Categories
मनोरंजन

सुष्मिता ने बयां किया अपना दर्द, इस कठिन दौर में शेयर किया भावुक मैसेज

कुछ इस तरह बयां किया सुष्मिता ने अपना दर्द


कोरोना महामारी के कारण पूरे देश में हाहाकार मचा हुआ है। कहीं वैक्सीन की कमी तो कहीं लोग एक एक सांस के लिए तड़प रहे हैं। इस कोरोना महामारी के बीच हजारों लोग अपनों को खो रहे है। इस कोरोना महामारी ने सभी लोगों को अंदर तक झकझोर कर रख दिया है। इस मंज़र ने आम लोगों से लेकर बॉलीवुड स्टार्स तक को सहमा दिया है। ऐसे में आम लोगों से लेकर बॉलीवुड स्टार्स तक सभी लोग एक दूसरे की मदद के लिए आगे आ रहे हैं और अपने सोशल मीडिया अकाउंट से अपनी पीड़ा को बयां कर रहे हैं अभी हाल ही में बॉलीवुड अभिनेत्री सुष्मिता सेन ने भी अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर ऐसा ही एक भावुक पोस्ट शेयर की है। तो चलिए जानते है उसके बारे में।

जाने क्या लिखा सुष्मिता ने अपने मैसेज में

बॉलीवुड अभिनेत्री सुष्मिता सेन ने भी अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर अपना दर्द बयां करते हुए एक भावुक पोस्ट शेयर किया। जिसमें उन्होंने लिखा ‘मेरा दिल बैठा जा रहा है जब भी मैं उन लोगों को देखती हूं, जो एक एक सांस के लिए लड़ रहे हैं। या जो अपनों को खोने का शोक मना रहे हैं। या फिर जो लोग संघर्ष कर रहे हैं ताकि वो जिंदा रह सकें। हमारे देश में दिहाड़ी  मज़दूरों की दुर्दशा, कोविड वारियर्स चाहे वो मेडिकल स्टाफ हो या फिर वालिंटियर्स जो बिना रुके लाचारी से इस महामारी से लड़ रहे हैं। लेकिन फिर भी हर बार जीत मानवता की ही होती है।’

और पढ़ें:  बॉलीवुड की वो हसीनाएं जो रियल लाइफ में अपनी माँ है बेहद करीब

सुष्मिता ने लिखा सभी एक दूसरे की मदद को आगे आए

सुष्मिता ने लिखा ‘इस समय सभी लोग एक दूसरे की मदद के लिए आगे आ रहे है ये देख कर अच्छा लग रहा है। कैसे सहानुभूति और मानवता से ओत-प्रोत से प्रेरित, हर तरफ से, हर धर्म के, हर जगह के लोग आगे आकर, बिना किसी शर्त के आगे बढ़कर एक दूसरे की मदद कर रहे हैं। आगे सुष्मिता लिखती है इस समय पर एक भी पल एक दूसरे पर आरोप लगाने में व्यर्थ ना करें क्योंकि वह पल किसी एक ज़िन्दगी को बचाने में लगाया जा सकता है। और हर एक जिंदगी बेहद कीमती है। हम सभी को मिल कर कोशिश करनी चलिए कि मौत का आंकड़ा ना बढ़े। आगे सुष्मिता लिखती है मैं खुशनसीब हूं कि मैं ऐसे फैंस, परिवार और दोस्तों से घिरी हूं जो बिना थके निरंतर मेरी मदद कर रहे हैं ताकि मैं औरों की मदद कर सकूं। भले ही वह एक बार में एक ज़िन्दगी हो। मैं सलाम करती हूं उन सभी लोगों को जो अपनी जिम्मेदारी निभा रहे हैं। आपको शायद अन्दाजा भी नहीं होगा कि इससे कितनों की जिंदगी बच रही है।’

