Categories
सेहत

जाने मूंगफली में कौन- कौन से पोषक तत्व पाए जाते है, जो हमे हार्ट हेल्थ से ले कर डायबिटीज से बचा सकते हैं !

मूंगफली में पाए जाने वाले पोषक तत्व के बारे में जाएं


क्या आपको पता है मूंगफली नट फैमिली से संबंधित है मूंगफली को जमीन के अंदर उगाया जाता हैं? इसलिए ही मूंगफली को ग्राउंड-नट्स के नाम से जाना जाता है. पूरी दुनिया में मूंगफली को एक पॉपुलर स्नैकिंग ऑप्शन के तौर पर खाया जाता है. आप चाहो तो मूंगफली को सुबह के नाश्ते में खा सकते है या फिर शाम के समय पर चाय के साथ खा सकते है. इतना ही नहीं आप मूंगफली को डेज़र्ट बनाने के लिए भी इनका इस्तेमाल कर सकते हैं. मूंगफली खाने के बहुत से स्वास्थ्य लाभ हैं. जो आपके स्वास्थ्य को बेहतर करने में मददगार होते है. मूंगफली में अच्छी क्वालिटी वाले फैट्स, फाइबर, प्रोटीन, मैग्नीशियम, कार्ब्स और आवश्यक विटामिन और मिनरल पाए जाते हैं.
हार्ट हेल्थ: क्या आपको पता है मूंगफली में मोनोअनसैचुरेटेड फैट्स और पॉलीअनसेचुरेटेड फैट्स पाया जाता है. जो हमारे दिल को स्वस्थ रखने में हमारी मदद करता हैं. इतना ही नहीं मूंगफली में ओलिक एसिड भी पाया जाता है. जो हमारे खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है. और साथ ही हमारे कोलेस्ट्रॉल के स्तर को भी सही रखता है.

डायबिटीज: मूंगफली में मैंगनीज की अच्छी मात्रा पाई जाती है. और मैंगनीज एक मिनरल है जो फैट्स और कार्बोहाइड्रेट, कैल्शियम के अवशोषण में हमारी मदद करता है. साथ ही साथ ब्लड शुगर को रेगुलर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. इसलिए मूंगफली को डायबिटीज के रोगियों के लिए एक बढ़िया स्नैक ऑप्शन माना जाता है.
तनाव और चिंता: आज के समय पर लोगों को डिप्रेशन होना एक आम बात है. तनाव और चिंता ये दोनों डिप्रेशन के ही दो लक्षण हैं. क्या आपको पता मूंगफली में मौजूद ट्रिप्टोफैन नामक अमीनो एसिड सेरोटोनिन को रिलीज करने में हमारी मदद करता है. मूंगफली एक ब्रेन केमिकल है जो हमारे मूड को रेगुलर करता है.
Read more: क्या आपको पता है टीवी के ये बड़े सितारे, आये हैं छोटे छोटे शहरों से…
ब्रेन को रखें एक्टिव: क्या आपको पता है? मूंगफली में विटामिन बी3 या फिर ये कहे नियासिनकी अच्छी मात्रा में पाया जाता है. जो हमारे दिमाग के काम को बेहतर बनाने में हमारी मदद करता है. साथ ही साथ हमारी मेमोरी को भी बढ़ाता है. इतना ही नहीं मूंगफली रेसवेराट्रॉल नामक फ्लेवोनॉइड भी पाया जाता है. जो हमारे दिमाग में रक्त के संचार को बेहतर बनाने में हमारी मदद करता है.
वजन कम करने में मदद: क्या आपको पता है मूंगफली में फैट और कैलोरी अच्छी मात्रा में पायी जाती है इसके बाद भी मूंगफली के सेवन से वजन नहीं बढ़ता. बल्कि लोग अपने वजन को मेनटेन करने के लिए मूंगफली का सेवन करते है. क्योकि मूंगफली आपको लम्बे समय तक भूख नहीं लगने देती हैं. जिससे आप बहार के अनहेल्दी स्नैक्स खाने से बचे रहते है.

