगी लेन, परोमा और गोयनार बक्शो जैसी फिल्में बनाई हैं, जिन्हें दुनिया भर में सराहा जा चुका है।

गौरी शिंदे

गौरी शिंदे ने अपने करियर की शुरुआत एक विज्ञापन-फिल्म निर्माता के रूप में की थी। कई विज्ञापन और शॉर्ट फिल्में बनाने के बाद, उन्होंने बॉलीवुड में कदम रखा। श्रीदेवी अभिनीत उनकी पहली फिल्म इंग्लिश विंग्लिश को भारत में काफी सराहा गया था। डियर जिंदगी उनकी दूसरी फिल्म थी, जिसमे आलिया भट्ट और शाहरुख खान ने अभिनय किया है, इस फिल्म ने दर्शकों को जीवन के कई महत्वपूर्ण सबक सिखाए है। गौरी को यथार्थवादी और सार्थक फिल्में बनाने के लिए जाना जाता है।

अलंकृता श्रीवास्तव

अपने उल्लेखनीय टीवी शो और फिल्मों जैसे लिपस्टिक अंडर माई बुर्खा, मेड इन हेवन, डॉली किट्टी और हालही में नेटफ्लिक्स की नवीनतम – बॉम्बे बेगम्स का निर्देशन करने वाली अपर्णा एक बेहद शानदार निर्देशक के रूप में उभरी है, जो कहानियों को बड़े दमदार अंदाज़ में बनाती है।

मेघना गुलजार

तलवार, राज़ी और छपाक सहित फिल्मों की प्रभावशाली सूची के साथ, मेघना की यात्रा किसी प्रेरणा से कम नहीं है। मेघना ने वर्ष 2002 में अपनी पहली फिल्म फिल्हाल का निर्देशन किया था हालांकि उस दशक में निर्देशन में उन्हें सफलता हासिल नहीं हुई थी। 2015 में तलवार के निर्देशन से उन्हें सर्वश्रेष्ठ निर्देशक में नामांकन हासिल हुआ। उनका पहला बॉक्स ऑफिस हिट 2018 में आया, जब उन्होंने देशभक्ति थ्रिलर राज़ी को बनाया, जो उस वर्ष सबसे अधिक कमाई करने वाली भारतीय फिल्मों में से एक के रूप में उभरी। उन्होंने इसी फिल्म से अपने काम के लिए सर्वश्रेष्ठ निर्देशक का फिल्मफेयर पुरस्कार भी जीता।

रीमा कागती

 

रीमा कागती एक बॉलीवुड निर्देशक और पटकथा लेखक हैं। रीमा ने बॉलीवुड फिल्मों का निर्देशन भी किया है जो सफल रही हैं। निर्देशक बनने से पहले, उन्होंने एक सहायक निर्देशक, कहानी लेखक और पटकथा लेखक के रूप में काम किया है। दिल चाहता है, लक्ष्य, लगान जैसी फिल्मों के लिए सहायक निर्देशक के रूप में काम करने के बाद, हनीमून ट्रेवल्स प्राइवेट लिमिटेड, तलाश और गोल्ड जैसी फिल्मों का उन्होंने स्वयं निर्देशन किया है।

शोनाली बोस

कोलकाता की रहने वाली शोनाली ने राष्ट्रीय स्तर पर थिएटर और फिल्मों में काम किया है। कोंकणा सेन शर्मा अभिनीत उनकी निर्देशन वाली पहली फिल्म अमू एक बहुत ही लोकप्रिय और समीक्षकों द्वारा प्रशंसित फिल्म थी जिसे राष्ट्रीय पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है। इसके बाद उन्होंने फिल्म मार्गरीटा विद अ स्ट्रॉ बनाई जिसमें कल्कि कोचलिन, रेवती और सयानी गुप्ता ने अभिनय किया है। फिल्म ने अंतरराष्ट्रीय मंचों पर कई पुरस्कार और प्रशंसाएं जीतीं और भारत में भी इसकी बहुत सराहना की गई। हालही में शोनाली ने  द स्काई इज पिंक में भी निर्देशक की भूमिका अदा की है।

लीना यादव

एक फिल्म निर्देशक, निर्माता, पटकथा लेखक और संपादक जैसी भूमिकाओं को अदा करने वाली लीना ने शब्द के साथ फीचर फिल्म निर्देशन की शुरुआत की थी और अब तक उन्होंने तीन पत्ती, पार्च्ड और राजमा चावल जैसी कमाल की फिल्में बनाई है।

अश्विनी अय्यर तिवारी

विज्ञापन में एक सफल करियर के बाद, अश्विनी ने निल बटे सन्नाटा, बरेली की बर्फी और पंगा जैसी फिल्मों से बॉलीवुड में कदम रखा। क्रिटिकल एक्लेम के साथ अश्विनी ने अपने फिल्मों के माध्यम से लोगों का दिल भी जीता है।

रीमा दास

 

रीमा की समीक्षकों द्वारा प्रशंसित असमिया भाषा की फिल्म, विलेज रॉकस्टार ने कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार जीते है। उनके द्वारा लिखित, निर्देशित, संपादित और निर्मित, यह सर्वश्रेष्ठ विदेशी भाषा फिल्म श्रेणी में 90वें अकादमी पुरस्कार के लिए भारत की आधिकारिक प्रविष्टि थी। भारत में रीजनल सिनेमा के छेत्र में रीमा का नाम बेहद शानदार और जबरदस्त निर्देशकों की सूची में शुमार है।

Conclusion: समय के साथ भारतीय फिल्मों का स्तर भी बढ़ता ही जा रहा है, अब भारत में बनी फिल्मों को दुनिया  भर में न ही सिर्फ पसंद किया जाता है बल्कि कुछ फिल्मे अंतरराष्ट्रीय पुरस्कारों के लिए नामांकन की सूची में भी शामिल होती है। अपने मन में चल रही चित्रों को जोड़कर बनाई गई कहानी को कैमरे के माध्यम से पर्दे पर उतारने का काम एक निर्देशन का हुआ करता है, यह कहना बिलकुल गलत नहीं होगा की निर्देशन ही वह शख्सियत हुआ करते है जो सबसे पहले फिल्म को मन की आंखों से देख लेते है।

आज इस लेख में हमने आपको भारत के महान महिलाओ के बारे में बताने का प्रयास किया है जिन्होंने अपने निर्देशन से सबको प्रभावित कर रखा है और इस छेत्र में किसी प्रेरणा से कम नहीं है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Himanshu Jain

Enthusiastic and inquisitive with a passion in Journalism,Likes to gather news, corroborate inform and entertain viewers. Good in communication and storytelling skills with addition to writing scripts
Back to top button