Categories
हॉट टॉपिक्स

Bihar board 10th result 2020:  इस बार दोबारा चेक हुईं 10वीं के टॉपर्स की कॉपियां 

Bihar board 10th result 2020: आज जारी हो सकते है बिहार बोर्ड के 10वीं के नतीजे


आज बिहार के 10वीं क्लास के 15 लाख स्टूडेंट्स का इंतजार भी खत्म हो जायेगा। आज कभी भी बिहार स्कूल परीक्षा बोर्ड 10वीं क्लास का रिजल्ट जारी कर सकता है जानकारी के मुताबिक बिहार स्कूल एग्जामिनेशन बोर्ड ने कॉपी चेकिंग का काम खत्म करने के बाद रिजल्ट तैयार कर लिया है। आज किसी भी टाइम 10वीं कक्षा का रिजल्ट जारी कर सकता है। हालांकि अभी तक आधिकारिक तौर पर इस बारे में कुछ नहीं कहा गया है। इससे पहले बिहार बोर्ड ने अप्रैल के पहले सप्ताह में 10वीं क्लास के रिजल्ट 2020 घोषित करने का निर्णय लिया था। परन्तु लॉकडाउन के कारण उत्तरपुस्तिकाओं का मूल्यांकन आधा रह गया था हालांकि बिहार बोर्ड ने 24 मार्च को ही क्लास 12वीं का परीक्षा रिजल्ट घोषित कर दिया था।

कोरोना वायरस लॉकडाउन से हुई देरी

बिहार स्कूल परीक्षा बोर्ड 10वीं के रिजल्ट में कोरोना वायरस के कारण लागू लॉकडाउन से काफी देरी हुई। बिहार स्कूल परीक्षा बोर्ड की घोषड़ा के अनुसार 10वीं और 12वीं क्लास का रिजल्ट मार्च के अंत तक या अप्रैल के पहले सप्ताह में आने की सभावना जताई गई थी जिसमे 12वीं क्लास का रिजल्ट तो सयम पर आ गया। परन्तु 10वीं क्लास का रिजल्ट अब तक नहीं आ पाया। अगर लॉकडाउन न हुआ होता तो 10वीं क्लास का रिजल्ट भी मार्च या अप्रैल के पहले सप्ताह में ही घोषणा हो गया होता।

ऐसे चेक करें अपना रिजल्ट

सबसे पहले इंटरनेट पर बिहार स्कूल परीक्षा बोर्ड की वेबसाइट खोलें। उसके बाद वेबसाइट पर रिजल्ट के लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद एक नया पेज खुलेगा, जिसमे आपको अपना रोल नंबर और रजिस्ट्रेशन नंबर डालना होगा और उसके बाद सबमिट करना होगा। उसके बाद आपसे कुछ और डीटेल्स मांगी जाएगी जिसे आपको डाल कर सबमिट करना होगा। जैसी आप ये सारी चीजे सबमिट आपके सामने आपकी पुरे साल की मेहनत आपका रिजल्ट होगा।

क्यों दोबारा चेक हुईं टॉपर्स की कॉपियां?

बिहार स्कूल परीक्षा बोर्ड ने 10वीं क्लास की उत्तरपुस्तिका का दोबारा मूल्यांकन 6 मई को शुरू किया था। जो पिछले सप्ताह ही पूरा हुआ था उसके बाद छात्रों के अंकों को कंप्यूटर में फीड किया गया और टॉपर सूची बनाई गई। उसके बाद 10 रैंक धारकों की उत्तरपुस्तिकाओं को दोबारा चेक किया। इसी के साथ पैनल ने सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए इंटरव्यू आयोजित करने का फैसला लिया था। अब बिहार स्कूल परीक्षा बोर्ड बिना किसी देरी के 10वीं क्लास के रिजल्ट 2020 की घोषित करेगा।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
हॉट टॉपिक्स

UP Board Result 2020: इस तारीख से शुरू होगी, यूपी बोर्ड में 10वीं और 12वीं की कॉपी चेकिंग

UP Board Result 2020: चार मई से चेक होंगी यूपी बोर्ड में 10वीं और 12वीं की कॉपि‍यां