मिलकर करेंगे सामना

आगे सभी लोगों को पॉजिटिविटी का मैसेज देते हुए
सुष्मिता लिखती है ‘हम सभी लोग चुनौतियों का सामना कर रहे हैं। कोई थोड़ा ज्यादा तो कोई थोड़ा कम लेकिन हम सभी लोगों को इसे पार करना है। और हम सभी लोग मिल कर इस बुरे समय को भी पार कर देंगे’। आगे वो सभी लोगों को सुरक्षित रहने और सेफ्टी
प्रोटोकॉल फॉलो करने की सलाह देती है और लिखती है ‘सुरक्षित रहें, स्वस्थ रहें, साफ रहें और खुद को शांत
रखने की कोशिश करें और माक्स पहने साथ ही साथ नियमों का पालन करें। माना ये पिंजरे में रहने की तरह है लेकिन इस समय यह जीवन बचाने में आपकी मदद करेगा’। आखिर में सुष्मिता लिखती है ‘आप सभी मेरी
प्रार्थनाओं में हैं और आप सभी लोगों पर मुझे नाज़ है।’

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
मनोरंजन

कंगना रनौत के ट्वीट जिन्हे देखकर लोगों के मुँह से निकला ‘हे भगवान’

जाने कंगना रनौत के बवाल मचाने वाले ट्वीट के बारे में


बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत को आज के समय पर कौन नहीं जनता। एक्ट्रेस कंगना रनौत ट्विटर पर काफी ज्यादा एक्टिव रहती है। और हर मुद्दे पर अपनी राय काफी बेबाकी से रखतीं है। कुछ समय पहले जब राजधानी दिल्ली में किसानों का विरोध प्रदर्शन चल रहा था तो उसे लेकर भी कंगना रनौत ने अपनी राय काफी बेबाकी से रखी। और सभी लोगों के सामने इस मुद्दे पर खुलकर अपने विचार रखें। लेकिन कई बार कंगना रनौत अपने विचारों को लेकर इतनी सक्रिय हो जाती है कि उनके ट्वीट पर बवाल होने लगा है। तो चलिए आज हम आपको बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत के कुछ ऐसे ट्वीट्स के बारे में बताएंगे जिन्हे पढ़ कर लोगों के मुँह से निकला है ‘हे भगवान’।

कंगना रनौत ने कहा ‘मैं बतौर नास्तिक बड़ी हुई हु’: अभी हाल ही में कंगना रनौत ने काफी सारे ट्वीट्स किये। जिनके जरिए उन्होंने खुलासा किया कि वह बतौर नास्तिक बड़ी हुई है क्योंकि उनके दादा एक वैज्ञानिक थे। कंगना रनौत ने ट्विटर पर ‘कुंडलिनी’ के बारे में भी विस्तार से बताया। कंगना रनौत ने कहा ने कहा ‘मेरे दादा एक नास्तिक थे और उन्होंने मेरे दिमाग में भी ये कॉन्सेप्ट डाला। फिर उन्होंने कहा मेरे दादा एक बहुत ज्यादा पढ़े-लिखे और सफल व्यक्ति थे। और बुद्धिमान थे। उसके बाद उन्होंने कहा मेरे दादा ने काफी सारी भगवान और धर्म के खिलाफ कई बहसें की थी। उन्होंने लोगों को विज्ञान जानने के लिए प्रोत्साहित किया साथ ही उन्होंने भगवान और विज्ञान को अलग किया”।

और पढ़ें: जाने हर्षद और अदिति गुप्ता के साथ क्यों दोबारा काम नहीं करना चाहती है एकता कपूर

शाहीन बाग वाली दादी को लेकर ट्वीट: किसान आंदोलन के दौरान कंगना रनौत ने एक ट्वीट कर शाहीन बाग वाली दादी को लेकर विवादित टिप्पणी की थी जिसमे पहले तो उन्होंने कहा ‘मैं दावे के साथ बोल सकती हु दादी किसानों के प्रदर्शन भी शामिल हुई होगी’। उसके बाद उन्होंने कहा ‘शाहीन बाग वाली दादी तो 100 रुपये के लिए कहीं भी आ जा सकती है’। हालांकि ये विवादित ट्वीट करने के बाद उन्होंने ट्वीट को डिलीट कर दिया था।