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
लाइफस्टाइल

मेमोरी बढ़ाने से ले कर डिप्रेशन तक में बेहद फायदेमंद है ब्लैक कॉफी

जाने ब्लैक कॉफी के फायदों के बारे में


हमारे देश में ज्यादातर लोगों के दिन की शुरुआत चाय या कॉफी के कप के साथ ही होती है. अगर आप भी उनमे से ही है तो शायद आप इससे अच्छे से समझ पाएंगे. ज्यादा तर लोगों को चाय पत्ती, दूध, चीनी डालकर उबाली गयी चाय या फिर चीनी के साथ फेंटकर गर्म दूध के साथ बनाई गई कॉफी  पसंद होती है. लेकिन अगर आप ब्लैक कॉफी पीते है तो यह आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होती है. ब्लैक कॉफी हमारे पूरे शरीर के लिए बेहद फायदेमंद होती है. ब्लैक कॉफी एंटीऑक्सीडेंट और न्यूट्रिएंट्स से भरपूर होने के साथ साथ स्वाद में भी अच्छी होती है.

मेमोरी: अगर आप रोज सुबह ब्लैक कॉफी पीते है. तो इससे आपका दिमाग तेज होता है और याददाश्त भी बेहतर बनी रहती है. बढ़ती उम्र के साथ अक्सर लोगों की याददाश्त कमजोर पड़ने लगती है. जिसके कारण उनको डिमेंशिया, पार्किंसन और अल्जाइमर बीमारी होने का खतरा भी बढ़ जाता है.

और पढ़ें: अगर रोज सुबह उठना पड़ता है भारी, तो फॉलो करें ये टिप्स 

एनर्जी: ब्लैक कॉफी का सबसे बड़ा फायदा है एनर्जी. वर्कआउट के दौरान अगर आप ब्लैक कॉफी का सेवन करते है, तो ये आपके शरीर को एनर्जी से भर देती है और आपकी फिजिकल परफॉर्मेंस को बेहतर बनाने में मददगार साबित होती है.

तनाव और डिप्रेशन: आज के समय में लोगों को तनाव और डिप्रेशन होना एक आम सी बात हो गयी है. जिसके कारण उनमे मानसिक बीमारियां होने के साथ साथ शारीरिक बीमारियां भी हो सकती हैं. अगर आप दिन में दो कप ब्लैक कॉफी पीते है, तो इससे आपका मूड अच्छा रहता है और आपको स्ट्रेस भी कम होता है.

कैंसर से बचाव: आज के समय में कैंसर एक बेहद आम बीमारी बन चुकी है. आज यह दुनिया भर में मौत की सबसे बड़ी वजह हो चुकी है. क्या आपको पता है आपकी ब्लैक कॉफी पीने की आदत आपको कई तरह के कैंसर से बचाव करने में फायदेमंद होती हैं, जैसे लिवर कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर, कोलन कैंसर आदि.

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
सेहत

लॉकडाउन में नौकरी खोने का सता रहा है डर, इन 6 तरीकों से रखें अपनी मेंटल हेल्थ का ख्याल  

How to keep mental health good in lockdown? ये 6 तरीके जो रखेंगे आपको नेगेटिविटी से दूर


How to keep mental health good in lockdown? कोरोना वायरस ने लोगों के मन में खलबली मचा रखी है। कुछ लोगों को निराशा और उदासी ने घेरा हुआ है, तो कुछ को भविष्य की चिंता सता रही है। कोरोना वायरस ने इस समय पूरी दुनिया की चलने की रफ़्तार धीमी कर दी है। इस वायरस ने जहां पूरी दुनिया में लाखों लोगों की जानें ली है वही लाखों लोग अपनी नौकरी खोने से डर रहे है क्योकि इस समय कंपनियां अपने यहां काम करने वालों लोगों को बिना नोटिस के निकाल रही है। जिसके कारण लाखों लोगों को अपने भविष्य की चिंता सता रही है। वही दूसरी तरफ इस वायरस ने वर्ल्ड इकॉनोमी की भी कमर तोड़ दी है। इस सयम लोग बहुत ज्यादा नेगेटिव हो गए है लेकिन नेगेटिविटी में डूबे रहने से कोई फायदा नही है। आज हम आपको कुछ ऐसी चीजें बतायेगे जो नेगेटिविटी को कम करने में आपकी मदद करेंगे।