UP Board Result 2020: पूरी दुनिया में कोरोना वायरस महामारी के चलते ज्यादातर देशों में लॉकडाउन कर दिया गया है। इसी वजह से अभी तक यूपी बोर्ड का रिजल्ट जारी नहीं हो सका है। वैसे तो कोरोना वायरस की वजह से सभी राज्यों में बोर्ड की परीक्षाएं स्थगित कर दी थी परन्तु बिहार और उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस के प्रकोप से पहले ही 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं पूरी हो चुकी थी ऐसे में उत्तर प्रदेश के स्टूडेंट्स अपने रिजल्ट का इंतजार कर रहे है। अब कहा जा रहा है कि यूपी बोर्ड की 10वीं और 12वीं कॉपियों का मूल्यांकन लॉकडाउन खत्म होने के बाद 4 मई से शुरू हो सकता है। इस बात की जानकारी खुद यूपी के उपमुख्यमंत्री डा. शर्मा ने  दी।

कैसे किया जायगा उत्तर प्रदेश में कॉपियों का मूल्यांकन

इस समय उत्तर प्रदेश के पास सबसे महत्वपूर्ण काम है प्रदेश के 275 केंद्रों पर 3.10 करोड़ से अधिक कॉपियों का मूल्यांकन करना। इस बार कॉपियों के मूल्यांकन में दोगुना समय लगने का अनुमान लगाया जा रहा है। हालातो को देखते हुए लगता है की परिणामों का जून से पहले आना मुश्किल है। जिन स्कूलों को मूल्यांकन केंद्र बनाया गया है, वहां बैठने की जगह सीमित है। पहले एक बैंच पर चार-चार टीचर बैठकर कॉपियां मूल्यांकन करते थे। लेकिन अब केंद्र सरकार की नई गाइडलाइंस के अनुसार अब दो लोगों के बीच कम से कम दो मीटर की दूरी रखनी होगी। इस लिए केंद्र सरकार सोशल डिस्टेंसिंग को फॉलो करते हुए दो-दो सब्जेक्ट की कॉपियों का मूल्यांकन करने की तैयारी कर रहा है।

और पढ़ें: दिल्ली सरकार ने महिला एंव बाल विकास विभाग में कई पद पर निकाली नौकरिया

उत्तर प्रदेश में कितने छात्रों ने दी थी परीक्षा

इस बार उत्तर प्रदेश में 10वीं-12वीं की बोर्ड परीक्षा में 56 लाख  से ज्यादा छात्र-छात्रा पंजीकृत थे। 4.5 लाख से ज्यादा छात्र-छात्राओं ने परीक्षा छोड़ दी। करीब 3.5 करोड़ कॉपियां जांची जानी है। इस बार ऐसा पहली बार होगा की यूपी बोर्ड की कॉपियां सीसीटीवी और वॉइस रिकॉर्डर की निगरानी में जांची जाएगी। और परीक्षा के परिणाम जून तक आने का अनुमान लगाया जा रहा है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
हॉट टॉपिक्स

दिल्ली सरकार ने महिला एंव बाल विकास विभाग में कई पद पर निकाली नौकरिया, जाने कितने वर्ष तक के लोग कर सकते हैं आवेदन।

WCD recruitment 2020 Delhi: महिला एंव बाल विकास विभाग पदों के लिए 55 वर्ष वाले भी कर सकते हैं आवेदन


WCD Delhi Recruitment 2020: अगर आप महिला एवं बाल विकास विभाग में सरकारी नौकरी पाने की तैयारी कर रहें हैं तो हम आपके लिए खुशखबरी लाये है। महिला एंव बाल विकास विभाग ने राजधानी दिल्ली सरकार में पोषण अभियान के तहत विभिन्न पदों के लिए एक नोटिफिकेशन जारी की है। सूचना के अनुसार 187 रिक्त पदों पर भर्तियां निकाली गई हैं। जो उम्मीदवार इस नौकरी को पाना चाहते हैं, वे आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से 11 मई तक आवेदन कर सकते हैं। साथ ही इन पदों के लिए 55 वर्ष तक के लोग आवेदन कर सकते है।

किन-किन पदों के लिए और कितनी भर्तियां निकली गयी है

परामर्शदाता (आयोजना, मॉनिटरिंग, मूल्यांकन) – 1 पद (आयु सीमा- 55 वर्ष और सैलरी 60 हजार रुपये)

परामर्शदाता (स्वास्थ्य, पोषण) – 1 पद (आयु सीमा- 55 वर्ष और सैलरी 60 हजार रुपये)

परामर्शदाता (क्षमता निर्माण तथा बीसीसी) – 1 पद (आयु सीमा- 35 वर्ष और सैलरी 60 हजार रुपये)

लेखापाल – 1 पद (आयु सीमा- 28 वर्ष और सैलरी 30 हजार रुपये)

परियोजना एसोशिएट – 1 पद (आयु सीमा- 35 वर्ष और सैलरी 25 हजार रुपये)

सचिवालयी सहायक/डीईओ – 1 पद (आयु सीमा- 28 वर्ष और सैलरी 19572 रुपये)

