Categories
मनोरंजन

जानें ग्लैमर दुनिया की उन 5 महिलाओं के बारे में जिन्होंने पॉलिटिक्स की दुनिया में बनाई अपनी पहचान

बॉलीवुड अभिनेत्रियां  जिन्होंने राजनीतिक में बनाई अपनी पहचान


बॉलीवुड हो या फिर टीवी जगत की अभिनेत्रियां। हमारे देश में कई सारी ऐसी अभिनेत्रियां है जिन्होंने
ग्लैमर दुनिया में नाम कमाने के बाद उनका राजनीतिक जीवन भी काफी ज्यादा दिलचस्प रहा है । इन अभिनेत्रियों ने फिल्मों और सीरियल्स में तो खूब नाम
कमाया ही है साथ ही साथ उन्होंने राजनीति में भी अपनी एक अलग पहचान बनाई। तो चलिए जानते हैं उन महिलाओं के बारे में।

Image Source- her zindagi

हेमा मालिनी: बॉलीवुड अभिनेत्री हेमा मालिनी को
भला आज के समय पर कौन नहीं जानता। एक समय था जब हेमा मालिनी ने फिल्मों में अपनी
दमदार भूमिका निभा कर सभी लोगों को अपना दीवाना बना लिया था। सबके दिलों में राज करने वाली और ड्रीमगर्ल के नाम से मशहूर अभिनेत्री हेमा मालिनी वर्तमान में मथुरा की सांसद हैं। आपको बता दें कि हेमा मालिनी को 2000 में कला
जगत में उनके योगदान के लिए पद्मश्री पुरस्कार मिला था। आखरी बार हेमा मालिनी को फिल्म ‘एक थी रानी ऐसी भी’ में देखा गया था। उसके बाद हेमा मालिनी ने साल 2004 में अपना
सियासी सफर भारतीय जनता पार्टी से शुरू किया।

Image Source- IndiaTv

स्मृति ईरानी: स्मृति ईरानी ये नाम शायद उतने लोगों को पता न हो लेकिन ‘क्योंकि सास भी कभी बहू थीं’ की
तुलसी को हमारे देश में घर घर में जाना जाता है। आज भी स्मृति ईरानी लोगों के बीच में तुलसी के
किरदार से जानी जाती हैं। अगर हम स्मृति ईरानी के राजनीति करियर की बात करें तो अभी स्मृति ईरानी देश की महिला और बाल विकास मंत्री है। शायद आपको याद हो कि साल 2019 में स्मृति ईरानी ने कांग्रेस के गढ़ अमेठी से राहुल गांधी को हराकर एक इतिहास रचा था। इतना ही नहीं आपको बता दे कि इससे पहले मानव
संसाधन और सूचना प्रसारण मंत्री भी रह चुकी हैं।

और पढ़ें:  टीवी पर ये चार खूबसूरत जोड़ियां निभा चुकी है मां बेटी की भूमिका

Image Source- ImgPatrika

जया प्रदा: जया प्रदा बॉलीवुड की एक जानी मानी
अभिनेत्री है। बॉलीवुड में कई फिल्मों में काम करने के बाद साल 1994 में जया प्रदा ने तेलगु देशम पार्टी ज्वाइन की थी। उसके बाद जया प्रदा को साल 2004 में लोकसभा
चुनाव में सपा के टिकट मिली और उन्होंने रामपुर सीट से चुनाव लड़ा और जीती भी।  उसके बाद साल 2014 में जया प्रदा ने राष्ट्रीय लोकदल पार्टी ज्वाइन कर लिया। और उसके बाद 2019 में बीजेपी से जुड़ गयी।

ImageSource- ZeeBiz

किरण खेर: बॉलीवुड अभिनेत्री किरण खेर को आज के समय पर किसी इंट्रोडक्शन की जरूरत नहीं है। किरण खेर ने अपने करियर में कई फिल्मों में काम किया है। कभी उन्होंने लोगों को अपनी कॉमेडी से हंसाया, तो कभी सीरियस रोल से लोगों को रुलाया। सिर्फ फिल्मों में ही नहीं बल्कि उन्होंने कई रियलिटी शो में बतौर जज काम भी किया है। अगर हम किरण खेर के राजनीति करियर की बात करें तो साल 2009 में उन्होंने राजनीति को ज्वाइन किया था। अभी वर्तमान में वह चंडीगढ़ संसदीय क्षेत्र से सांसद हैं।

Image Source- Indian Express

जया बच्चन: बॉलीवुड इंडस्ट्री में जया बच्चन एक जाना माना चेहरा हैं। जया बच्चन ने अपने फिल्मी करियर में कई फिल्मों में काम किया। और उनको उनकी फिल्मों के लिए कई अवॉर्ड से भी नवाजा जा चुका है। अगर हम जया बच्चन के राजनीति की बात करें तो वर्तमान में वह समाजवादी पार्टी की सदस्य हैं और अक्सर वो अपने बयानों के कारण सुर्खियों में भी बनी रहती है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
बिना श्रेणी

#MondayMotivation : कैसे महिला सशक्तिकरण की परिभाषा को स्मृति ईरानी ने दी नई दिशा?