अपने वर्कप्लेस से क्लैरिटी मांगें: हम इंसानों को डर अक्सर उन्हीं चीज़ों का होता है जिनके बारे में हमें पता नहीं होता। इंसान अक्सर ये सोचता है ‘आगे क्या होगा’, ‘सैलरी मिलेगी या नहीं’, ‘नौकरी चली गयी तो क्या होगा’। इसीलिए ज़रूरी है अपने वर्कप्लेस में किसी बड़े अधिकारियों से बात करें। उनसे कंपनी की पॉलिसी और वर्तमान स्थिति की जानकारी मांगें।

टू-डू लिस्ट बनाएं
: टू-डू लिस्ट बनाने से खुद को मानसिक रूप से व्यवस्थित रखने में मदद मिल सकती है अपने कार्यों को पूरा करने की संतुष्टि भी मिलती है। खासकर जब आप अपने घर से काम कर रहे है और आपके ऑफिस वालो को ऐसा लगता है कि घर बैठे कर कुछ काम नहीं हो रहा है।

और पढ़ें: Aspirin for migraine: माइग्रेन के लिए कितना सुरक्षित और इफेक्टिव है है एस्प्रिन

दिमाग को व्यस्त रखे: ऐसा जरूरी नहीं कि हर किसी के ऑफिस का काम घर बैठे हो। इस अवस्था में खुद के दिमाग को व्यस्त रखने की कोशिश करें। बालकनी में बैठ कर संगीत सुनें, पेंटिंग बनाएं या जो भी आपको अच्छा लगे। जब दिमाग व्यस्त रहता है, तो तनाव महसूस करने या लक्षणों के बिगड़ने की आशंका कम होती है।

बजट बनाएं: इंसानों की सबसे बुरी आदत होती है कि वो हमेसा सबसे बुरी कंडीशन ही इमेजिन करते है। इसलिए जब आपको लगे कि बुरा होने वाला है, उसे बेहतर बनाने की कोशिश करे। अपने लिए एक बजट बनाये और उसका पालन करे। जितना हो सकता है अपना हाथ टाइट करें और पैसे बचाने की कोशिश करें। इससे सेविंग होगी जो आगे आपके काम आएगी।

अपने दोस्तों और कलीग्स के टच में रहे
: इंसान को सबसे ज्यादा डर जब लगता है जब वो अकेला होता है इसीलिए अपने दोस्तों और ऑफिस कलीग्स से बातचीत करते रहे। एक दूसरे से सुख-दुख बांटते रहिये। इससे आपको अकेलापन कम महसूस होगा।

योग करें: तनाव और चिंता से बचने के लिए मेडिटेशन और योग करना काफी फायदा होता है। ये आपको मानसिक रूप से स्वस्थ रखने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। शुरू में आसान योग करने का प्रयास करें। बस अपने शरीर को थोड़ा हिलाने की कोशिश करें, थोड़ा स्ट्रेच करें। इससे आपको अच्छा महसूस होगा।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
सेहत