कार्यालय संदेश वाहक/चपरासी – 1 पद (आयु सीमा- 27 वर्ष और सैलरी 16341 रुपये)

जिला समन्वयकर्ता – 10 पद (आयु सीमा- 35 वर्ष और सैलरी 30 हजार रुपये)

जिला परियोजना सहायक – 10 पद (आयु सीमा- 35 वर्ष और सैलरी 19572 रुपये)

ब्लॉक समन्वयकर्ता – 84 पद (आयु सीमा- 35 वर्ष और सैलरी 20 हजार रुपये)

ब्लॉक परियोजना सहायक – 76 पद (आयु सीमा- 35 वर्ष और सैलरी 19572 रुपये)

और पढ़ें: लॉकडाउन में किसानों की मदद करने के लिए केंद्र सरकार ने लॉन्च किया Kisan Rath app

शैक्षिक योग्यता- इस नौकरी में आवेदन करने के लिए उम्मीदवारों की न्यूनतम शैक्षिक योग्यता संबंधित विषय में मांगी गई डिग्री और पीजी डिप्लोमा होना अनिवार्य है।

आयु सीमा- इस नौकरी में आवेदन के लिए उम्मीदवार की 27, 28, 35 व 55 वर्ष पदों के अनुसार अलग-अलग निर्धारित की गई है। एंव विशेष वर्ग के उम्मीदवारों को आयु सीमा में विभाग के नियमानुसार छूट दी जायेगी।

आवेदन की अंतिम तिथि: 11 मई।

ऐसे करें आवेदन– इच्छुक उम्मीदवार आधिकारिक वेबसाइट पर जा कर सावधानीपूर्वक ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया पूरी करें। उम्मीदवार आगे की चयन प्रक्रिया के लिए ऑनलाइन आवेदन पत्र का प्रिंटआउट जरूर ले।  
 
चयन प्रक्रिया– जो भी उम्मीदवार शार्टलिस्ट होगा उससे इंटरव्यू के लिए बुलाया जाएगा।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
हॉट टॉपिक्स

लॉकडाउन: पहली बार शुरू हुई ऑनलाइन क्लासेज – जानिए कैसा है इससे स्टूडेंट का Experience?

कैसा है स्टूडेंट का एक्सपीरियंस ऑनलाइन क्लास को ले कर?


जैसा की हम सब लोग जानते है की आज कल कोरोना वायरस के कारण पूरी दुनिया परेशान है और बहुत से देशो में लॉकडाउन भी लगा हुआ है और सभी लोगो को सोशल डिस्टिंग बनाये रखने को कहा गया है। ऐसे में सभी लोग अपने घरो में है। और बहार स्कूल से ले कर कॉलेज तक सब कुछ बंद पड़ा हुआ है और लोग अपने घर से वर्क फ्रॉम होम कर रहे है। ऐसे में सरकार ने एक बड़ा कदम उठाया। जिसे स्कूल के बच्चो को कोई नुकसान न हो।  जी हा, सरकार ने ऑनलाइन क्लासेज स्टार्ट कर दी जिसे स्टूडेंट का सिलेबस न छूटे और वो आराम से अपने घर से पढ़ सके। इसको ले कर आज हमारी टीम ने ऐसे ही कुछ स्टूडेंट से बात की और जानने की कोशिश की ऑनलाइन क्लासेज कैसे काम कर रही हैं और स्टूडेंट का ऑनलाइन क्लासेज को ले कर एक्सपीरियंस कैसाहै। उनको क्लासेज में क्या प्रॉब्लम आ रही है।
 

चलिए जानते है हमारी टीम ने किसे और क्या बात की

हमारी टीम ने Kanak Sharma जो की आठवीं कक्षा में पढ़ती है और Yashasvi Bhardwaj जो तीसरी कक्षा में पढ़ती है से बात की। उनसे पूछा की वो घर पर किस तरह पढ़ रहे है। और कैसे उनके टीचर उनको पढ़ा रहे है और ऑनलाइन पढ़ते सयम उनको क्या प्रॉब्लम आती है। बच्चो का ऑनलाइन क्लास  क्या एक्सपीरियंस है। वो आप खुद वीडियो में देख सकते है।

और पढ़ें: 10 best YouTube channels for kids: जो करेंगे आपके बच्चे का मानसिक विकास

