भारत

भारत के फैसले के बाद तीन और देश नहीं करेंगे सार्क सम्मेलन में शिरकत

भारत के फैसले के बाद तीन और देश नहीं करेंगे सार्क सम्मेलन में शिरकत


भारत के फैसले को तीन देशों का समर्थन

भारत के फैसले के बाद तीन और देश नहीं करेंगे सार्क सम्मेलन में शिरकत:- पाकिस्‍तान के इस्लामाबाद में इसी साल नवंबर में होने जा रहे दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन यानि सार्क शिखर सम्मेलन में भारत देश भाग नहीं ले रहा है। भारत के इस फैसले को पड़ोसी देशों बांग्लादेश, अफगानिस्तान और भूटान ने समर्थन किया है। सूत्रों के हवाले से आई ख़बर के अनुसार, इन तीनों देशों ने भी सार्क शिखर सम्मेलन में शिरकत नहीं करने का निर्णय लिया है।

भारत के फैसले के बाद तीन और देश नहीं करेंगे सार्क सम्मेलन में शिरकत
भारत के फैसले को तीन देशों का समर्थन

बांग्लादेश ने सार्क के अध्‍यक्ष को लिखा संदेश

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, सार्क के मौजूदा अध्यक्ष नेपाल को भेजे एक संदेश में बांग्लादेश ने यह कहा है, कि बांग्लादेश के अंदरूनी मामलात में एक देश द्वारा बढ़ते दखल ने ऐसा माहौल पैदा कर दिया है, जिस के कारण नवंबर 2016 में इस्लामाबाद में 19वें सार्क सम्मेलन का सफल आयोजन मुमकिन नहीं है।

यहाँ पढ़ें :‘मोस्ट फेवर्ड नेशन’ पर पुर्नविचार करेगा भारत

साथ ही संदेश में यह भी कहा गया है, किे सार्क या दक्षेस की प्रक्रिया की शुरुआत करने वालों में शामिल रहे बांग्लादेश की क्षेत्रीय सहयोग और संपर्क में प्रतिबद्धता हमेशा मजबूत रही है, मगर उसका मानना है कि यह अधिक सौहार्दपूर्ण माहौल में ही आगे बढ़ सकता है और इस सब के चलते बांग्लादेश इस्लामाबाद में प्रस्तावित शिखर सम्मेलन में शिरकत करने में असमर्थ है।

भारत के फैसले के बाद तीन और देश नहीं करेंगे सार्क सम्मेलन में शिरकत
सार्क शिखर सम्मेलन

सार्क सम्‍मेलन रद्द पहले भी हुआ है

आप को बता दें, कि यह सार्क शिखर सम्मेलन तब तक नहीं हो सकता, जब तक की इसके सभी सदस्य शामिल नहीं होते है। वैसे ये कोई पहला बार नहीं हुआ है, कि सार्क सम्मेलन रद्द हुआ हो, ऐसा पहले भी हो चुका है और कई बार सार्क शिखर सम्मेलन देर से भी हुए हैं। मगर इस बार देर से होने के भी आसार नहीं लग रहे।

उरी हमले के बाद मोदी ने उठाए कई अहम कदम

भारत के प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी हाल ही में हुए उरी हमले के बाद से पाकिस्तान को सख्त संदेश देना चाहता है और इसके लिए पिछले दिनों में कई कदम उठा चुके हैं। बता दें, उरी हमले में 18 जवान शहीद हो गए।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Back to top button