अगर आपका भी लॉकडाउन होने से बढ़ रहा स्ट्रेस? तो ये खास टिप्स से मिलेगी आपको राहत

लॉकडाउन का स्ट्रेस कम करेंगे ये खास टिप्स


कोरोना वायरस की वजह से पूरी दुनिया परेशान है और अभी भारत में लगातार कोरोना वायरस से पीड़ित लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है। इस वायरस को रोकने के लिए 21 दिन का लॉकडाउन लगा हुआ है। लॉकडाउन होने के बाद भी अभी भारत में कोरोना वायरस के चार हजार से भी ज्यादा केस हो गए है और सभी लोगो को घरों में रहने की हिदायत दी जा रही है। ताकि इस वायरस को रोका जा सके। इससे रोकने के लिए रेस्ट्रोरेंट से लेकर कॉफी शॉप तक सब कुछ बंद  हुआ है। और सभी लोग अपने अपने घरो पर ही है। घरो पर रहते-रहते लोग परेशान हो चुके है वो चाह कर भी कुछ नहीं कर सकते। इस कारण लोगो में स्ट्रेस प्रॉब्लम भी आ रही है। लेकिन आप इन टिप्स  को फॉलो कर के अपना स्ट्रेस कम कर सकते है।

ये खास टिप्स जो कम करेंगे आपका स्ट्रेस: 

मॉर्निंग वॉक पर छत पर: अभी लॉकडाउन के कारण हम सभी लोग अपने अपने घरो में है जिसके कारण हमे स्ट्रेस फील होता है। आप चाहे तो सुबह जल्दी उठ कर मॉर्निंग वॉक के लिए जा सकते है। इससे आप बिल्कुल फ्रेश फील करेंगे और आपका दिमाग सही दिशा में दौड़ेगा और आप हर चीज को लेकर हाइपर नहीं होंगे।

और पढ़ें: Lockdown के दौरान इस तरह आप कर सकते है अपने पार्टनर के साथ रोमांस

म्यूजिक, रीडिंग, फिल्मे: जैसा की अभी पूरे देश में लॉकडाउन चल रहा है हम लोग कही नहीं जा पा रहे है। ऐसे में आप वो काम कर सकते है जिसे आपको सुकून मिलता हो। फिर चाहे वो म्यूजिक सुना हो, रीडिंग, फिल्मे देखना। आप को जो भी पसंद हो आप कर सकते है। इससे आपका दिल और दिमाग दोनों शांत रहेंगे और आप स्ट्रेस फ्री  फील करेंगे।
हेल्दी डाइट: रोज मरा की भाग दौड़ भरी ज़िन्दगी में हमे अपने लिए समय नहीं मिलता। जल्दी जल्दी में हमे जो भी मिलता है हम वो खा कर काम पर निकल जाते है। लेकिन अभी लॉकडाउन के कारण हम सब लोग अपने घरो पर है। तो ये बिल्कुल सही सयम है। इस समय आप एक हेल्दी डाइट फॉलो कर सकते है।
अच्छी नींद: आज कल लोगो के पास इतना सारा काम और टेंशन होती है। की वो अपनी नींद पूरी नहीं कर पाते। जिसके कारण वो बहुत सारी शारीरिक और मानसिक बीमारियों से ग्रस्त हो जाते हैं। तो ये बिल्कुल सही समय है जब आप अपनी 7 से 9 घटे की नींद पूरी कर सकते है। इससे आपका स्ट्रेस और मूड दोनों ठीक रहेंगे।
अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com
Categories
लाइफस्टाइल

How to be stress-free – तनाव मुक्त जीवन के लिए 5 मंत्र

How to be stress-free – ये 5  मंत्र रखेंगे आपको तनाव मुक्त


How to be stress-free? कैसे बनाये जीवन को तनाव मुक्त?

आजकल की भागदौड़ वाली ज़िंदगी में लोग कब तनाव में आ जाते है, उन्हें खुद ही नहीं पता होता। कभी काम तो कभी घर परिवार से जुड़ी कई बाते आपको शरीरीक और मानसिक तनाव देकर आपको थका देती है। कभी वयक्ति सफलता के पीछे इतना अधिक भाग दौड़ करता है कि वो तनाव में आ जाता हैं। माँ-बाप बच्चों के भविष्य को लेकर तनाव में, बच्चे एक्साम्स और पढाई को लेकर, यंग लोग अपने रिलेशनशिप को लेकर तनाव में, बड़े करियर बनाने और पैसा कमाने के चक्कर में तनाव में, कोई शादी को लेकर तनाव में, बुढ़ापे में बीमारी के शरीर से तनाव आदि से तनाव कब ज़िंदगी का एक हिस्सा बन जाता है, किसी को ज्ञात नहीं होता हैं।