तो हमे यशस्वी ने हमे बताया की उनके टीचर उनको व्हाट्सप्प पर होमवर्क और वीडियोस भेजते है। इसके साथ ही वो उनको Extra Marks पर भी चीजे भेजते है। साथ ही हमे कनक ने भी बताया की उनके टीचर उनको व्हाट्सप्प पर नोट्स और होमवर्क शेयर करते है और बच्चे ऑनलाइन क्लास से बहुत खुस है। उनका कहना है की वो घर पर सुरक्षित भी है और पढ़ भी रहे है इससे न तो उनका सिलेबस छूट रहा है और न उनको बहार जाना पड़ रहा है इससे सिर्फ बच्चे उनके माता पिता भी खुस है।
अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com
Categories
हॉट टॉपिक्स

Lockdown: IIT दिल्ली ने स्थगित की JEE Advanced (Joint Entrance Examination) 2020 परीक्षा।

कोरोना वायरस के कारण  हुआ JEE Advanced की परीक्षा स्थगित


अभी पूरी दुनिया में कोरोना वायरस ने अपना केहर मचाया हुआ है जिसके कारण भारत में 21 दिन का लॉकडाउन चल रहा है। लॉकडाउन  के कारण सब कुछ बंद पड़ा हुआ है।  जिसके चलते बच्चो की परीक्षाये स्थगित की जा रही है। अभी IIT दिल्ली ने JEE  Advanced परीक्षा स्थगित की। बात दे कि ये परीक्षा 17 मई 2020 को आयोजित होने वाली थी। इससे पहले भी कोरोना वायरस के चलते JEE (Main) 2020 अप्रैल की परीक्षा स्थगित कर दी गई है। और अब JEE  Advanced की परीक्षा भी स्थगित दी गई है। अब इसे JEE (Main) 2020 परीक्षा होने के बाद फिर से शेड्यूल किया जाएगा। फिलहाल आईआईटी ने इसके लिए कोई तारीख निश्च‍ित नहीं की है।

क्या होती है JEE Main के लिए योग्यता

जिन स्टूडेंट ने साल 2018, 2019 में कक्षा 12वीं की परीक्षा दी थी। और जो उम्मीदवार इस साल 12वीं की परीक्षा दे रहे हैं वे JEE Main 2020 का एंट्रेंस एग्जाम दे सकते हैं। और JEE Main परीक्षा के लिए स्टूडेंट को केवल तीन लगातार प्रयासों की अनुमति होती है। और इसके लिए उम्मीदवार ने 12 वीं परीक्षा में कम से कम पांच विषय लिए हों। और इस साल होने वाली JEE Main परीक्षा 5, 7, 8, 9 और 11 तारीख के बीच आयोजित होनी थी। और JEE Main का रिजल्ट भी 30 अप्रैल को जारी किया जाना था।

और पढ़ें: Coaching Vs online courses: कैसे करे SSC की तैयारी?

कैसे होती है JEE Mainपरीक्षा 

JEE Main परीक्षा नेशनल टेस्ट एजेंसी (NTA) द्वारा आयोजन की जाती है। ये वर्ष में दो बार जनवरी और अप्रैल होती है। और इस परीक्षा के माध्यम से, स्टूडेंट NITs, IIITs और CFTIs जैसे बड़े इंजीनियरिंग कॉलेजों में अड्मिशन ले सकते हैं। इस परीक्षा का उपयोग JEE Advanced के स्टूडेंट्स को स्क्रीन करने के लिए भी किया जाता है। JEE Advanced को IIT में अड्मिशन के लिए आयोजित किया जाता है। B.Tech प्रोग्राम्स में अड्मिशन पाने के लिए, स्टूडेंट्स को पेपर-I को अटेंड करना होता है, जो कि केवल कंप्यूटर मोड में आयोजित किया जाएगा। और इस पेपर को 3 घंटे में हल करना होगा। B.Arch प्रोग्राम में अड्मिशन के लिए पेपर-II अटेंड किया जाएगा।
अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com
Categories
हॉट टॉपिक्स

क्या general promotion दसवीं व बारहवीं के छात्रों को भी मिलेगा या लॉकडाउन के बाद देना होगा पेपर ?