उद्धव ठाकरे सरकार से पांगे: बॉलीवुड एक्टर्स कंगना रनौत सोशल मीडिया पर काफी ज्यादा एक्टिव रहती है और कई सारे स्टार्स से पंगा लेती दिख रही है सिर्फ स्टार्स से ही नहीं बल्कि उद्धव ठाकरे सरकार से भी कंगना रनौत जबरदस्त जुबानी जंग कर चुकी है। जब मुंबई के एक वकील ने कहा ‘कंगना रनौत को ट्विटर पर नफरत फैलाने के लिए उनका अकाउंट बंद करने के लिए निर्देश दिया जाना चाहिए’। इस बात पर कंगना रनौत ने कहा ‘ये महाविनाशकारी सरकार का फेक प्रोपेगैंडा है’।

बिकिनी पोस्ट पर ट्रोल: कुछ समय पहले बॉलीवुड एक्टर्स कंगना रनौत ने बॉलीवुड सितारों को उनके कपड़ो के लिए जाम कर ट्रोल किया था लेकिन उसके बाद जब उन्होंने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर बिकिनी फोटो पोस्ट की तो लोगों ने उन्हें ट्रोल करना शुरू कर दिया। जिसके बाद कंगना रनौत ने एक पोस्ट के जरिए ट्रोल करने वाले लोगों को करारा जवाब दिया। उन्होंने कहा ‘कुछ लोग मेरी बिकिनी वाली तस्वीरों को देखकर मुझे धर्म और सनातन का लेक्चर दे रहे हैं, अगर कभी माँ भैरवी बाल खोल, वस्त्रहीन, खून पीने वाली छवि लेकर सामने आ जाए तो तुम्हारा क्या होगा?’ उसके बाद उन्होंने लिखा ‘तुम्हारी तो फट जाएगी और खुद को भक्त कहते हो? धर्म पे चलो उसके ठेकेदार मत बनो…. जय श्री राम’।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

 

Categories
हॉट टॉपिक्स

नए दौर में हर आंदोलन को दबाने का सबसे अच्छा हथियार बन गया है सोशल मीडिया

फेक वीडियो क्लिप और फोटोस के द्वारा बदनाम करने की कोशिश की जा रही है.


नए कृषि कानून को लेकर लगातार किसान विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. आज सुबह एनसीआर के तीन बॉर्डर पर किसानों का जमावड़ा लगा हुआ था. किसान लगातार दिल्ली आने की मांग को लेकर डटे हुए हैं. फिलहाल किसानों को दिल्ली के बुराड़ी में निरंकारी ग्रांउड की अनुमति दी गई है. इसके बाद भी किसान लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं. पिछले कुछ समय से देखा गया है कि एक तबका ऐसा है जो हर आंदोलन को या तो कुचलने या तो बदनाम करने की कोशिश कर रहा है. इसको अंजाम देने के लिए सहारा लिया जाता है सोशल मीडिया का. वही सोशल मीडिया का जिसके द्वारा हम चुटकियों में हर सवाल का जवाब ढूंढ़ लेते हैं. उसी सोशल मीडिया के द्वारा लोगों को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है.

हर बार की तरह इस बार भी कुछ ऐसा ही हुआ है. तरह-तरह की क्लिपस और फोटोस के सहारे आंदोलन को बदनाम करने की कोशिश की गई. सबसे पहले तो यह कह गया कि विरोध के दौरान खालिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए गए. इस वीडियो को ज़ी न्यूज में दिखाया गया और साथ ही बीजेपी के आईटी हेट अमित मालवीय ने ट्वीट किया. लेकिन सत्य हिंदी वेबसाइट की खबर के अनुसार जिस वीडियो में व्यक्ति को जिस वक्त खालिस्तान जिंदाबाद नारे का दावा किया जा रहा है उस वक्त वीडियो को ब्लर करने के साथ-साथ उनकी आवाज में भी बदलाव किया गया है.