स्मृति ईरानी – मैकडॉनल्ड्स में वेटर की नौकरी करने से लेकर कैबिनेट मिनिस्टर बनने तक का सफ़र 


कहते है हर व्यक्ति का एक अतीत होता है और कुछ लोगों का अतीत ऐसा होता है जो दूसरों के लिए मिसाल बन जाता है। ऐसा ही अतीत रहा है हमारी टेलीविजन की स्टार और “सास भी कभी बहू थी’ की तुलसी यानि स्मृति ईरानी का। जी हाँ, हम बात कर रहे है यूनियन कैबिनेट मिनिस्टर स्मृति ईरानी की जिनका टेलीविज़न से लेकर राजनीति तक का सफर बहुत ही दिलचस्प रहा है।

वेट्रेस से मॉडलिंग और एक्टिंग का सफर 

मॉडलिंग से एक्टिंग और टेलेविज़न इंडस्ट्री की तुलसी राजनीति में अपने पैर ज़मा चुकी हैं। लेकिन क्या आप जानते है वो कभी मैकडॉनल्ड्स में वेटर की नौकरी करती थी। 23 मार्च 1976 को दिल्ली में जन्मी स्मृति ईरानी 3 बहनों में सबसे बड़ी होने के नाते बचपन से ही समझदार थी। होली चाइल्ड ऑक्जिलियम स्कूल से अपनी स्कूल शिक्षा पूरी करने के बाद उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय में एडमिशन लिया। उसके बाद मिस इंडिया कॉम्पिटिशन और 1998 में मिस इंडिया पेजेंट फाइनलिस्ट में अपनी पहचान बनाने के बाद स्मृति ने मीका सिंह के साथ एक एल्बम ‘सावन में लग गई आग’ के गाने ‘बोलियां’ पर परफॉर्म किया। फिर उन्हें छोटे पर्दे पर “सास भी कभी बहू थी” में तुलसी की भूमिका मिली जिसे वो भारतीय महिलाओ के बीच एक प्रसिद्ध चेहरा बन गई।

राजनीति का सफर

एक्टिंग के बाद टीवी ने उन्हें ऐसी पहचान दी जिससे उन्हें राजनीति में एंट्री का मौका मिला और फिर शुरू हुआ उनका राजनीति का सफर जो अभी तक एक सफल दिशा में जा रह है। 2003 में स्मृति ईरानी ने भारतीय जनता पार्टी में आने का फैसला किया। एक साल बाद महाराष्ट्र की यूथ विंग का वाइस प्रेसिडेंट बनकर उन्होंने लोगों का विश्वास जीता। इसी विश्वास के दम पर वो अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार में टेक्सटाइल मिनिस्टर के पद पर कार्य कर रही हैं। इससे पहले वो केंद्र में मानव संसाधन मंत्री रह चुकी हैं।

और पढ़ें: वो कौन से काम है जो सक्सेसफुल लोगों को बनाते हैं ख़ास

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
पॉलिटिक्स

स्मृति ईरानी ने चुनाव के दौरान राहुल गाँधी पर लगाया आरोप

अमेठी में बूथ कैप्चरिंग करवा रहे हैं राहुल गांधी ?


2019 के लोकसभा चुनाव के चार चरण पूरे हो चुके है. वही आज यानी 6 मई को पाँचवे चरण के मतदान सुबह 8 बजे से शुरू हो चुके है जो की 59 सीट्स पर हो रही है. चुनाव में कही से ईवीएम मशीन खरीबी को लेकर खबर आ रह है तो कही वोटिंग में हेरा-फेरी को लेकर एक दूसरे पर सवाल खड़े  किये जा रहे है . जी हाँ, अभी हाल ही में स्मृति ईरानी ने राहुल गाँधी पर निशाना साधते हुए  बूथ कैप्चरिंग करने का आरोप लगाया है.

आपको बता दे अमेठी की लोकसभा सीट से  27 उम्मीदवार अपनी किस्मत आज़मा रहे है  लेकिन असल मुक़ाबला बीजेपी से स्मृति ईरानी और कांग्रेस से राहुल गाँधी का है  और यह देखना ज़ाहिर है की चुनाव के नतीजे में जीत आखिर किसकी होगी? पर आज पाँचवे  चरण के चुनाव के दौरान स्मृति ने राहुल गाँधी पर बूथ कैप्चरिंग का आरोप लगाया है. अमेठी ने एक वीडियो ट्वीट शेयर कहा है कि राहुल गांधी बूथ कैप्चरिंग करवा रहे हैं.जिसके लिए स्मृति ईरानी ने  चुनाव आयोग से राहुल गाँधी के खिलाफ शिकयत भी दर्ज कराई है.

अमेठी में कांग्रेस का मजबूत गढ़

अगर बात की जाए  चुनावी इतिहास की तो 2014 के लोकसभा चुनाव में राहुल गाँधी ने भरी वोटों के साथ  स्मृति ईरानी को हराया था वजह यह भी है अमेठी कांग्रेस का गढ़ है और जनता का कांग्रेस पर ज्यादा विश्वास जताती है. साथ ही इस सीट पर अभी तक 16 लोकसभा चुनाव और 2 उपचुनाव हुए हैं. इनमें से कांग्रेस ने 16 बार जीत दर्ज की है. वहीं, 1977 में लोकदल और 1998 में बीजेपी को जीत मिली है. जबकि बसपा और सपा अभी तक अपना खाता नहीं खोल सकी है.

यहाँ भी पढ़े: मसूद अज़हर  वैश्विक आतंकी हुआ घोषित ,पाकिस्तान की बड़ी हार 

चुनाव आयोग में  शिकयत दर्ज होने के बाद  राहुल गाँधी भी अमेठी थोड़ी देर में  पहुँच रहे है . वही दूसरी और स्मृति के इस आरोपों को ख़ारिज करते हुए संजय सिंह ने कहा की स्मृति ईरानी और मोदी झूठे आरोप लगाते हैं, उनकी बातों को गंभीरता से नहीं लिया जाना चाहिए. अब वो जाने वाले हैं.  यह तो  23 मई को नतीजे ही बातएंगे की   सरकार किसकी  जाएगी  या फिर आएगी ?

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.in