आइये हम आपके लिए तनाव से दूर रहने और एक खुशहाल ज़िंदगी जीने के लिए कुछ मंत्र बताएँगे जो आपके लिए बहुत उपयोगी होंगे  

1. टेक्नोलॉजी के यंत्रो जैसे मोबाइल और लैपटॉप से दूरी

एक शोध के अनुसार मोबाईल फोन आने के बाद हमारे जीवन में तनाव का बढ़ना लाजमी होता हैं। तनाव की समस्या को ज्यादा बढ़ाने में फ़ोन एक ट्रिगर का काम करता हैं। अगर तनाव में समय के लिए अपने फ़ोन और टेक्नोलॉजी के यंत्रों जैसे लैपटॉप, टीवी आदि से दुरी बनायें। घर से बाहर निकलें और परिवार या दोस्तों के साथ समय बिताएं।

2. “मी टाइम  – Me time”  यानि अपने लिए निकालें  

एक दिन में 24 घण्टे होते है लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि प्रतिदिन आप अपने लिए इसमें से कितना समय निकलते हैं। जी हाँ, यह बहुत जरुरी हैं कि रोजाना से आप अपने लिए समय निकालें। इस समय का उपयोग आप अपने लिए सोचें, ‘मी टाइम’ का सही इस्तेमाल करें। इस समय में व्यायाम करें, मैडिटेशन करें। घर और ऑफिस की चिंता से दूर रहें। मन को एकदम शांत रखें और दिमाग को परेशानियों से मुक्त रहें।

और पढ़ें: 2020 में कही आपको अपना फ़ोन तो नहीं बदलना पड़ेगा व्हाट्सएप की वजह से…जानिये क्यों?

3. अधिक से अधिक खुश रहने की कोशिश करें

जब व्यक्ति दुखी होता होता है तो तनाव से वो घिर जाता हैं। उसे मानसिक तनाव होता हैं। मानसिक तनाव को दूर करने के लिए कुछ ऐसा करने जिससे आपको ख़ुशी मिलें जैसे म्यूजिक सुनें, कही घूमकर आएं, दोस्तों से मिलें, परिवार के साथ समय बिताएं, कोई अच्छी किताब पड़ें।

4. सुबह जल्दी उठकर पार्क जाएँ

कहते है खुली हवा में साँस लेने से मानसिक और शारीरिक तनाव से नुक्ती मिलती हैं। अगर आप सुबह उठकर रोजना से पार्क जायेंगे और वहां जाकर टहलेंगे तो आपका तनाव ख़तम हो जायेगा। सुबह के वक्त रनिंग करें, ताजा हवा में खुलकर सांस लें और हो सकें तो थोड़ी देर पार्क में बैठकर मैडिटेशन करें।

5. सही लाइफस्टाइल चुने  

हमारी लाइफस्टाइल का हमारे शरीर और मानसिक स्वास्थ्य पर बहुत असर पड़ता हैं। इसके लिए हमें सही समय पर सोना और सही समय पर उठान चाहिए, अधिक से अधिक पोष्टिक भोजन खाना चाहिए और योग, व्यायाम आदि को रोजाना करना चाहिए। हम अच्छे लाइफस्टाइल को अपनाकर तनाव मुक्त हो सकते हैं।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
सेहत

देर तक काम करना बन सकता है महिलाओं मे अवसाद का कारण

जाने क्यों हो जाती है महिलाये अवसाद का शिकार


महिलाओं में अवसाद का कारण

अगर हम 21 वीं सदी की बात करें तो महिलाएं  समाज में पुरुषों से कंधे से कन्धा मिलकर चलने को तैयार हैं और इसके लिए वो हर क्षेत्र में अव्वल बन  रही हैं। आजकल की महिलायें घरेलू काम-काज के बदले बाहर निकलकर ऐसे काम कर रही है है जिन  पर हक़ कभी सिर्फ पुरुषों को हुआ करता था। अगर हम विकास की बात करें तो ये एक अच्छी बात है लेकिन ऐसा करने से महिलाओ में अवसाद और तनाव की दर बढ़ती जा रही हैं।