आखिर क्यों खालिस्तान पर इतना जोर दिया जा रहा है

किसान आंदोलन को लगातार खालिस्तान से जोड़कर पेश किया जा रहा है. एक और वीडियो को सोशल पर खूब वायरल किया जा रहा है. आप भी देखें. जिसमें दावा किया गया है कि मोदी मुर्दाबाद और पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए जा रहे हैं. जबकि आल्ट न्यूज ने यह दावा किया है कि यह वीडियो एडिट करके बनाया गया है. इस वीडियो को एएनआई न्यूज की ओर से 6 जुलाई  2019 को यूट्यूब पर अपलोड किया गया था. जिसका टाइटल था ब्रिट्रेन में एक वर्ल्ड कप के दौरान सिखों पर पर खालिस्तान के समर्थन में नारेबाजी करने का आरोप. यही से इस वीडियो क्लिप को लिया गया है. 20 मिनट के इस वीडियो क्लिप को दिल्ली का बताया जा रहा है क्योंकि इसमें जो शख्स दिख रहा है वो सिख है. कनाडा की भी कई ऐसी वीडियो को पोस्ट करके आंदोलन को भड़काने की कोशिश की जा रही है.

शाहीन बाग की बिलकिस बानो के बारे में कंगना का ट्विट

पिछले सप्ताह 26 नवंबर को देशव्यापी हड़ताल के  बाद 27 तारीख को एक बुजुर्ग दादी की फोटो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुई. जिसमें यह दावा किया जा रहा था कि वह दादी बिलकिस बानो है जो शाहीन बाग में थी. जिन्हें टाइम्स मैगजीन ने साल 2019 के 100 सबसे प्रतिभाशील व्यक्तियों की सूची में रखा गया था. इस ट्वीट को कंगना रन्नौत ने ट्वीट किया और अपने अंदाज में शेयर किया है. आल्ट न्यूज ने इसकी भी पड़ताल की जिसमें पाया गया है कि बुर्जुग महिला बिलसिक बानो नहीं है.  साथ ही पता चला है कि यह खबर और फोटो महीने पुरानी है. कृषि कानून पारित होने के बाद पंजाब में लगातार प्रदर्शन हो रहा था. ट्बियन की खबर के अनुसार यह तस्वीर पंजाब के संगरुर जिले की है . जहां नए कृषि कानून के खिलाफ महिलाएं पीला स्कॉर्प लेकर विरोध कर रही थी.

और पढ़ें: जानें बॉलीवुड की कौन-कौन सी अदाकारा रखती है रॉयल परिवार से नाता

पहले भी ऐसा होता रहा है

ऐसे पहली बार नहीं हो रहा है इससे पहले ही जब भी कोई आंदोलन सरकार की नीतियों के खिलाफ हुआ है वहां लोगों को ऐसे ही बदनाम करने की कोशिश की गई है. पिछले साल सीएए-एनआरसी के वक्त देश के अलग-अलग हिस्से में तरह-तरह की खबरें फैलाई जा रही थी. सबसे ज्यादा टारगेट शाहीन बाग को किया गया था. जहां सबसे पहले एक वीडियो जारी करके बताया जा रहा था कि आंदोलन में बैठने वाली महिलाओं को 500 रुपए दिया जा रहा है. जबकि बीजेपी आईटी सेल इस बात को साबित नहीं कर पाया था. साल 2018 में 2 अप्रैल को  एससी-एसटी कानून में बदलाव को लेकर भारत बंद के दौरान भी ऐसे ही आंदोलन को बदनाम करने की कोशिश की गई. एक वीडियो वायरल किया गया जिसमें दावा किया गया कि आंदोलनकारियों ने जोधपुर में एक पुलिस वाले को बेरहमों की तरह पीटा. पिटाई के कारण दूसरे दिन अस्पताल मे उसकी मौत हो गई. जबकि दैनिक भास्कर की पड़ताल में पाया गया कि यह फोटो साल 2017 की कानपुर की थी. जहां एक लड़की मौत के बाद पुलिसवालों को घरवालों के गुस्से का सामना करना पड़ा.

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com