दसवीं व बारहवीं परीक्षा में नहीं मिलेगा जनरल प्रमोशन (general promotion)


कोरोना वायरस के चलते पूरे  देश में लॉकडाउन होने के कारण बोर्ड परीक्षाएं स्थगित कर दी गई हैं। स्कूल शिक्षा विभाग ने पहली से आठवीं कक्षा तक की परीक्षाएं रद कर हैं और बच्चों को जनरल प्रमोशन (general promotion) दे कर अगली कक्षा में परवेस देंगे। इस संबंध में विभाग ने पहले ही आदेश जारी कर दिए थे। लेकिन दसवीं व बारहवीं परीक्षा के संबंध में विभाग केंद्र सरकार की अनुमति का इंतजार कर रहा है और विभाग की प्रमुख सचिव रश्मि अरुण शमी का कहना है कि अभी सीबीएसई के निर्णय का भी इंतजार कर रहे हैं। उनका  कहना है कि अगर दसवीं व बारहवीं कक्षा के विद्यार्थियों को जनरल प्रमोशन दिया जाएगा तो आगे उन्हें कॉलेजों में एडमिशन में समस्या होगी। वही विभाग का कहना है कि दसवीं व बारहवीं में जनरल प्रमोशन देना सही नहीं होगा, इस लिए लॉकडाउन समाप्त होने के बाद परीक्षा लेने के आदेश जारी होने चाहिए।

बोर्ड में कई विषयों की परीक्षा बाकी

बोर्ड परीक्षा 20 मार्च से स्थगित होने के कारण कक्षा दसवीं के दो और कक्षा बारहवीं के 9 विषयों की परीक्षा होना है बाकी। दसवीं के दो मुख्य विषय सामान्य अंग्रेजी व हिंदी की परीक्षा बाकी है। वहीं, बारहवीं में विज्ञान संकाय में बायोलॉजी, गणित, रसायन, बायोटेक्नोलॉजी और कामर्स संकाय में अर्थशास्त्र व्यावसायिक अर्थशास्त्र के साथ कला संकाय में भी कई विषयों की परीक्षाएं बाकी हैं।

और पढ़ें: कोरोना के कारण भारत समेत पूरी दुनिया में हुआ प्रदूषण कम

दसवीं व बारहवीं के कितने स्टूडेंट दे रहे है इस बार परीक्षा

15 फरवरी से शुरू हुए दसवीं व बारहवीं के सीबीएसई परीक्षा में इस बार करीब 30 लाख स्टूडेंट शामिल हुए है। जिसमे से बारहवीं में 12,06,893 स्टूडेंट शामिल हुए। जिसमे 52,2,819 लड़किया और 68,4,068 है। और अगर हम बात करे दसवीं कक्षा की तो इसमें टोटल 18, 89, 878 स्टूडेंट परीक्षा में बैठे। जिसमे से 78,8,195 लड़किया तथा 11,01,664 लड़के है।
अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com
Categories
एजुकेशन

7 कारण की क्यों कॉलेज वो नहीं जो आपने सोचा था

7 कारण की क्यों कॉलेज वो नहीं जो आपने सोचा था


कॉलेज की ज़िंदगी जीने के लिए हम सब कई सपने देखते है। सब सोच के रखते है कि दोस्तों के साथ क्या करेंगे और क्या नहीं। जानिए की ऐसा क्यों है

  1. इतने धक्के खाने के बाद जब कॉलेज में दाखिला होता है तब अधिकतर समय तो लोगो से जान पहचान करने में ही निकल जाता है।
  2. जब तक हम लोगो से घुलते मिलते है, तब तक परीक्षा और परियोजना कार्य बनाने का समय आ जाता है। तब सिर्फ पढाई और काम नज़र आता है।
  3. ज़्यादातर समय हम कॉलेज छात्रों के पास पैसे ही नहीं होते तो कही आना जाना हो ही नहीं पाता।
  4. घर में रहने वाले बच्चो को समय की पाबंदी होती है। चाहे वो जितने भी बड़े हो जाए, अपने माँ बाप के लिए रहते वो बच्चे ही है, इसिलए समय की सीमा भी होती है।
  5. हर कॉलेज में 75% हाज़री ज़रूरी है, जिसके कारण कक्षा में होना भी बहुत ज़रूरी है। और इसी कारण से हर इरादा वही चूर हो जाता है।
  6. जहाँ घर में रह रहे बच्चो के लिए पाबंदी होती है वही हॉस्टल में रह रहे बच्चो को नई जगह का दर। उनको मनाना बहुत ही मुश्किल होता है।
  7. दोस्तों के साथ प्लान बनाना मतलब हर किसी की अलग पसंद। और अक्सर अधितकर समय यही सोचने में गुज़र जाता है कि कहाँ जाए और क्या करे और अंत में कॉलेज की कैंटीन में समय गुज़रता है।

कॉलेज का समय एक ऐसा दौर है जहाँ हम बहुत कुछ सीखते है। नई जगह में ढलना, अनेक काम एक साथ संभालना, खुद को भविष्य के लिए तैयार करना – ये सब हम इसी समय में सीखते है। ये समय चाहे जितना भी मुश्किल क्यों न हो, इनका अपना एक अलग मज़ा होता है।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in