क्या आप जानते है लंबे समय तक काम करने से महिलाओं को अधिक अवसाद होता है जबकि पुरुषों में ऐसा नहीं होता है। हाल ही में किए गए एक नए अध्ययन में यह पाया गया है कि पुरुषों की तुलना में महिलाएं अधिक तनाव और अवसाद से ग्रस्त रहती है और इसका कारण है उनका लम्बे समय तक काम करना। आंकड़ों के अनुसार, अगर कोई महिला एक सप्ताह में 55 घंटे से अधिक काम करती है तो वो अवसाद और तनाव की शिकार हो सकती हैं।

साल 2018  में नेशनल सैंपल सर्वे ऑफिस (एनएसएसओ) की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में काम करने के लिए वर्किंग हॉर्स सबसे ज्यादा हैं। शहरों में लोग औसतन एक हफ्ते में 53-54 घंटे काम करते हैं और वही बात अगर हम गांवों की करें वो वहा एक सप्ताह में लगभग 46-47 घंटे काम किया जाता हैं। 

आइये जानते है नेशनल सैंपल सर्वे ऑफिस (एनएसएसओ) की रिपोर्ट के मुख्य निष्कर्ष

अध्ययन के अनुसार, प्रति सप्ताह 35-40 घंटे की काम करने वाली महिलाओं की तुलना में एक सप्ताह में 55 घंटे से अधिक काम करने वाली महिलाओं में
अधिक अवसाद ग्रस्तता वाले लक्षण दिखाई दिए।

• अध्ययन में, 55 घंटे से अधिक काम करने वाली महिलाओं में तनाव के अतिरिक्त अन्य स्वास्थ्य समस्याएं भी नजर आई।
• इसके विपरीत जिन पुरुषों ने 55 घंटे से अधिक लंबे समय तक काम किया, उनमे अवसाद और तनाव के लक्षण नहीं दिखाई दिए।
• इस अध्ययन में महिला और पुरुषों के बीच परिणामों में अंतर का कारण दोनों की भूमिकाओं और जिम्मेदारियों को माना गया।
• जब महिलाएं समाज में अपनी पहचान स्थापित करने की कोशिश करती हैं और साथ ही उन्हें घर की जिम्मवारियों को भी उठाना होता है तो उन्हें अवसाद और तनाव रहता हैं।

लम्बे समय तक काम करने से एक महिला की मानसिक स्थिति में बदलाव आता है और वो अवसाद, तनाव से घिर जाती हैं इसके लिए हम आपको कुछ उपाय बताएँगे जिन्हे करने से आप अपनी पहचान स्थापित करने के साथ-साथ घर की जिम्मवारियों को भी उठा सकती हैं –

• लंबे समय तक काम के घंटे के बीच मस्तिष्क को कार्यशील रखने के लिए अपने काम के बीच छोटे -छोटे ब्रेक लेने की कोसिश  करें।
• अपने काम को  बोझ ना समझें और अपने काम से प्यार करें।
• जैसे ही आपको लगता है कि तनाव महसूस कर रहे है तो अपने दोस्तों और परिवार के साथ समय बिताने के लिए कही घूमने जाएँ, मूवी देखें या हो सकें तो एक छोटा सा ट्रिप भी प्लान कर सकते हैं।
• रोजना उठकर अपने लिए समय निकालें और व्यायाम और मैडिटेशन करें।
• कम से कम 7 – 8 से घंटे की नींद लें, पौष्टिक और नुट्रिशयस डाइट लें।

और पढ़ें: अगर आपने की है घर मे गणपति की स्थापना तो इन बातो का रखे ख़ास ख्याल
अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com